POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: अंतर्मंथन

Blogger: डॉ टी एस दराल
रावण के जलते ही पत्नी हमें काम पर लगा देती है, दीवाली की सफाई के नाम पर हाथ में झाड़ू थमा देती है। हमने पत्नी से कहा,  भई कभी करवा चौथ का व्रत नही रखती हो, क्या आपको हमारी लम्बी उम्र की चाह ही नहीं है। ऊपर से काम पर लगा देती हो, आपको हमारी सेहत की परवाह भी ... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   7:13am 25 Oct 2021 #दीवाली की सफाई
Blogger: डॉ टी एस दराल
 आदि मानव जब शिक्षित हो गया,शिक्षित होकर वो विकसित हो गया। विकसित होकर किये ऐसे कारनामे कारनामों से खुद प्रतिष्ठित हो गया।    प्रतिष्ठित होकर जुटाए सुरक्षा के साधन,सुरक्षा के साधनों में वो प्रशिक्षित हो गया।   प्रशिक्षित हुआ इन संसाधनों में इस कदरकि सम्पू... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   8:20am 11 Oct 2021 #विकास
Blogger: डॉ टी एस दराल
 पार्क में एक पेड़ तले दस बुज़ुर्ग बैठे बतिया रहे थे,सुनता कोई भी नहीं था पर सब बोले जा रहे थे ! भई उम्र भर तो सुनते रहे बीवी और बॉस की बातें,दिन मे चुप्पी और नींद मे बड़बड़ाकर कटती रही रातें ! अब सेवानिवृत होने पर मिला था बॉस से छुटकारा,बरसों से दिल मे दबा गुब्बार निक... Read more
clicks 214 View   Vote 0 Like   4:30am 1 Oct 2021 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 एक ज़माना था जब हम गांव में रहते थे। घर के आँगन में या बैठक में घर के और पड़ोस के भी पुरुषों को चारपाई पर बैठ हुक्के का आनंद लेते हुए गपियाते हुए देखते थे। अक्सर गांव, अपने क्षेत्र और शहर की पॉलिटिक्स पर चर्चा के साथ साथ आपस में हँसी ठट्ठा जमकर होता था। खेती बाड़ी का काम वर्... Read more
clicks 39 View   Vote 0 Like   10:10am 21 Sep 2021 #बुढ़ापा
Blogger: डॉ टी एस दराल
 बुजुर्गों से सुनते थे अनुभव अर्जित ज्ञान की बातें। और यह भी कि  ज्ञान बांटने से बढ़ता है, वरना एक दिन वही ज्ञान ज्ञानी के साथ ही मिट जाता है।  आज का युवा वर्ग पढ़ता है सैंकड़ों क़िताबें,और क़िताबी ज्ञान का  विद्धान बन जाता है।  किंतु अनभिज्ञ रह सांस... Read more
clicks 97 View   Vote 0 Like   6:30am 9 Sep 2021 #ज्ञान
Blogger: डॉ टी एस दराल
 रोज़ सोचते हैं कल बदल लेंगे, रोज़ थोड़ा और निकल आता है।  इस और और के चक्कर में,इंसान का सारा जीवन ही निकल जाता है।  और अनंत है असंतुष्टि का घर है, किंतु यह बात जाने क्यों नादाँ इंसान समझ नहीं पाता है।  जो इंसान इस और को  काबू कर संतुष्टि पा ल... Read more
clicks 105 View   Vote 0 Like   6:00am 6 Sep 2021 #थोड़ा और
Blogger: डॉ टी एस दराल
 दुनिया में अपनी प्रजाति का अस्तित्व बनाये रखने को जीव जंतु, जलचर, या रहते हों भू पर, बच्चे या अंडे देते हैं, तिनका तिनका जोड़ घर बनाकर, सेंकते हैं,अपने जिस्म की ऊर्जा से।  पालते हैं बड़ी मेहनत से ,जुटाते हैं चारा अपनी जान जोखिम में डालकर।   फिर एक दि... Read more
clicks 22 View   Vote 0 Like   10:35am 27 Aug 2021 #इंसान
Blogger: डॉ टी एस दराल
 जब सिक्स पैक एब्स का मतलब हमें समझ में आया।  तब अपना फलता फूलता पेट देखकर, हमें भी ये ख्याल आया।  कि जब ४० - ५० पार के एक्टर्स तन से चर्बी उतार सकते हैं , तो भई हम भी तो अभी तरो ताज़ा हैं , फिर दो चार एब्स तो हम भी उभार सकते हैं। आखिर वो भी तो ढलती उम्र से लड़े हैं।&n... Read more
clicks 69 View   Vote 0 Like   7:02am 4 Aug 2021 #हास्य कविता
Blogger: डॉ टी एस दराल
 ये बात हमें अभी तक समझ में नहीं आई , कि ६० तो क्या, ६५  की उम्र भी जल्दी कैसे चली आई।  अब हम क्या बताएं आखिर ये किसकी गलती है, भई सरकारी काग़ज़ों में तो उम्र भी नकली ही चलती है।  इंसान की असलियत भी चेहरे से कहां झलकती है , यह तो इंसान के कागज देखकर ही पता चलत... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   8:30am 16 Jul 2021 #रिटायरमेंट
