POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: M.K.TVFilms - HINDI ARTICLES

Blogger: MARKAND DAVE
मुहिर  नेता ने ठानी है, शरीफ़ बनने की जब से,बदमाश  नज़र  आने  लगे हैं,  लोग  सारे  तब से..!मुहिर = जड़;मार्कण्ड दवे । दिनांकः ०२ ओक्टॉबर २०१६.... Read more
clicks 112 View   Vote 0 Like   4:16am 2 Oct 2016 #geet
Blogger: MARKAND DAVE
दुनिया की, सारी  सल्तनतें  छोटी  लगेगी,एक बार, दिल का दरवाज़ा खोल के देख..!सल्तनत = रजवाड़ा, सुल्तान द्वारा शासित देश या क्षेत्र;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २३ जून २०१६.सुप्रभात..... नवरात्री के शुभारंभ, पावन पर्व पर, आप सभी माई-भक्तों को मेरी शत-शत हार्दिक शुभकामनाएँ..माँ दुर... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   3:28am 1 Oct 2016 #geet
Blogger: MARKAND DAVE
कानाफूसी  मत करना, अपने आप से,दिल की   दिवारों के  भी, कान  होते  हैं..!काना फूसी = WHISPER,फुसफुसाहट;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २५ सप्टेम्बर २०१६.... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   4:29am 30 Sep 2016 #geet
Blogger: MARKAND DAVE
जा कर खड़ी है महोब्बत आज, मुजरिमों के कठहरे में, गवाह भी  तू, मुंसिफ़ भी  तू, अन्जाम अब  ख़ुदा जाने..!मुजरिम = अपराधी; कठहरा = communion rail;गवाह =  साक्षी; मुंसिफ़ = न्यायाधीश;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० अगस्त २०१६.... Read more
clicks 95 View   Vote 0 Like   3:10am 29 Sep 2016 #geet
Blogger: MARKAND DAVE
दोस्त,  कितने  रंग  बदलते   हो    तुम  भी,  बातो - बातों   में, ज़िक्र तक न किया उस बात का, जिस पर मैं कायम आज भी..!मार्कण्ड दवे । दिनांकः २७ अगस्त२०१६.... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   4:04am 28 Sep 2016 #geet
Blogger: MARKAND DAVE
दिल की हल-चल पर, कड़ी निगरानी रखना,प्यार की  ढलान  पर, फिसलने का ख़तरा है..!हल-चल = कार्यशैली;कड़ी = तीक्ष्ण;निगरानी = देखरेख;ढलान = उतराई;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २५ जून २०१६.... Read more
clicks 102 View   Vote 0 Like   3:35am 27 Sep 2016 #geet
Blogger: MARKAND DAVE
हासिल  न कर सका  तुझे, तो  क़ाबिलीयत  हासिल कर ली, मर - मर  कर,  जनमो  जनम,  वक़्त  को   बेहोश  रखने की...!क़ाबिलीयत = योग्यता;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० सप्टेम्बर २०१६.... Read more
clicks 100 View   Vote 0 Like   5:08am 26 Sep 2016 #geet
Blogger: MARKAND DAVE
शीशे ने भी, ठहाके  लगाए  हज़ार,जब मैंने बताया कि, मैं  इन्सान हूँ..!शीशा = आईना;   ठहाका = अट्टहास्य;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २५ जून २०१६.... Read more
clicks 119 View   Vote 0 Like   3:52am 30 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
गिरे होते  यूँ  ही तो, शायद  उठ भी  जाते  खुद,गिरे  हैं  इश्क  में  अब तो, उनके उठाए, उठेंगे...!मार्कण्ड दवे । दिनांकः २६ जून २०१६.... Read more
clicks 112 View   Vote 0 Like   3:40am 29 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
हाथ मार ले, पैर मार ले,उलझेगा फिर भी उतना,जान लेवा  जज़्बातों की, मकड़  जाल  है  दुनिया..!उलझना = फँसना;  जज़्बात = भावना;  मकड़ जाल = मकडी (Spider) का जाला;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २५ जून २०१६.... Read more
clicks 73 View   Vote 0 Like   2:37am 28 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
जन्नत का, तू  इन्तज़ार  ना  कर  हाजी, हो  चुके  हैं  दर्ज़, कई  आतंकी  पहले  से..!जन्नत = स्वर्ग;    हाजी = वह जो हज कर आया हो;  आतंकी = आतंकवादी;    दर्ज़ = पंजीकृत, रेकार्ड;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २४ जून २०१६... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   3:39am 27 Jun 2016 #MarkandDave
Blogger: MARKAND DAVE
रास्ता आप ही  कभी, सफर ना बन पाएगा,हौसला  बढ़ा, क़दम  उठा, दूर  नहीं  मंज़िल ।मार्कण्ड दवे । दिनांकः ११ जून २०१६.... Read more
clicks 77 View   Vote 0 Like   5:09am 26 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
