POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: कलम

Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
 सालों हो गये कुछ लिख लेने की चाह में कुछ लिखते लिखते पहुँच गये आज इस राह मेंशेरो शायरी खतो किताबत पता नहीं क्या क्या सुना गया लिखा गया याद कुछ नहीं रहा बस एक मेरे लिखे को तेरे समझ लेने की चाह मेंवो सारे तलवार लिये बैठे हैं हाथ में सालों से कलम छोड़ कर बेवकूफ तू लगता है ... Read more
clicks 69 View   Vote 0 Like   3:44pm 3 Mar 2021 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
तू खुद को बहलायेगा कब तकहसीन ख्वाब सजाएगा कब तक!!तू साहिल पर युही क्यूँ बैठा हैलहरों से दूर जाएगा कब तक !!आइना पूछता है अब चेहरे से तू मुझे आजमाएगा कब तक ?हिजाकात नही होती परश्ती में तू ज़वाहिरों से मनायेगा कब तक!!उनकी सूरत साकिब है नज़रों मेंज़माने को समझाएगा कब तक!!... Read more
clicks 50 View   Vote 0 Like   6:48am 1 Aug 2020 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
अदावत में कभी पत्थर न उठाया करनाएक पल में अपनों को न पराया करना !!रहते हैं ख़ार ज्यूँ गुलाबों के हमनशीं हो करदिल में दर्दों को वैसे ही छुपाया करना !!तिनके-तिनके में छुपी है मोहब्बत राहीबुलबुल के घरौंदे को न मिटाया करना !!तश्नगी आसमां की और कोशिशें चुल्लू भरख्वाब डूब जाये... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   1:00pm 1 Jan 2020 #कलम
Blogger: Sudha Singh at मेरी जुबानी : ...
न उठना चाहती है,न चलना चाहती है.स्वयं में सिमट कररह गई मेरी कलमआजकल बीमार रहती है.आक्रोशित हो जब लिखती है अपने मन कीतो चमकती है तेज़ टहकार- सी.चौंधिया देने वाली उस रोशनी से,स्याह आवरण के घेरे में,स्वयं को सदा महफूज समझते आये वे,असहज हो कोई इन्द्रजाल रच,करते हैं तांडव उसके... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   6:28pm 24 Mar 2019 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
ए खुदा हमको सिर्फ इतनी सी  कुव्वत देनाकुछ न देना मगर दिल की एक हुकूमत देनासाँसें चलती रहें  मगर  सांस बेख़ौफ़ रहे कोई सेहरा  नहीं, थोड़ी सी इज्ज़त देना मफहूम मोहब्बत का ना जान सका ये दिल सुकून-ए-दिल हो  मयस्सर, वो मुरब्बत देनाये  पाबन्द नहीं  बल्कि ... Read more
clicks 175 View   Vote 0 Like   6:52pm 31 Oct 2018 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
ज़ेहन -ओ -दिल से आज हम दुआ करते हैंदोस्त होने का आज अहल -ऐ -वफ़ा करते हैं ...मुश्किलों में भी तुझको मुकम्मल जहाँ मिलेतेरे लिए आज ग़ज़लों को फ़िदा करते हैं ...दर्द -ए -जुदाई हो या हो मिलन का शबब अबहम आज दोस्त होने का फ़र्ज़ अदा करते हैं ...गुलशन तेरा हो गुल से गुलज़ार ही हमेशासींच... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   7:20am 1 Sep 2018 #कलम
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
समझदारी समझदारों के साथ मेंरहकर समझ को बढ़ाने की है पकाने की है फैलाने की है नासमझ कभी तो कोशिश कर लिया कर समझने की नासमझी की दुनियाँ आज बसपागल हो चुके किसी दीवाने की है कुछ खेलना अच्छा होता हैसेहत के लिये कोई भी हो एक खेल खेल खेल मेंखेलों की दुनियाँ में खेलनाकाफी नहीं ... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   5:55pm 25 Mar 2018 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
