POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: vijay sappatti

Blogger: vijay kumar sappatti at कहानियो के मन...
पारिजात के फूलभाग 1 – 1982 वह सर्दियों के दिन थे. मैं अपनी फैक्टरी से नाईट शिफ्ट करके बाहर निकला और पार्किंग से अपनी साइकिल उठाकर घर की ओर चल पड़ा. सुबह के 8:00 बज रहे थे. मैं अपने घर के सामने से गुजरा. मां दरवाजे पर खड़ी थी, मैंने मां को बोला ‘मां नहाने का पानी गरम कर दे और पुड़ी सब्... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   5:00am 7 Oct 2017 #vijay sappatti
Blogger: vijay kumar sappatti at कविताओं के मन...
मेरे उम्र के कुछ दिन , कभी तुम्हारे साडी में अटके तो कभी तुम्हारी चुनरी में ....कुछ राते इसी तरह से ; कभी तुम्हारे जिस्म में अटके तो कभी तुम्हारी साँसों में .....मेरे ज़िन्दगी के लम्हे बेचारे बहुत छोटे थे.वो अक्सर तुम्हारे होंठो पर ही रुक जाते थे.फिर उन लम्हों के भी टुकड़े हुए ह... Read more
clicks 186 View   Vote 0 Like   2:59am 24 Aug 2017 #vijay sappatti
Blogger: vijay kumar sappatti at कहानियो के मन...
क्या तुम्हे सब याद है - उसने मुझसे पुछाहां ! मैंने कहा .एक गहरी सांस लेकर मैंने आगे कहा- वो भी जो हुआ और वो भी जो नहीं हुआउसने अपनी भीगी आँखों से मुझे देखामैंने उसकी तरफ से मुड़कर खुद की आँखों को पोछा !© विजय... Read more
clicks 219 View   Vote 0 Like   4:44am 3 Sep 2016 #vijay sappatti
Blogger: vijay kumar sappatti at कहानियो के मन...
||| जनम |||गोपाला ने अपना एक झोला और बैग लिया और ट्रेन में बैठ गया,ये ट्रेन दुर्ग से जगदलपुर जा रही थी। गर्मी के दिन थे,उसे खिड़की के पास वाली सीट मिली । ट्रेन चलने लगी तो भागते हुए तीन युवक आये और ठीक उसके सामने वाली सीट पर बैठ गए । ट्रेन चल पड़ी तो थके होने के कारण थोड़ी देर में ह... Read more
clicks 240 View   Vote 0 Like   6:43am 6 Jan 2016 #vijay sappatti
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3991) कुल पोस्ट (194948)