POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: poem

Blogger: Basudeo Agarwal at Nayekavi...
हरिगीतिका छंद "भैया दूज" है मास कार्तिक दूज है तिथि, मग्न बहनें चाव से। भाई बहन का पर्व प्यारा, वे मनायें भाव से। फूली समातीं नहिं बहन सब, पाँव भू पर नहिं पड़ें। लटकन लगायें घर सजायें, द्वार पर तोरण जड़ें। कर याद वीरा को बहन सब, नाच गायें झूम के। स्वादिष्ट भोजन फिर पका के, बाट जोहें घूम के। करतीं तिलक लेतीं बलैयाँ, अंक में भर लें कभी। बहनें खिलातीं भ्रात खाते, भेंट फिर देते सभी। बासुदेव अग्रवाल नमन तिनसुकिया ... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   5:15am 29 Oct 2019 #Poem
Blogger: Shah Nawaz at प्रेमरस...
आज के मौजूं पर अदम गोंडवी साहब की कुछ मेरी पसंदीदा ग़ज़लें: आँख पर पट्टी रहे और अक़्ल पर ताला रहे अपने शाहे-वक़्त का यूँ मर्तबा आला रहे तालिबे शोहरत हैं कैसे भी मिले मिलती रहे आए दिन अख़बार में प्रतिभूति घोटाला रहे एक जनसेवक को दुनिया में अदम क्या चाहिए चार छ: चमचे रहें माइक रहे माला रहे - अदम गोंडवी हिन्‍दू या मुस्लिम के अहसासात को मत छेड़िए अपनी कुरसी के लिए जज्‍बात को मत छेड़िए हममें कोई हूण, कोई शक, कोई मंगोल है दफ़्न है जो बात, अब उस बात को मत छेड़िए ग़र ग़लतियाँ बाबर की थी; जुम्‍मन का घर फिर क्‍यों जले ऐसे नाज़ुक वक़्त में हालात को मत छेड़िए हैं कहाँ हि... Read more
clicks 59 View   Vote 0 Like   10:28am 13 Oct 2019 #Poem
Blogger: Shah Nawaz at प्रेमरस...
यह तो है कि मैं यहाँ तन्हा नहीं तुझसे भी तो पर कोई रिश्ता नहीं तिश्नगी तो है मयस्सर आपकी जुस्तजू दिल में मगर रखता नहीं साज़िशों से जिसकी हों ना यारियां आज कोई भी बशर मिलता नहीं नफरतें इस दौर का तोहफा हुईं दिल किसी का भी यहाँ दुखता नहीं बन गया है मुल्क का जो हुक्मरां ज़ालिमों के साथ वो लड़ता नहीं इश्क़ जिससे हो गया इक बार जो रिश्ता दिल में फिर कभी मरता नहीं फूल के जैसा ही है मासूम यह टूटा दिल भी फिर कभी जुड़ता नहीं खुद को हल्का रख गुनाहों से ज़रा तूफाँ में घर एक भी बचता नहीं ... Read more
clicks 75 View   Vote 0 Like   4:32am 7 Oct 2019 #Poem
Blogger: Shah Nawaz at प्रेमरस...
आज के मौजूं पर अदम गोंडवी साहब की कुछ मेरी पसंदीदा ग़ज़लें: आँख पर पट्टी रहे और अक़्ल पर ताला रहे अपने शाहे-वक़्त का यूँ मर्तबा आला रहे तालिबे शोहरत हैं कैसे भी मिले मिलती रहे आए दिन अख़बार में प्रतिभूति घोटाला रहे एक जनसेवक को दुनिया में अदम क्या चाहिए चार छ: चमचे रहें माइक रहे माला रहे - अदम गोंडवी... Read more
clicks 115 View   Vote 0 Like   9:37am 29 May 2019 #poem
Blogger: PAWAN KUMAR at My Journey...
Blank Dairy -----------------How I pass time in spare moments, is it full use or just time passIn this life people do amazingly, I have not much reflected yet.Office duty hours are same for all; but limitation in personal useWhat I do when free, enough time available for self-development.Much song is embedded in, but not coming out because of inactivityReading poetry couplets or some book & posting a few is what I do.What BIGGEST can think for self, often docile in before sleep-hoursWhy don’t achieve cherished goals, projects in hand not completed.Just one rejection or turn down & sitting silently, how will move aheadPublish Kalidasa work immediately, besides Kadambari typing ... Read more
clicks 133 View   Vote 0 Like   3:48pm 18 May 2019 #Poem
Blogger: Sanjay Grover at saMVAD-JUNCTIon...