आज पुकारता है तुझको फिर से आसमां हिन्दुस्तान का मुकम्मल जहाँ की तलाश में है ये कारवां हिन्दुस्तान का !!समुंदर की लहरों में घिरा वो माझी खड़ा इंतज़ार में आज बैठा है क्यूँ गुमसुम हर इन्सां हिन्दुस्तान का!!जहाँ अब होती है बस बातें गुल औ गुलफाम की कल वहाँ इन्कलाब ही था एक ... Read more
clicks 128 View   Vote 0 Like   6:53pm 28 Feb 2018 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
बोस दिनकर की बातें अब इल्मी निशानी हो गयीवतन पर मिटने की चाहत अब क्यों पुरानी हो गयीं!!सरफरोशों की चहक से जो महफिलें गुलज़ार थीआज वो दहशत-ए-कहर से पानी- पानी हो गयी !!इंकलाबी गीत गा ,वे तख़्त-ए-फांसी पे मिटेआज उनकी शहादतें ,क्यों एक कहानी हो गयी!!नौजवान हिंद का क्यों मजहबों ... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   7:24am 1 Feb 2018 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
तुम  यूँ  पत्थर  न  कभी उठाया  करना एक पल में  किसी को न  पराया  करना !!तेरी साँसे पलती हैं कई साँसों से उनके एहसान कभी न भुलाया करना !!देखो गुलाब भी काँटों को भी संग रखता है दिल में दर्दों को वैसे ही  छुपाया करना !!ओस की बूंदे हर सुबह जैसे खो जाती हैंज... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   1:21pm 1 May 2017 #कलम
Blogger: Anita nihalani at मन पाए विश्रा...
एक रहस्य थम जाती है कलम बंद हो जाते हैं अधर ठहर जाती हैं श्वासें भी पल भर को लिखते हुए नाम भी... उस अनाम का नजर भर कोई देख ले आकाश को या छू ले घास की नोक पर अटकी हुई ओस की बूंद झलक मिल जाती है जिसकी किसी फूल पर बैठी तितली के पंखों में या गोधूलि की बेला में घर लौटते पंछियों... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   10:16am 3 Apr 2017 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
होने को है मुक़ाबिल वो मुकाम की घड़ी  या कहें कि आखिरी सलाम की घड़ी देर तक रहेगी ,स्याही बन के पन्नो पर ये नहीं है कोई दौर -ए -जाम की घड़ी वक़्त ने चाहा कि मैं बस झील बन जाऊँ ,हम नदी हैं ,और ये इन्तेक़ाम  की घड़ी   है इक तरफ शुक्रिया अदायगी अपनी है इक तरफ आपके इन्तेज़ाम की ... Read more
clicks 165 View   Vote 0 Like   4:46pm 4 Oct 2016 #कलम
Blogger: Mayank bhatt at Dil Ki Kitaab ( दिल की ...
Jab aap Dusron par Vishwas krne se ktrate hain. To aap ye Ummid kaise rakh skte hai, Ki koi or Apke upar Vishwas kre…         —————————-         —————————- जब आप दूसरों पर विश्वास करने से कतराते है। तो आप ये उम्मीद कैसे रख सकते है, की कोई और आपके ऊपर विश्वास करे॥ <3 mयंक <3 click here<= to like Dil Ki Kitaab on f.b :)Filed under: ... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   11:24am 21 Mar 2016 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
काग़ज़ में रात एक फिर बिता जवाब का किस बात का चर्चा था महँगे किताब का हर रंग से वाक़िफ़ नहीं ए ज़िन्दगी तेरी !है खूं   का रंग लाल या  फिर गुलाब का ?हमें आपके होश का क्यों इंतजार है ! ?थामे हैं आप आज भी दामन शराब का करता  भी वो यकीन तो किस बिनाह पर पहने थे सब नक़ाब किसी बेनक़... Read more
clicks 118 View   Vote 0 Like   6:01pm 11 Mar 2016 #कलम
Blogger: Mayank bhatt at Dil Ki Kitaab ( दिल की ...
