POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: व्यंग

Blogger: राकेश कुमार श्रीवास्तव at RAKESH KI RACHANA...
इंटरनेट से लिया गया है।अपनी -अपनी होली रंग-बिरंगी होली आई,सबके रंग निराले भाई।नेता जी की टोली आई,आपस में कीचड़ उछाले  भाई।भ्रष्टाचारियों ने उधम मचाई ,रंगे हाथों पकड़े गए भाई। चोरों ने की खूब हाथ सफाई,पकड़े गए,चेहरे का रंग उड़ गया भाई।मिलावटी राम ने की खूब कमाई,रंग तक क... Read more
clicks 109 View   Vote 0 Like   3:42pm 26 Mar 2013 #व्यंग
Blogger: Kalipad "Prasad" at अनुभूति ...
चुप क्यों हो प्यारे मोहन किसने हर लिया तुम्हारा मन ? गोपियों के साथ हँसते थे,  खेलते थे गोपों के साथ क्यों हो गए मौन ?द्वारका छोड़ तुम इन्द्रप्रस्थ आये सभा में गोप ही गोप हैं ,गोपियाँ है कम ?कुछ तो हैं गोपियाँ, फिर दुखी क्यों तुम्हारा मन ?चुप मत रहो कुछ तो बोलो ,हे मोहन मुरार... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   5:19am 28 Feb 2013 #व्यंग
Blogger: Manu Shrivastav at manu-srijan...
ग्राहक  -  भाई साहब ये मूर्ति कितने की है?दुकानदार -  तीस रुपये की।ग्राहक  -  दो मूर्ति पचास की दोगे ?दुकानदार -  नहीं, इतना फायदा नहीं होता है। हाँ, अगर तीन मूर्ति खरीदोगे तो अस्सी का दे सकता हूँ।ग्राहक  -  तीन मूर्ति अस्सी का दोगे ? यानी ज्यादा लेने पर दाम थोडा कम कर करोगे।द... Read more
clicks 279 View   Vote 0 Like   10:08am 24 Feb 2013 #व्यंग
Blogger: sonal rastogi at कुछ कहानियाँ,...
फलाना बैंड नहीं चलेगाढिमाकी फिल्म नहीं चलेगीकला प्रदर्शनी नहीं चलेगीये लेखक नहीं चलेगा वो निर्देशक नहीं चलेगा तू बोला तो क्यों बोला मुंह खोला तो क्यों खोला ऐसे कपडे नहीं चलेंगे पुतले पुतली रोज जलेंगे ख़बरों के छोटे टुकड़े करब्रेकिंग न्यूज़ में रोज़ तलेंगे  इसके विचा... Read more
clicks 133 View   Vote 0 Like   5:29am 7 Feb 2013 #व्यंग
Blogger: डॉ टी एस दराल at अंतर्मंथन...
एक समय था जब एक के बाद एक सभी मित्रों की शादी होने लगी थीं। अब 25-30 साल बाद जिंदगी का दूसरा दौर शुरू हो गया है जब मित्रों के बच्चों की शादियाँ होने लगी हैं। कभी कभी तो ऐसा लगता है जैसे पहले जिसकी बधाई गाई  थी, अब उसी का सेहरा गा रहे हैं। शायद यही जीवन चक्र है जो अविरल चलता रहत... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   2:30am 28 Jan 2013 #व्यंग
Blogger: Manu Shrivastav at manu-srijan...
कोंग्रेस का चिंतन शिविर जयपुर में चल रहा है। सभी चिंतित हैं। किसी को दो हजार चौदह के चुनाव की चिंता है तो किसी को राहुल गाँधी के अगले प्रधान मंत्री के तौर पर देखने की।  कोई माध्यम वर्ग के उपजे गुस्स्से से चिंतित है।  कोई भ्रष्टाचार की ग्रोथ रेट से। महिलाओं की सुरक्षा से... Read more
clicks 271 View   Vote 0 Like   7:53am 19 Jan 2013 #व्यंग
Blogger: प्रवीण पाण्डेय at न दैन्यं न पल...
शीर्षक पढ़कर थोड़ा सा अटपटा अवश्य लगा होगा। स्वाभाविक ही है क्योंकि समाचार के साथ संश्लेषण शब्द प्रयुक्त ही नहीं होता है। संश्लेषण का अर्थ है, भिन्न से प्रतीत होने वाले कई विचारों, तथ्यों या वस्तुओं को एकरूपता से प्रस्तुत करना। समाचार तो एक तथ्य है, एक तथ्य में भिन्नत... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   10:30pm 18 Jan 2013 #व्यंग
Blogger: डॉ टी एस दराल at अंतर्मंथन...
आजकल एक पुराना हिंदी फ़िल्मी गाना बहुत याद आता है --मैं ढूंढता हूँ जिनको , रातों को ख्यालों में वो मुझको मिल सके ना , सुबह के उजालों में। कुछ यही हाल हिंदी ब्लॉगिंग का हो रहा है। अभी ललित शर्मा जी की पोस्ट पढ़कर यही अहसास हुआ कि वास्तव में सभी जाने माने ब्लॉगर जिन्हें हम ... Read more
clicks 204 View   Vote 0 Like   10:35am 17 Jan 2013 #व्यंग
Blogger: sonal rastogi at कुछ कहानियाँ,...
