POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: कविता संकलन

Blogger: yashvardhan srivastav
जिन्होंने देश की रक्षा के लिएकभी नहीं झुकने दियाअपना सरहमे नाज है देश के वीर जवानों पर।।और रक्षा की हमारी तलवारों पर सर वार करलेकीन लड़ते रहे हर मुसीबत सेआखिरी सास तकए वीरो तुम्हारी कुर्बानी नहीं जाएगी खालीतुम्हें पुरे देश की ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि।।🙏🙏🙏जय ह... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   7:00am 17 Jun 2020 #जयभारत
Blogger: yashvardhan srivastav
दिल को सुकून देतीवो मधुर संगीत हैआंखो में चमक भर देतावो तारा संगीत है।मन को खुश कर देतीवो धूप संगीत हैकमजोरी को हिम्मत देतावो साहरा संगीत है।जिंदगी को उम्मीद देतीवो भरपूर संगीत हैहौसलों में जुनून भर देतावो उजियारा संगीत है।चेहरे पर मुस्कान ला देतीवो सुकून सा संगीत... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   4:55am 31 May 2020 #खुशी
Blogger: yashvardhan srivastav
दिल को सुकून देतीवो मधुर संगीत हैआंखो में चमक भर देतावो तारा संगीत है।मन को खुश कर देतीवो धूप संगीत हैकमजोरी को हिम्मत देतावो साहरा संगीत है।जिंदगी को उम्मीद देतीवो भरपूर संगीत हैहौसलों में जुनून भर देतावो उजियारा संगीत है।चेहरे पर मुस्कान ला देतीवो सुकून सा संगीत... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   4:55am 31 May 2020 #खुशी
Blogger: yashvardhan srivastav
रात के आसमान में सैकड़ों तारे है समाए फिर इकलौते सूरज दादा के खिलने पर ही... 🌞 आसमान ⛅ जी भला क्यों मुस्कराए...❣ रात के खुले आसमान में जो 😍 तारो को देख है मुस्कुराता😊 दिन में वो इंसान सिर्फ केवल सूरज☀ को ही क्यों❣ अर्क चढ़ाता🌊 भला सूरज के खिलने से☀ आ... Read more
clicks 77 View   Vote 0 Like   7:39am 21 May 2020 #खुशी
Blogger: yashvardhan srivastav
(चित्र साभार: हिन्दी समाचार)पानी जिसने इसकी कदर ना जानी उसको सिर्फ येबात बतानीकविता समझोया कहानीमुझे तो बस अपनी बात समझानी पानी यह सिर्फशब्द नहीं है इसकी कीमत बहुतबड़ी कभी इसके बिना भी दो दिन रहे हो अगर रहे हो तो बता देनाशायद तुमको इसकी कीमत ज्यादा पता होपर मै एक बार ह... Read more
clicks 111 View   Vote 0 Like   4:53pm 22 Mar 2020 #कविता
Blogger: yashvardhan srivastav
(चित्र साभार: हिन्दी समाचार)पानी जिसने इसकी कदर ना जानी उसको सिर्फ येबात बतानीकविता समझोया कहानीमुझे तो बस अपनी बात समझानी पानी यह सिर्फशब्द नहीं है इसकी कीमत बहुतबड़ी कभी इसके बिना भी दो दिन रहे हो अगर रहे हो तो बता देनाशायद तुमको इसकी कीमत ज्यादा पता होपर मै एक बार ह... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   4:53pm 22 Mar 2020 #कविता
Blogger: yashvardhan srivastav
जीवन कि लड़ाइयों से,लड़ रहा हूं मैंचाहे कुछ भी हो लेकिन,आगे बढ़ रहा हूं मैंकुछ इस कदरनदी के रूप सा, ढल रहा हूं मैंतपती धूप में भीचल रहा हूं मैं।।... Read more
clicks 102 View   Vote 0 Like   1:42pm 17 Jan 2020 #कविता
Blogger: yashvardhan srivastav
दिखा दो सारी दुनिया कोकी तुम क्या कर सकते होअकेले ही सही परसंसार बदल सकते होजो होना था वो हो गया जो खोना था वो खोगयापर अभी भी तुम सब कुछ पा सकते हो खोई मजिलों को वापस ला सकते हो।।बस जरूरत है सही राह पे चलने कीखुद को एक नई दिशादेने कीभले ही वापस से शुरुआत करोपरं... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   8:29am 13 Jan 2020 #कविता
Blogger: yashvardhan srivastav