Guroor-E-Ghamand ki Aag me jalkar, Aksar Kabiliyat ke Lohe se bni Moorti bhi Nasht (Destroy) ho jaati hai… गुरूर-ए-घमंड की आग में जलकर, अक्सर काबिलियत के लोहे से बनी मूर्ती भी नष्ट हो जाती है॥ ************+++++++******* click here Filed under: 2 lines shayri, कलम, दिल की किताब, मयंक भट्ट, मेरी कलम, व्यंग, शायरी, शायरी की किताब, हिंदी शायरी, dil ki kitaab, dil ki kitab, Hindi poetry, Hindi shayari, image shayri, inspirational sha... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   1:25pm 1 Mar 2016 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
ईधर  जाऊँ , उधर जाऊं ,कहो कैसा सफर कर लूँ कई तो हैं तमाशे अब ,कहो कैसी नज़र कर   लूँ मुझे मिट्टी  ही प्यारी है,भले मैं   हूँ तेरा मज़दूर कहो  क्यों ए ज़मीं वाले , खुद को बेहुनर  कर लूँ मैं खामोश रह लूँगा ,फिर भी साँस  जब  लोगेन तब भूल  पाओगे   ,खुद को जो शज़र  कर... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   4:26am 28 Feb 2016 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
जो ठीक लगता है कह देते हो जैसे शतरंज हो ,और शह देते हो क्यों छीन लेते हो तुम रात को जब रोशनी  तुम सुबह देते हो हमें चलना था ,हम चलते रहे तुम पथरीली सतह देते हो मैं   भूल जाऊँ ,तुम्हे परवाह नहींपर याद रखने की वजह देते हो... Read more
clicks 124 View   Vote 0 Like   8:23am 27 Feb 2016 #कलम
Blogger: Mayank bhatt at Dil Ki Kitaab ( दिल की ...
Teri safalta ka Shrey sab le lenge, Teri haar me shamil koi hoga. तेरी सफलता का श्रेय सब ले लेंगे। तेरी हार में शामिल कोई ना होगा॥ <3 mयंक <3 ————*********———- =>click here<= to like Dil Ki Kitaab on f.b :)Filed under: 2 lines shayri, कलम, दिल की किताब, मयंक भट्ट, मेरी कलम, हिंदी शायरी, buland hausla, dil ki kitaab, dil ki kitab, Hindi poetry, Hindi shayari, image shayri, inspirational shayri, kadhwa sach, kamyabi, mayank bhatt, mayank shayari, motivation... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   3:29pm 30 Jan 2016 #कलम
Blogger: Mayank bhatt at Dil Ki Kitaab ( दिल की ...
टूटते तारे से मन्नत मांगने से अगर हर ख्वाइश पूरी होती। तो संसार में कोई कभी दुखी ना होता॥ Toot.te Taare se Mannat maangne se agar har Khwaaish poori hoti. To sansaar me koi kbhi dukhi na hota. 3 to like Dil Ki Kitaab on fb.. :)Filed under: 2 lines shayri, कलम, दिल की किताब, व्यंग, buland hausla, dil ki kitaab, Hindi shayari, image shayri, inspirational shayri, kadhwa sach, mayank shayari, motivational shayari, personal diary, photo shayri, pic shayri, shayri image, vyang Tagged: ख्वाइश, तारा,... Read more
clicks 69 View   Vote 0 Like   7:02pm 14 Jan 2016 #कलम
Blogger: Mayank bhatt at Dil Ki Kitaab ( दिल की ...
