POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: दोहा

Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
नौका में छल-छद्म की, मतलब के सब मीत। कृष्ण-सुदामा सी नहीं, आज नहीं है प्रीत।।--मिलते हैं संसार में, भाँति-भाँति के लोग।होती तब ही मित्रता, जब बनता संयोग।।--कर्मों के अनुसार ही, मिलता सबको भोग।खुद के बस में है नहीं, विरह और संयोग।।--नहीं सरल है सीखना, जीवन का संगीत।शब्दों क... Read more
clicks 41 View   Vote 0 Like   1:56am 28 Oct 2020 #दोहा
Blogger: Himkar Shyam at शीराज़ा [Shiraza]...
कोरोना से थम गई,  दुनिया की रफ़्तार। त्राहि-त्राहि जग कर रहा, नजरबंद संसार।। मरहम रखने को गये, लौटे ले कर घाव। परहित में जो हैं लगे, उन पर ही पथराव। ओछी हरकत कर रहे, जड़ मति पत्थर बाज। जाहिलपन वो मर्ज है, जिसका नहीं इलाज।। ख़तरे  में  है  ज़िंदगी,  पड़े न कोई फ़र्क़। तबलीगी ख़ुद कर र... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   3:10pm 21 Apr 2020 #दोहा
Blogger: Himkar Shyam at शीराज़ा [Shiraza]...
मूर्ख बने तो क्या हुआ, रखिए खुद को कूल। हँसे-हँसाएँ आप हम, डे हैअप्रैल फूल।। मूर्ख दिवस तो एक दिन, बनते हम सब रोज।  मूर्खों की इस भीड़ में, महामूर्ख की खोज।।  मूर्ख बना कर लोक को, मौज करे ये तंत्र ।।  धोखा, झूठ, फ़रेब, छल, नेताओं के मंत्र।। © हिमकर श्याम (चित्र गूगल से साभा... Read more
clicks 169 View   Vote 0 Like   4:53pm 1 Apr 2019 #दोहा
Blogger: Himkar Shyam at शीराज़ा [Shiraza]...
जोगीरा सारा रा रा रा-1 [होली के कुछ  रंग, हास्य-व्यंग के संग] 1. घर-घर मोदी की जगह, मैं भी चौकीदार     नारा लाया फिर नया, जुमलों का सरदार     जोगीरा सारा रा रा रा 2. राफेल डील केस में, उलझी है सरकार      फाइल चोरी हो गई, सोया चौकीदार     जोगीरा सारा रा रा रा 3. हाथी सहचर साइकिल, लालटेन क... Read more
clicks 184 View   Vote 0 Like   7:37pm 20 Mar 2019 #दोहा
Blogger: Himkar Shyam at शीराज़ा [Shiraza]...
शीतल, उज्जवल रश्मियाँ, बरसे अमृत धार। नेह लुटाती चाँदनी, कर सोलह श्रृंगार।। शरद पूर्णिमा रात में, खिले कुमुदनी फूल। रास रचाए मोहना, कालिंदी के कूल।। सोलह कला मयंक की, आश्विन पूनो ख़ास। उतरी धरा पर माँ श्री, आया कार्तिक मास।। लक्ष्मी की आराधना, अमृतमय खीर पान। पू... Read more
clicks 270 View   Vote 0 Like   3:41pm 27 Oct 2015 #दोहा
Blogger: Himkar Shyam at शीराज़ा [Shiraza]...
जगत जननी जगदम्बिका, सर्वशक्ति स्वरूप। दयामयी दुःखनाशिनी, नव दुर्गा नौ रूप।।  शक्ति पर्व नवरात्र में, शुभता का संचार। भक्तिपूर्ण माहौल से, होते शुद्ध विचार ।।  जयकारे से गूंजता, देवी का दरबार। माता के हर रूप को, नमन करे संसार।। माँ अम्बे के ध्यान से, मिट जाते सब कष्... Read more
clicks 252 View   Vote 0 Like   5:35am 21 Oct 2015 #दोहा
Blogger: sunny kumar at Life iz Amazing...
रूठे हुए थे जो ख्वाब कल तक, आज फिर से जगा रहे, छोड़ गए थे जो लम्हें साथ, आज वापिस बुला रहे……. Ruthe huye the jo khwab kal tak, aaj phir se jga rhe, Chhod gye the jo lamhein sath, aaj wapis bulaa rahe… Dreams, which were sulked before, are awakening me again… Moments, which were left me before, are calling me again…. -sunny kumar ... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   7:13am 30 Apr 2015 #दोहा
Blogger: राजीव उपाध्याय at स्वयं शून्य...
झूठी सकल किताब हैं, झूठे हैं सब वेद।उतना ही सच जानिए, खोल सके जो भेद॥© राजीव उपाध्याय... Read more
clicks 62 View   Vote 0 Like   9:15am 26 Mar 2015 #दोहा
Blogger: Himkar Shyam at शीराज़ा [Shiraza]...
