POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: Short Stories and Dramas

Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
 ‘‘क्या मुसीबत है। इस कार को भी यहीं खराब होना था।’’ विवेक ने इग्नीशन में चावी घुमायी लेकिन कार का इंजन हर बार एक घरघराहट की आवाज करने के बाद खामोश हो गया। उसकी बगल में बैठी उसकी पत्नी के चेहरे पर भी चिंता की लकीरें उभर आयी थीं। अभी तक आराम से चलने से चलने वाली कार इस जग... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   11:46am 4 May 2021 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
 तड़ाक की आवाज़ के साथ दो तीन थप्पड़ जब आरती के गालों पर पड़े तो उसकी आँखों से बेतहाशा आंसू बहने लगे।”कमबख्त ! खा खा के मोटी हो रही है और काम एक धेले का नहीं होता। एक गिलास पानी मांगा तो इतना कीमती जग तोड़ कर रख दिया।“ आरती की सौतेली मां रीमा का लहजा गुस्से से काँप रहा था।”म... म... Read more
clicks 68 View   Vote 0 Like   11:51am 27 Apr 2021 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
‘‘तान्या, ये मक्खियाँ नहीं हैं। इनमें से एक हमारे सम्राट हैं।’’‘‘एक मक्खी तुम्हारी सम्राट!’’ तान्या जोर से हँस पड़ी।उसी वक्त दोनों मक्खियाँ अपना आकार बदलने लगीं। थोड़ी ही देर में उनका शरीर हाथी जितना विशाल हो चुका था।’’ तान्या ने देखा उनमें से एक मक्खी गुस्से से उस आ... Read more
clicks 250 View   Vote 0 Like   12:53pm 26 Dec 2018 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
 तान्या के ग्रुप में एक हलचल सी मच गयी थी।‘‘बगैर शादी के बच्चा! मुझे उम्मीद ही नहीं थी तान्या ऐसी होगी।’’ रिजवान ने कहा। साथ में अपने कानों को हाथ भी लगा लिया था।‘‘तान्या किसी देवी की तरह पवित्र है। तुम उसके बारे में ऐसी बातें सोच भी नहीं सकते।’’ रोहित ने थोड़ा नाराज हो... Read more
clicks 260 View   Vote 0 Like   2:09pm 25 Dec 2018 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
जब तान्या को होश  आया तो उसने अपने को एक सफेद बिस्तर पर पड़े देखा। पूरा ग्रुप उसे चारों तरफ से घेरे खड़ा था। सभी के चेहरे से परेशानी जाहिर हो रही थी। तान्या को आँखें खोलते देखकर सभी के चेहरे पर इत्मिनान की एक लहर दौड़ गयी।‘‘तान्या तुम ठीक तो हो?’’ रोहित ने आगे बढ़कर पूछा... Read more
clicks 255 View   Vote 0 Like   12:47pm 24 Dec 2018 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
ज़ीशान -ज़ैदी  लेखकशहर के बीचोंबीच स्थित स्ट्रोक्स आर्ट गैलरी में कलाप्रेमी दर्शकों का हुजूम लगा हुआ था। माडर्न आर्ट की इस प्रदर्शनी में विश्व के कई नामी गिरामी चित्रकारों की पेंटिग्स मौजूद थीं। वहाँ मौजूद दर्शकों में कालेज छात्रों का एक ग्रुप भी शामिल था।त... Read more
clicks 242 View   Vote 0 Like   6:05pm 23 Dec 2018 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
थोड़ी ही देर बाद प्रोफेसर ने अपने को एक अलग अनोखी दुनिया में पाया। ऐसी अनोखी दुनिया उसने सपने में भी कभी नहीं देखी थी। उसके आसपास हर तरफ रंग बिरंगी तरह तरह की धारियाँ लहरा रही थीं। उन धारियों का न तो कोई शुरूआती सिरा दिख रहा था न ही कोई अंतिम छोर।जब फिज़ा में लहराती वे धारि... Read more
clicks 235 View   Vote 0 Like   12:31pm 18 Dec 2017 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
थोड़ी ही देर बाद प्रोफेसर ने अपने को एक अलग अनोखी दुनिया में पाया। ऐसी अनोखी दुनिया उसने सपने में भी कभी नहीं देखी थी। उसके आसपास हर तरफ रंग बिरंगी तरह तरह की धारियाँ लहरा रही थीं। उन धारियों का न तो कोई शुरूआती सिरा दिख रहा था न ही कोई अंतिम छोर।जब फिज़ा में लहराती वे धारि... Read more
clicks 316 View   Vote 0 Like   12:31pm 18 Dec 2017 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
