POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: मालवी जाजम

Blogger: narharipatel
मालवा की संस्कृति और परम्परा के सपूत दादा श्रीनिवासजी जोशी मालवी गद्य के प्रथम साहित्यकार हैं। उन्होंने जीवनपर्यंत शब्द की साधना की। श्रीनिवासजी की स्मृति में प्रतिवर्ष दिया जाने वाला सम्मान इस बार मालवा के इतिहास और पुरातत्व के उद्‌भट दस्तावेज़कार डॉ. श्यामसुंदर... Read more
clicks 213 View   Vote 0 Like   4:32am 7 Apr 2012 #श्रीनिवास जोशी
Blogger: narharipatel
सबती पेला तो आपके विक्रम संवत का नवा वरस (२०६९) की दिल ती बधई. मालवा की संस्कृति और विरासत में महाराज विक्रमादित्य,महाकवि कालीदास,चम्बल-सिपरा,भृतहरि-पिंगला,रघुनाथ बाबा,डॉ.शिवमंगल सिंह सुमन,डॉ.श्याम परमार,पं.कुमार गंधर्व,पन्नालालजी नायाब ,सिध्देश्वर सेन,आनंदराव दुबे,... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   3:29am 23 Mar 2012 #नईदुनिया
Blogger: narharipatel
एक चिट्ठी अन्नाजी का नाम:अन्ना बा सा. आपये रामलीला पे अनशन करी के सरकार के चेतई दियो हे. लोग पूछी रिया हे कि यो करिश्मो कसतर वई ग्यो. तो वणाने नगे कोनी कि यो देश संताँ का पाछे चाल्यो हे. वेंडा लोग यूँ भी के हे कि अन्ना बा के कोई इनाम/इकराम चैये वेगा.म्हें क्यो बापू अन्ना बा व... Read more
clicks 165 View   Vote 0 Like   8:18am 30 Aug 2011 #गणेश वंदन
Blogger: narharipatel
जीवन की खुशी की पासबुक:नवा जमाना का दो छोरा छोरी को ब्याव वियो.छोरी की माँ ये बिदई में एक नवा बैंक खाता की पास बुक दी ने हजार रिपया जमा करई दिया. बेटी के ताकीद कई कि या म्हारी आड़ी ती नवा लाड़ा-लाड़ी वाए नेगचार हे. जद भी थाँकी जिन्दगी कोई खुसखबर आवे,जतरा वई सके पईसा जमई करई सको.... Read more
clicks 141 View   Vote 0 Like   5:55am 23 Aug 2011 #मालवी
Blogger: narharipatel
मालवा की सरसत माता शालिनी जीजीजणी दन पेम-पट्टी लई के भणवा-लिखवा को पेलो दन वे वणीज दन मालवा की एक बड़ी शख्सियत पद्मश्री शालिनी ताई मोघे बैकुंठ वास सिधारिग्या. सौ कम दो का शालिनीजीजी म्हाणा मालवा का सरसत मात था.कम पईसा लई के अच्छी शिक्षा घर घर में कसतर पोंचे अणी वाते जीजी ... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   2:54pm 7 Jul 2011 #नईदुनिया
Blogger: narharipatel
मच्छु चाचा की मोटर:मुकाम : गाँव सैलाना(जिलो:रतलाम) मोटर इश्टैण्ड पे एक म्होटी मोटर ऊबी है. मोटर को माडल पुराना जमानो को डॉज हे. आज जसतर टेम्पो ट्रेवलर आवे हे वतरी मोटी.गाड़ी का मालिक और ड्रायवर हे मच्छु चाचा. दानाबूढ़ा,बच्चा-बच्ची हगरा वणाने मच्छु चाचा के हे.मच्छु चाचा बरा... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   6:06am 28 Jun 2011 #नईदुनिया
