POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: अंतर्मंथन

Blogger: Dr T S Daral
 नंदू बिना मास्क के चार चक्कर लगा आया,न किसी ने पकड़ा न पुलिस ने डंडा बजाया।जब डर नहीं लोगों में तो कोरोना भी क्यों डरे,सेकंड वेव का राज़ हमें अब समझ मे आया।ब्लैक फंगस के केस बहुत नज़र आने लगे हैं,डॉक्टर्स अब सबको ये बात समझाने लगे हैं।स्टीरॉयड्स एक राम बाण दवा है सही हाथो... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   8:17am 21 May 2021 #
Blogger: Dr T S Daral
चेहरा मास्क से ढका हुआ ,  मास्क के ऊपर से झांकती दो आँखें, आँखों में अक्सर दिखती है एक बेबसी।  बाकि त्योरियों से भरा मस्तक।  आजकल इंसान की बस यही पहचान रह गई है। वो दिखता नहीं है , न ही कार्बन मोनोऑक्साइड की तरह, उसमे कोई गंध है न रंग।  एक अदृश्य दुश... Read more
clicks 11 View   Vote 0 Like   7:33am 9 Apr 2021 #
Blogger: Dr T S Daral
कोरोना से जग ने खुद को बचाना सीख लिया है , कलियुग में सात्विक बनकर दिखाना सीख लिया है।    सीख लिया है सबने कम में गुजारा करना ,भौतिक इच्छाओं को दबाना सीख लिया है।    ना लगे मेले ना मिले किसी से साल भर , बुजुर्गों ने एकाकी जीवन बिताना सीख लिया है।  पार्टियां ... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   8:45am 23 Feb 2021 #
Blogger: Dr T S Daral
एक मित्र बोले भैया आजकल कहां दुम दबाकर बैठे हो ,इस कोरोना के डर से क्यों घर में मुँह छुपाकर बैठे हो ।क्या रखा है बेवज़ह डरने में, कभी मित्रों से मुलाकात करो,कब तक डर कर घर बैठोगे, कभी मिलकर हमसे बात करो।हम बोले सुनो मोदी जी को और अब ३ मई तक पूर्ण विराम करो ,कोरोना को भगाना है ... Read more
clicks 83 View   Vote 0 Like   8:11am 27 Apr 2020 #पैरोड़ी
Blogger: Dr T S Daral
और लोग घरों में बंद रहेऔर पुस्तकें पढ़ते सुनते रहेआराम किया कसरत कीकभी खेले कभी कला का लिया सहारा और जीने के नए तरीके सीखे।फिर ठहरेऔर अंदर की आवाज़ सुनीकुछ ने ध्यान लगायाकिसी ने की इबादतकिसी ने  नृत्य कियाकोई अपने साये से मिलाऔर लोगों का नजरिया बदला।लोग स्वस्थ होन... Read more
clicks 126 View   Vote 0 Like   12:06pm 25 Mar 2020 #
Blogger: Dr T S Daral
कोरोना का कहर जब शहर में छाया ,तब हुकमरान ने ये फरमान सुनाया।कि स्कूल, कॉलेज, ज़िम, क्लब सब होंगे बंद ,पर हमें तो वर्क फ्रॉम होम का आईडिया बड़ा पसंद आया।लेकर बुजुर्गी का सहारा हमने अर्ज़ी लगाई,कि कमज़ोर तो नहीं है ये साठ साल की काया।इसलिए कोरोना से तो हम कभी ना डरेंगे ,परन्तु क... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   6:07am 21 Mar 2020 #वर्क फ्रॉम होम
Blogger: Dr T S Daral
हर साल होली पर मिलते थे हर एक से गले,इस साल गले मिलने वाले वो गले ही नहीं मिले।  कोरोना का ऐसा डर समाया दिलों में,कि दिलों में ही दबे रह गए सब शिकवे गिले।पडोसी पार्क में बुलाते रहे पकौड़े खाने को,डरे सहमे लोग अपने अपने घरों से ही नहीं हिले।ना निकली बस्ती में मस्तों की टो... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   10:30am 16 Mar 2020 #होली
Blogger: Dr T S Daral
हमें अभी अहसास हुआ कि हम पिछली चार बार से हर वर्ष टी वी पर होली मनाते आये हैं। प्रस्तुत हैं कुछ झलकियां :  २०१७ की होली , यू पी के एक चैनल पर।२०१८ की होली, दूरदर्शन के नैशनल चैनल पर। २०१९ की होली, आज तक के तेज चैनल पर.२०२० की होली, CCN DEN चैनल पर।   साल में एक बार ही सही, टी वी ... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   5:22am 11 Mar 2020 #होली
Blogger: Dr T S Daral
