POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: palash "पलाश"

Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
कुछ अच्छे के लिये कुछ छोडना ही पडता है ... Read more
clicks 121 View   Vote 0 Like   10:26am 12 Jun 2020 #Poem
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
इन्तजार में महबूब, जरा पलकें तो बिछायें वक्त पर पहुचना, हमेशा अच्छा नही लगता... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   3:26pm 10 Jun 2020 #Poem
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
किनारा कर लिया तुमने, तो जाओ छोड़ देते हैंन हमको याद अब करना, तेरा दर छोड़ देते हैं।तुम्हारी सांस में घुलकर, मिली थी जिंदगी हमकोतुम्हारे साथ लो अब ये, जहां भी छोड़ देते हैंकिनारा ....तुम्हारे साथ में बीते, हुए पल अब सताते हैंसफ़र मुमकिन नहीं आगे,ये राहें छोड़ देत... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   6:31pm 29 May 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
dreams never ends but it needs celebration whenever it comes true.... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   7:26am 26 May 2020 #Poem
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
इश्क़ की राह के, हमसफ़र हम भी हुयेतुम बने जो आसमान, चांद हम भी हुयेमुकम्मल हुए ख्वाब सारे, बाद एक मुद्दत के रौशनीं में तेरी आज, आफताब हम भी हुयेचुभते रहे न जानिए, कितनों की निगाह मेंआपने जो थामा हाथ , गुलाब हम भी हुयेगुज़र रहे थे आम से, रात दिन बेज़ार सेहुई निगाह तुमसे चार... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   7:11pm 25 May 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
ये समय सिर्फ मानवता का है... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   7:48pm 18 May 2020 #Social
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
संकट की घड़ियों में उम्मीदें पतवार के समान है... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   6:40am 13 May 2020 #Social
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
सुन कर विनती भक्तों की, हे ईश्वर अब तो आ जाओटूट रहा है धीरज सबका, कुछ तो आस बंधा जाओबिलख रहे सब नर नारी, ऐसी आई विपदा भारी देख तुम्हारी दुनिया को, जकड़ रही इक बीमारीडूब रहा संसार तुम्हारा, अब नैया पार लगा जाओसुन कर विनती भक्तों की, हे ईश्वर अब तो आ जाओतुम करुणा के सागर हो, द... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   6:43pm 6 May 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
आम आदमी की मजबूरी... Read more
clicks 169 View   Vote 0 Like   9:50am 5 May 2020 #Social
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
कौन कहता हैनोट की कीमतकरता है तयउस पर लिखा नम्बरउसकी कीमत करती है तयजेबदो अंकों का नोटहो सकती है किसी की भूखकिसी के एक दिन कापसीनाकिसी की गिरवी रखीआबरूकिसी का दम तोड़ताबचपनया किसी के लिएरेस्टोरेंट की टेबल परछोड़ दी जाने वालीटिपकौन कहता हैनोट की कीमतकरता है तयउस प... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   7:46pm 4 May 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
आज घर में हो तो ज्ञान बाहर आ रहा हैएफ बी, ट्वीटर परविद्वानों का कुम्भ छा रहा हैबरसों से बंद सद्विचारबाहर निकाले जा रहे हैंएक प्रतियोगिता सी चल रही हैस्वयं को कर्मनिष्ठ देशभक्त बताने कीमगर कलजैसे ही ये बाहर निकलेंगेंज्ञान घर के किसी कोने मेंदबा कुचला पड़ा होगाआज जो ... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   10:21am 22 Apr 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
बैरियों को मेरे देश में अब,जीवन का अधिकार न होदेशभक्तों पर जो ईंटें फेंके,उसके शीश पर तलवार होगरीब असहायों पर हो दया ,हर सम्भव हित उपकार होअवरुद्ध करें जो सत्य मार्ग,उसे आजीवन कारागार होविपत्तियां अपने पांव समेटे,ऐसा हम सबका आचार होधर्म आड़ में जो आग लगाये,उसका हवन सर... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   1:49pm 3 Apr 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
दूर हैं तुमसे तो क्या खुशियां बांट तो सकते ही हैंहाथ में हाथ नहीं तो क्यासाथ निभा तो सकते ही हैंरात है लम्बी तो क्यामसाल जला तो सकते ही हैंहैं बंद जो घर में तो क्याहौसला बढ़ा तो सकते ही हैंताले पड़े मंदिर में तो क्यापुकार लगा तो सकते ही हैंसब काम ढप है तो क्यानेकियां क... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   7:16pm 25 Mar 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
दो शब्द कहूंगी मैं तुमसेदो शब्द अनकहे समझ लेनादो शब्द हमारे अधरों सेचुपके से आ कर ले लेना.........दो शब्द अहसासो के प्रियेसांसों में थमे थमे से हैदो शब्द सौंप तुम मुझकोअपने बन्धन में कर लेना.......दो शब्द तुम्हारे मोती सेदो शब्द मेरा श्रंगार बनेदो शब्द तेरे दो शब्दों से मिलधर... Read more
clicks 81 View   Vote 0 Like   7:18pm 7 Mar 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