मन में हो संकल्प तो, कुछ भी नहीं अलक्ष्य। उठो, चलो, आगे बढ़ो, पा लोगे तुम लक्ष्य।।  जीव-जीव में शिव बसे, मानवता ही धर्म।  सिखाया एक संत ने जनसेवा का कर्म।।  राष्ट्र प्रेम की भावना, सत्कर्मों की लीक। सर्व धर्म सद्भाव का, दूजा नहीं प्रतीक।। स्वामी विवेकानन्द जी की जयंती प... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   9:35am 12 Jan 2015 #दोहा
Blogger: sunny kumar at Life iz Amazing...
खोज लाते हम उनको गर वो खो जाते, पर बदले लोगों को ढूंढा नही जाता.. साभार- गूगल [I can find her if she lost, but how to find who changed..] —————————————– ग़म भी है और ख़ुशी भी, पर वो साथ नहीं, और वो हम नहीं.. —————————————– कुछ पुराने दोहे.. कहते है किसी के चले जाने से जि... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   10:16pm 25 Dec 2014 #दोहा
Blogger: संतोष त्रिवेदी at बैसवारी baiswari...
चौदह दिन बैकुंठ में,रहे अप्सरा संग।बाबा पूर्ण पवित्र हो,नहीं शील हो भंग।।:)चोला ओढ़े संत का, सीख जगत को देत। पुड़िया बेचें धरम की,जनता बनी अचेत।जनता बनी अचेत,हो रहे हैं सब अन्धे। नेता, बाबा संग,चलातेअपने धन्धे। ईश्वर भी हैरान,देख मन ही मन बोला।मनुज नहीं ये ... Read more
clicks 239 View   Vote 0 Like   2:03pm 2 Sep 2013 #दोहा
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at सृजन मंच ऑनला...
                            कुण्डली छंद ( डा श्याम गुप्त )       कुण्डली छः पंक्तियाँ व बारह चरण का विषम-मात्रिक मिश्रित छंद है इसे कुण्डलिया छंद, कुण्डलिनी, कुंडलिका, कुंडलिभी कहा जाता है | यह एक दोहा व एक रोला से मिलकर बनाया हुआ ... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   3:30am 17 Jul 2013 #दोहा
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
 तेरह-ग्यारह से बना, दोहा छन्द प्रसिद्ध।सरस्वती की कृपा से, करलो इसको सिद्ध।१।चार चरण-दो पंक्तियाँ, करती गहरी मार।कह देती संक्षेप में, जीवन का सब सार।२।सरल-तरल इस छन्द में, बहते गहरे भाव।दोहे में ही निहित है, नैसर्गिक अनुभाव।३।तुलसीदास-कबीर ने, दोहे किये पसन्द।दोहे क... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   2:55am 13 Jan 2013 #दोहा
Blogger: श्यामल सुमन at भूषण (मैथिली ...
जोश तखन होयत सफल, सुमन हृदय मे होश।भेटत किछु मदहोश छथि, जागल मे बेहोश।।के किनका सँ कम एतय, अप्पन बातक मानि।सूखि रहल अछि नित सुमन, लोकक आँखिक पानि।।बूढ़ पुरानक बात के, सुमन आय की मोल?मुँह टेढ़ सुनितहि करत, जेना खेलथि ओल।।काज सुमन की ज्ञान के, जे बन्धन के मूल?अहंकार पढ़िकय ... Read more
clicks 324 View   Vote 0 Like   1:50am 17 Nov 2012 #दोहा
Blogger: Arun Sharma at प्रणय - प्रेम -...
भरा सरोवर प्रेम का, पिए जो मन में आए,दिल तोड़ो न दुखियों का, लग जायेगी हाय,सदा साथ में राखिये, देता हूँ इक राय,खुदा समझ के राखि लो, जो मन में बस जाए, हृयद की सुन्दरता को, बस रखो सदा बचाए, पुष्प कमल का जाने कब, कीचड में खिल जाए.............. Read more
clicks 45 View   Vote 0 Like   10:02am 28 Jun 2012 #दोहा
Blogger: श्यामल सुमन at भूषण (मैथिली ...
बात कहय मे नीक छल, बेटा गेल विदेश।मुदा सत्य ई बात छी, असगर बहुत कलेश।।विश्व-ग्राम केर व्यूह मे, टूटि रहल परिवार।बिसरि गेल धीया-पुता, दादी केर दुलार।।हेरा गेल अछि भावना, आपस के विश्वास।भाव बसूला के बनल, भोगि रहल संत्रास।।शिक्षित केलहुँ कष्ट मे, पूजि पूजि भगवान।जखन जरूर... Read more
clicks 268 View   Vote 0 Like   3:49am 27 May 2012 #दोहा
Blogger: Kusum Thakur at Kusum's Journey (कुसुम ...
 "लोकतंत्र बीमार है"लोकतंत्र बीमार अब, है जनता में रोष।इक दूजे पर थोपते, अपना अपना दोष।।बातें जन-हित की करें, स्वार्थ न करते दूर।आम लोग सच जानते, साथ चले भरपूर।। जागो देश निवासियों, नहीं हुई है देर  ।बनी रहे बस एकता, दुश्मन होंगे ढेर।।नहीं गुलामी देश में, फिर भी है सं... Read more
clicks 115 View   Vote 1 Like   5:52am 31 Dec 2011 #दोहा
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4010) कुल पोस्ट (192074)