POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: DAANAPAANI

Blogger: माधवी रंजना
केदारनाथ आने वाले बहुत से श्रद्धालु ऐसे हैं तो अहले सुबह पहुंचकर दर्शन करने के बाद लौट जाते हैं। पर ज्यादातर श्रद्धालु कम से कम एक रात यहां रुक कर वापस जाते हैं। कई लोग केदारधाम में ऱात्रि विश्राम को सौभाग्य मानते हैं। लगातार 21 बार से ज्यादा केदारनाथ की यात्रा कर चुके हमारे दिल्ली के साथी महेश कटारिया जी न... Read more
clicks 20 View   Vote 0 Like   6:46pm 26 May 2020 #Art & culture
Blogger: माधवी रंजना
केदारनाथ में साधुओं की अनूठी दुनिया ... Read more
clicks 30 View   Vote 0 Like   6:42pm 24 May 2020 #Art & culture
Blogger: माधवी रंजना
केदारनाथ पदयात्रा के पूरे मार्ग में आपको लघु भारत के दर्शन होते हैं। बाबा के दर्शन करने दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, बिहार, बंगाल हर जगह के लोग रास्ते में मिलते रहते हैं। इस बीच हमारी मुलकात चार युवाओं से हुई जो ऋषिकेश से हमारे साथ ... Read more
clicks 39 View   Vote 0 Like   6:30pm 20 May 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
केदारनाथ क्षेत्र में 2013 के 14-15 जून को आई भीषण आपदा में रामबाड़ा पूरी तरह तबाह हो गया। यहां पर जो भी घर और दुकानें बनीं थी, उसे मंदाकिनी नदी ने अपनी तीव्र धारा में समाहित कर लिया। रामबाड़ा में कुछ नहीं बचा। बड़ी संख्या में स्थानीय लोग कुछ मिनट में ही काल के गाल में समा गए। ह... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   6:30pm 17 May 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
बाबा केदार के मार्ग पर हमलोग जंगल चट्टी से आगे बढ़ चले हैं। रास्ते में कुछ लोग दर्शन करके लौटते हुए मिले। भोजपुरी में बातें करते ग्रामीण लोग। मैं भी उनसे अपनी मातृभाषा में बोल पड़ा। पता चला उनका घर नेपाल में बीरगंज से 20 किलोमीटर दूर गांव में है। नेपाल का तराई क्षेत्र भ... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   6:30pm 16 May 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
बाबा केदार के मार्ग पर हमलोग जंगल चट्टी से आगे बढ़ चले हैं। रास्ते में कुछ लोग दर्शन करके लौटते हुए मिले। भोजपुरी में बातें करते ग्रामीण लोग। मैं भी उनसे अपनी मातृभाषा में बोल पड़ा। पता चला उनका घर नेपाल में बीरगंज से 20 किलोमीटर दूर गांव में है। नेपाल का तराई क्षेत्र भ... Read more
clicks 13 View   Vote 0 Like   6:30pm 16 May 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
केदारनाथ के लिए पदयात्रा का मार्ग गौरी कुंड से आरंभ होता है। यह दूरी आजकल 16 किलोमीटर है। रामबाड़ा से अगर आप नए रास्ते से जाएं तो यह दूरी 18 किलोमीटर हो जाती है। साल 2013 में आई आपदा से पहले यह दूरी 14 किलोमीटर थी। पर रामबाड़ा के आसपास नए रास्ते के कारण दूरी में थोड़ा इजाफा हुआ ... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   6:30pm 14 May 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
अल सुबह गुप्त काशी में हमलोग आगे की यात्रा के लिए तैयार हो गए हैं। हमारे होटल की बालकोनी से सामने उखी मठ दिखाई दे रहा है। गुप्त काशी से उखीमठ ऊंचाई पर बसा हुआ है। इसलिए नीचे से पूरा शहर नजर आता है। सुबह-सुबह गुप्त काशी की सड़क सुहानी लग रही है। इस सड़क पर मुझे एक एंब... Read more
clicks 26 View   Vote 0 Like   6:30pm 12 May 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
गुप्त काशी रुद्र प्रयाग जिले का छोटा सा शहर है पर इसका बाजार बड़ा ही सुंदर है। गुप्त काशी उतरने के बाद हमारी पहली कोशिश थी रात में रुकने के लिए एक होटल ढूंढने की। छोटे से बाजार में यहां पर कई होटल हैं। आधे घंटे में हमने चार पांच होटल देख डाले। अभी सभी खाली पड़े हैं। इसलिए... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   6:30pm 10 May 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
