POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN
POPULAR POST - WEEK
कहा जाता है की वनवास त्याग जौनपुर के शाहगंज में किया था रामचंद्र जी ने... Read more
clicks 74 View  Vote Like 0  7:52pm 30 May 2020
... Read more
clicks 25 View  Vote Like 0  11:01am 30 May 2020
किनारा कर लिया तुमने, तो जाओ छोड़ देते हैंन हमको याद अब करना, तेरा दर छोड़ देते हैं।तुम्हारी सांस में घुलकर, मिली थी जिंदगी हमकोतुम्हारे साथ लो अब ये, जहां भी छोड़ देते हैंकिनारा ....तुम्हारे साथ में बीते, हुए पल अब सताते हैंसफ़र मुमकिन नहीं आगे,ये राहें छोड़ देत... Read more
clicks 22 View  Vote Like 0  12:01am 30 May 2020
पिछले हफ्ते जब भारत और नेपाल के बीच सीमा को लेकर विवाद खड़ा हुआ, उसके ठीक पहले भारत-चीन सीमा पर कुछ ऐसी घटनाएं हुईं हैं, जिनसे लगता है सब कुछ अनायास नहीं हुआ है। मई के पहले हफ्ते में दोनों देशों की सेनाओं के बीच पैंगांग त्सो के इलाके में झड़पें हुईं थीं। उसके बाद दोनों दे... Read more
clicks 22 View  Vote Like 0  9:08am 30 May 2020
भारत और चीन के रिश्तों में आई तल्खी को केवल वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चल रही गतिविधियों तक सीमित करने से हम सही निष्कर्षों पर नहीं पहुँच पाएंगे। इसके लिए हमें पृष्ठभूमि में चल रही दूसरी गतिविधियों पर भी नजर डालनी होगी। पिछले दिनों जब भारत और नेपाल के बीच सीमा को लेकर ... Read more
clicks 19 View  Vote Like 0  6:56am 31 May 2020
वर्तमान परिदृश्य में अभिभावकों के लिए बच्चों के मनोविज्ञान को समझना एक जटिल कार्य होता जा रहा है. उनके लिए बच्चों का लालन-पालन, उनकी परवरिश को लेकर भी आये दिन समस्याजनक होता जा रहा है. अभिभावकों और बच्चों का एकदूसरे के प्रति व्यवहार भी रूखा और असंयत होता दिखता है. इसके ... Read more
clicks 17 View  Vote Like 0  11:58pm 29 May 2020
Antifa, short for anti-fascists, is not a concrete group, rather an amorphous movement. Anti-fascists of the movement tend to be grouped on the leftward fringes of the US political spectrum, many describing themselves as socialists, anarchists, communists or anti-capitalists.While an anti-fascist movement can be traced back to Germany and Italy before the second world war, the first US group to use the word "Antifa" in its branding was the Rose City Antifa (RCA) founded in 2007 in Portland, Oregon, though many groups have held anti-fascist ideology in the US for decades without using the branding.RCA and other groups like it made it their goal to disrupt - violently if necessary - meetings a... Read more
clicks 15 View  Vote Like 0  8:31am 2 Jun 2020
कभी हसरत थी आसमां छूने की, अब तमन्ना है आसमां पार जाने की,ये वे दो पंक्तियाँ हैं जिन्हें उरई में आयोजित एक राष्ट्रीय संगोष्ठी में नवम्बर 2005 में पढ़ा था. ये दो पंक्तियाँ बाद में हमारी पहचान बन कर हमारे साथ चलने लगीं. स्थानीय दयानंद वैदिक महाविद्यालय में हिन्दी साहित्य विष... Read more
clicks 14 View  Vote Like 0  9:16pm 29 May 2020
हाड़ोती के लाल ,,विकास पुरुष ,केबिनेट मंत्री शान्तिकुमार धारीवाल के वर्तमान अव्वलीन वफादार ,,जांबाज़ क्रांतिकारी राजेंद्र सांखला का शनिवार 30  मई को उनका जन्म दिन ,यानि योमं ऐ पैदाइश का दिन है उनके समर्थक साथी इसे कोरोना एडवाइज़री सोशल डिस्टेंस के साथ जश्न के रूप में भी म... Read more
clicks 14 View  Vote Like 0  8:00am 30 May 2020
गर्मी से हाल बेहाल लोग तो क्या बेचारे पशु पक्षी भी प्यास से मर रहे हैं, उनका खास ख्याल रखें। इन दिनों हर एक के पास व्हाट्सएप और फेसबुक पर यह मैसेज जोरों शोरों से शेयर किया जा रहा है। राहुल के व्हाट्सएप पर जैसे ही यह मैसेज फ्लैश हुआ वह पानी का कटोरा लेकर सीधा छत की ओर दौड़ प... Read more
clicks 14 View  Vote Like 0  8:42pm 30 May 2020