बुरे वक़्त से  गुज़रना, इतना  आसाँ  नहीं   है,उकसा के देख एक दिन, भीतर के शैतान को..!गुज़रना = पसार होना;   उकसाना = उत्तेजित करना;    शैतान = राक्षस;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २२ जून २०१६.... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   3:48am 25 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
वस्ल-ओ-जुदाई का, ग़म न कर इतना,  मुसाफ़िर हूँ  मैं, आना-जाना लगा रहेगा...!वस्ल-ओ-जुदाई = मिलना-बिछड़ना;      ग़म = दुःख; मार्कण्ड दवे । दिनांकः २३ जून २०१६.... Read more
clicks 126 View   Vote 0 Like   4:00am 24 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
देख, नाजायज़ रिश्ते,कैसा कमाल कर गए..!सा..रे  जायज़ रिश्ते, तड़प-तड़प कर मर गए..!नाजायज़ = ग़ैरवाजिब; मार्कण्ड दवे । दिनांकः २१ जून २०१६.... Read more
clicks 76 View   Vote 0 Like   2:49am 23 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
दिल के रिश्ते में, सरहद कहाँ होती है ?तय कर के हद  मगर, हद्द कर दी तूने..!हद = सीमा;    हद्द = ज़्यादती, ज़ुल्मो सितम;मार्कण्ड दवे । दिनांकः २१ जून २०१६.... Read more
clicks 75 View   Vote 0 Like   2:47am 22 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
शायद  इसे  ही  कहते  होंगे, ज़हर का  घूंट ?अश्क बहे  उधर, आह भी न भर पाएं  इधर..!अश्क = आँसू; आह = आर्त्तनाद;मार्कण्ड दवे । दिनांकः ११ जून २०१६.... Read more
clicks 81 View   Vote 0 Like   3:51am 21 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
  जब भी  कभी  ठानी, रिश्वत  न  देने  की  उसूलों  ने,   बेबसी   महज  देती  रही,  बेशर्म  ललक  लेती  रही...! ठानना = निश्चय करना;     उसूल = नियम;        बेबसी = मज़बूरी; महज =केवल, सिर्फ़;          ललक = लालच; मार्कण्ड दवे । दिना... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   4:48am 20 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
मैं भी लगा, हसीलों की लाइनों में, भीख माँगने,मेरा साया तक  गिरवी रख आए जब, मेरे अपने..!हसील = भोलाभाला;   लाइन = क़तार;   साया = परछाईं;   गिरवी =  बन्धक;मार्कण्ड दवे । दिनांकः १८ जून २०१६.... Read more
clicks 100 View   Vote 0 Like   3:53am 19 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
बता,अपने मुक़द्दर से वास्ता क्यों रक्खूँ ?हर  बार, वो कुव्वत  से, मुकर जाता है...!मुक़द्दर = नसीब;    वास्ता =  रिश्ता;    कुव्वत = क्षमता, ताक़त;   मुकरना =  नकार देना, पलटना;मार्कण्ड दवे । दिनांकः १६ जून २०१६.... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   3:58am 18 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
काँपते लबों को देख, मायने  मत सोच, सुन ले  तू,  बेबसी  की  अनकही  बातें..! मायने = अर्थ; मतलब;  बेबस = मजबूर; लाचार; मार्कण्ड दवे । दिनांकः १३ जून २०१६. ... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   4:10am 17 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
बेजुबाँ   ख़्वाहिशों के सन्नाटे से, उम्मीद मांगी  मैंने,बेक़रारी के शोरोगुल ने कहा,अबे चल,भाग यहाँ से..!बेजुबाँ = अव्यक्त;      ख़्वाहिश =  ईच्छा;     सन्नाटा =  ख़ामोशी;     उम्मीद = आशा;  बेक़रारी =  हड़बड़ी;     शोरोगुल = कोलाहल; मार्कण... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   4:47am 16 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
आसाँ   नहीं ।कभी इक शब  के लिए, नींद रहमत कर  मेरे मौला, रोज़   आसाँ  नहीं, जी ने  के   नए    बहाने   ढूंढ़ना...!शब = रात;  रहमत = कृपा;मार्कण्ड दवे । दिनांकः १२ जून २०१६.... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   3:09am 15 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
 वक़्त ।कोसता रहा वक़्त को, सवाल कई दाग़  कर, पता  चला, वक़्त  से  बड़ा  कोई  जवाब  नहीं...! कोसना = शाप के रूप में गालियाँ देना; दाग़ना = सख़्ती से पूछना; मार्कण्ड दवे । दिनांकः १२ जून २०१६.... Read more
clicks 75 View   Vote 0 Like   3:44am 14 Jun 2016 #
Blogger: MARKAND DAVE
आप का दिन मंगलमय रहे यही शुभकामना के साथ...सुप्रभात । ... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   2:07am 13 Jun 2016 #

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3993) कुल पोस्ट (195272)