POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: नजरिया

Blogger: सुशील बाकलीवाल
       जिस कोरोना कालखंड में फिलहाल हम जीवित हैं इसमें पिछले 4-6 महिने में समूचे विश्व में लाखों की संख्या में जो लोग अचानक काल-कवलित हो गये हैं इनमें बडा वर्ग धन-सम्पन्नता से परिपूर्ण श्रेष्ठीवर्ग का रहा है । ये श्रेष्ठीवर जो लाखों करोडों रु. की श्रीसम्पदा अकल्पनीय... Read more
clicks 131 View   Vote 0 Like   7:46am 4 Jul 2020 #किस्मत
Blogger: सुशील बाकलीवाल
इस समय          वर्तमान समय में Covid-19रुपी जिस महामारी का यह असुर न सिर्फ हमारे घर, शहर व देश बल्कि पूरी दुनिया का अस्तित्व निगल जाने की ओर तेज गति से दौड रहा है । इससे हमारे स्वयं के व अपने परिवार के जीवन के साथ ही अपने मित्र-परिचित व समूचि मानवता को बचाने की दिशा... Read more
clicks 69 View   Vote 0 Like   12:39pm 7 Apr 2020 #कोरोना वायरस
Blogger: सुशील बाकलीवाल
       बात कुछ पुरानी है, चिकित्सा के क्षेत्र में इन्दौर के एक सिद्धहस्त चिकित्सक के पास शहर से लगभग 100 कि. मी. दूर के किसी गांव से एक बीमार-वृद्ध महिला का पोस्टकार्ड आया, लिखा था- डॉ. साहेब मैं इस बीमारी के कारण भयंकर तकलीफ में अपना समय गुजार रही हूँ, मेरे लिये ये सम्भव न... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   3:10am 7 Nov 2019 #जीवनशैली.
Blogger: सुशील बाकलीवाल
       फेसबुक की उपयोगिता व इसका खुमार सामान्यजन के जीवन में जिस तेजी से फैल रहा है चलते-फिरते इंटरनेट युक्त स्मार्फोन के इस युग में ये किसी से छुपा नहीं है । नित नए मित्रों को बढाते चले जाने वाले इन मित्रों में कौन किस प्रवृत्ति और नियत से हमसे जुडा है, ये हम जान नही... Read more
clicks 112 View   Vote 0 Like   1:13am 5 Nov 2019 #जीवनशैली
Blogger: सुशील बाकलीवाल
       फेसबुक की उपयोगिता व इसका खुमार सामान्यजन के जीवन में जिस तेजी से फैल रहा है चलते-फिरते इंटरनेट युक्त स्मार्फोन के इस युग में ये किसी से छुपा नहीं है । नित नए मित्रों को बढाते चले जाने वाले इन मित्रों में कौन किस प्रवृत्ति और नियत से हमसे जुडा है, ये हम जान नही... Read more
clicks 95 View   Vote 0 Like   1:13am 5 Nov 2019 #जीवनशैली
Blogger: सुशील बाकलीवाल
     प्रायः सभी एकल भारतीय परिवारों में यदि बच्चे बहुत छोटे न रहे हों और मुख्य गृहिणी नौकरी-पेशा न हो तो एक समस्या अक्सर सामने आती है और वो है पति के काम पर व बच्चों के अपने स्कूल-कॉलेज निकल जाने के बाद सबके बारे में सोचते रहना और उनकी वापसी की प्रतिक्षा में उनके आते ... Read more
clicks 115 View   Vote 0 Like   1:27am 1 Nov 2019 #चिडचिडापन
Blogger: सुशील बाकलीवाल
       देश भर में पिछले 3 वर्षों से स्वच्छ शहरों में नं. 1 का खिताब जितने वाले इन्दौर में पिछले सप्ताह खबर सामने आई कि यहाँ के नगर-निगम में बायोमेट्रिक प्रणाली से उपस्थिति दर्शाने की अनिवार्यता के बावजूद 10 कर्मी ऐसे मिले जो पिछले कई वर्षों से कभी निगम में गये ही नह... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   1:15am 30 Oct 2019 #जीवनशैली.