khalsa website designers provide design and development service in Punjab, khalsa have experienced website designer who create innovative website design.... Read more
clicks 14 View  Vote Like 0  7:19pm 31 May 2020
अरुण साथीबिहारी होने को लेकर अक्सर चर्चा होती रही है। कभी-कभी सकारात्मक संदर्भ में तो ज्यादातर नकारात्मक संदर्भ में। बाद के दिनों में लालू प्रसाद यादव के गंवई अंदाज को लेकर नकारात्मक संदर्भ में बिहार को उछाला जाता रहा। घोटाला बगैरा से इतर की बातें हैं। खैर, वर्तमान ... Read more
clicks 13 View  Vote Like 0  9:02am 31 May 2020
... Read more
clicks 13 View  Vote Like 0  12:06pm 31 May 2020
कनाडा में प्रधान मंत्रीजब भी जनता को संबोधित करते हैं तो अंग्रेजी और फ्रेंच दोनों में बोलते हैं।आज जब ऐसी आपदा आई हुई है तो रोज सुबह जनता को संबोधित करके बताते हैं की सरकार क्या कर रही है? क्या योजनाएं हैं? जो घोषणाएं हुई हैं उस पर कैसे और कितना अमल हो गया है, कितना बाकी ह... Read more
clicks 13 View  Vote Like 0  5:03am 31 May 2020
... Read more
clicks 13 View  Vote Like 0  7:51pm 1 Jun 2020
... Read more
clicks 12 View  Vote Like 0  5:59pm 30 May 2020
कभी गांव में जब रामलीला होती और उसमें राम वनवास प्रसंग के दौरान केवट और उसके साथी रात में नदी के किनारे ठंड से ठिठुरते हुए आपस में हुक्का गुड़गुड़ाकर बारी-बारी से एक-एक करके-“ तम्बाकू नहीं हमारे पास भैया कैसे कटेगी रात, भैया कैसे कटेगी रात, भैया............ तम्बाकू ऐसी मोहि... Read more
clicks 12 View  Vote Like 0  4:00am 31 May 2020
तप्ती गरमी और कड़ाके की ठंड को सहती हुई यह वादियाँ ना जाने कितनी सदियों से प्रतीक्षा कर रही है उस आसमान के एक आलिंग कि, की जिसे पाकर मनो मोक्ष मिल जायेगा इन्हें।इनकी पथराई आंखों मे भी लहराए गा कभी जज़्बातों का पानी और फिर खेलेगा एक पत्थर का फूल इनके आँचल में,पाषाण युग से आज... Read more
clicks 12 View  Vote Like 0  10:35am 31 May 2020
सादर अभिवादन।सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है।--शब्द-सृजन- 24  का विषय है- मसी /क़लम आप इस विषय पर अपनी रचना  (किसी भी विधा में) आगामी शनिवार (सायं 5 बजे) तक चर्चा-मंच के ब्लॉगर संपर्क फ़ॉर्म (Contact Form ) के ज़रिये हमें भेज सकते हैं।  चयनित रचनाएँ आगामी रविवासरीय चर्चा-अंक... Read more
clicks 12 View  Vote Like 0  12:01am 1 Jun 2020
एक नन्हा सा सपना था,मेरे छोटे बचपन का,अपने अम्बर को छूना,संग ले कोना इस मन का...दोस्तों के संग खेलना,मुझको जब बहुत भाता था,माँ को ऊँचे आसमान का,सपना बहुत सताता था...जब मैं स्कूल थी जाती,पापा छोड़ने जाते थे,एक बड़ी कार में मुझको,देखने की चाह सजाते थे....बड़ी हुई मैं जब तब,उनके सप... Read more
clicks 12 View  Vote Like 0  1:26am 1 Jun 2020
सीता की पीर ******* 1. राह अगोरे  शबरी-सा ये मन,  कब आओगे?  2. अहल्या बनी  कोई राम न आया  पाषाण रही।  3. चीर-हरण,  द्रौपदी का वो कृष्ण  आता न अब।  4. शुचि द्रौपदी  पाँच वरों में बँटी,  किसका दोष?  5. कर्ण का दान  कवच व कुंडल,  कुंत... Read more
clicks 12 View  Vote Like 0  5:47pm 1 Jun 2020
प्राचीन भारत के तक्षशिला और नालन्दा विश्वविद्यालय दुनिया के प्राचीनतम विश्वविद्यालय हैं। पर आधुनिक विश्वविद्यालयों के अर्थ में भारत का पहला विश्वविद्यालय कोलकाता में स्थापित हुआ था। इसकी स्थापना 24जनवरी 1857को हुई। उसी साल मद्रास और मुम्बई की प्रेसीडेंसियों में भी... Read more
clicks 12 View  Vote Like 0  7:11am 2 Jun 2020
Internet Banking-A detailed Guide on the Banking System, procedure, Transaction Facilities and transaction Procedure- Internet banking or Online banking or net banking is a service provided by all the banks to their customers to make transactions sitting on their computers at their residence or office. All you need to use this service is, you must have an internet connection and an account with the bank. In all banks there are two categories of internet banking (1) Personal Banking and (2) Corporate Banking. Personal banking is free of charge and reasonable charges are levied on corporate Banking customers. There are different transaction limits for personnel and corporate segment custo... Read more