थके थके बिना रुकेचल रहे राहों पे हम।।१।।मुश्किलें नहीं है कमफिर भी बढ़ रहे है,ये कदम।।२।।न पीछे रह जाने का डरन ही आगे होने का घमंड।।३।।बस एक राह पकड़ उस पर चल दिये है हम।।४।।नदियों सा ये सफर समंदर की ना कोई खबर।।५।।अनजाने रास्तों पर ही सहीपर आगे तुम बढ़ सकते हो।।६।।मु... Read more
clicks 89 View   Vote 0 Like   4:48pm 1 Jan 2020 #नदियों सा ये सफर
Blogger: yashvardhan srivastav
कोई याद पुरानी बनूंया अधूरी कहानी।तेरे यादों की निशानी बनूंया तेरी आंखों का पानी।।नहीं बनना तेरी खुशी का भागी।मैं तो हू बस,तेरे गम का साथी।।क्या तेरा हाथ पकड़ लू धीरे से,या तेरे चेहरे को लगा लू सीने से,चाहे कितनी दफा दिल तोड़ दे,तेरा साथ निभाऊ हर मोड़ पे,नहीं जाऊंगा तु... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   6:43pm 23 Dec 2019 #
Blogger: yashvardhan srivastav
सूरज दुबका मुझसेडर कर!बादलों से निकला यूं छिप छिपकर!देख मुझे है मुस्कराता,फिर न जाने क्यों छिप जाता?ये मेरी समझ में ना आता!!कि ठंड हैक्या आज कुछ ज्यादा?लगता है! आज बीमार है सूरज दादा।कि बादलों को बना अपना कंबलसो गए हैं, सूरज दादा।।या फिर ग्लोबल वार्मिंग का असर हो गया कुछ ... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   6:58am 19 Dec 2019 #ठंड
Blogger: yashvardhan srivastav
भूल जाओ कल की करनी आज से ही शुरुआत करनीहै आज का महत्व बड़ाक्योंकि आज पे ही तेरा कल खड़ाआज का आगाज है अरे कल क्या विश्वास हैआज से ही हाथ मिलाआज बस कदम बढ़ाहै आज का महत्व बड़ाक्योंकी आज पे ही तेरा कल खड़ाजो करना है आज करोकल की ना तुम बात करोकल का तो हैइंतजार बड़ाहै आज का महत... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   6:01pm 1 Oct 2019 #
Blogger: yashvardhan srivastav
हिन्दी हमारा मान है,हिन्दी हमारी आन है,हिन्दी हमारी शान है,हिन्दी ही पहचान है। बड़ा ही सुंदर इसका भाव है,यह वही खुशियों वाला मेरा गांव है,जहां बस्ती मेरी जान है।जैसे हों श्रंगार की बिंदी,वैसे ही है अपनी प्यारी हिंदीसरल सुंदर इसका स्वभाव है,जीवन का इसमें सार है।हिन... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   7:09am 14 Sep 2019 #
Blogger: yashvardhan srivastav
सफल होने से पहले जो पड़ती मार हैअसफल होना भीकिस्मत की बात है।ये तो बस एक नई शुरुआत हैसफलता से होनी अभी मुलाकात है।।जरा-सा धिट बन जानामेहनत से दोबारा हाथ मिलानाप्रयास तुम हर बार करनाफिर से एक नई शुरुआत करना।चेहरे पर मीठी-सी मुस्कान रखनासंघर्ष से तुम न कतराना।।अपनी हा... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   6:04pm 26 Aug 2019 #एक नई शुरुआत
Blogger: yashvardhan srivastav
हर शाम ये सूरज ढलता हैजाते हुए लम्हों से नजाने आखिर तू क्यों लड़ता हैसाथ तेरे पास तेरेकुछ नहीं रह जायेगासूरज की तरह एक दिन तू भी ढल जाएगा रात में,आकाश मेंब्रह्माण्ड मेंकही तू भी छिप जायेगापरंतु उस हालात में फिर भी तू मुस्कुराएगा!!तुम्हें मुस्कुराना ही होगाक... Read more
clicks 207 View   Vote 0 Like   6:02pm 19 Aug 2019 #
Blogger: yashvardhan srivastav
अच्छा लगता है वो तितलियों काउड़ना।अच्छा लगता हैवो फूलों कामहकना।।अच्छा लगता है वो चिड़ियों का चहकना।अच्छा लगता है वो हवा काबहकना।।अच्छा लगता है वो बारिश काबरसना।अच्छा लगता है वो इन्द्रधनुष काबनना।।अच्छा लगता है वो सुबह की सैर करना।अच्छा लगता है ... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   4:40am 15 May 2019 #इन्द्रधनुष
Blogger: yashvardhan srivastav
रात अटल है,दिन अटल है,ये सूरज - ये चांदअटल है।।पशु अटल है,पंछी अटल है,हरियाला ये जंगलअटल है।।पर्वत अटल है,मैदान अटल है,ये धरती, ये आकाशअटल है।।पानी अटल है,आग अटल है,नदिया की बहतीये धाराअटल है।।आप अटल है,मैं अटल हूं,मन के भीतरकुछ बातेंअटल है।।हर वो क्षण-क्षणअटल है,जिसमे उन... Read more