अगर आप करीब चालीस के/ की हैं तो आपने जरूर ही किसी ना किसी को पत्र जरूर ही लिखे होंगें। आज भी कभी जब आपके हाथ कभी पुरानी डायरियां उलटते पलटते या पुराने जरूरी कागजों या फाइलों के बीच जब कोई पत्र निकल आता होगा तब आप उस फाइल को एक तरफ कर उसको दुबारा पढने का लोभ छोड ही नही पाते ह... Read more
clicks 179 View   Vote 0 Like   8:08am 25 Feb 2020 #friends
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
शाम को मैं लगभग रोज ही घर के पास की ही एक पार्क में घूमने जाती हूँ, वहाँ पर शाम को कई बुजुर्ग भी आते हैं। कल शाम को यूँ ही टहलने के बाद मै एक बेंच पर बैठ गयी। बगल की बेंच में एक बुजुर्ग दम्पति बैठा हुआ था। उन्हे मै करीब एक हफ्ते से यहाँ देख रही थी। देखने से लगता था कि कही बाहर ... Read more
clicks 199 View   Vote 0 Like   7:26am 5 Feb 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
मां तुम अक्सर याद आती होकह नहीं पाती हरदमपर याद बहुत आती होमां तुम अक्सर याद आती होसुबह सबेरे याद आता हैवो सिरहाने तेरे आनाऔर कहना उठना है याकुछ देर और है सो जानावो गरम चाय की प्याली लिएतुम हर सुबह याद आती होमां तुम अक्सर याद आती होगाजर मूली कसते कसतेउंगली जब काट लेती ह... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   9:08am 27 Jan 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
जाडा इस बार अपने पूरे जोर पर था। पिछले तीन दिन से बारिश थी कि थमने का नाम ही न लेती थी। मगर गरीब के लिये क्या सर्दी क्या गरमी। काम न करे तो खाये क्या? बारिश में भीगने के कारण सर्दी बुधिया की हड्डियों तक जा घुसी थी। खांसती खखारती चूल्हे में रोटियां सेक रही थी, और कांपते शरीर... Read more
clicks 126 View   Vote 0 Like   9:54am 16 Jan 2020 #mother
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
मै अक्सर चुप रहती हूँकहती तो हूँ, पर कम कहती हूँ।बात में हैशीतलतागंगाजल सी,बात में हैंज्वलनताअग्निकुंड सी,बात में हैंकोमलताखिले पुष्प सी,बात में है कठोरतानारियल सी,बात ही तो है जोबनाती है हमारी छवि,देती है हमारेरिश्तों को मजबूती,बनती है हमारेव्यक्तित्व की पहचान,जो... Read more
clicks 142 View   Vote 0 Like   7:58am 7 Jan 2020 #बात
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
करीब होबहुत करीबफिर भी करती हूँजतन हर पहरतुम्हें और करीब लाने कातुम्हें महसूस करने लगी हूँहथेलियों मेंमगर फिर भीढूंढती हूँ लकीरेंजिनमें बाकी है अभी भीपडना तुम्हारी छापहर आती जाती सांस कोटटोल लेती हूँकि कही कोई सांसअनछुई तो नही तेरी खुशबू सेचाहती हूँ आना तेरे ... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   8:11am 4 Jan 2020 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
नही कोई हिचकचाहटनही कोई शमिन्दगीनही झुकती मेरी निगाहेंकहने से, मै बेदाग नहीकुछ दाग दिख जायेगेंहर एक नजर को कुछ दाग बतायेगेंमेरी कमजोरियों कोकुछ दाग हैं ऐसे भीजो दिखते ही नहीकुछ दाग हैं ऐसे भीजो मिटते भी नहीकई दाग मेरे लियेहै जीने का हौसलाकई दाग मेरे लियेहैं संघर्ष ... Read more
clicks 77 View   Vote 0 Like   12:59pm 30 Dec 2019 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
मै भी देखता हूँ भला कैसे नही प्यार करेगी मुझे। देखना तुम लोग एक दिन इसे तुम सबकी भाभी ना बनाया तो मेरा नाम भी गिरधारी लाल नही। कॉलेज की कैंटीन में गिरधारी अपने दोस्तों के बीच अपने दोस्तों को कम कुछ दूर से निकलती हुयी रीमा और उसकी सहेलियों को ज्यादा सुना रहा था। चार – पाँ... Read more
clicks 62 View   Vote 0 Like   2:56pm 26 Dec 2019 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
सुनो, सुन तो रहे हो नामुझे तुमसे बहुत कुछ कहना हैछोड दो ना थोडी देर देर के लियेये लैपटाप, ये मोबाइल, ये कागजयाद भी है तुम्हेकब से तुम्हारे पास तो हूँमगर साथ बिल्कुल भी नहीकभी मेरा चेहरा देखकरहोती थी तुम्हारी सुबहेंअब रात भर, मै नहीसाथ होती हैं, तुम्हारी फाइलेंमगर आज कुछ... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   5:33am 14 Nov 2019 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
हाथ ने बढाया हाथहाथ आया हाथ मेंशर्म से फिर झूठ-मूठहाथ खींचा हाथ नेचाहता हूँ रहे सदा, ये हाथ तेरे हाथ मेंकही ये बात हाथ सेचुपके से तब हाथ ने हाथ की ये हाँ थी याहाथ की थी ये अदाहाथ की कुछ गर्मियां रख दी उसने हाथ मेंहौसले हाथ के कुछ और थोडा बढ चलेदबा के फिर हाथ कोगुस... Read more
clicks 65 View   Vote 0 Like   8:59pm 9 Nov 2019 #
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी
उसके सुर्ख होंठों नेछुआ जो मेरे नाम कोआम से ये नाम भीआज खास हो गयाहम वही हैं आज भीवही लकीरें हाथ मेंहाथ आया हाथ में नसीब खास हो गयादिन वही है उग रहाशाम वो ही ढ्ल रहीचाँदनी में घुल के तेरीचाँद खास हो गयावही जमीं वही शहरवही कदम वही डगरसाथ ज... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   8:12am 22 Oct 2019 #love

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194069)