POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: poetry

Blogger: Sanjay Grover at saMVAD-JUNCTIon...
ग़ज़लअपनी तरह का जब भी उन्हें माफ़िया मिलाबोले उछलके देखो कैसा काफ़िया मिलाफ़िर नस्ल-वर्ण-दल्ले हैं इंसान पे काबिज़यूँ जंगली शहर में मुझे हाशिया मिलामुझतक कब उनके शहर में आती थी ढंग से डाकयां ख़बर तक न मिल सकी, वां डाकिया मिलाजब मेरे जामे-मय में मिलाया सभी ने ज़ह्रतो तू भी ... Read more
clicks 11 View   Vote 0 Like   6:33pm 17 Feb 2020 #poetry
Blogger: Shah Nawaz at प्रेमरस...
पर्यावरण की रक्षा पर दिल्ली ने दम दिखलाया है। बदलाव बड़ा लाने हेतु #OddEven अपनाया है। गर आज नहीं कोशिश होगी तो भविष्य तबाह हो जाएगा। आने वाली पीढ़ी को यह कर्ज़ा आज चुकाया है। जो कहते हैं कुछ नहीं होता, उन्हें दिल्ली राह दिखाएगी। आओ देखो दुनिया वालो बदलाव यहाँ पर आया है। सेहत वाली सांसों का सपना दिल्ली ने देखा है। प्रदुषण से बचने का अब गीत नया यह गाया है। -शाहनवाज़ सिद्दिक़ी "साहिल"... Read more
clicks 28 View   Vote 0 Like   4:37am 4 Nov 2019 #Poetry
Blogger: Sudha Singh at मेरी जुबानी : ...
बिखरते रिश्ते हे शीर्षस्थ घर के मेरेलखो तो टूट टूटकर सारे मोतीयहाँ वहाँ पर बिखर रहे कोई अपने रूप पर मर मिटा है स्वयंकिसी को हो गया परम ज्ञानी होने का भ्रम किसी को अकड़ है कि उसका रंग कितना खिला है किसी को बेमतलब का सबसे गिला है न जाने सबको कैसा कैसा द... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   6:45pm 29 Jun 2019 #poetry
Blogger: Sanjay Grover at saMVAdGhar संवादघर...
ग़ज़लमैं भी प्यार ‘जताऊं’ क्याझूठों में मिल जाऊं क्या15-03-2019जिस दिनकोई नहीं होताउस दिन घर पर आऊं क्याजीवन बड़ा कठिन है रेफिर जीकर दिखलाऊं क्याइकला हूं मैं बचपन से कहो भीड़ बन जाऊं क्याजब खाता तब खाता हूंतुमको कुछ मंगवाऊं क्याजो-जो मैंने काम किएतुमको भी दिखलाऊं क्यामै... Read more
clicks 133 View   Vote 0 Like   5:09pm 14 Apr 2019 #poetry
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
Discover Jaunpur (English ), Jaunpur Photo Albumहमारा  जौनपुर (Hindi) , Jaunpur Azadari Admin and Founder S.M.MasoomCont:9452060283 (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   4:07pm 12 Nov 2018 #poetry
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
Discover Jaunpur (English ), Jaunpur Photo Albumहमारा  जौनपुर (Hindi) , Jaunpur Azadari Admin and Founder S.M.MasoomCont:9452060283 (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); ... Read more
clicks 63 View   Vote 0 Like   4:07pm 12 Nov 2018 #poetry
Blogger: Rector Kathuria at पंजाब स्क्री...
पहली नवम्बर को पंजाब दिवस पर विशेष काव्य रचनाअपना पंजाब अब पंजाब कहां रह गया!साज़िशों की बाढ़ में पंजाब सारा बह गया। कहीं है हिमाचल, कहीं हरियाणा रह गया;अपना पंजाब अब पंजाब कहां रह गया। खेत मिट रहे हैं-खतरे में बाग़ है। मक्की की रोटी कहां सरसों का साग है?भे... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   6:30pm 31 Oct 2018 #Poetry
Blogger: Sanjay Grover at saMVAdGhar संवादघर...