clicks 12 View  Vote Like 0  7:50am 2 Jun 2020
प्लीज़ इसे मिर्ची की तरह ट्रीट कर उछले नहीं , रूमन्टटी खाकर , पहले भी तो ऐसा हुआ हम भी ऐसा कर रहे है कहकर कुतर्क न करे , सूचना का अधिकार , आम जनता को पी एम केयरफण्ड के आमदनी , खर्च , इसका फॉर्मेशन , मेमोरेंडम , विधी नियम व्यवस्थाएं , कोन , कोन , ज़िम्मेदार शामिल है , जानने का अधिकार ... Read more
clicks 12 View  Vote Like 0  8:11am 2 Jun 2020
... Read more
clicks 12 View  Vote Like 0  3:27pm 4 Jun 2020
--गघे नहीं खाते जिसे, तम्बाकू वो चीज।खान-पान की मनुज को, बिल्कुल नहीं तमीज।।--रोग कैंसर का लगे, समझ रहे हैं लोग।फिर भी करते जा रहे, तम्बाकू उपयोग।।--खैनी-गुटका-पान का, है हर जगह रिवाज।गाँजा, भाँग-शराब का, चलन बढ़ गया आज।।--तम्बाकू को त्याग दो, होगा बदन निरोग।जी... Read more
clicks 11 View  Vote Like 0  7:11am 31 May 2020
मेरी मोहब्बत की ना सही, मेरे सलीके की तो दाद दे.तेरा ज़िक्र रोज़ करते हैं, तेरा नाम लिए बगैर....www.akhtarkhanakela.blogspot.com... Read more
clicks 11 View  Vote Like 0  8:44am 31 May 2020
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); गायक :  अल्का याज्ञनिकफिल्म/एल्बम:  घर द्वारगीतकार: लक्ष्मण शाहाबादीसंगीतकार: चित्रगुप्तलेबल:  टी सीरीज (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); हम ना जइबै बलम घर हो भाभीहम ना जइबै बलम घर हो हम ना जइबै बलम घर हो भाभीहम ना जइबै बलम घर हो हमको लागे बहुत डर हाय हा... Read more
clicks 11 View  Vote Like 0  8:08pm 31 May 2020
एक सफल प्रशासनिक अधिकारी गरीबों के हक़ का निवाला , कुशल प्रबंधन व्यवस्था के तहत ,, तत्काल गरीबों के हलक़ तक ,पहुंचवाये ,, और ऐसे गरीबों का हक़ हड़प कर छीनने वालों को चिन्हित कर ,उनके हलक़ से बेईमानी का निवाला निकाल कर सरकारी खज़ाने में लाखों लाख रूपये जमा करवाकर सरकारी खज़ाने क... Read more
clicks 11 View  Vote Like 0  7:49am 1 Jun 2020
🌷  गीतिका 🌷        🌺    देवी छंद   🌺   **********************               मापनी- 112  2हम सेवी। तुम स्वामी ।।मुख तेरा ।अभिरामी।।पद लागूँ।दिक- स्वामी।हम दंभी।खल कामी।।अपना लो।भर हामी।।चित मेरा।क्षणरामी।।हँसते हैं।प्रति गामी।।कर नाना।बदनामी।।बन जाऊँ।पथ ग... Read more
clicks 11 View  Vote Like 0  7:51pm 1 Jun 2020
... Read more
clicks 11 View  Vote Like 0  9:44am 3 Jun 2020
कोटा स्मार्ट सिटी ,कोटा क्लीन सिटी ,कोटा सौंदर्यकृत सिटी ,कोटा कोचिंग सिटी ,,कोटा हमारी सिटी , कोटा ग्रीन सीटी ,,कोटा पार्कों की सीटी , कोटा चंबल ,किशोरसागर , अभेड़ा झील की सीटी , कोटा धार्मिक नगरी की सिटी , कोटा राष्ट्रिय मेला दशहरा सिटी ,, कोटा हेरिटेज सीटी ,,,इन सब अल्फ़ाज़ों ... Read more
clicks 11 View  Vote Like 0  8:19am 3 Jun 2020
--मदहोश निगाहें हैं, खामोश तराना हैमासूम परिन्दों को, अब नीड़ बनाना है--सूखे हुए शजरों ने, पायें हैं नये पत्तेबुझती हुई शम्मा को, महफिल में जलाना है--कुछ करके दिखाने का, अरमान हैं दिलों मेंउजड़ी हुई दुनिया को, अब फिर से बसाना है--हिंसा की चल रहीं हैं, चारों तर... Read more
clicks 10 View  Vote Like 0  12:05am 30 May 2020
--पत्रकारिता दिवस पर, होता है अवसाद।गुणा-भाग तो खूब है, मगर नहीं गुणवाद।।--पत्रकारिता में लगे, जब से हैं मक्कार।छँटे हुओं की नगर के, तब से है जयकार।।--समाचार के नाम पर, ब्लैकमेल है आज।विज्ञापन का चल पड़ा, अब तो अधिक रिवाज।।--पीड़ा के संगीत में, दबे खुशी के बोल।देश-वेश-प... Read more
clicks 10 View  Vote Like 0  5:53am 30 May 2020