रुद्र प्रयाग में बस आधे घंटे रुकने वाली थी। तो यहां हमलोग बस से उतर कर बाहर आ गए। यहां का बाजार गुलजार है। यहां से थोड़ी मिठाइयां, नमकीन और शीतल पेय आदि लिया फिर बस में बैठ गए। यहां बस थोड़ी खाली हो गई है। अब मुझे अगली पंक्ति में सीट मिल गई है। यहां से चलने पर हमारी बस रुद्... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   6:30pm 9 May 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
देव प्रयाग में हमारी बस पहले भागीरथी नदी के पुल का पार करती है फिर अलकनंदा नदी के पुल को पार कर नदी की धारा के दाहिनी तरफ बने सड़क पर आगे बढ़ने लगती है। देव प्रयाग से आगे हमलोग अलकनंदा नदी के साथ साथ चल रहे हैं। हिमालय क्षेत्र में कई नदियां गंगा में आकर मिलती हैं। पर अलकन... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   6:30pm 8 May 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
देव प्रयाग में हमारी बस पहले भागीरथी नदी के पुल का पार करती है फिर अलकनंदा नदी के पुल को पार कर नदी की धारा के दाहिनी तरफ बने सड़क पर आगे बढ़ने लगती है। देव प्रयाग से आगे हमलोग अलकनंदा नदी के साथ साथ चल रहे हैं। हिमालय क्षेत्र में कई नदियां गंगा में आकर मिलती हैं। पर अलकन... Read more
clicks 15 View   Vote 0 Like   6:30pm 7 May 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
महादेव शिव हैं वो, वह रामेश्वरम में समंदर के किनारे भी हैं। वह महाराष्ट्र के घने जंगलों में भीमाशंकर में भी हैं। वह गुजरात में समंदर के किनारे सोमनाथ में भी हैं। वह कश्मीर के अमरनाथ की गुफाओं में भी बसते हैं। वह हमारे गांव के शिवाले में भी रहते हैं। पर हम उसकी तलाश में... Read more
clicks 39 View   Vote 0 Like   6:30pm 4 May 2020 #UTTRAKHAND
Blogger: माधवी रंजना
अचानक एक स्टोर पर मेरी नजर पलाश के फूल से बने शरबत पर पड़ी। गर्मियों मे गुलाब, खस, बुरांश, ब्राह्मी, बेल  आदि के शरबत का सेवन तो मैं करता हूं पर पलाश के फूलों से बने शरबत को देखकर मैं चौक गया। मैंने तुरंत इसे खरीद लिया। इसे हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले पावंटा साहिब की एक क... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   6:30pm 2 May 2020 #JHARKHAND
Blogger: माधवी रंजना
मथुरा शहर में डैंपियर से आगे चलकर मैं पैदल पैदल होली गेट के आसपास पहुंच गया हूं। रास्ते में शहर का प्रमुख अस्पताल, धर्मशाला, गुरुद्वारा और खादी ग्रामोद्योग संघ का शोरुम दिखाई देता है। मैं पुराने मथुरा शहर में पहुंच गया हूं। होली गेट के आसपास पुराने मथुरा का प्रमुख बाज... Read more
clicks 10 View   Vote 0 Like   6:30pm 1 May 2020 #UTTAR PRADESH
Blogger: माधवी रंजना
सबसे पहले प्रथम पूज्य गणेश और उसके बाद मथुरा के संग्रहालय में मुझे एक से बढ़कर एक बेहतरीन मूर्तियां दिखाई देती हैं इनका प्राप्ति स्थल रटौल गांव लिखा है। ये रटौल गांव यूपी के बागपत जिले में है। पर यह गांव दिल्ली के काफी करीब है। पूर्वी दिल्ली के दिलशाद गार्डन से उत्तर ... Read more
clicks 13 View   Vote 0 Like   6:30pm 30 Apr 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
मथुरा की मूर्ति कला शैली का समय पहली शताब्दी से छठी शताब्दी के बीच का माना जाता है। इस दौरान यहां पर सनातन हिंदू देवी देवताओं, बौद्ध और जैन तीर्थंकरों की मूर्तियां बड़े पैमाने पर बनीं। कहा जाता है मथुरा के आसपास जो टीले मिलते हैं, वे वास्तव में उपासना स्थल और मूर्तिकला ... Read more