Blogger: narharipatel
पेरीन काकी म्हें थाँके साते हाँ:होमी दाजी मजदूराँ वाते जो कर्यो हे ऊ कणी री पावती रो मोहताज कोनी. एक जमानो थो के पं.नेहरू दाजी री बात के तवज्जो देता था. आज दाजी म्हाँका बीच कोनी ने वणाकी जीवन-सखी पेरीन दाजी भण्डारी मिल रा पुल रो नाम दाजी पे वे असी मांग करी री हे. म्हें आखा म... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   2:45pm 8 Jun 2011 #नईदुनिया
Blogger: narharipatel
कोरी वाताँ ती कई नीं वेगो:आपका लाड़का पाना नईदुनिया की मिजवानी में अण्णा हजारे का अनसन का बाद आम आदमी के कई करणो चईजे,अणी वाते एक कार्यक्रम को आयोजन रख्यो थो. नरा मनख आया;पण म्हारी जिम्मेदारी कई वई सके अणी को पे म्हारो बेटो कोई नी बोल्यों.हगरा लोग राजनेता-अफ़सर असा हे ; वसा ... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   4:12am 3 May 2011 #धुर में लट्ठ
Blogger: narharipatel
हजारे बा तमने आख्याँ खोली दी !यो डोकरो रोटी-पाणी छोड़ी के देस की सरकार के हिलई देगा एसो अदाज तो नी थो.अस्सी का उप्पर जई के असो जोस ! भारी करी हजारे बा.तमारो यो अनसन म्हाँकी आख्याँ खोली ग्यो हे. पिछला हफ़्ता में पान की घुमटी,चौराया,ओटला,चाय का ठिया पे एक कीज नाम चल्यो …अण्णा हज... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   9:47am 1 May 2011 #इन्दौर
Blogger: narharipatel
देश का प्रमुख हिन्दी दैनिक और मालवा का शब्द-प्रहरी नईदुनिया मालवी की बड़ी नेक ख़िदमत कर रहा है.प्रत्येक सोमवार को थोड़ी घणी शीर्षक के स्तंभ में मालवी-निमाड़ी रचनाओं का प्रकाशन नियमित रूप से होता है.थोड़ी-घणी के ज़रिये कई नये लिखने वालों को अपनी बात कहने का मंच मिला है और ख़ास... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   7:58am 16 Jan 2011 #नईदुनिया
Blogger: narharipatel
लोकप्रिय हिन्दी दैनिक नईदुनिया में पिछले दिनों श्री राजेश भण्डारी का लिखा एक लेख प्रकाशित हुआ जिसमें मालवी को राजभाषा बनाए जाने की ठोस दलील दी गई है.मालवी अनुरागियों के लिये यह लेख नईदुनियासे साभार और श्री भण्डारी को इस मुद्दे को उठाने के लिये मालवी-जाजम की ओर से हार... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   3:07pm 31 Dec 2010 #मालवा.
Blogger: narharipatel
सब हिल-मिलआज खेलो होरीअध-बूढ़ा ने बूढ़ा-आड़ाबण ग्या है छोरा-छोरीगेंद-गुलाबी रूप लजीलीमान करे क्यूं ए गोरीफ़ागण तो रंगरेज हठीलोरंग दियो अंगो और चोलीबिरहण ऊबी पीहर कँवरेमन में भरम भर्यो भोरी(भाव:बिरहन अपने प्रीतम से दूर मायके में हैऔर उसके मन में कई भोली भ्रम भरे हुए हैं)रं... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   6:18am 1 Mar 2010 #मेरे गीत.