नीरवता ****** मन के भीतर   एक विशाल जंगल बस गया है   जहाँ मेरे शब्द चीखते चिल्लाते हैं   ऊँचे वृक्षों-सा मेरा अस्तित्व   थक कर एक छाँव ढूँढ़ता है   लेकिन छाँव कहीं नहीं है   मैंने खुद वृक्षों का कत्ल किया था,   इस बीहड़ जंगल से अब मन डरने लगा है  &nbs... Read more
clicks 10 View  Vote Like 0  6:35pm 30 May 2020
Web Hosting हर एक internet मर्केटर के लिए ये बहुत ही important चीज होती है जिसके जरिये आप अपने business को ऑनलाइन ले जाते है लेकिन आज इसकी कीमत दिन व दिन बढती जा रही है ऐसे में किसी एक डिजिटल मार्केटिंग से यूक्त लोग हो या मेरे जैसे ब्लॉगर उनके लिए web hosting कि कीमत चुकाना बहुत ही मुस्किल हो गया है लेकि... Read more
clicks 10 View  Vote Like 0  8:34pm 30 May 2020
 इंसानों को यह भ्रम हो गया है कि उनसे सुंदर इस दुनिया में कोई नहीं। और अपनी सुंदरता को बरकरार रखने के लिए वह कई प्रकार के कॉस्मेटिक प्रोडक्ट ओं का प्रयोग करते हैं लेकिन हमारी इस धरती में कुछ ऐसे पशु-पक्षी भी है जो बिना किसी मेकअप के भी बहुत सुंदर लग रहे हैं एक छोटी सी फो... Read more
clicks 10 View  Vote Like 0  7:00am 31 May 2020
     मैं अपनी सहेली के साथ समुद्र तट पर सागर के किनारे रेत पर बैठी थी। सूर्यास्त का समय था और समुद्र की लहरें हमारे पांवों के पास तक आ आ कर वापस लौट जा रही थीं, पास तो पहुँचती थीं, किन्तु हमारे पांवों को छू नहीं पाती थीं। मेरी सहेली ने मुस्कुराते हुए कहा, “मुझे सागर पस... Read more
clicks 10 View  Vote Like 0  8:30pm 1 Jun 2020
बह्र:- 2122  2122  2122  212इश्क़ के चक्कर में ये कैसी फ़ज़ीहत हो गयीक्या किया इज़हार बस रुस्वा मुहब्बत हो गयी।उनके दिल में भी है चाहत, सोच हम थे खुश फ़हम,पर बढ़े आगे, लगा शायद हिमाकत हो गयी।खोल के दिल रख दिया जब हमने उनके सामने,उनकी नज़रों में हमारी ये बगावत हो गयी।देखिये जिस ओर नकली ही... Read more
clicks 10 View  Vote Like 0  9:42am 3 Jun 2020
समय कभी नहीं रुकता ...न घड़ी में ...और न ही ज़िन्दगी में...। समय और ज़िन्दगी में एक फर्क होता है। समय पर उम्र की रेखाएं नहीं दिख पड़ती और ज़िन्दगी रेखाओं को जीकर दो ग़ज़ ज़मीन में समाती जाती है। समय की युवावस्था कभी ख़त्म नहीं होगी।वह मानव की उत्पत्ति से भी पूर्व बिग बैंग अवधारणा से सम... Read more
clicks 9 View  Vote Like 0  9:25am 31 May 2020
दिल को सुकून देतीवो मधुर संगीत हैआंखो में चमक भर देतावो तारा संगीत है।मन को खुश कर देतीवो धूप संगीत हैकमजोरी को हिम्मत देतावो साहरा संगीत है।जिंदगी को उम्मीद देतीवो भरपूर संगीत हैहौसलों में जुनून भर देतावो उजियारा संगीत है।चेहरे पर मुस्कान ला देतीवो सुकून सा संगीत... Read more
clicks 9 View  Vote Like 0  10:25am 31 May 2020
उत्तम-प्रवेश--------------खुली आँखों से स्वप्न देखना, तंद्रा से किंचित बाहर आनाबस यूँ नेत्र खोलें, मन में कितनी संभावनाऐं हो सकती।  शिकायतें कई तुमसे ओ जिंदगी, न खिलती, न रूप दिखाती कहाँ छुपी बैठी रूबरू न हो, तड़प रहा तुममें रहकर भी।  जल में रहकर भी प्यासा, यह तो&n... Read more
clicks 9 View  Vote Like 0  5:26pm 31 May 2020
     उस ऊँची हृदय विदारक पुकार ने दोपहर के अंधियारे को बेध दिया। मैं कल्पना कर सकता हूँ कि उस आवाज़ ने यीशु के पांवों के निकट खड़े उन के प्रिय जनों के विलाप, और साथ में टंगे अपराधियों की आहों की आवाज़ को भी दबा दिया होगा, तथा सभी सुनने वालों को स्तब्ध कर दिया होगा। यीशु न... Read more
clicks 9 View  Vote Like 0  8:30pm 31 May 2020
कोरोना के मिले हैं कुछ राईट इफेक्ट दो चार   , नहीं सब कोरोना से बीमार  . .रहना हुआ है , घर में सब जन के , मिटे गिले शिकवे , वहम सारे मन के , सबके सानिध्य में बीते दिन चार , नहीं सब कोरोना से बीमार  . .कम हुयी जरुरतें  , खर्चे भी कम से , जीना हुआ है , किफायती ढंग से , थोड़े में सब दि... Read more
clicks 9 View  Vote Like 0  10:39pm 31 May 2020