Blogger: डॉ टी एस दराल
 रिटायरमेंट के बाद सबसे ज्यादा बेकद्री कपड़ों की होती है। बेचारे अलमारी में ऐसे मुंह लटकाकर टंगे रहते हैं, मानो कह रहे हों, सरजी कभी हमारी ओर भी देख लिया करो। ऐसी भी क्या बेरुख़ी है। रिटायर होते ही हमसे मुंह मोड़ लिया। रिटायर आप हुए हैं, हम नही। बूढ़े आप हुए होंगे, हम नही , हम... Read more
clicks 121 View   Vote 0 Like   8:04am 17 Jun 2021 #लॉक डाउन
Blogger: डॉ टी एस दराल
 कोरोना काल मे जुदा हम और सरकार हो गये,लॉकडाउन में खाली घर रहकर बेकार हो गये। बेकार हो गये अब भैया जब रिटायर भये दोबारा,अब न कोई सुनता न किसी पर चलता वश हमारा। कह डॉक्टर कविराय अब किस पर हुक्म चलावैं,बस चुप रह कर निस दिन बीवी का हुक्म बजावैं। ... Read more
clicks 57 View   Vote 0 Like   7:02am 13 Jun 2021 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
अभी तो टायर्ड हुए भी नही थे,कि हम फिर से रिटायर्ड हो गये। रिटायर्ड होकर घर मे ही बैठे बैठे,निष्काम रह रह कर टायर्ड हो गये।मूड कुछ डाउन रहने लगा जब,टाउन सब लॉक डाउन हो गए। लोग जब घरों में निश्चल न बैठे तो,हम अपने घर मे रनडाउन हो गये।लॉक होकर अनलॉक होने लगे,थे जो सपने कहीं लॉ... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   6:54am 10 Jun 2021 #सेवा निवृति
Blogger: डॉ टी एस दराल
अभी तो टायर्ड हुए भी नही थे,कि हम फिर से रिटायर्ड हो गये। रिटायर्ड होकर घर मे ही बैठे बैठे,निष्काम रह रह कर टायर्ड हो गये।मूड कुछ डाउन रहने लगा जब,टाउन सब लॉक डाउन हो गए। लोग जब घरों में निश्चल न बैठे तो,हम अपने घर मे रनडाउन हो गये।लॉक होकर अनलॉक होने लगे,थे जो सपने कहीं लॉ... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   6:37am 10 Jun 2021 #सेवा निवृति
Blogger: डॉ टी एस दराल
 नंदू बिना मास्क के चार चक्कर लगा आया,न किसी ने पकड़ा न पुलिस ने डंडा बजाया।जब डर नहीं लोगों में तो कोरोना भी क्यों डरे,सेकंड वेव का राज़ हमें अब समझ मे आया।ब्लैक फंगस के केस बहुत नज़र आने लगे हैं,डॉक्टर्स अब सबको ये बात समझाने लगे हैं।स्टीरॉयड्स एक राम बाण दवा है सही हाथो... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   8:17am 21 May 2021 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
चेहरा मास्क से ढका हुआ ,  मास्क के ऊपर से झांकती दो आँखें, आँखों में अक्सर दिखती है एक बेबसी।  बाकि त्योरियों से भरा मस्तक।  आजकल इंसान की बस यही पहचान रह गई है। वो दिखता नहीं है , न ही कार्बन मोनोऑक्साइड की तरह, उसमे कोई गंध है न रंग।  एक अदृश्य दुश... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   7:33am 9 Apr 2021 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
कोरोना से जग ने खुद को बचाना सीख लिया है , कलियुग में सात्विक बनकर दिखाना सीख लिया है।    सीख लिया है सबने कम में गुजारा करना ,नाकाम चौबीस घंटे घर में रहना सीख लिया है।    ना लगे मेले ना मिले किसी से साल भर , बुजुर्गों ने भी अकेले जीना सीख लिया है।  पार्टियां ... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   8:45am 23 Feb 2021 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 कनाड़ा के एल्गोन्क़ुइन जंगल में कैम्पिंग :बात पुरानी है, २००९ में जब हम पहली बार कनाड़ा गए थे, अपने एक मित्र के निमंत्रण पर। तीन सप्ताह के निवास में मित्र ने हमारे सम्मान में एक तीन दिन के जंगल कैम्प का आयोजन किया था, एल्गोंक्विन फॉरेस्ट में। लगभग ६० मिलोमीटर लम्बे जंगल ... Read more