Blogger: narharipatel
आप सभी को होली की राम-रामलोक पर्वों का मज़ा ग्रामीण अंचलों में कुछ अलग ही रंगत के साथ मौजूद है.जैसी होली मैंने अपने मालवा के गाँवों में देखी है;खेली है वैसी बात अब शहरों में नज़र नहीं आती. मेरी बोली मालवी में राजस्थानी और गुजराती भाषा का वैभव बड़ी मधुरता के साथ आ समाया है .बर... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   8:15am 28 Feb 2010 #मालवी गीत
Blogger: narharipatel
वी दूध रो दूध ने पाणी सो पाणी करे हेवणाती(उनसे) अणी वाते,हगरा(सभी)मनक(मनुष्य)डरे हेगरीब लोगाँरी हालत तो घणी खराब हेवी रोज कूडो(कुँआ)खोदे,रोज पाणी पिये हेगूँगा,बेरा ने चालवाती(चलने से)मोताज झाडका(पेड़)पाणी वना(बिना)हूकी ने (सूख कर)वणा रा पाना झड़े हेदन दाड़की करे,वी बिचारा एक ... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   7:31am 21 Nov 2009 #मालवी जाजम
Blogger: narharipatel
बोली की अपनी ख़ूबसूरती है. हालाकि भाषा पंडित बोली सेथोड़े नाराज़ ही रहते हैं . अपने अपने अंचल में बोली का अपना विन्यास,मुहावरे,लहजा और कहन है.मालवी भी इससे अछूती नहीं है. आलम ये है कि इन्दौर, उज्जैन,रतलाम,धारया मंदसौर (तक़रीबन २०० कि.मी के रेडियस में)मालवी अंदाज़ बदल जाता है.रत... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   2:49pm 30 Apr 2008 #
Blogger: narharipatel
जाने माने मालवी लोक-गीत गायक श्री रामअवतार अखण्ड को सन 2008का भेराजी सम्मान दिया जा रहा है। उज्जैन में 18 अप्रैल को आयोजितएक भव्य समारोह में अखंडजी इस सम्मान से नवाज़े जाएंगे।अभी तक इस सम्मान से बालकवि बैरागी,नरहरि पटेल,नरेन्द्रसिंह तोमर,आनन्दरावदुबे,भावसार बा,प्यारेला... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   2:37pm 17 Apr 2008 #
Blogger: narharipatel
मालवी माच में केवल मनोरंजन नहीं है, इसमें लोकरंजन है।मनोरंजन तो केवल मन रंजन करता है और वह केवल मन को रास आता है। मनोरंजन तो बदलता रहता है, व्यक्ति की मानसिक स्थिति के अनुसार और इसीलिए वह अपनी-अपनी रूचि से बनता-बिगड़ता भी है। इसमें केवल आमोद, प्रमोद, विनोद और वैयक्तिक मनो... Read more
clicks 152 View   Vote 0 Like   3:19am 9 Apr 2008 #
Blogger: narharipatel
रे मनवा रंग तन रंग मनहोली लाई रंग गुलाल।प्रीत को काजल आँख में आँजोकारा कारा मन ने चॉंदी सा मॉंजोपाताला में गाढ़ी दो मलालहेत को मंदर कितरो बड़ो हैअंदर जीके सांवरो खड़ो हैश्रम के आगे हार्यो कालभूख गरीबी को कीचड़ कारोकई नी है थारो ने कई नी है म्हारोझूठा है सब जंजालएक ऊचो एक न... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   4:18pm 20 Mar 2008 #
Blogger: narharipatel
जमानो नीं बदलेगालुगई रोज रिसावेलाड़ी पाणी नीं बचावेतेंदूलकर रन नीं बनावेछोरो घरे नीं आवेछोरी सासरे नीं जावेमाड़साब सबक नीं करावेटाबरा भणवा नीं जावेनेता झूठी कसम खावेअखबार सॉंच छुपावेहेडसाब थाणा में खावेभई-भई रोज कुटावेबेसुरो नाम कमावेमालवी बोलता नीं आवेजमाना के ... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   3:18pm 13 Mar 2008 #
Blogger: narharipatel
भारत के पश्चिम मध्यप्रदेश में विन्ध्य की तलहटी में जो पठार है उसे कम से कम दो हज़ार वर्षों से मालव (मालवा) कहा जा रहा है। यहॉं के लोग भाषा और पोषाक से कहीं भी पहचान में आते रहे। मौसम की यहॉं सदा कृपा रही है। इसीलिए सदा सुकाल के सुरक्षित क्षेत्र के रूप में इसकी सर्वत्र मान्... Read more
clicks 179 View   Vote 0 Like   11:51am 5 Mar 2008 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3991) कुल पोस्ट (195025)