अभी प्रोफेसर घनश्याम ने अपने शहर पहुंचने का आधा रास्ता ही तय किया था कि तेज़ आँधी तूफान ने उसे घेर लिया। बादल इतने घने थे कि हेड लाइट जलानी पड़ी थी। लेकिन मूसलाधार बारिश में उसे आगे का रास्ता मुश्किल से ही दिखाई दे रहा था। बिजलियाँ भी कड़क रही थीं। प्रोफेसर घनश्याम जल्दी स... Read more
clicks 319 View   Vote 0 Like   10:25am 17 Dec 2017 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
देश के जाने माने साइंटिस्ट प्रोफेसर घनश्याम की कार जब उसकी बहन के दरवाज़े पर रुकी तो उस समय रात के दो बज रहे थे। प्रोफेसर घनश्याम इस समय दूसरे शहर में रहने वाली अपनी बहन से मिलने आया था और इसके लिये पूरी रात उसने खुद ही कार ड्राइव की थी।उसने काल बेल पर उंगली रखी। इससे पह... Read more
clicks 332 View   Vote 0 Like   11:23am 16 Dec 2017 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
‘‘क्योंकि मैं उसकी पत्नी हूँ।’’प्रो.डेनियल का मुँह खुला रह गया। फिर लगभग चौंकते हुए उसने बेल पर उंगली रखी। और जब चपरासी हाजिर हुआ तो उसने उससे डा.आनन्द को बुलाने के लिए कहा।‘‘डा.आनन्द काफी खुशनसीब है।’’ प्रो.डेनियल खुद से बड़बड़ाया।‘‘पता नहीं।’’ कहते हुए डा.आनन्द ... Read more
clicks 345 View   Vote 0 Like   9:09am 3 Jul 2016 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
‘‘किसी जीवित शरीर की प्रत्येक हरकत एक विद्युतीय स्पंद का नतीजा होती है जो उस शरीर के मस्तिष्क से उत्पन्न होती है, या फिर कभी कभी मेरूदण्ड से। मस्तिष्क द्धारा दिये गये आदेश शरीर के न्यूरानों द्धारा विद्युतीय स्पंद के रूप में उस अंग तक पहुंचता है जिसके लिए वह आदेश होत... Read more
clicks 379 View   Vote 0 Like   9:21am 2 Jul 2016 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
लेखक : ज़ीशान हैदर ज़ैदी उसने कमरे का दरवाजा खटखटाने से पहले उसपर लगी तख्ती पढ़ी, लिखा था, ‘‘डाग्स एण्ड लो नालेज पर्सन्स आर नाट एलाउड।’’एक पल को उसे अपने कदम डगमगाते महसूस हुए। उसके पास नालेज तो थी, लेकिन पता नहीं अंदर बैठे व्यक्ति को कितनी नालेज वाला व्यक्ति पसंद था।... Read more
clicks 775 View   Vote 0 Like   4:57am 1 Jul 2016 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
जैसे जैसे हारून यानि कैमरून का बेटा बड़ा हो रहा था उसे अनुशा से दूर रहने की आदत डाली जा रही थी। अब फारिया कोशिश कर रही थी कि उसे ज़्यादा से ज़्यादा अपने पास रखे। हालांकि हारून अभी भी अनुशा से ज़्यादा लगाव दिखाता था और ये बात फारिया को बुरी तरह खल जाती थी। फिर एक दिन वह भी आय... Read more
clicks 468 View   Vote 0 Like   1:02pm 11 Apr 2016 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
लेखक : ज़ीशान हैदर ज़ैदीएक मशीनी मानव जब उसके पास से गुज़रा तो उसने किताब पर से नज़र उठाकर एक उचटती नज़र उसकी ओर डाली। उस गैलरी में मशीनी मानवों का चलना फिरना कुछ अस्वाभाविक नहीं था। क्योंकि वह दुनिया की जानी मानी रिसर्च लैब थी और वहाँ अधिकतर काम रोबोटों के ही जरिये ह... Read more
clicks 410 View   Vote 0 Like   7:32am 10 Apr 2016 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
‘‘कैसी दुश्मनी? हमने तो हमेशा आपका सम्मान किया?’’ इस बार संजय ने सवाल उठाया। ‘‘मेरी दुश्मनी उनसे है जिन्होंने तुम लोगों को पैदा किया। मैं तुम्हारे माँ बाप का दुश्मन हूं।’’ फादर जोज़फ गुर्राकर बोला। ‘‘लेकिन क्यों?’’ दीपा की आवाज़ में उलझन भरा डर मौजूद था। ‘‘क्योंक... Read more
clicks 446 View   Vote 0 Like   5:50am 17 Aug 2015 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
लेकिन नेवले को सबक सिखाने की अरुण की इच्छा उसके दिल में ही रह गयी। अगली सुबह जब लोग नींद से बेदार हुए तो उन्होंने अरुण को उसके बेड पर मृत पाया। उसका गला किसी जानवर ने बेदर्दी के साथ चबाया था। हालांकि आसपास के मचानों पर सोने के बावजूद उन्हें एहसास तक न हो सका कि कब वह अज्ञ... Read more
