POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: चैतन्यपूजा

Blogger: Mohini Puranik
चैतन्यपूजा की नई प्रस्तुति हाइकू मुक्त।  पंख नहीं  फिर भी; शब्द उड़ें  पंछी जैसे मुक्त ट्विटर: @chaitanyapuja_ Also In Other Languages: Marathi: Mukta    चैतन्यपूजा में अन्य कविताएं: एकत्व हमारा अटूट रिश्ता मीठी यादों में   चैतन्यपूजा में प्रकाशित होनेवाले नए आलेख और कविताएं अपने इनबॉक... Read more
clicks 328 View   Vote 0 Like   2:32pm 12 Feb 2019 #हायकू
Blogger: Mohini Puranik
प्रेम के दिव्यत्व की अनुभूति आध्यात्मिक होती है। एकत्व का यह भाव भौतिकता से परे होता है। प्रेम के एकत्व पर चैतन्यपूजा में नई कविता 'एकत्व हमारा'। इस कविता की प्रेरणा हमारे फोटोब्लॉग कृष्णमोहिनी पर पोस्ट किया डिजिटल पेंटिंग है।  इस पेंटिंग का विषय 'एकत्व - टुगेदरनेस' ... Read more
clicks 391 View   Vote 0 Like   11:39am 29 Dec 2018 #प्रेम
Blogger: Mohini Puranik
केवल हिंदी में विचारों की अभिव्यक्ति के लिए आरम्भ किये 'चैतन्यपूजा' ब्लॉग के आठ वर्ष पूर्ण हुए। इस आनंद का अनुभव 'अटूट रिश्ता' इस काव्य में बांधने का प्रयास आज किया है। मेरे गुरुदेव ने योगाभ्यास के लिए आवश्यक योग्यता, आचार-विचार की दृढ़ता ऐसे किसी भी निकषों का विचार कि... Read more
clicks 399 View   Vote 0 Like   8:50am 26 Nov 2018 #भक्ति
Blogger: Mohini Puranik
निराशा के अंधकार में डूबे हुए  मनों में आओ आशाओं के दीप जलाएं प्रकाश तो खुदमें ही था हमेशासे बुझे हर मनको आओ फिरसे बताएं मन जरा बुझा पर प्रकाश तो नहीं  अंधकार मात्र आभासी है  आशा लेकिन अमिट है  नई आशाओं का प्रकाश आज मिलकर  हर ओर फैलाएं आओ, आशाओं दीप आज जलाएं  चैतन... Read more
clicks 447 View   Vote 0 Like   12:27pm 7 Nov 2018 #कविता
Blogger: Mohini Puranik
नवरात्रोत्सव का उल्लास और उमंग हर ओर छायी हुई है। नवरात्रि में प्रतिदिन देवी मां की पूजा हम एक भिन्न रूप नौ दिनों तक करते हैं। इस नवरात्रि में जो परिदृश्य उभर कर सामने आ रहे हैं वह सबको चौंकानेवाले साबित हो रहे हैं। इनमें दूसरा जो परिदृश्य दिख रहा है उसमें श्रद्धावा... Read more
clicks 240 View   Vote 0 Like   7:42pm 13 Oct 2018 #नवरात्री
Blogger: Mohini Puranik
सदाही अशांत, अस्वस्थ, और चंचल रहनेवाले मन के लिए प्रेम जैसी कोई दूसरी औषधि नहीं हो सकती। प्यारकी मीठी यादों पर चैतन्यपूजा की नई प्रस्तुति, एक क्षणिका 'मीठी यादों में'   मनके भीतर गहरे मनमें  बसा मन सोचते हुुए रुक जाता है मीठी यादों में जब तुम्हारी  खुदको ही वह खो दे... Read more
clicks 391 View   Vote 0 Like   3:16am 30 Sep 2018 #क्षणिका
Blogger: Mohini Puranik
अटलप्रवाह ये कविता अटलजी को आदरांजली लिखने के प्रयास में बन गयी। गहरे शोक की इन भावनाओं लिखकर मैं शायद ठीक से समझ पाऊं इसलिए ये प्रयास। मैंने जो लिखने की कोशिश की है वह मेरी निजी भावनाएं हैं चाहे वह कविता 'अटलप्रवाह' हो या ये आलेख। मैंने नब्बे के दशक से राजनैतिक समाचार... Read more
clicks 403 View   Vote 0 Like   2:23pm 22 Aug 2018 #राजकीय
Blogger: Mohini Puranik
अटलजी के जाने से हर ओर शोक फैल गया। आज की प्रस्तुति अटलजी को समर्पित कुछ पंक्तियां उनकीही कविताओं की ऊर्जा से प्रेरित। एक सिसकी  सहमी सी चुपकेसे गिरी जो आपको देखा जाते कलम आज रो पड़ी, अटलजी! कलम आज रो पड़ी आज आपको जाते देखा  सृष्टि को शोक मनाते देखा  आंसुओं ने भर दिय... Read more
clicks 298 View   Vote 0 Like   7:17am 19 Aug 2018 #प्रेरणा
Blogger: Mohini Puranik