Blogger: सुशील बाकलीवाल
         एक दंपत्ति नें जब अपनी शादी की 25वीं वर्षगांठ मनाई तो एक पत्रकार उनकासाक्षात्कार लेने पहुंचा । वो दंपत्ति अपने शांतिपूर्ण और सुखमय वैवाहिकजीवन के लिये प्रसिद्ध थे,  उनके बीच कभी नाम मात्र की भी तकरार नहीं हुईथी ।          लोग उनके इस सुख... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   4:25pm 26 Oct 2019 #चेतावनी
Blogger: सुशील बाकलीवाल
           बाबु मोशाय... कभी-कभी ऐसा होता है कि किसी आदमी ने हमारा कोई भला नहीं किया लेकिन वो हमें अच्छा लगता है । हाँ...  और कभी-कभी ऐसा भी होता है कि किसी आदमी ने हमारा कोई बुरा नहीं किया, लेकिन वो हमें बिल्कुल अच्छा नहीं लगता । जी हाँ ! आप इस संवाद को अमिताभ बच्च... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   2:10am 26 Oct 2019 #गतिविधियां
Blogger: सुशील बाकलीवाल
           एक चिड़िया का घोंसला एक किसान के खेत में था । एक दिन शाम को जब चिड़िया घोंसले में आयी तो उसके बच्चों ने डरते हुए बताया कि आज किसान और उसका बेटा आपस में बात कर रहे थे कि वह अपने रिश्तेदारों की मदद से कल इस खेत को पूरा काटकर जमीन को समतल कर देंगे और हल ... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   4:37am 24 Oct 2019 #जीवनशैली
Blogger: सुशील बाकलीवाल
      शादी के बाद विदाई का समय था,  नेहा अपनी माँ से मिलने के बाद अपने पिता से लिपट कर रो रही थी।वहाँ मौजूद सब लोगों की आंखें नम थी।नेहा ने घूँघट निकाला हुआ था, वह अपनी छोटी बहन के साथ सजाई गयी गाड़ी के नज़दीक आ गयी थी।      दूल्हा अविनाश अपने खास मित्र विकास के ... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   4:35am 22 Oct 2019 #जीवनशैली
Blogger: सुशील बाकलीवाल
          यदि आपकी उम्र +55 हो चुकी है तो ये समझना आपके ही लिये सबसे अधिक आवश्यक है कि आपकी आगे की जिन्दगी शांत और आनंददायक तरीके से कैसे बीते-          अपने वर्किंग जीवन में आपका पद या ओहदा चाहे कुछ भी क्यों न रहा हो, रिटायरमेंट के करीब या बाद के जीव... Read more
clicks 138 View   Vote 1 Like   5:53am 3 Oct 2019 #दूरदर्शिता
Blogger: सुशील बाकलीवाल
             डर एक ऐसी अनुभूति- जिसे हर उस जगह जहाँ भी जीवन है, वहाँ आसानी से देखा जा सकता है । जिंदगी में जब भी अस्तित्व को बचाने, बढाने अथवा बरकरार रखने के संदर्भ में बात की जावे तो जो एक अनुभूति सर्वोपरि होती है वो है डर ।  इसी डर के कारण दुकानदार सोचता है... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   6:06am 30 Sep 2019 #जीवनशैली.
Blogger: सुशील बाकलीवाल
          रोज़ की तरह आज फिर वो ईश्वर का नाम लेकर उठी,  किचन में आई, चूल्हे पर चाय का पानी चढ़ाया फिर बच्चों को नींद से जगाया ताकि वे स्कूल के लिए तैयार हो सकें । कुछ ही पलों मे वो अपने सास-ससुर को चाय देकर आयी फिर बच्चों का नाश्ता तैयार किया और इस बीच उसने बच्चों क... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   4:42am 27 Sep 2019 #घर संचालन
Blogger: सुशील बाकलीवाल
          मैं एक घर के करीब से गुज़र रहा था, अचानक मुझे उस घर के अंदर से एक बच्चे की रोने की आवाज़ आई । उस बच्चे की आवाज़ में इतना दर्द था कि अंदर जा कर वह बच्चा क्यों रो रहा है, यह मालूम करने से मैं खुद को रोक ना सका । अंदर जा कर मैंने देखा कि एक माँ अपने दस साल के बेटे क... Read more
clicks 360 View   Vote 0 Like   7:44am 24 Apr 2018 #जीवनशैली
Blogger: सुशील बाकलीवाल
          डाकू मानसिंह कभी चम्बल के बीहड़ों के सरताज हुआ करते थे । उन्होंने 1939 से 1955 तक अपने क्षेत्र में एकछत्र राज्य किया । एक बार आगरा में डकैती करने गए, सेठ को पहले ही सूचना भेज दी गयी थी (उस समय डकैतों के द्वारा डकैती करने से पहले ही चिठ्ठी के द्वारा सूचना भे... Read more