ग़ज़लआसमानों से दूर रहता हूंबेईमानों से दूर रहता हूंवो जो मिल-जुलके बेईमानी करेंख़ानदानों से दूर रहता हूंअसलियत को जो छुपाना चाहेंउन फ़सानों से दूर रहता हूंहुक़्म उदूली करुं,नहीं चाहताहुक़्मरानों से दूर रहता हूंमुझमें सच्चाईयों के कांटें हैंबाग़वानों से दूर रहता ह... Read more
clicks 204 View   Vote 0 Like   4:25pm 4 Jan 2018 #poetry
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
उत्तर भारतीय खासकर पूर्वी लोकगीतों में पूरी पूरी सामजिक व्यवस्था के दर्शन होते है। जब  भाई अपनी बहन के घर जाता है, तो बहन अपना दुख बता लेने के बाद भाई से कहती है, 'ये दुख किसी से मत कहना। ये दुख माँ से मत कहना, वह रोएगी,पिताजी से भी न कहना वो भी रोयेंगे। ये सारे दुख अगुआ से ... Read more
clicks 168 View   Vote 0 Like   12:14pm 9 Oct 2017 #poetry
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); पीले कनेर के फूल असाढ़ की बारिश भीगी हुयी गंध। जी करता है,अंजुरी भर भर पी लूँ गीली खुशबुओं वाली भाप। और चुका दूँ सारी किश्तें चक्रवृद्धि ब्याज सी बरस दर बरस बढ़ती प्यास की।चूर चूर झर रहीचंद्रमा की धूल, कुरुंजि के फूलों पे कच्ची पगडंडियो... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   1:18pm 8 Jul 2017 #poetry
Blogger: Bal Sajag at बाल सजग...
"होली"होली आई होली आई ,रंगों की बरसात लाई |तरह तरह के रंग लाई,होली के रंग मुझको भाई |पिचकारी से जब निकली होली,ऐसा लगा बन्दूक से निकली गोली |सुबह भूलो ,शाम को भूलो,पर होली में रंग लगाना न भूलो |बाल कवि: अजय कुमार,  कक्षा 2nd, कानपुर अजय (Ajay) "अपना घर"परिवार के सदस्य है। ये बिहार ... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   5:03pm 20 Mar 2017 #poetry
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); पीले कनेर के फूल असाढ़ की बारिश भीगी हुयी गंध। जी करता है,अंजुरी भर भर पी लूँ गीली खुशबुओं वाली भाप। और चुका दूँ सारी किश्तें चक्रवृद्धि ब्याज सी बरस दर बरस बढ़ती प्यास की।चूर चूर झर रहीचंद्रमा की धूल, कुरुंजि के फूलों पे कच्ची पगडंडियो... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   3:22am 28 Feb 2017 #poetry
Blogger: somnath chaturvedi at बदनाम शायर...
गर्मी-ए-हसरत-ए-नाकाम से जल जाते हैंहम चरागों की तरह शाम से जल जाते हैंबच निकलते हैं अगर अतीह-ए-सय्याद से हमशोला-ए-आतिश-ए-गुलफाम से जल जाते हैंखुदनुमाई तो नहीं शेवा-ए-अरबाब-ए-वफ़ाजिन को जलना हो वो आराम से जल जाते हैंशमा जिस आग में जलती है नुमाइश क लिएहम उसी आग में गुमनाम से ... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   5:13pm 17 Dec 2016 #poetry
Blogger: somnath chaturvedi at बदनाम शायर...
मार ही डाल मुझे चश्म-ए-अदा से पहलेअपनी मंजिल को पहुँच जाऊँगा कज़ा से पहलेइक नज़र देख लूं आ जाओ कज़ा से पहलेतुम से मिलने की तमन्ना है खुदा से पहलेहश्र के रोज़  मैं पूछूंगा खुदा से पहलेतूने रोका नहीं क्यों मुझको खता से पहलेऐ मेरी मौत ठहर उनको जरा आने देजहर का जाम न दे मुझको दव... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   4:12pm 15 Nov 2016 #poetry
Blogger: Amit Agarwal at Safarnaamaa... सफ़रना...
Black swarmsOf golden beesAssailed me and forgot I didn’t use cell phoneTo help them proliferate..When I duckedUnderwaterTo save my lifeThe sharp coralNever knewI worked toConserve them too!Images from GoogleLinked to: Poets United... Read more
clicks 163 View   Vote 0 Like   6:15am 9 Jun 2016 #poetry
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); ग्रीटिंग कार्ड वाला जमाना भी क्या ज़माना था। तेरे खुशबू से भरे खत मैं जलाता कैसेमन किशन सरोज हुआ जा रहा.....कर दिए लो आज गंगा में प्रवाहितसब तुम्हारे पत्र, सारे चित्र, तुम निश्चिन्त रहनाधुंध डूबी घाटियों के इंद्रधनु तुमछू गए नत भाल पर्वत हो गया मनबूं... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   7:06pm 22 Dec 2015 #poetry
Blogger: Amit Agarwal at Safarnaamaa... सफ़रना...
Love is in the airBut so is smogAnd dust and noise and CO2Meaningless campaignsDull cartoons Blunt advicesObscene jokes Political warsPierce through eyes, ears, noseOh give me a breakIn silence let me meditate.... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   7:28am 1 Dec 2015 #poetry
Blogger: Amit Agarwal at Safarnaamaa... सफ़रना...
So what if the clouds are grey The shining stars shimmer through,A distant violin weepsIn the eerie silence..A spotless white buck sitsOn the nose of a pitch dark boarAnd devours burning charcoal..Birds are shivering of the icy riverAnd a crocodile swims in my hot soup..Some pages of a half burnt bookFlutter in my hollow vacuumStigmata!... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   3:13pm 29 Nov 2015 #poetry
Blogger: दिनेशराय द्विवेदी at अनवरत...