clicks 439 View   Vote 0 Like   4:36am 16 Aug 2015 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
एलियेन की तलाश शुरू हो गयी थी। फादर ने इसके लिये तीन टीमें तैयार की थीं। पहली टीम में अरुण व रिया थे, दूसरी में संजय व दीपा, जबकि तीसरी टीम में फादर अकेला था। उसने उन लोगों को सख्ती के साथ समझाया था कि अपनी बातचीत से वे बिल्कुल ज़ाहिर न होने दें कि वे एलियेन की तलाश कर रहे है... Read more
clicks 451 View   Vote 0 Like   8:21am 15 Aug 2015 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
‘‘लेकिन हम इस साज़िश को नाकाम बना सकते हैं।’’ फादर जोज़फ की आवाज़ उनके विचारों की झील में उथल पुथल मचाकर विश्वास की नयी लहरें पैदा कर गयी।‘‘वह किस तरह?’’ दीपा का सवाल मानो स्वयं ही उसके मुंह से निकला था। वरना उनके दिमाग इतनी बड़ी खबर सुनकर उनके काबू में कहाँ थे। फादर फिर स... Read more
clicks 495 View   Vote 0 Like   5:33am 14 Aug 2015 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
‘‘भारत में एक मान्यता बहुत प्रचलित है - इच्छाधारी नागों की। जो अपनी इच्छा से मनचाहा स्वरूप धारण कर सकते हैं। पता नहीं इच्छाधारी नागों की कहानी में कितनी सच्चाई है। लेकिन इच्छाधारी एलियेन की खोज मैंने ज़रूर कर ली है। जो हमारी धरती पर मनचाहा स्वरूप धारण करके आ सकते हैं। ... Read more
clicks 451 View   Vote 0 Like   5:56am 13 Aug 2015 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
अब फादर तहखाने में मौजूद अपनी लैब के अन्दर पहुंच चुका था। चारों ने आश्चर्य से उस तहखाने को देखा। उन्हें यकीन नहीं हो रहा था कि उस पुराने तहखाने में इतनी आधुनिक साइंटिफिक लैब बनी होगी। तहखाने में उन्हें घुटन का एहसास ज़रा भी नहीं हो रहा था। और साथ ही वे ऐसी मशीनें देख रहे ... Read more
clicks 471 View   Vote 0 Like   7:08am 12 Aug 2015 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
‘‘ऐसा ज़रूरी काम क्या हो सकता है जिसके लिये आपने रात को बारह बजे यहाँ आने की तकलीफ की? हमें बुला लिया होता।’’ अरुण बोला। और सबने उसकी बात की सहमति में सर हिलाया। फादर जोज़फ का ताल्लुक उनके घरों से कम से कम दस साल का था। और न सिर्फ चारों भाई बहन बल्कि उनके पैरेन्ट्स भी उनकी... Read more
clicks 550 View   Vote 0 Like   6:11am 11 Aug 2015 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
लेखक - ज़ीशान हैदर ज़ैदी  यह एक नाइट क्लब था, जहाँ करोड़पति अरबपति घरानों के नौजवान लड़के लड़कियां अपनी शामों को गुज़ारते थे। हालांकि यहाँ शाम कहना गलत होगा क्योंकि उनमें से अक्सर पूरी रात ही वहाँ गुज़ार देते थे, किसी हसीन या जवान साथी के साथ। उनमें से दो जोड़े ऐसे भी थे जो इध... Read more
clicks 460 View   Vote 0 Like   9:09am 10 Aug 2015 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
‘‘यह पासिबिल हुआ है क्वांटम टाइम फिजिक्स की मदद से। फिजिक्स की यह नयी ब्रांच आज से दो सौ साल पहले शुरू हुई जब क्वांटम फिजिक्स में कुछ नये तथ्यों का पता चला और यह तथ्य मूल कणों के व्यवहार से संबंधित थे। तुम्हारे समय में क्वांटम मैकेनिक्स दो तरह के मूल कणों की उपस्थिति ... Read more
clicks 446 View   Vote 0 Like   5:18am 26 Dec 2014 #Short Stories and Dramas
Blogger: zeashan zaidi at Hindi Science Fiction हिंद...
‘‘अगर आपने हमें कुछ नहीं बताया तो हम पागल हो जायेंगे।’’ माया ने भी कहा। इंस्पेक्टर ने बच्चों के बाप की ओर देखा, ‘‘मैं देखूंगा कि आपके बच्चों के साथ क्या कर सकता हूँ। फिलहाल ये आपका फर्ज बनता है कि आप इन दोनों को असलियत बताएं। बगल के कमरे में आप इन्हें ले जायें और पूरी ... Read more
clicks 392 View   Vote 0 Like   12:41pm 24 Dec 2014 #Short Stories and Dramas
[Prev Page] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194121)