POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: mere vichar- ek khuli kitab

Blogger: Geeta Agarwal
मूक दर्शिका श्वेत केश, लिबास कंकाल देह   ... Read more
clicks 126 View   Vote 0 Like   1:33pm 31 May 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
Blogs लिखने की कहानी याद करूँ तो ,मैं बचपन में एक मेधावी छात्रा थी ।अपनी स्कूल की पत्रिका में लेख कविता लिखने की आदत थी । विवाहोपरांत भी मेरे पति करीब डेढ़ साल दिल्ली रहे , जंहा किसी कंपनी में कॉमर्सियल मैनेजर के पोस्ट पर थे । हमारा संपर्क ,मेल -मिलाप पत्रों के जरिये ही हुआ कर... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   11:30am 29 Apr 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
बंजर भूमि प्रतिबिंब प्राण हैं आया अकाल ... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   1:52pm 26 Apr 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
सौंदर्य है तू मगर वह धुआँ खाक ये जहां ... Read more
clicks 99 View   Vote 0 Like   12:39pm 23 Apr 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
ओ ! अनचाहे पल कैसे पत्थर दिल हो तुम क्यूँ आए  मेरी जिंदगी में तेरा ही तो जुड़वाँ था वो दिए जिसने खुशी के पल हज़ार डाल गया कोख में मेरी एक प्यारी - सी जिंदगी उसकी और मेरी धड़कन साथ - साथ चल रही थी ना थी कोई प्रत्यक्ष पहचान धागा ममता का यूँ बंध  गया मैं औ... Read more
clicks 89 View   Vote 0 Like   9:50am 23 Apr 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
 लालसुरंग तू ,काँटों सी चुभन देती मिठास... Read more
clicks 110 View   Vote 0 Like   1:25pm 17 Mar 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
ख़ुशी हूँ ख़ुशी मैं ,बड़ी मनचली मैं आँखों के नीर में छुप जाती मैं ,होठों की मुस्कराहट से भी गुम हो सकती मैं सुख- दुःख दोनों में शामिल होती मैं नाउम्मीदों के बावजूद भी चली आती मैं उम्मीद पर भी न मिळू तो पैरों तले जमीं खीच लूँ मैंबचपन ,जवानी या हो बुढ़ापा ,नाप -तौल एक सा मे... Read more
clicks 187 View   Vote 0 Like   9:25am 17 Mar 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
 एक यह गाना  है जो मेरे दिल को बहुत छू जाता है । इसके बोल बेमिशाल हैं । धुन और संगीत भी लाज़बाब है । हमारे देश के वीर जवानों की अपनी कहानी बखूबी बयां की गयी है ।  शब्दों का बेजोड़ मेल है । देश के वीर सिपाहियों को मेरा लख -लख  सलाम , यह गीत उनके नाम । ... Read more
clicks 125 View   Vote 0 Like   7:37am 15 Feb 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
 दोस्ती या स्वार्थ चूस पराग ,तन्हा कर ,ढूंढते ओर ... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   6:54am 15 Feb 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
पेल्लिंग सिक्किम राज्य के पश्चिम में 7200 ft. की ऊंचाई पर बसा एक शानदार रमणीय ,पर्वतीय स्थान है । New year 2016  का स्वागत करने व celebrate करने के  लिए हम सपरिवार अपने home town Kurseong से रवाना हुए ।ज्यों - ज्यों हम पेल्लिंग की और बढ़े ,प्रकृति के अविस्मरणीय  सौंदर्य में प्रवेश करते गए । छोटे... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   1:11pm 26 Jan 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
प्रातःकाल होते ही जैसे कमरे की खिड़की से सूर्य की लालिमा , अलसाए चेहरे पर पड़ती है ,मैं जागने को आतुर हो उठती हूँ । बिस्तर पर  रज़ाई को एक और फेंक झट -से उगते सूर्य से पहली सिख मिलती है -मुस्कराओ और काम में लग जाओ ।चिड़ियों का चहचहाना ,मुर्गे की कुकड़ू -कूँना जाने शरीर में कै... Read more
clicks 209 View   Vote 0 Like   11:54am 24 Jan 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
गुफ़्तगू  है स्वप्न की उड़ान की ईरादे पक्के ... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   12:28pm 21 Jan 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
'बाजे'शीर्षक पढ़कर शायद आपको अजीब -सा लगा होगा । 'बाजे 'नेपाली भाषा में दादा या नाना ( grandfather) को कहा जाता है । यहाँ मैं मेरे किसी दादा या नाना की बात नहीं कर रही । यह बाजे  सचमुच में grand है । हमारे यहाँ माली का काम करते हैं। इनकी कर्मठता का क्या कहना - बेमिसाल है ।82 साल के होने ... Read more