--पीला-पीला और गुलाबी,रूप सभी को भाया है।लू के गर्म थपेड़े खाकर,फिर कनेर मुस्काया है।।--आया चलकर खुला खजाना,फिर से आज कुबेर का।निर्धन के आँगन में पनपा,बूटा एक कनेर का।कोमल और सजीले फूलों ने,मन को भरमाया है।लू के गर्म थपेड़े खाकर,फिर कनेर मुस्काया है।।--कितनी शीतलता देती ... Read more
clicks 9 View  Vote Like 0  6:42am 2 Jun 2020
बेटियों के उदास चेहरे अच्छे नहीं लगते माँ के कलेजे में हूक उठती है। फिर भी वो खामोशी से सह जाती हैं पूछने पर "कुछ नहीं माँ बेकार परेशान रहती हो।" बस थोड़ी सी थकान है। वो माँ जो पढ़ लेती है चेहरा के भाव को इन दलीलों से संतुष्ट नहीं होती। वो हँसती , खिलखिलाती , कोयल सी आवाज में गाती तो ठिठक जाते थे पैर अब तो गुनगुनाना भी भूल गई । जब रखती पाँव मंच पर रौनक बिखर जाती थी और एक एक शब्द चुन कर बनाती थी वो प्रवाह घोलती रस कानों में मोह लेती थी मन । आज खुद को बंद कर एक कमरे में माँ से भी मुखर नहीं होती । गर मुखर होती तो वो उदास नजरें अपना मुँह न चुराती । वो खामोशी ए... Read more
clicks 9 View  Vote Like 0  10:39pm 2 Jun 2020
... Read more
clicks 9 View  Vote Like 0  8:59pm 3 Jun 2020
Ingredient:Tomato – 2 MediumPaneer  – 200 grams Green Peas  - 1 CupOnion – 1 SmallGinger – 1 /2 inchGreen Chilli - 2Cooking Oil – 1 Tea SpoonCumin Seeds – 3/4 Tea SpoonKalonji Seeds – 1 /4 tea SpoonTurmeric Powder – 1 /2 Tea SpoonSalt– 1 Tea SpoonRed Chilli Powder - 1 /2 Tea SpoonCoriander Powder – 3 /4 Tea SpoonCumin Powder – 3 /4 Tea Spoongreen coriander – Few leavesOur FB page:https://www.facebook.com/ufoskitchenSubscribe to our recipe by email:http://www.ufoskitchen.com/... Read more
clicks 9 View  Vote Like 0  5:52am 4 Jun 2020
कहते है ,, बड़बोले व्यक्ति को , कितनी ही बढ़ी कुर्सी पर बिठा ,दो लेकिन उसके बड़बोलेपन से ,उसका अदब उसके अधीनस्थों में ,उसकी प्रजा में खुद ब खुद खत्म हो जाता ,है , ट्रम्प साहिब को ही लीजिये ,,विश्व के सबसे कथित शक्तिशाली देश के राष्ट्रपति ,है , लेकिन बड़बोलेपन की वजह से एक पुलिस वा... Read more
clicks 9 View  Vote Like 0  6:06am 4 Jun 2020
में जब घर बार छोड़ कर , खुशियों के साथ ,आप लोगों की सेवा में ,शिक्षा क्षेत्र की सेवा में ,,बच्चों को शिक्षित करने के संकल्प के साथ आयी तो मेरा अहसास , मेरा विशवास ,,मेरा भरोसा कुछ इन अल्फ़ाज़ों की तरह था ,,,गजरे की खुशबु को घर महकता छोड़ आयी हूँ ,मेरी नन्हीं सी चिड़िया को चहकता छोड़ आय... Read more
clicks 8 View  Vote Like 0  9:22am 2 Jun 2020
लॉकडाउन के बाद अब नई शब्दावली चलन में आ गई है, अनलॉक. वैसे इन दोनों शब्दों से लोग पहले से परिचित रहे हैं मगर इस सन्दर्भ में पहली बार प्रयोग कर रहे हैं. इस लॉकडाउन लगने, खुलने को लेकर लोगों में अजब सी उथल-पुथल है. जब इसे लगाया गया था तो इनके पेट में मरोड़ उठी थी. उसके बाद जब इसका... Read more
clicks 8 View  Vote Like 0  11:44pm 2 Jun 2020
30-32 साल पहले युवावस्था मे जब पहली झलक मे यमनोत्री धाम देखा था तो उस वक्त की उस जगह का आखों देखा चित्रण कुछ यूं था:दूर पहाड़ी ओठ से आती लकीराकार एक स्वच्छ निर्मल नीर धार...। नीचे पहाड़ी की ओठ मे बना एक प्राचीन मंदिर..। मंदिर के आसपास टिन की चादरों और तिरपाल की छत से ढके कुछ खपरैल,... Read more
clicks 8 View  Vote Like 0  7:51am 3 Jun 2020
जौनपुर को फ़िरोज़ा शाह तुग़लक़ ने मशहूर सूफी सैयद जलालुदीन के के कहने पे बसाया था | सैफुल इस्लाम जौनपुर शहर की स्थापना उसने अपने बड़े भाई जौना खान की याद में की थी यह बात आम तौर पे इतिहासकारों द्वारा कही जाती है लेकिन जौनपुर का इतिहास रहस्यों से भरा हुआ है और जौनपुर के इतिह... Read more
clicks 8 View  Vote Like 0  8:36am 3 Jun 2020
समय... Read more
clicks 8 View  Vote Like 0  8:52pm 3 Jun 2020