Zindgi ke Safar ko Mauj lekar paar kariye. Wrna vo log Aksar pareshaan ho jaate hai, Jinhe Manzil par pahuchne ki jaldi hoti hai. जिंदगी के सफर को मौज लेकर पार करिये। वरना वो लोग अक्सर परेशान हो जाते है, जिन्हें मंजिल पर पहुँचने की जल्दी होती है॥ <3 मयंक <3Filed under: 2 lines shayri, कलम, दिल की किताब, दिल की धड़कन, मेरी कलम, विशवास, व्यंग, हिंदी शायरी, buland hausla, dil ki kitaab, Hindi shayari,... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   4:12pm 12 Jan 2016 #कलम
Blogger: Mayank bhatt at Dil Ki Kitaab ( दिल की ...
Rajneeti mein- Yanha log apni-apni Galtiyan chupaate nazar aate hai, Ek-dusre ko bas Aaina dikhate hai. राजनीती में- यँहा लोग अपनी-अपनी गलतियाँ छुपाते नजर आते है। एक-दुसरे को बस आईना दिखाते हैं॥ —————————————- Like Dil Ki Kitaab on f.b-                       ( click here :) ) Filed under: 2 lines shayri, कलम, दिल की किताब, मेरी कलम, हिंदी शायरी, dil ki kitaab, Hindi shayari, image shay... Read more
clicks 81 View   Vote 0 Like   2:20pm 21 Dec 2015 #कलम
Blogger: Mayank bhatt at Dil Ki Kitaab ( दिल की ...
Jb likhna shuru hi kia tha— ( click here :) )Filed under: एक तरफा मोहब्बत, कलम, दिल की किताब, हिंदी शायरी, breakup shayri, dhoka, dil ki kitaab, dil ki kitab, ek tarfa mohbbat, emotional shayri, Hindi poetry, Hindi shayari, image shayri, Love shayari, mayank shayari, personal diary, photo shayri, pic shayri, sad shayri, Shayari, Shayri, shayri image Tagged: प्यार, मेह्खाना, मोहब्बत, शराब, mehkhana, mohabbat, pyaar, shraab ... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   9:43pm 12 Dec 2015 #कलम
Blogger: Mayank bhatt at Dil Ki Kitaab ( दिल की ...
वो बोली… “अरे सुनो, क्या बात आज-कल कुछ खोए-खोए से रहते हो, मैं तुम्हे आवाज़ देती हूँ, तुम नज़रंदाज़ करते हो। कोई खता हो गई, या बात कुछ और है, “वो मुस्कुराई और आँख मारकर बोली” या फिर दिल में कोई चोर है॥ . उसके मज़ाक ने मेरी चोरी पकड़ ली, मैं नज़रें चुराकर, हड़बड़ाकर बोला- नहीं तो, ऐ... Read more
clicks 126 View   Vote 0 Like   7:22pm 5 Dec 2015 #कलम
Blogger: Mayank bhatt at Dil Ki Kitaab ( दिल की ...
गरीब कीचड़ में खेले तो भी उसे कुछ नहीं होता। अमीर लोग तो अक्सर उड़ती धुल से बीमार पड़ जाया करते है॥ Gareeb keechad me khele to bhi use kuch nhi hota, Ameer log to Aksar udti Dhool se Bimaar pad jaaya krte h. <3 ©Mayank <3Filed under: 2 lines shayri, कलम, गरीबी, दिल, दिल की किताब, व्यंग, शायरी, हिंदी शायरी, dil ki kitaab, emotional shayri, gareebi, Hindi poetry, Hindi shayari, image shayri, kadhwa sach, kalam, mayank shayari, personal diary, photo shayr... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   1:18pm 30 Nov 2015 #कलम
Blogger: नीलांश at कविता-एक कोशि...
कुछ देर रुक, मुझको  जाना ही होता ना दीवाना गर,शायराना ही होता गँवाने  का मतलब गँवाना  ही होता पाने का मतलब भी पाना ही होता हमें हार जाने  की ख्वाईश तो  होती तुम्हे जब हम को  हराना ही होता  तेरे हक़ में मयखाने होते  ये सारे मेरे  हक़  में ट... Read more
clicks 124 View   Vote 0 Like   6:18pm 29 Nov 2015 #कलम
[Prev Page] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194092)