clicks 121 View   Vote 0 Like   2:16pm 10 Jan 2016 #
Blogger: Geeta Agarwal
मेरा सबसे बड़ा पोता सबसे बड़ा पोता मेरा शियम है उसका नाम दिल का सच्चा ,मन का अचछा बड़ा होकर बनेगा मेरा सहाराहंसमुख चंचल और नटखट करता अपना काम झटपट पढ़ने लिखने मे है होशियार भाई - बहन से करता प्यार ... Read more
clicks 126 View   Vote 0 Like   2:13pm 13 Dec 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
picture googleपतझड़ हूँ निराशा नहीं , नयीकोंपले लाया ... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   1:24pm 6 Dec 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
photo from my cameraबहता जल पंक्षी नभ के ,गीत मृदु सिख... Read more
clicks 118 View   Vote 0 Like   12:45pm 6 Dec 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
भीषण वर्षा  उजड़ा चमन  है भूल किसकी  ?... Read more
clicks 118 View   Vote 0 Like   8:11am 3 Dec 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
मै पिलाऊँ ,तू पी ,पर परछाई हैं ,कैसे जीएं ... Read more
clicks 104 View   Vote 0 Like   1:33pm 30 Nov 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
Dr. bhupen Hazarika stadiumमेरा बचपन ,मेरी शिक्षा तथा एक नागरिक  में  मेरा पूर्ण विकास  जिस शहर में हुआ वह है गुवाहाटी । गुवाहाटी असम राज्ञा की राजधानी है तथा मेरा सबसे पसंदीदा शहर भी है । यह शहर भारतवर्ष  के उत्तरी - पूर्वी  हिस्से में स्थित है । 'गुवा'का अर्थ है 'सुपारी '(betel nut) औ... Read more
clicks 204 View   Vote 0 Like   2:26pm 29 Nov 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
picture googleइन्तजार  #Haikuइंतजार में जिसके ,तन्हा हूँ ,वो कब आएगा ?... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   1:11pm 24 Nov 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
बात १९९७-९८  की है जब मेरे पति , अपने छोटे भाई के पास किसी काम के  शिलशिले में दिल्ली गए थे । अचानक रात को  उनका ब्लडप्रेशर  अत्याधिक बढ़ गया ,हॉस्पिटल ले जाया गया। किन्तु  उनको अपनी बीमारी का ही ख़ौफ़ हो गया ,यदि उन्हें कुछ हो गया तो हम सब की देखभाल कौन करेगा । Physicians... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   12:43pm 24 Nov 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
जलकर भी ,रोशन कर गए सपने मेरे । ... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   4:52pm 20 Nov 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
- Is One of my favourite poem, which is worded by my daughter Nancy Bindal .जब Nancy की यह कविता मैंने  पहली बार पढ़ी तो इसके शब्दों ने मुझे अंदर तक झकझोर दिया , लगा भूकम्प आ  गया है । अब महसूस करती  हूँ कि  कब हम दिमागी और वास्तविक रूप  से स्वतंत्र होंगेलिंग भेदको लेकर ?Reluctant EmbraceNine months were done,but `that hour ' lay,Swaying between hope and despair My "unw... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   4:53pm 14 Nov 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
एक छोटी मगर बड़ी दर्दनाक घटना आप सबके साथ साझा करना चाहूँगी । सुमित झंवर , मेरा  एक student, जिसके  लिए  दिवाली की चकाचौंध कर देने वाली रोशनी सदा के लिए अँधेरा बन गयी ।  उसकी कहानी उसकी जुबानी -"दीपावली का दिन ,मैं और मेरे दोस्त बड़े ही उत्साहित थे। दीपों की झिलमिलाहट ,... Read more
clicks 119 View   Vote 0 Like   5:40pm 9 Nov 2015 #
Blogger: Geeta Agarwal
बेलभ्यू -,बेलभ्यू हिमालय की गोदी में बसा।,कंचनजंघा की चोटी  से कसा । हरी -भरी धरती की अंगड़ाई ,तौलती पर्वतों की ऊंचाई । बेलभ्यू -,बेलभ्यू---------रंग -बिरंगे मेघों से घिरा ,सजाता नन्हे फूलों को सदा । विद्या का तू भंडार बड़ा विनय का भरता सदा घड़ा । बेलभ्यू -,बेलभ्यू---------त... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   2:08pm 3 Nov 2015 #

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3993) कुल पोस्ट (195251)