clicks 12 View   Vote 0 Like   6:30pm 29 Apr 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
मैं 1995 में दिल्ली आया और 1996 में पहली नौकरी शुरू की। उसी दौरान बांसुरी वादक राजेंद्र प्रसन्ना जी से मुलाकात हुई। बनारस घराने के बांसुरी वादक प्रसन्ना जी पूर्वी दिल्ली के पांडव नगर में रहते हैं। बडे ही सहज स्वभाव वाले प्रसन्ना जी से इस दौरान कई बार मिलना होता रहता है।दिल... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   6:30pm 17 Apr 2020 #UTTAR PRADESH
Blogger: माधवी रंजना
बरसाना के राधारानी मंदिर से निकलकर वापस आ गया हूं। पर पार्किंग के पास मुझे राधा कृष्ण का एक और विशाल मंदिर नजर आता है। मैं उसके पास चला जाता हूं। बरसाना में स्थित राधारानी के इस अति सुंदर मंदिर को कुशल बिहारी जी का मंदिर के नाम से जाना जाता है। इस विशाल मंदिर को राजस्था... Read more
clicks 46 View   Vote 0 Like   6:30pm 16 Apr 2020 #TEMPLE
Blogger: माधवी रंजना
कृति मंदिर के बाद में बरसाना के पुराने राधारानी मंदिर की तरफ चल पड़ा हूं। स्थानीय लोगों से रास्ता पूछता हूं। वे पूछते हैं कैसे जाना है पैदल या बाइक से। मैंने कहा बाइक से। दरअसल राधारानी का मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। वहां तक पहुंचने के लिए सीढ़ियों का रास्ता है। ... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   6:30pm 14 Apr 2020 #UTTAR PRADESH
Blogger: माधवी रंजना
नंदगांव से बरसाना की दूरी महज सात किलोमीटर है। थोड़ी देर में ही मुझे सड़क पर विशाल बोर्ड दिखाई दिया – बरसाना में आपका स्वागत है। बरसाना अपनी लठमार होली के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। बरसाना राधारानी का घर है। यह जगह प्रसिद्ध है राधारानी के मंदिर के लिए। मैं भी राधा... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   6:30pm 12 Apr 2020 #UTTAR PRADESH
Blogger: माधवी रंजना
नंदगांव की गलियां भली, कृष्ण चरणों की थापअपने माथे पर लगा, धन्यभाग भई आप।नंदगांव की महिमा को समझते हुए मंदिर से सीढियां उतर रहा हूं। इसी दौरान एक दुकानदार से बातचीत हुई। उनसे पता चला कि नंदगांव के मंदिर में दान के नाम पर किस तरह लूटपाट जारी है। ये दान की रकम सही जगह नहीं ... Read more
clicks 28 View   Vote 0 Like   6:30pm 10 Apr 2020 #
Blogger: माधवी रंजना
कोकिल वन से चलकर मैं नंदगांव चौराहे पर पहुंच गया हूं। एक स्थानीय व्यक्ति से नंदगांव मंदिर जाने का रास्ता पूछा। चौराहे से बायीं तरफ एक रास्ता जाता है। यह रास्ता बरसाना की ओर जा रहा है। यहां से गोवर्धन 28 किलोमीटर तो राजस्थान का शहर कामा 14 किलोमीटर है। मतलब हम राजस्थान की ... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   6:30pm 8 Apr 2020 #UTTAR PRADESH
Blogger: माधवी रंजना
कोसी कलां से मैं नंदगांव के रास्ते पर हूं। रास्ते में मील के पत्थरों को देख रहा हूं जो नंदगांव की दूरी को कम होता हुआ दिखा रहे हैं। सड़क के दोनों तरफ हरे भरे खेत हैं। इन्ही खेतों में कभी नंदबाबा की गायें चरती थीं। पर मुझे सड़क के दाहिनी तरफ एक विशाल प्रतिमा दिखाई देती है... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   6:30pm 6 Apr 2020 #UTTAR PRADESH
Blogger: माधवी रंजना
हाईवे पर जब आप अपने वाहन से चलते हैं तो इसका सबसे बड़ा लाभ है कि आप अपनी पसंद के किसी भी ढाबे पर चाय नास्ते या भोजन के लिए रुक सकते हैं। वरना बस से चलने पर जहां बस वाले का तय होता है वहीं पर वे रोकते हैं। कई बार इन ढाबों पर खाने पीने की दरें अनाप सनाप होती हैं। पलवल के बाद वेस... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   6:30pm 5 Apr 2020 #UTTAR PRADESH
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3956) कुल पोस्ट (193618)