--मधुर पर्यावरण जिसने, बनाया और निखारा है,हमारा आवरण जिसने, सजाया और सँवारा है।बहुत आभार है उसका, बहुत उपकार है उसका,दिया माटी के पुतले को, उसी ने प्राण प्यारा है।।--बहाई ज्ञान की गंगा, मधुरता ईख में कर दी,कभी गर्मी, कभी वर्षा, कभी कम्पन भरी सरदी।किया है रात को ... Read more
clicks 8 View  Vote Like 0  5:54am 4 Jun 2020
तुम्हारी आवाज़ की खनक सुनकरहवा साज़ में बदल जाती हैबजने लगते हैं सुरहौले से मेरे कानों में घोलते मधुरस भरे गीतजीत लेना चाहती हूँतुम्हारी निःशब्दताअपने शब्दों के रूप सेजैसे विंग्स की कहानी का मौनविजित करताएक ऑस्कर प्रतिमातुम्हारी नींद में जागना चाहती हूँ लम्बी ... Read more
clicks 8 View  Vote Like 0  8:55pm 4 Jun 2020
देख... Read more
clicks 8 View  Vote Like 0  8:59pm 4 Jun 2020
घर में रहना , घर में रहना , घर में ही रहना है .... https://www.youtube.com/watch?v=qQ_UZ2N9EG8... Read more
clicks 8 View  Vote Like 0  4:25pm 4 Jun 2020
किसी की आँखों में झाँकना उसके दर्द को खींच निकालना नहीं होता  ना ही होता है उसके मन की बात लफ्ज़-दर-लफ्ज़ पढ़नाउसकी गहरी नीली आँखों में प्रेम ढूँढना तो बिलकुल भी नहीं होता  हाँ ... होते हैं कुछ अधूरे सपने उन आँखों मेंदेखना चाहता हूँ जिन्हेंसमेटना चाहता हूँ जिनको करना चा... Read more
clicks 7 View  Vote Like 0  12:04pm 1 Jun 2020
रंग*****बेरंग जीवन बेनूर न हो   कर्ज में माँग लायी मौसम से ढ़ेरों रंग   लाल पीले हरे नीले नारंगी बैगनी जामुनी   छोटी-छोटी पोटली में बड़े सलीके से लेकर आई   और खुद पर उड़ेल कर ओढ़ लिया मैंने इंद्रधनुषी रंग   अब चाहती हूँ   रंगों का कर्ज चुकाने, मैं मौसम बन... Read more
clicks 7 View  Vote Like 0  6:04pm 2 Jun 2020
रात ढलती रात, करवट बदलती रात इस ओर से उस ओर जाती रात बढ़ती अंधेरों में गम की अँधेरी रात मनुष्य को नींद की आगोश में लेती रात चांदनी की सुंदरता बिखेरती रात गरदिश में सितारो को मिलती रात रात ढलती रात, करवट बदलती रात इस ओर से उस ओर जाती रात l 1 l ... Read more
clicks 7 View  Vote Like 0  10:22pm 2 Jun 2020
चीनी उत्पादों के खिलाफ भारत में एक आन्दोलन सा खड़ा होता दिखने लगा है. अगर यह आंदोलन चीन के विरुद्ध सफल हो जाता है तो भारत को इसके अनेक दीर्घकालिक लाभ होंगे.इसमें पहला लाभ तो चीन को भारत से होने वाले राजस्व में जबरदस्त कमी आएगी. यह कमी लगभग 5 लाख करोड़ रुपये तक के होने का अनु... Read more
clicks 7 View  Vote Like 0  11:32pm 3 Jun 2020
सही मायने में प्यार क्या है? एक छल अथवा जीवन की कमजोरी को दूर करने का उपाय अथवा दर्द दुःख को मिटाने के लिए दुसरो की छांव में खुद को समर्पित कर देने के तमन्ना l ... Read more
clicks 6 View  Vote Like 0  10:16pm 2 Jun 2020
व्यक्तियों में प्रधान जो है बुद्धिमान बुद्धिमानों का कमान है भाषा ज्ञान ज्ञानों की विशेषता विविध भाषा ज्ञान विविध भाषाओँ के जानकार सचमुच महान l १ l ... Read more
clicks 6 View  Vote Like 0  10:29pm 2 Jun 2020
आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैमन हो गया विभोरएक अफ़सोस विडम्बना लाल मिर्च के औषधीय उपयोग इश्क है मेहमान दिल मेंतेरी याद संग लिली खिली हैसमर क्षेत्र कौशल किन्नर हो क्रिमिनल नहींदुःख को कोई कैसे लिख सकता हैजीवन दर्शन की बात करता कविता-संग्रहधन्यवाददि... Read more
clicks 6 View  Vote Like 0  1:00am 4 Jun 2020
दिल को सुकून देतीवो मधुर संगीत हैआंखो में चमक भर देतावो तारा संगीत है।मन को खुश कर देतीवो धूप संगीत हैकमजोरी को हिम्मत देतावो साहरा संगीत है।जिंदगी को उम्मीद देतीवो भरपूर संगीत हैहौसलों में जुनून भर देतावो उजियारा संगीत है।चेहरे पर मुस्कान ला देतीवो सुकून सा संगीत... Read more
clicks 5 View  Vote Like 0  10:25am 31 May 2020
उन दिनों में आराम जितना हो सकता था किया जा रहा था क्योंकि घावों के भर जाने के बाद उनकी त्वचा की कोमलता दूर होने के बाद ही कृत्रिम पैर लगने वाली प्रक्रिया शुरू की जा सकती थी. चलने की, अपने पैरों पर खड़े होने की जल्दी थी मगर जल्दबाजी में किसी तरह की हड़बड़ी करना नहीं चाहते थे. न... Read more