जो जंगली जानवरों को जाल में फंसाते हैं,फिर उनको अधमरा अधपका खा जाते हैं ,कोरोना वायरस को वही लोग पसंद आते हैं।जब यही लोग विदेश के सफ़र पर जाते हैं ,खुले आम छींक मारने से बाज नहीं आते हैं,यही लोग हवा में रोग के कीटाणु फैलाते हैं।जो रोगी बिना हाथ धोये ही हाथ मिलाते हैं ,दूसरो... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   11:55am 6 Mar 2020 #
Blogger: Dr T S Daral
फ़िल्मी मशहूर हस्तियों और मॉडल्स के परिधान देखकर उपजी ये छोटी बह्र की ग़ज़ल :वस्र छै गज रंगा ,         ( वस्र = वस्त्र )तन फिर भी नंगा।कहने को मैया ,मैली क्यों गंगा।मन में रख विग्रह ,       ( विग्रह = वैर / शत्रुता )कर दें कब दंगा ।धर्म के हैं गुरु ,मत लेना पंगा ।ज... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   7:49am 4 Mar 2020 #
Blogger: Dr T S Daral
ताऊ कौन है ?आजकल फेसबुक पर फिर से ताऊ अवतरित हुए हैं । ये ताऊ साल भर अंतर्ध्यान रहते हैं लेकिन जब जब होली आती है, ये ताऊ फेसबुक की ओर अग्रसर हो लेते हैं। वैसे तो हरियाणा का एक एक बंदा ताऊ ही होता है। लेकिन ये ताऊ स्पेशल है। क्योंकि ये हरियाणवी ताऊ से भी ज्यादा ताऊ हैं । इनकी ... Read more
clicks 184 View   Vote 0 Like   2:27pm 23 Feb 2020 #
Blogger: Dr T S Daral
कामना करता हूँ कि इस साल के चुनाव में --सब नेताओं की मुरादें पूरी हों,ना किसी की इच्छाएं अधूरी हों।उम्मीदवारों को कम से कम ५% मत मिलें ,ना जब्त हो, सभी को वापस जमानत मिले। सर्वोत्तम पार्टी को अच्छा जनमत मिले,जनमत भी ऐसा हो कि पूर्ण बहुमत मिले।जनता को आटा चावल दाल मिले,और ... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   5:22am 7 Feb 2020 #
Blogger: Dr T S Daral
कामना करता हूँ कि इस नए साल में..सबकी मुरादें पूरी हों,ना कोई इच्छाएं अधूरी हों। बेरोजगारों को नौकरी मिले,और कुंवारों को छोकरी मिले। छोकरी भी सुन्दर सुशील और स्वस्थ हो,कामकाजी और गृह कार्यों में दक्ष हो। डॉक्टरों को मरीज़ मिलें,और मरीज़ों को तमीज मिले।  नेताओं को ... Read more
clicks 238 View   Vote 0 Like   5:22am 24 Jan 2020 #नव वर्ष
Blogger: Dr T S Daral
1. गुजरगयाएकऔरसाल ,जातेजातेदेखोकरगयाक्याहाल।भारततोकांग्रेसमुक्तहोनासका ,परखांसीमुक्तहोगएकेजरीवाल।दिल्लीमेंबिजलीपानीबसेंमेट्रोसबमुफ्तहोगए ,केजरीवालमोदीकोभूलचुनावोंमेंमस्तहोगए।रोजदेतेहैंअख़बारोंमेंचारचारपेजकेइश्तिहार,परभाजपाऔरकॉंग्रेसनेताजान... Read more
clicks 113 View   Vote 0 Like   3:30am 1 Jan 2020 #शुभकामनायें
Blogger: Dr T S Daral
नगरी नगरी , होटल होटल , छुपता जाये बेचारा ,ये सियासत का मारा  ....चुनावों तक का साथ था इनका , जीतने तक की यारी,आज यहाँ तो कल उस दल में , घुसने की तैयारी।नगरी नगरी , होटल होटल ----मंत्री पद के पीछे क्यों हैं , ये नेता सब पगले ,यहाँ की ये कुर्सी नहीं मिलेगी , ग़र होटल से निकले ।नगरी नगरी... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   6:30am 25 Nov 2019 #पैरोड़ी
Blogger: Dr T S Daral
वो पास होती है तो फरमान सुनाती है।अज़ी ऐसा मत करना , वैसा मत करना ,ये मत खाना , वो मत खाना ,कुछ भी खाना पर ज्यादा मत खाना।वो दूर होती है तो समझाती है ,अज़ी ऐसा करना , वैसा करना ,ये खा लेना , वो खा लेना ,कुछ भी खाना पर भूखा मत रहना।हम तो हर हाल में ,बस पत्नी का हुक्म बजाते हैं।वो दिन को... Read more
clicks 100 View   Vote 0 Like   9:43am 18 Nov 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
एक दिन एक हास्य कवि से हो गई मुलाकात,अवसर देख कर मैं करने लगा उनसे बात।मैंने कहा ज़नाब आप सारी दुनिया को हंसाते हैं ,लेकिन खुद कभी हँसते हुए नज़र नहीं आते हैं।क्या बता सकते हैं आप इस चक्कर में कब फंसे थे ,और दिल खोलकर आखिरी बार कब हँसे थे।  वो बोले, ज़रूर बता सकता हूँ मैं इस च... Read more
clicks 114 View   Vote 0 Like   8:30pm 6 Nov 2019 #हास्य कविता