clicks 95 View   Vote 0 Like   8:37am 29 Jan 2021 #कैम्पिंग
Blogger: डॉ टी एस दराल
सर्दियों में वेट बढ़कर पेट अक्सर निकल जाता है,क्या करें, दावत का रोज ही अवसर मिल जाता है।कम्बल रज़ाई में बैठे बैठे खाते रहते हैं सारा दिन,हाथ पैर अकड़े होते हैं, परंतु ये मुंह चल जाता है।ग़ज़्ज़क, पट्टी, गाजर का हलवा देख मन ललचाये,खाते पीते नये साल का जश्न भी हिलमिल जाता ... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   6:45am 2 Jan 2021 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 1.क्वारेन्टीन और डिस्टेंसिंग जैसे शब्द अब यक्ष हो गए हैं ,आइसोलेशन में पति पत्नी के जुदा शयन कक्ष हो गए हैं । कोरोना ने लोगों की जिंदगी में कर दिया ऐसा करेक्शन , कि युवा ही नहीं बूढ़े भी अब गृह कार्यों में दक्ष हो गए हैं ।2.लॉक डाउन के दिन रात तो नाकाम बीते हैं,पर कोरोना ने ... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   5:55am 28 Dec 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 कोरोना काल के 9 महीने:18 मार्च 2020 को अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद की गईं थीं। आज 9 महीने पूरे हो गये। इस कष्टकाल मे भी कुछ बातें सुखद बनकर सामने आईं हैं, जैसे :* अब लोगों को मास्क पहनने की आदत सी पड़ गई है। इसलिए कोरोना खत्म होने के बाद भी लोग जापानियों की तरह बिना शरमाये मास्क पह... Read more
clicks 99 View   Vote 0 Like   6:03am 19 Dec 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 1.हरसालहोलीपरमिलतेथेहरएकसेगले,इससालगलेमिलनेवालेवोगलेहीनहींमिले।  कोरोनाकाऐसाडरसमायादिलोंमें,किदिलोंमेंहीदबेरहगएसबशिकवेगिले।2.कोरोनाकाकहरजबशहरमेंछाया ,हमेंतोवर्कफ्रॉमहोमकाआईडियाबड़ापसंदआया।किन्तुपत्नीकोदेरनलगीयेबातसमझते ,किघरतोक्याहमतोऑफि... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   5:55am 19 Dec 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
कोरोना संक्रमण एक ऐसी बीमारी है जो जब तक नही होती , तब तक सब नॉर्मल लगता है। आखिर, वायरस न नज़र आता है, न ही इसमे कोई गंध है। बस जब बुखार आता है , तब टैस्ट कराते हैं और पॉजिटिव आने पर हाथ पैर फूलने लगते हैं । घर मे किसी एक को हो जाये तो बाकी लोगों का बिना संक्रमित हुए बचना बहुत मु... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   6:48am 7 Dec 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 कहतेहैं, खरबूजेकोदेखकरखरबूजारंगबदलताहै।लेकिनपत्नीपरभैया, भला किसकावशचलताहै। हमनेपत्नीसेकहा , आपमेंबसएककमीहै।आपकोहमारीलम्बीउम्रकी, फ़िक्रहीनहींहै। पत्नीबोली, देखोमेरागलाख़राबहै,ज्यादाजोरसेबोलनहींसकती।लेकिननापहलेकभी कीहै ,अभीभीकभीनक़ल करनहींसकती... Read more
clicks 207 View   Vote 0 Like   7:37am 4 Nov 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 एक दिन एक महिला बोली, आप पत्नी विषय पर कविता क्यों नहीं सुनाते हैं ! हमने कहा हम पत्नी पर कविता लिखते तो हैं, पर सुनाने से घबराते हैं।  एक बार पत्नी पर लिखी कविता पत्नी को सुनाई , गलती ये हुई कि अपनी को सुनाई।  उस दिन ऐसी मुसीबत आई कि हमें घर छोड़कर जाना पड़ा , ... Read more
clicks 122 View   Vote 0 Like   9:50am 15 Oct 2020 #पत्नी
Blogger: डॉ टी एस दराल
बेटी होती है, मन मोहिनी, मां के मन की, अंतरंग संगिनी।  पिता के दिल का, एक नाज़ुक कोना। छोटी हो तो, भैया की दुलारी।  पथ प्रदर्शक बनती,  ग़र बड़ी हो बहना।  शैशव काल में, उसकी किलकारियां।  छुटपन में ,उसके नन्हे क़दमों की छम छम। किशोरावस्था में,खिलखि... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   7:51am 28 Sep 2020 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3993) कुल पोस्ट (195303)