clicks 5 View  Vote Like 0  10:37pm 2 Jun 2020
जब जीवन स्थिर हो जाता हैजब दुनिया शांत हो जाती हैएक गाँव की तरह दिखने वाला संसारछोटे छोटे मोहल्लों में बंटा नज़र आता हैशेष बचता है डरजो हम सबके मन के अंदर हैवो ही बाहर बेख़ौफ़ सड़कों पर घूमता हैये ज़हर उस प्याले में नहीं जिसे सुकरात ने पियादहशत का सायनाइड अपनी मिठास सेस... Read more
clicks 5 View  Vote Like 0  10:33pm 3 Jun 2020
            भई हम तो किसी काबिल नहीं , कमोबेश पचपन साल हो रहे है कलम उठाये हुए और मिला क्या ठेंगा ? फिर मिले भी क्यों ?  बड़ी सिद्धांतों वाले टके के तीन बिकते हैं ।         या तो चलते पुर्जे हो या इतनी हिम्मत हो कि हर सभा, समारोह, गोष्ठियों में पहुँच जाओ और घूम घूम कर ... Read more
clicks 5 View  Vote Like 0  1:05am 4 Jun 2020
अनलॉक के दौरान बाजार में भीड़ अब अपने पुराने रूप में आती दिख रही है. उरई में शाम पाँच बजे तक बाजार खोलने की अनुमति है. जैसा कि ऊपर से आदेश हैं, उसके अनुसार रात नौ बजे तक नागरिकों के आवागमन पर प्रतिबन्ध नहीं है. एक आवश्यक काम से शाम को सात बजे के बाद निकलना हुआ. उस समय बाजार पू... Read more
clicks 5 View  Vote Like 0  11:58pm 4 Jun 2020
कभी गांव में जब रामलीला होती और उसमें राम वनवास प्रसंग के दौरान केवट और उसके साथी रात में नदी के किनारे ठंड से ठिठुरते हुए आपस में हुक्का गुड़गुड़ाकर बारी-बारी से एक-एक करके-“ तम्बाकू नहीं हमारे पास भैया कैसे कटेगी रात, भैया कैसे कटेगी रात, भैया............ तम्बाकू ऐसी मोहि... Read more
clicks 4 View  Vote Like 0  4:00am 31 May 2020
परिपक्व... Read more
clicks 4 View  Vote Like 0  9:07pm 2 Jun 2020
प्यार शब्द के अनुभुती से ही जीवन में उमंग की लहर दौड़ जाती है l प्यार का पहला अक्षर ही अधुरा है परंतु अधुरा प्यार ज़िन्दगी मे कभी नहीं भुलाया जा सकता है l जीवन के अनेक पड़ाव पर पहले प्यार की याद आती रहती है l आज मैंने दो बच्चों को जब कहते सुना "मुझे तुमसे प्यार है" तो मुझे अपने स्कूल के दिनों की याद आगयी l बात उन दिनों की है जब मै छठी कक्षा मे पढ़ता था l मई का महिना था और मै सुबह उठ कर बैठा था जैसे एक अवाक मुरत हो l यह प्रतीदिन के दिनचर्या से भिन्न था l मैं अपने रात्रि के सपने के बारे मे सोच रहा था कि वो स्वपन सुन्दरी कौन थी ? जिसे मैने सपने मे देखा था l उसके काले लम्बे ब... Read more
clicks 4 View  Vote Like 0  10:31pm 2 Jun 2020
बेटियों के उदास चेहरेअच्छे नहीं लगतेमाँ के कलेजे में हूक उठती है।फिर भीवो खामोशी से सह जाती हैंपूछने पर"कुछ नहीं माँ बेकार परेशान रहती हो।बस थोड़ी सी थकान है।"वो माँ जो पढ़ लेती हैचेहरे के भाव कोइन दलीलों से संतुष्ट नहीं होती।वो हँसती , खिलखिलाती ,कोयल सी आवाज में गातीत... Read more
clicks 4 View  Vote Like 0  9:24am 2 Jun 2020
... Read more
clicks 4 View  Vote Like 0  9:18am 5 Jun 2020
सम्हलने, समझने, सीखने, सुधरने का संकेत समझा रहा है कि.........समझ प्रकृति के तेवर -Now   Or   Neverकाम    नहीं    आएंगेधन, संपत्ति और जेवर- अरुण कुमार निगम#कोरोना-कहर... Read more
clicks 3 View  Vote Like 0  6:24pm 30 May 2020
 कैंसर का प्रमुख कारण: धूम्रपान *धूम्रपान से होती है दुनिया भर में एक वर्ष में 8 मिलियन से अधिक लोगों की मृत्युलुधियाना: 31 मई 2020: (कार्तिका सिंह//पंजाब स्क्रीन)विश्व तंबाकू दिवस हर साल 31 मई को दुनिया भर में मनाया जाता है। यह वार्षिक उत्सव जनता को तम्बाकू के उपयोग के खतरो... Read more
clicks 3 View  Vote Like 0  1:45am 31 May 2020
समय का खेल भी बड़ा निराला है भूख लाई थी शहरों में भूख ले जा रही है वापस गांव की तरफ ..... सवाई सिंह आज 2 जून है और हम सब 2 जून की रोटी की तलाश में इस संसार में इधर से उधर भाग रहे हैं इस पेट की भूख को शांत करने के लिए कहीं नौकरी की तलाश है ताकि हमारा घर चल सके और घर में रहने वाले परि... Read more
clicks 3 View  Vote Like 0  8:30am 2 Jun 2020