जीवन का आरम्भ क्या है पर जीवन का अंत क्या है ..आप कहेंगे वो भी पता है ,और मैं कहूँगी जो आप सोच रहे है वो सरासर गलत है अच्छा इस सवाल को ऐसे पूछती हूँ एक नारी के जीवन का अंत क्या है उद्देश्य क्या है ... कृपया आपके मन में उठ रही भाषण की स्क्रिप्ट अपने पास फोल्ड कर के रख लीजिये ...बघ... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   10:45am 4 Dec 2012 #व्यंग
Blogger: Manu Shrivastav at manu-srijan...
चंचल बाबा के नुस्खे -1में आपने चंचल बाबा के नुस्खे पढ़े। यहाँ कुछ और नुस्खे हैं, जिनको लोगो ने प्रयोग किया था।  सेठ जी के बैठते हिं चंचल बाबा के चेले ने हांक लगे। - तो इसी बात पर बोलो चंचल बाबा की जय।बाबा ने उसे शांत कराया और और बोले - अब कोई दूसरा भक्त अपनी कथा सुनाये।एक दूस... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   12:01pm 21 Nov 2012 #व्यंग
Blogger: Manu Shrivastav at manu-srijan...
दिवाली पर एक फिल्म रिलीज हुई है.सन ऑफ़ सरदार.सोंच रहा हूँ देखने के लिए.मेरे ऑफिस में एक सरदार जी हैं.उन्होंने वादा किया है की कल वो ऑफिस में अपने बेटे को लेकर जरुर आयेंगे ... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   11:01am 14 Nov 2012 #व्यंग
Blogger: Manu Shrivastav at manu-srijan...
भूख लग गयी हैंअतंडिया कुलकुला रहीं हैं,पास वाली चिकन मोमोज की दुकान हमको बुला रहीं हैं.मारा है महंगाई ने,जेबों पे ऐसे डाकाहम गरीब तीन शाम से, हर शाम को,  बिन पिज्जा कर रहे हैं फांका.चाहिए एक पथ प्रदर्शकजो खुदा से हमे मिला दे,देंगे दुआएं,  उसे मुफ्त की अपनी,जो हमे मोमोज ... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   12:44pm 10 Nov 2012 #व्यंग
Blogger: Manu Shrivastav at manu-srijan...
चंचल बाबा शहर में आये थे. उनके आगमन से शहर का वातावरण काफी बाबामय हो गया था. शाम में चंचल बाबा अपना प्रवचन शुरू करने वाले थे. चंचल दरबार में काफी लोग जमा हो चुके थे. नियत समय पर बाबा का प्रवचन शुरू हुआ. बाबा देश में बदती हुई गरीबी, भुखमरी, अशिक्षा से बहुत परेशान और व्यथित थे. ... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   10:33am 27 Oct 2012 #व्यंग
Blogger: Manu Shrivastav at manu-srijan...
ए मुर्गी ए मुर्गी !क्या तेरे पास है अंडा?जी जजमान! जी जजमान! मेरे पास है तीन अंडाएक अंडा एससी / एसटी के लिए दूसरा ओबीसी के लिएतीसरे से होगा मेरा लाल पैदा... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   9:42am 22 Oct 2012 #व्यंग
Blogger: sonal rastogi at कुछ कहानियाँ,...
आज सुबह से मूड बन रहा है मोर्चा निकालने  का बस तय नहीं कर पा रहे थे किस बात को इशू बनाया जाए दुनिया की सबसे बड़ी समस्या क्या है .... भाई लोग आजकल हर बात पे धरना लगा देते है और हम इतने बड़े वेल्ले दुनिया के लिए कुछ भी नहीं कर रहे तो कुछ तो करने का समय आ गया है ...पर वो कुछ क्या हो सक... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   7:54am 22 Oct 2012 #व्यंग
Blogger: eksacchai at AAWAZ...
                   " अंडे खाये ,जूते खाये पता नहीं सोनिया के लिए ओर क्या क्या खाना पड़ेगा ? "जयचंद कोंग्रेसी बोला " चापलूसी करते करते ,तलवे चाटते चाटते कभी ये नहीं सोचा था की ऐसे अंडे ओर जूते खाने के दिन भी आएंगे | " उस पर सोम सिंह कोंग्रेसी बोला की " अब तो ऐसे दिन आ गए है और ऐ... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   6:42pm 14 Oct 2012 #व्यंग
Blogger: Manu Shrivastav at manu-srijan...