clicks 233 View   Vote 0 Like   9:50am 17 Aug 2018 #नमन
Blogger: yashvardhan srivastav
एक ऐसा भारत हो,जहां आपस  में ना भेद हो।प्रेम के प्रति प्रेम हो।जहां हर तरफ हरियाली हो,वातावरण में फैली खुशहाली हो।।हर जनजाति का सम्मान हो,पशु-पक्षियों सेभी सबको,प्यार हो।प्लास्टिक का ना नाम हो,गंगा - यमुना, हर नदी साफ हो।सफल स्वच्छ - भारत अभियान हो।।डिजिटल पावर में भी ... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   5:57pm 15 Aug 2018 #देशभक्ति गीत
Blogger: yashvardhan srivastav
ऐसे ही हमसे झगड़े।सूरज दादा क्यों हो भड़के।।इस बार की गर्मी में।सूरज दादा गुस्से में।।कम करो अब ये गर्मी।सूरज दादा दिखाओ थोड़ी नरमी।।मन करे तो कुल्फी खाओ।सूरज दादा अब शान्त हो जाओ।।© यशवर्धन श्रीवास्तव... Read more
clicks 330 View   Vote 0 Like   4:25pm 11 Jun 2014 #गर्मी
Blogger: yashvardhan srivastav
बात पते की अब बताता। बदले में सबको समझाता।।गौर से सुनना मेरी बात को। सीखना और समझाना औरों को।।प्रकृति की धरोहर यूँ न नष्ट करो।पेड़ो को काटना अब बंद करो।।ये पेड़ - पौधें है दोस्त हमारे। जीवन चलता है इनके सहारे।।पेड़ो से मिलती है हरियाली। वातावरण में फैलाते ये ... Read more
clicks 314 View   Vote 0 Like   1:58pm 22 Mar 2014 #प्रकृति की धरोहर
Blogger: yashvardhan srivastav
पहले उड़ती - फिरती थी,ये हर डाली - डाली। कौन - थी ये चिड़िया प्यारी ?क्या नाम है इसका,जरा - पूछो भईया ?अरे ये चिड़िया है - गौरैया।।पहले दिखती थी ये,हर - घर आँगन में। परन्तु अब है ये,पक्षी संकट में।।इसे बचाने के लिए,करना पड़ेगा कोई उपाय। ताकि ये चिड़िया,इस धरती पर बच पाएँ।।थोड़ा - ... Read more
clicks 352 View   Vote 0 Like   5:20pm 20 Mar 2014 #प्रकृति
Blogger: yashvardhan srivastav
पतझड़ का मौसम छाया,बसन्त का महीना आया।।तेज हवा चली रूहानी,खिली धूप सुहानी।।बगिया में आई तितली रानी,भौरों कि भी अलग कहानी।।फूल खिले हर डाली-डाली,रूत भी है ये सुहानी।। कूँ - कूँ करती कोयल रानी,देखो आई बसन्त निराली।। प्रकृति की ये अलग कहानी,देखो आई ऋतुराज बसन्त निराली।।© य... Read more
clicks 344 View   Vote 0 Like   10:58am 4 Feb 2014 #प्रकृति
Blogger: yashvardhan srivastav
बात बड़ी है पुरानी,थी प्रकृति की भी कहानी।आज आपको भी है सुनानी,एक ज़माने में प्रकृति थी रानी।इस धरती पर उसका राज था,मानव पर उसे बड़ा विश्वास था। परन्तु अपने फायदे के लिए मानव,बन बैठा इस धरती का दानव।जंगलों का कर सफ़ाया,अपना घर है बनाया।इतना करके भी ना माना,पशु - पक्षिय... Read more
clicks 324 View   Vote 0 Like   4:00pm 12 Dec 2013 #प्रकृति
Blogger: yashvardhan srivastav
चित्र साभार : yashvardhan09.blogspot.inफूल खिले है डाली - डाली ।रुत है ये मतवाली ।।ये भी कहते कुछ गाकर ।हँसते - रोते मुस्कुराकर ।।कहते ये होकर दुखी ।हमे मत तोड़ो कभी ।।मत लो हमारे प्राण ।आखिर हम में भी है जान।।... Read more
clicks 463 View   Vote 0 Like   11:12am 7 Jul 2013 #फूल
Blogger: yashvardhan srivastav
देखो काले बादल आये ।नभ पर ये जमकर छाये ।।गरजकर , ये बिजली कड़काते ।संग में ये अपने वर्षा भी लाते ।।देखो काले बादल आये ।गर्मी को ये दूर भगाए ।।मौसम को भी खुशहाल ।खेतों में हरियाली फैलायें ।।देखो काले बादल आये ।बंजर को भी उपजाऊ बनाते ।।कहीं - कहीं पर ये बाढ़ भी लाते ।परन्त... Read more
clicks 486 View   Vote 0 Like   4:31pm 17 Jun 2013 #प्रकृति
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3991) कुल पोस्ट (194948)