POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: वक्त

Blogger:  राजीव कुमार झा at यूं ही कभी...
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); दूर क्यों हो पास आओ जरा देखो गगन से मिल रही धरा कलियां खिल रही कितने जतन से चाँद की रौशनी से नहाओ जरा धड़कनें खामोश हैं वक्त है ठहर गया जो नजरें मिली कदम रुक सा गया हठ बचपनों सा अब तो छोड़िए मन का संबंध मन से जोड़िए वक्त काफी हो गया ख़ामोशी तो तोड़िए व्रत मौ... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   1:25am 3 Oct 2016 #वक्त
Blogger:  राजीव कुमार झा at यूं ही कभी...
होठों की हंसी देखे अंदर नहीं देखा करते किसी के गम का समंदर नहीं देखा करते कितनी हसीन है दुनियां लोग कहा करते हैं मर-मरके जीने वालों का मंजर नहीं देखा करते पास होकर भी दूर हैं उन्हें छू नहीं सकते बिगड़े मुकद्दर की नहीं शिकवा करते शीशे का मकां तो खूब मिला करते हैं समय के हाथ... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   7:36am 25 Sep 2016 #वक्त
Blogger: harminder singh at वृद्धग्राम...
दिन तेजी से गुजरते हैं। जुलाई बहुत तेजी से गायब हो गया। इसी तरह साल आधे से ज्यादा हो गया। रक्षाबंधन आ रहा है। फिर 15 अगस्त आ जायेगी। तब महीना आधा हो जायेगा मतलब उसके पूरा होने में बचेंगे सिर्फ 15 दिन। लोग कहते हैं कि 20 तारीख के बाद महीना तेजी से गुजरता है। कब 1 तारीख आ जाती है ... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   8:51am 6 Aug 2014 #वक्त
Blogger: Anita nihalani at मन पाए विश्रा...
वक्त की चादर सामने बिछी है वक्त की चादर अपनी चाहतों के बूटे काढ़ सको तो काढ़ लो ! क्योंकि वक्त.. मुट्ठी से रेत की तरह फिसल जायेगा  और फिर कीमत चुकानी होगी निज स्वप्नों से ! सुंदर, श्वेत चादर पर  रंगीन बूटे हौसला बढ़ाएंगे दूर तक साथ रहेगी उनकी सुघड़ता खुशनुमा हो ... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   8:30am 5 Sep 2013 #वक्त
Blogger: RAHUL MISHRA at खामोशियाँ...!!!...
करोड़ों कि बद्दुवायें थामे चलती हैं जिंदगी...इन्ही अमावसी रात में बदल जाती हैं सादगी...!!कोई कह दो तो धुधिया लालटेन वाले चाचा से...कभी तोड़ तो मेरे खातिर भी कोई सितारों की लडी..!!वक्त थककर बैठ गया किसी चौराहे पे...उसी के इन्तेजार में जले जा रही यादों की फुलझड़ी...!!... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   4:35pm 2 Jan 2013 #वक्त
Blogger: RAHUL MISHRA at खामोशियाँ...!!!...
दिल के दहलीज पर देख तो सही...हर वक्त ही कोहरा जमा रहता...!!!कितने यादों के छींके आ जाते जिन्हें...बहानो के रुमाल से पोछ जाया करते...!!!कभी कभी तो जाम कर जाते हर वो...रास्ते दर्द के अब कहा से ला दे...!!!...मरहम का वो इन्हेलर...!!! ... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   3:20pm 28 Nov 2012 #वक्त
Blogger: Maheshwari Kaneri at अभिव्यंजना...
खामोश है आज चाँदनी भीखामोश धरती आसमां हैखामोश हैं तारे सभीखामोश उनका कारवां हैशाख के हर पात खामोश हैखामोश हुए प्रकृति के हर साज़हवा भी थक कर सो गई अबखामोश लहरों के गीत आजबस,खामोश नहीं मेरे मन का शोरकुछ बैचैन हैं ,परेशान सा अनबुझ प्रश्नों का सैलाब लिएउठता है दिल में बस ... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   3:51pm 22 Oct 2012 #वक्त
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194091)