आज फिर उन बातों को हवा दे गई जिसे दवा रखा था हृदय के किसी कोने में आज फिर उसे जगा गई मन शांत, तन शिथिल, धड़कन तेज़ और शिलाओं को क्षणभंगु का आभास करा गई... Read more
clicks 3 View  Vote Like 0  10:25pm 2 Jun 2020
ओ चित्रकार, क्या तूने अपने चित्र पर विश्लेषणात्मक नजर डाली?? कितनी खूबसूरती से तेरी कूची ने सजाई थी इस सृष्टि को अपने कोरे केनवास पर, कहीं गुंजायमान था पखेरुओं का कलरव मधुर गान कहीं परिलक्षित थी पर्वतों की ऊँची मुस्कान नदियों निर्झरों समंदरोंका कल - ... Read more
clicks 3 View  Vote Like 0  1:05am 5 Jun 2020
--पेड़ लगाना धरा पर, मानव का है कर्म।पर्यावरण सुधारना, हम सबका है धर्म।।--हरितक्रान्ति से मिटेगा, धरती का सन्ताप।पर्यावरण बचाइए, बचे रहेंगे आप।।--प्राणवायु का पेड़ ही, होते हैं आधार।पेड़ लगाकर कीजिए, धरती का सिंगार।।--पेड़ भगाते रोग को, बनकर वैद्य-हकीम।प्राणवायु... Read more
clicks 3 View  Vote Like 0  1:00am 5 Jun 2020
जन्मदिन की कविता  हे अनाम ! तुझे प्रणाम  जाने किस युग में आरम्भ हुई होगी यह यात्रा  या अनादि है यह भी तेरी तरह  कभी पत्थर, पौधा, जलचर, नभचर या थलचर बनते-बनते   मिला होगा अन्ततः यह मानव तन  फिर इस तन की यात्रा में भी  कभी राजा, कभी रंक  कभी स्त्री कभी पुरुष  कभी अशिक्षित ... Read more
clicks 2 View  Vote Like 0  11:07am 30 May 2020
सादर अभिवादन !आ. कामिनी सिन्हा जी अनुपस्थिति  में आज मंगलवार की प्रस्तुति में मैं आप सबका अभिनन्दन करती हूँ । शीघ्र ही वे अगली प्रस्तुति के साथ वे आपके सम्मुख होंगी । आज की चर्चा का आरम्भ सुभद्रा कुमारी चौहान की कलम से निसृत "तुम मुझे पूछते हो"कवितांश से -"यह मुरझाय... Read more
clicks 2 View  Vote Like 0  12:01am 2 Jun 2020
Web Hosting हर एक internet मर्केटर के लिए ये बहुत ही important चीज होती है जिसके जरिये आप अपने business को ऑनलाइन ले जाते है लेकिन आज इसकी कीमत दिन व दिन बढती जा रही है ऐसे में किसी एक डिजिटल मार्केटिंग से यूक्त लोग हो या मेरे जैसे ब्लॉगर उनके लिए web hosting कि कीमत चुकाना बहुत ही मुस्किल हो गया है लेकि... Read more
clicks 2 View  Vote Like 0  8:26pm 2 Jun 2020
सांसे जकडकर भी कह रहा कोविड-१९बेटा, जंग जारी रख, हिम्मत न हारना।मगर याद रहे, जिंदगी का ये फलसफा,खटिया से बाहर कभी पैर मत पसारना।।सहुलियत ही नहीं, हुनर से भी सीढियां चढ,सोच का दायरा बढा, 'मैं'से भी आगे बढ।आस़ां है कर्ज लेना, मुश्किल है उतारना,खटिया से बाहर कभी पैर मत पसारना।... Read more
clicks 2 View  Vote Like 0  9:51pm 3 Jun 2020
#औरतेंअजीब होतीं है।#रातभर पूरा सोती नहीं #थोड़ाथोड़ा जागती रहतीं#नींदकी स्याही में#उंगलियांडुबो#दिनकी बही लिखतीं#टटोलतीरहतीं#दरवाजोंकी कड़ियाँ#बच्चोंकी चादर#पतिका मन..#औरजब जागती हैं सुबह#तोपूरा नहीं जागती#नींदमें ही भागतीं #हवाकी तरह घूमतीं घर बाहर#टिफिनमें रोज... Read more
clicks 2 View  Vote Like 0  8:21am 5 Jun 2020
सार सार को गहि रहे  ‘साधना’ में छुपी है धन की परिभाषा  धन वही है जो पार लगाए  वह नहीं जो रखा रह जाये  जो सारयुक्त है  वही धन है  उसे ही साधना है  हंस की तरह जो विवेक धरे  उस मन में जगती भावना है  भावना जो भर देती है शांति और प्रेम से  जो आनंद की लहर उठाती है  व्यर्थ जब हट ज... Read more
clicks 2 View  Vote Like 0  3:32pm 4 Jun 2020
विश्व पर्यावरण दिवस की आवश्यकता संयुक्त राष्ट्र संघ ने महसूस की और इसी लिए प्रतिवर्ष 5 जून को इस दिवस को मनाने के लिए निश्चित किया गया । विश्व में लगभग 100 देश विश्व पर्यावरण दिवस मनाते हैं । धरती से हरियाली के स्थान पर बड़ी बड़ी बहुमंजिली इमारतें दिखाई दे रहीं हैं । नेशनल हाईवे के निर्माण के नाम पर मीलों लंबे रास्ते एक कतरा छाँव से रहित है। पथिक पहले तो पैदल ही चलते थे पेड़ों के नीचे सुस्ताकर कुँए का शीतल जल पीकर आगे की रास्ता लेते थे । अब तो कुछ शेष नहीं तो अगर हम उन्हें नहीं रहने देंगे तो वह हमें कैसे जीने देंगे? *मानव सुख की कीमत* दिन पर ... Read more