POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: रंग

Blogger:  राजीव कुमार झा at यूं ही कभी...
                                                                                     इन्द्रधनुषी रंगों में रंगेतेरे रूप अनेक ताल,छंद,सुर हैं विविध किंतु राग हैं एक क्षितिज छोर तक उड़ रहासुरभित रम्य दुकूल भाव भंगिमा में सदा खिलते मधुमय फ... Read more
clicks 262 View   Vote 0 Like   2:00am 29 Apr 2015 #रंग
Blogger: sanjay kumar chourasia at "जीवन की आपाध...
इंद्रधनुष सात रंगों से बना होता है और यही सात रंग इंसान के जीवन में जन्म से लेकर मृत्यु तक साथ होते हैं ! इंसान के चरित्र का वर्णन , उसके व्यवहार , अच्छाई , बुराई , ख़ुशी - गम , सुख-दुःख , शांति - अशांति , सहयोग में - विरोध में, हर जगह इन्हीं रंगों की उपमा दी जाती है ! यूँ तो  हर ... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   5:36am 5 Mar 2015 #रंग
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at सृजन मंच ऑनला...
            पिचकारीकेतीर   गोरे  गोरे  अंग पै, चटख चढि गये रंग,रंगीले  आंचर  उडैं,  जैसें  नवल पतंग ।चेहरे  सारे  पुत गये,  चढे  सयाने  रंग,समझ कछू आवै नहीं, को सजनी को कंत । भये लजीले श्याम दौऊ, गोरे गाल, गुलाल,गाल गुलावी होगये, भयो गुलाल र... Read more
clicks 97 View   Vote 0 Like   4:41am 5 Mar 2015 #रंग
Blogger: Himkar Shyam at शीराज़ा [Shiraza]...
        (चित्र गूगल से साभार) फिर बौरायी मंजरियों के बीच कोयल कूकी, दिल में एक टीस उठी पागल भोरें मंडराने लगे, अधखिली कलियों के अधरों पर पलाश फूटे या आग किसी मन में, चूड़ी की है खनक कहीं, कहीं थिरकन है अंगों में, ढोल-मंजीरों की थाप गूंजती है कानों में मौसम हो गया है अधीर, बिखर ... Read more
clicks 165 View   Vote 0 Like   10:15am 28 Feb 2015 #रंग
Blogger: प० अनिल जी शर्मा at Vaastu & Jyotish...
जीवन में वाहन खरीदना एक महत्वपूर्ण निर्णय होता है, वाहन शुभ रहेगा या अशुभ फल देगा या अभी वाहन लेने का शुभ समय है या नही...इन प्रश्नों के उत्तर के लिए जन्मकुंडली में चतुर्थ, नवम और एकादश भाव से विचार करते है. जन्मकुंडली में चतुर्थ भाव वाहन का कारक है, नवम भाव भाग्य स्थान  और ... Read more
clicks 210 View   Vote 0 Like   6:10pm 3 Jan 2013 #रंग
Blogger: Maheshwari Kaneri at अभिव्यंजना...
जीवन के रंगमन में उमंगह्रदय में तरंगअपनों के संगयही जीवन के रंगपुल्कित अंग अंगन सोच हुई तंगन विचारों में जंगन सपने हुए भंगदेख रह गई दंगसीख गई जीने का ठंगअगर लेखनी हो संगभरती रहूँ जीवन में रंगरंग ही रंग ,रंग ही रंग****************महेश्वरी कनेरी... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   6:42am 7 Oct 2012 #रंग
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194069)