सहसमुखी विषधर जब कोईजमना जल पर काबिज हो लेउधर पड़े ना पाँव किसी काजमना तट वीराना हो लेबच्चे खेलें जा कर तट परभय न उन को कोई सताएखेल खेल में गेंद उछलेसीधी जमना जल में जाएतब बालक कोई जा कूदेजमना में हलचल मच जाएलगे झपटने विषधर उस परनटखट बालक हाथ न आएगाँव गाँव के सब नर नारी... Read more
clicks 254 View   Vote 0 Like   9:13am 5 Sep 2015 #poetry
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
मानसून की पहली बारिश ....रात भर बूंदे झरती रहीं ...पानी का झर्रा बालकनी से कमरे में जानबूझ कर आ रहा था ...सावन की आहट ... एक कजरी का लिखना तो तय था ..ये अलग धुन में तैयार किया है ...आनंद लीजियेगा ... #लागि झूमि झूमि बरसे बदरिया,आए ना संवरिया ना। कारी कारी घटा छाई चारउ ओर अन्हराईचारउ ओ... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   8:01am 25 Jun 2015 #poetry
Blogger: Sanjay Grover at saMVAD-JUNCTIon...
तीन ताज़ा व्यंग्य-कविताएं1.यह इतिहास कौन है !?यह क्या किसी मचान पर बैठा है दूरबीन लगा कर !?झांक रहा है लोगों के घरों में, रोशनदानों से, दरारों से, झिर्रियों से !?यह आनेवाली पीढ़ियों को लोगों की सच्चाई बताएगा !?हा हा हा! यह उन लोगों की सच्चाई बताएगा जिन्हें ख़ुद अपनी सच्चाई नहीं ... Read more
clicks 356 View   Vote 0 Like   8:44am 5 May 2015 #poetry
Blogger: Manish Purohit at Musings of a Wandering Heart. . ....
Source: Google Images***The customs and practices of the world are such that these, at times, forbid the union of two loving hearts…the love binds them together but the customs tears them apart. These verses represent the agony of the tearing heart who wants to defy the rules of the world to create a world for themselves ***When you have no light to guide youAnd no one to walk beside youI’ll come to you O’ dearI’ll come for you O’ dearWhen all your hopes are turning despairWhen there is nobody with you to careI’ll become your insightIf you give me this rightWhen nobody is ready to hear youWhen the breeze is blowing against youI’ll be there to bear youI’ll be there to cheer yo... Read more
clicks 162 View   Vote 0 Like   12:30pm 26 Dec 2014 #Poetry
Blogger: Manish Purohit at Musings of a Wandering Heart. . ....
Source: Google Images***Each one of us has that one soul around us that gives us support and strength to go ahead in life. That invisible and silent support is always there irrespective whether life is going through its spring or autumn. These verses try to acknowledge the presence of that spirit which exists in all spheres of the life***Nor are you restricted to my feelingNeither are you restrained to my dreamingBut in every sphere of my lifeI find you existing.. I find you existing..When I am lost not knowing where to goWhen I am sad & there’s nothing more to showWhen my own so close seems to drift apartWhen everything that’s mine gradually departPresence of thine spirit gives me e... Read more
clicks 175 View   Vote 0 Like   5:09pm 20 Nov 2014 #Poetry
Blogger: Manish Purohit at Musings of a Wandering Heart. . ....
Source: Google Images***Life is all about the admixture of hope and despair…it is a rose which has that fragrance so divine and also has those thorns which prick so hard. It’s all about holding that string of hope even during the hours of despair. Those who get drowned in the clouds of despair find it hard to rise while those who stay ignited prevail all through...Cause in the end Life is like that only…***World is a stageLife is a dramaFull of Puppets, Heroes and BuffoonsArtists, Directors and ClownsWho act their partWho play their rolesSome think out of the boxWhile some roam like robotsRoaming on their own wayRoaming on their own pathRoaming with a desire to achieveRoaming towards a... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   2:16pm 8 Nov 2014 #Poetry
Blogger: Manish Purohit at Musings of a Wandering Heart. . ....
Source: Google Images***God created this beautiful world & human drew lines across it and created territorial Borders. Whenever there is a firing or war at the border the people on the either side of the fence suffer & are killed and along-with them their loved ones, their dreams and their aspirations are also destroyed. In the end whosoever wins but the people on either side of the border lose. These verses represent the pain and anguish of a soul (who is wounded in the firing and is on a deathbed) on seeing the mass destruction caused by the firing at the border******ईश्वरनेयहख़ूबसूरतजहांबनायाऔरइंसाननेलकीर... Read more
clicks 242 View   Vote 0 Like   6:57am 2 Nov 2014 #Poetry
[Prev Page] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3938) कुल पोस्ट (194971)