हिन्दू संस्कृति के अनुसार धार्मिक व्रत और ईश्वर की उपासना के लिए वर्ष का सबसे उत्तम समय चातुर्मास चल रहा है। इन चार पवित्र महीनों में विभिन्न व्रतों का पालन भगवान के भक्त कर रहे हैं। लगभग हर दिन, वार या तिथि को कोई ना कोई व्रत, उपवास, पूजा विशेष होते हैं। चातुर्मास क... Read more
clicks 412 View   Vote 0 Like   12:20pm 4 Aug 2018 #प्रार्थना
Blogger: Mohini Puranik
आजके समय में राजनीति में एक सकारात्मक बदलाव नजर आ रहा है। फकीर लोग झोला लेकर जनसामान्यों के नेता बन रहे हैं और अपने बढ़ते कार्य से जनता के जीवन में फकीरी का तोहफा ला रहे हैं। आपको शायद ये लगे कि एक दार्शनिक सन्त के लिए नेता बनना कोई मुश्किल काम नहीं होगा। आखिर जिसे संसा... Read more
clicks 228 View   Vote 0 Like   5:57am 27 Jun 2018 #व्यंग
Blogger: Mohini Puranik
आजके समय में राजनीति में एक सकारात्मक बदलाव नजर आ रहा है। फकीर लोग झोला लेकर जनसामान्यों के नेता बन रहे हैं और अपने बढ़ते कार्य से जनता के जीवन में फकीरी का तोहफा ला रहे हैं। आपको शायद ये लगे कि एक दार्शनिक सन्त के लिए नेता बनना कोई मुश्किल काम नहीं होगा। आखिर जिसे संसा... Read more
clicks 290 View   Vote 0 Like   5:57am 27 Jun 2018 #व्यंग
Blogger: Mohini Puranik
अप्रिल महिने में प्रतिदिन एक कविता ब्लॉग पर प्रकाशित करने का एक प्रयास किया था जो कि आप सबके प्रोत्साहन से यशस्वी भी रहा। वे कविताएं अंग्रेजी में हैं। उन्हीं में से एक कविता 'शैडोज' का हिंदी रूपांतरण आज की कविता 'छांव यादों की...' मुझे आशा है कि ये रूपांतरण भी आपको मूल क... Read more
clicks 232 View   Vote 0 Like   8:44am 13 Jun 2018 #भावस्पंदन
Blogger: Mohini Puranik
रात के साढ़े ग्यारह बजे हमारी बस मुंबई से धुले की ओर चल पड़ी । बस  धीरे धीरे शहर को छोड़कर हाईवे पर आते ही  अपनी रफ़्तार तेज करने लगी। दो दिन मुंबई की अपरिचित भाग दौड़ से छूटकर अपने शांत धुले की ओर मेरा मन बस के साथ साथ तेजी से चलने के बजाय अभी भी भगवान स्वामीनारायण के मंदिर में... Read more
clicks 265 View   Vote 0 Like   2:00pm 1 Mar 2018 #कृष्णमोहिनी
Blogger: Mohini Puranik
हृदय से कुछ पंक्तियां उठीं, "मनसे ही है सृष्टि मनसे ही है प्रलय मनमें विराजत काल, मुक्ति मनोलय" उनका अर्थ जिस तरह से ह्रदय में प्रकाशित हुआ वह 'मनन' इस आलेख में।  सृष्टि में जितने भी लोक -- पृथ्वी, स्वर्ग, नरक या इनके अलावा -- जितने भी लोक माने गए हैं सब मन के ही कारण हैं, उनक... Read more
clicks 287 View   Vote 0 Like   8:35am 24 Jan 2018 #अध्यात्म
Blogger: Mohini Puranik
अनुबन्ध विशिष्ट समयावधि के लिए किये जाते हैं। पर कुछ अनुबंध जीवनभर के लिए होते हैं। मेरा अनुबन्ध किसीके साथ जीवनभर के लिए हुआ है उसी जीवनानुबन्ध पर यह स्तोत्र। स्तोत्र भगवान की स्तुति में कहे, गाएं या लिखे गए हैं। आजका स्तोत्र चैतन्यपूजा को समर्पित है। चैतन्यपूजा क... Read more
clicks 291 View   Vote 0 Like   6:05am 24 Nov 2017 #भावस्पंदन
Blogger: Mohini Puranik
चैतन्यपूजा में महायोग पर प्रकाशित स्तोत्र 'श्वासयज्ञ' के अर्थ और भावों का चिंतन। शोक मोह सब छूट गए: सुख दुःखों से ही जीवन है। फिर भी कोई ये नहीं चाहेगा कि जिंदगी में शोक के प्रसंग से गुजरना पड़े। परंतु दुःख शोक को अनुभव करना ही न पड़े ऐसा शायद ही किसीका जीवन हो। महायोग सा... Read more
clicks 353 View   Vote 0 Like   3:30am 26 Oct 2017 #मनोलय
Blogger: Mohini Puranik