clicks 278 View   Vote 0 Like   10:11am 15 Apr 2018 #चरित्र
Blogger: सुशील बाकलीवाल
          चर्चगेट, मुंबई से मेरे घर से काम पर जाने के लिये लोकल ट्रेन की यह रोज़मर्रा की यात्रा थी । मैंने सुबह ६.५० की लोकल पकड़ी थी । ट्रेन मरीन लाईन्स से छूटने ही वाली थी कि एक समोसे वाला अपनी ख़ाली टोकरी के साथ ट्रेन में चढ़ा और मेरी बग़ल वाली सीट पर आ कर बैठ ... Read more
clicks 252 View   Vote 0 Like   1:17pm 10 Apr 2018 #इन्कम टेक्स
Blogger: सुशील बाकलीवाल
सफलता = खुशी           अधिकतर लोग ऐसा ही समझते हैं...लेकिन वो ग़लत हैं...खुशी का विज्ञान हमें बताता है कि सही इसका उलट है...यानिखुशी =  सफलता          जबकि सफलता आपके हाथ में नहीं होती...पूरे प्रयास करने के बाद ये आपको मिल सकती है और नहीं भी मिल सकती...ल... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   2:10pm 30 Mar 2018 #प्रसन्नता
Blogger: सुशील बाकलीवाल
सफलता = खुशी           अधिकतर लोग ऐसा ही समझते हैं...लेकिन वो ग़लत हैं...खुशी का विज्ञान हमें बताता है कि सही इसका उलट है...यानिखुशी =  सफलता          जबकि सफलता आपके हाथ में नहीं होती...पूरे प्रयास करने के बाद ये आपको मिल सकती है और नहीं भी मिल सकती...ल... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   2:10pm 30 Mar 2018 #प्रसन्नता
Blogger: सुशील बाकलीवाल
          एक नारी को तब क्या करना चाहिये जब वह देर रात में किसी उँची इमारत की लिफ़्ट में किसी अजनबी के साथ स्वयं को अकेला पाये ?          विशेषज्ञ का कहना है: जब आप लिफ़्ट में प्रवेश करें और आपको 13वीं मंज़िल पर जाना हो, तो अपनी मंज़िल तक के सभी बटनों क... Read more
clicks 353 View   Vote 0 Like   7:18am 24 Feb 2017 #जागरुकता
Blogger: सुशील बाकलीवाल
          एक रियल घटना पान की दुकान पर खडे एक 36-37 वर्षीय युवक से बातचीत के कुछ अंश...          मैनें पूछा कुछ कमाते धमाते क्यों नहीं ?          वह बोला--  क्यों ?😳          मैं बोला--  शादी कर लो  ?          वह बोला-- प... Read more
clicks 423 View   Vote 0 Like   3:05am 14 Feb 2017 #जननी सुरक्षा
Blogger: सुशील बाकलीवाल
          जैसा कि तस्वीर मे दिखाया गया है उस से आपको हाथ की उंगलियों के नाम पता चल गये होंगे ।सबसे पहले तर्जनी की बात...          अगर यह उंगली सीधी है, कहीं से भी टेडापन नहीं है और ना ही इस उंगली का झुकाव मध्यमा की तरफ या अंगूठे की तरफ हो रहा हो तो ऐसा व... Read more
clicks 208 View   Vote 0 Like   2:36am 11 Feb 2017 #उदासी
Blogger: सुशील बाकलीवाल
          जैसा कि तस्वीर मे दिखाया गया है उस से आपको हाथ की उंगलियों के नाम पता चल गये होंगे ।सबसे पहले तर्जनी की बात...          अगर यह उंगली सीधी है, कहीं से भी टेडापन नहीं है और ना ही इस उंगली का झुकाव मध्यमा की तरफ या अंगूठे की तरफ हो रहा हो तो ऐसा व... Read more
clicks 270 View   Vote 0 Like   2:32am 11 Feb 2017 #उदासी
Blogger: सुशील बाकलीवाल
           सन् 2095 यानि आज से लगभग 79 साल बाद...          रितेश अपने कमरे में चुपचाप गुमसुम सा बैठा है, तभी मम्मी की तरंगे कैच होने लगती है (उस समय तक शायद मोबाईल म्यूज़ियम में पहुंच जावेंगे और ऐसे छोटे-छोटे ऊँगलियों में फिट होने वाले गेजेट्स आ जायेंगे ... Read more
clicks 314 View   Vote 0 Like   3:56am 8 Feb 2017 #ओजोन
Blogger: सुशील बाकलीवाल
          एक दंपत्ति नें जब अपनी शादी की 25वीं वर्षगांठ मनाई तो एक पत्रकार उनका साक्षात्कार लेने पहुंचा । वो दंपत्ति अपने शांतिपूर्ण और सुखमय वैवाहिक जीवन के लिये प्रसिद्ध थे,  उनके बीच कभी नाम मात्र की भी तकरार नहीं हुई थी ।          लोग उनके इस ... Read more
clicks 263 View   Vote 0 Like   4:03am 6 Feb 2017 #चेतावनी
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194332)