शाम हो आई थी,काम की व्यस्तता से फुरसत पा करजब थोडा अव्यस्त हुआ तो भूख लग आई.सोंचा कुछ माँगा लेता हूँ!क्या मंगाऊं? कितने का मंगाऊं?सारी जेबें टटोल डाली,एक चवन्नी भी नहीं मिली,निराश हो के धम्म से बैठ गया कुर्सी परकी भूख को बर्दाश्त करना होगा,ना याद आये भूख की ,खुद को दुबारा ... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   1:10pm 27 Sep 2012 #व्यंग
Blogger: mantu kumar at मन के कोने से.....
क्या चाहिए इस बच्चे को-लोकपाल आरक्षण मोबाइल क्रिकेट वर्ल्डकपओलम्पिक मेडल चाँद पर जाने कि ख्वाहिश सचिन का 101वाँ सतक  सत्ता में कुर्सी बंगला,ऐशोआरामया बस दो वक्त की रोटी ?????... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   12:04pm 19 Aug 2012 #व्यंग
Blogger: रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) at आर्यावर्त...
अटपटा लग रहा है ना आपको। ये क्या बात है, कोई भिखारियों का अंबानी भी है ? चौंकिए बिल्कुल मत, मैं आपको बताता हूं, भिखारियों का अंबानी है, और आज मैं आपकी इससे मुलाकात भी कराऊंगा। मैं बताता हूं कि इस अंबानी की सिर्फ एक ही जगह नहीं है, बल्कि देश के कई शहरों में इसका ठिकाना है और य... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   9:51am 17 Aug 2012 #व्यंग
Blogger: Manu Shrivastav at manu-srijan...
पंद्रह अगस्त का दिन बहुत ऐतिहासिक है। आज के दिन हीं देश आज़ाद हुआ था और आज के दिन हीं हम अपने प्रधान मंत्री जी को बोलते हुए देख पाते हैं, भाषण देते हुए। आज सारे देश में हर्ष और उल्लास है, लेकिन मनमोहन सिंह जी काफी व्यथित थे। उनकी व्यथा का का मुख्य करना था, लोगो के द्वारा उ... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   7:35am 15 Aug 2012 #व्यंग
Blogger: mantu kumar at मन के कोने से.....
एक और स्वतंत्रता दिवस.....एक और मौका जब हम "आई लव माई इंडिया" कहकर यह जता सके कि भाई हमें भी इंडिया की बड़ी चिंता हैं .....(सच मे हैं क्या??)हमें आज़ाद (?) हुए 65 वर्ष हो गए ,और इन 65 वर्षों में एक काम करने वाला व्यक्ति अपने जीवन कादो तिहाई से अधिक हिस्सा समाप्त कर चूका होता है (अब तो 65-70 म... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   12:55pm 14 Aug 2012 #व्यंग
Blogger: Manik Ji at अपनी माटी डॉट...
वे कोई आम नेता नहीं थे बल्कि  सामाजिक व राजनैतिक दृष्टि से घोषित रूप से धर्मनिरपेक्ष नेता थे. अक्सर अखबारों में उनकी धर्मनिरपेक्ष छवि फोटो समेत छपती रहती थी. शहर के प्रायः सभी धर्मनिरपेक्षता सम्बन्धी समारोहों में वे ऐसी  ही प्रमुखता से सुशोभित होते थे जैसे किसी डिस्... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   1:23pm 12 Jun 2012 #व्यंग
Blogger: eksacchai at AAWAZ...
मेरे प्यारे एंटीवायरस बनानेवाली कंपनियों के मालिको ,                         " आप सभी को भारत से "पप्पु" का नमस्कार ,आप सभी मालिको से एक प्राथना है की आप कोई ऐसा एंटीवायरस बनाये जो भारत देश में फैले भ्रष्टाचार को ख़त्म कर सके ताकि इस देश का आम आदमी चैन और सुकून से रहे सके ...... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   11:54am 13 May 2012 #व्यंग
Blogger: RAVINDRA PRABHAT at परिकल्पना...
कुंजी बोर्ड की निरर्थक व्यंग-आत्मकथा । (courtesy-Google images) " मन मोनिटर  की  साइज़,  क्यों काट रहा है बंदे? सकल समस्या अपने हिस्से, क्यों  बाँछ रहा है बंदे?"========प्यारे दोस्तों,मैं कम्प्यूटर का,`Key Board-की-बोर्ड`हूँ । आज मैं आपको मेरी `निरर्थक व्यंग्य-आत्मकथा` सुनाना चाहता हूँ । आप सब ल... Read more
clicks 54 View   Vote 0 Like   4:45am 11 May 2012 #व्यंग
Blogger: alok mohan at युवा पहल...
ये मेरा हिंदी ब्लॉग जगत पर पहला पोस्ट है ,मै मराठी मूल का हूँ   मेरा मराठीमें ब्लॉग  है इसलिए हिंदी का इतना ज्ञान नही है इसलिए किसी भाषाई त्रुटी के छमा चाहुगा आज कल सब मनु सिघवी के बारे में की समाचार पढ़ रहे होगे | (काफी गुस्सा आया भी पर क्या कर सकते है हम ) दुसरे दिन मैंने और ... Read more
clicks 186 View   Vote 0 Like   7:43am 29 Apr 2012 #व्यंग

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194358)