नवरात्रि के निमित्त महायोग साधनारूपी भगवती की आराधना और कृतज्ञता स्वरूप यह कविता लिखने का संकल्प था। पर जल्दी जल्दी में साधना पर स्तोत्र पूर्ण करने के प्रयास में साधना को ही समय ना दिया जाए तो यह विरोधाभास होता। स्तोत्र लिखने का सबसे बड़ा आनंद यह प्राप्त हुआ कि महाय... Read more
clicks 347 View   Vote 0 Like   3:30am 24 Oct 2017 #मनोलय
Blogger: Mohini Puranik
ख्वाब तुम्हारे हैं जिंदगी तुम्हारी है जीने की आस तुम हो मन की लगन तुम हो मंज़िल तुम हो मंजिल तक का रास्ता तुम हो हाथ थाम लो मेरा, तुम तक के इस सफर में साथी भी तुम ही हो राह में मुश्किलें आएं या आंधी तूफ़ां कोई डर नहीं अगर तुम हाथ थाम लो मेरा तुम हो सब कुछ मेरे, हर पल में, हर गम मे... Read more
clicks 265 View   Vote 0 Like   6:17am 4 Jun 2017 #प्रेम
Blogger: Mohini Puranik
दूर रहकर भी कितने पास लगते हो तुम पास होकर दिलके दूर फिर भी क्यों लगते हो तुम? साथ होकर भी मेरे क्यों जुदा से लगते हो तुम? खामोश से रहकर भी सब कुछ कैसे कहते हो तुम? इस दर्द की दवा क्या हो की फासले मिट जाए पलभर में इन दूरियों का अंत अब हो की फासलों की दीवार टूट जाये एक पलमें सा... Read more
clicks 301 View   Vote 0 Like   11:23am 29 Apr 2017 #प्रेम
Blogger: Mohini Puranik
इम्तिहान जब जब लेते हो मेरे इश्क का इश्क हो जाता है तेरे इम्तिहान से भी और कैसे बयां करूँ इस खुशी को मेरे खुदा आखिर इम्तिहान के लिए तो तू मुझसे मिला हर दुआ कबूल कर ली मेरी तूने उसी पल जबसे इम्तिहान-ए-इश्क के लिए है मुझे चुना चैतन्यपूजा में अन्य कविताएं: एक रूह दुआ... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   9:37am 14 Apr 2017 #भक्ति
Blogger: Mohini Puranik
इम्तिहान जब जब लेते हो मेरे इश्क का इश्क हो जाता है तेरे इम्तिहान से भी और कैसे बयां करूँ इस खुशी को मेरे खुदा आखिर इम्तिहान के लिए तो तू मुझसे मिला हर दुआ कबूल कर ली मेरी तूने उसी पल जबसे इम्तिहान-ए-इश्क के लिए है मुझे चुना ... Read more
clicks 292 View   Vote 0 Like   9:37am 14 Apr 2017 #भक्ति
Blogger: Mohini Puranik
आयत की तरह पढ़ते हैं हर लफ्ज़ तुम्हारा इबादत ए इश्क़ तुम्हारा है मजहब हमारा पाकीज़गी आपके रूह की इबादत हमारी हम आइना बन गए हैं जिसमें तस्वीर है तुम्हारी ... Read more
clicks 282 View   Vote 0 Like   4:01pm 5 Apr 2017 #प्रेम
Blogger: Mohini Puranik
क्या हमारी रूह अलग अलग है? अगर है, तो बताओ तुम्हारी कौनसी और मेरी कौनसी? क्या अंतर हैं उनमें? क्या रूह का रूप अलग होता है, या रंग, या नाम? इस आग में ये कौन जल रहा है वो रूह किसकी है जलकर भी कौन जी रहा है मरकर भी कौन जी रहा है वो रूह किसकी है वो अनसुनी सिसकी वो किस रूह की है तुम्हा... Read more
clicks 321 View   Vote 0 Like   2:54pm 9 Mar 2017 #प्रेम
Blogger: Mohini Puranik
महाशिवरात्रि के पावन पर्व निमित्त सदा योगसाधना में रमे भगवान शिव को समर्पित प्रार्थना। संत ज्ञानेश्वर ने लिखा है कि आज भी भगवान शिव स्वयं भगवान होकर भी साधना पथ पर चल रहे हैं। मनमंदिर में बसे प्रभु तुम अब कौनसे मंदिर मैं जाऊं बिल्वपत्र नहीं पूजा में भावपुष्प पूजा ... Read more
clicks 222 View   Vote 0 Like   5:49am 24 Feb 2017 #
Blogger: Mohini Puranik
२०१६ के अंत में काफिया पोएट्री द्वारा सुझाए 'साल'  विषय पर लिखी कुछ काव्य पंखुडियां साल यूंही गुजर गया उनसे मिले बिना हाल अपना बिगड़ता रहा उनसे मिले बिना ~~o~~ चाहत को सालों में कैसे गिने प्यार को समय में कैसे बांधे ~~o~~ साल बदल जाएगा ये मौसम बदल जाएगा और आजका इंतजार भी क... Read more
clicks 207 View   Vote 0 Like   3:09pm 29 Dec 2016 #कविता
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194358)