Blogger: Dr T S Daral
प्रस्तुत है, प्रसिद्ध हास्य व्यंग कवि श्री आशकरण अटल जी की एक दिलचस्प हास्य व्यंग कविता पर आधारित एक हास्य व्यंग पैरोडी कविता :एक बिन बुलाये कवि ने,कवि सम्मेलन में एंट्री ली।संचालक महोदय ने उसे पुकारा भी नहीं ,कि संयोजक ने उसे मंच पर ही धर लियाऔर सवालों की झड़ी लगा दी। ... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   6:03am 1 Nov 2019 #भ्रष्टाचार
Blogger: Dr T S Daral
कहते हैं,खरबूजे को देखकरखरबूजा रंग बदलता है। लेकिन पत्नी पर भैया, भलाकिसका वश चलता है। हमने पत्नी से कहा ,आप में बस एक कमी है। आपको हमारी लम्बी उम्र की,फ़िक्र ही नहीं है। पत्नी बोली,देखो मेरा गला ख़राब है, ज्यादा जोर से बोल नहीं सकती। लेकिन ना पहले की है नक़ल ,ना अ... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   7:47am 17 Oct 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
जुर्माना है क्यों इतना, थोड़ी सी तो ही पी है,नाका तो नहीं तोड़ा, लाइट जम्प तो नहीं की है।  क्यों उनसे नहीं मतलब, जिनके हैं शीशे काले,क्या जाने उस गाड़ी में, बैठा इक बलात्कारी है।  जुर्माना है क्यों इतना. , थोड़ी सी तो ही पी है,स्टॉप लाइन तो क्रॉस नहीं की, पी यू सी भी है।गाड़ी को ल... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   3:30am 10 Oct 2019 #ट्रैफिक
Blogger: Dr T S Daral
जो दौड़ते थे ८० -९० पर , सरकने लगे हैं धीरे धीरे।मेरे शहर के लोग आखिर, बदलने लगे हैं धीरे धीरे।हाथ में लटकाकर हेलमेट, उड़ती थी हवा में ज़ुल्फ़ें,गंजे सर भी अब तो हेलमेट,पहनने लगे हैं धीरे धीरे।डंडे के डर से मदारी, नचाता है अपने बन्दर को ,चालान के डर से इंसान, सरकने लगे हैं धीरे ध... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   4:30am 1 Oct 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
फेसबुक पर हम इतना झूल गए,के कविता ही लिखना भूल गए।जिसे देनी थी जीवन भर छाया ,उस पेड़ को सींचना भूल गए।मतलब में अपने कुछ ऐसे डूबे,देश पर मर मिटना भूल गए ।नींद में देखते रहे जिसे रात भर ,आँख खुली तो वो सपना भूल गए।बड़े भोले थे जाल में जा फंसे ,फंसे तो पर निकलना भूल गए।आँखों पर ऐस... Read more
clicks 235 View   Vote 0 Like   9:00am 25 Sep 2019 #ब्लॉगिंग
Blogger: Dr T S Daral
सूखा पड़ा बड़ा जब आई नहीं बरखा तो ,मेंढक और मेंढकी का ब्याह करवाना पड़ा।  चलता रहा जून भर दोनों का हनीमून पर ,दो माह बाद उनका रोमांस रुकवाना पड़ा।  हुई छम छम वर्षा और बरसा  पानी जमकर ,बाढ़ रोकने का इंतज़ाम करवाना पड़ा।रुकी नहीं बरखा और शहर हुआ पानी पानी तो ,किसी और मेंढक मेंढ... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   8:55am 24 Sep 2019 #मेंढक मेंढकी
Blogger: Dr T S Daral
सूखा पड़ा बड़ा जब हुई नहीं बरखा तो ,मेंढक और मेंढकी का ब्याह करवाना पड़ा।   चलता रहा जून में दोनों का हनीमून पर ,दो माह बाद उनका रोमांस रुकवाना पड़ा।   ऐसी हुई बरखा कि जमकर पानी बरसा ,बाढ़ रोकने का इंतज़ाम करवाना पड़ा।  रुकी नहीं बरखा और शहर हुआ पानी पानी तो ,मेंढक और मेंढक... Read more
clicks 114 View   Vote 0 Like   8:55am 13 Sep 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
बचपन में अक्सर नेताओं और मंत्रियों को विदेश जाते देखते थे जो सरकारी खर्चे पर अपने विभाग से सम्बंधित विषय पर जानकारी प्राप्त करने के लिए विदेश का दौरा बनाते थे।  उनके साथ परिवार के सदस्य और विभाग के ऑफिसर्स भी जाते थे। इस तरह हर दौरे पर सरकार के लाखों रूपये खर्च होते थ... Read more
clicks 176 View   Vote 0 Like   12:55pm 3 Sep 2019 #टोरंटो
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194406)