ग़ज़लबाहर से ठहरा दिखता हूँ भीतर हरदम चलता हूँइक रोशन लम्हे की खातिर सदियों-सदियों जलता हूँआवाज़ों में ढूँढोगे तो मुझको कभी न पाओगेसन्नाटे को सुन पाओ तो मैं हर घर में मिलता हूँदौरे-नफरत के साए में प्यार करें वो लोग भी हैंजिनके बीच में जाकर लगता मैं आकाश से उतरा हूँकित... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   6:04pm 16 Apr 2019 #poem
Blogger: Sanjay Grover at पागलखाना PAAGAL-KHA...
ग़ज़लये तो हारा हुआ घराना हैइस ज़माने को क्या हराना हैये तो बचपन से मैंने देखा हैये ज़माना भी क्या ज़माना हैवक़्त से दोस्ती करो कैसेवक़्त का क्या कोई ठिकाना हैसच का हुलिया ज़रा बयान करोसच को सच से मुझे मिलाना हैसचके बारे में झूठ क्या बोलूंसच भी झूठों के काम आना हैसचसे बच्च... Read more
clicks 141 View   Vote 0 Like   11:31pm 25 Mar 2019 #poem
Blogger: PAWAN KUMAR at My Journey...
Leveller World--------------------World is an amazing apparatus, encompasses many realms in Being a great equalizer, slowly soothes hard agonies of times.All good-bad happens around always, we're mere mute spectators Unable to react realizing much beyond, remain in tight situations. Then we are not expressive, just meditate what best can be done Sometimes frustrate, over-react, but that is counter-productive.But 2 great virtues patience & courage lead to face adversities Optimism that can tread difficulty & no situation is permanent. If good days always don’t remain with, bad ones will also pass Time’s wheel experiences all types; beequanimous in all situations.No situation ... Read more
clicks 133 View   Vote 0 Like   8:03pm 16 Feb 2019 #Poem
Blogger: Sanjay Grover at saMVAD-JUNCTIon...
बह गया मैं भावनाओं में कोई ऐसा मिलाफिर महक आई हवाओं में कोई ऐसा मिलाहमको बीमारी भली लगने लगी, ऐसा भी थादर्द मीठा-सा दवाओं में कोई ऐसा मिलाखो गए थे मेरे जो वो सारे सुर वापस मिलेएक सुर उसकी सदाओं में कोई ऐसा मिलापाके खोना खोके पाना खेल जैसा हो गयालुत्फ़ जीने की सज़ाओं में ... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   1:40pm 2 Feb 2019 #poem
Blogger: Amit Agarwal at Safarnaamaa... सफ़रना...
O my LordPlease grant me  Some prolongation No, I’m not afraid of deathAnd definitely wish toSubmerge forever in The silent reliefOf your cool comfortBut still Just for a little while moreLet me experience this Heartless callous worldSo thatI don’t feel likeComing here again!                   Linked to: Poets United... Read more
clicks 131 View   Vote 0 Like   6:14pm 21 Nov 2018 #poem
Blogger: PAWAN KUMAR at My Journey...
Challenging Limitations--------------------------------What we need to do to bring out best from our inner depthsPearls are laid in deep inside, not fully benefiting from them.We've wealth but unable to utilize, spending ability is freedomHaving knowledge but not sharing, results in dying natural death.Some resources definitely are given, but how do we realize themSome external or in-built in thoughts, both quite complimentary.All have blessed wealth by almighty, may be of one type or otherFew self-worked hard to strength & enhance whatever little had.In first instance self-help is best, just make up your mind to excelNone can be in your shoes; wake up & self-win world’s ... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   2:48pm 26 Aug 2018 #Poem
Blogger: PAWAN KUMAR at My Journey...
Noble Call---------------How does world reverberate around, how do I react in that?All times have pros & cons, but adjustment is main concern.World passes through good & bad, present also sees all aspects Large - spread enormous, divided in many states & nationalities. Several ruling systems in vogue, yes more traces of democracy But few don’t lose tyrannical tentacles, see many despots around.Nobles gave good ruling systems, but from below humanity cries Rulers often work for business elites, who in exchange nurture them.Rich become more riches, wealth & power accumulate in few hands Election are just intermittent events, otherwise rulers roost world.Rulers think world as ... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   12:14pm 12 Aug 2018 #Poem
Blogger: PAWAN KUMAR at My Journey...
Debate Culture --------------------People are of often fixed beliefs, have no time & energy to questionEvent is just an almighty’s act, and all should unhesitatingly accept. What is this fixity in populations, questioning is always discouraged Son can't question father’s conduct, even if family is handled inaptly.We just believe in sayings of forefathers, or written in holy books, and questioning makes us non-conformists, being strongly snubbed.We should encourage healthy discussions, many thoughts surfaceDebates on all issues should happen for checking all pros & cons.A democratic decision is always good, and nobody feels the losingEmphasis should be on ... Read more
clicks 101 View   Vote 0 Like   1:44pm 22 Jul 2018 #Poem
Blogger: PAWAN KUMAR at My Journey...
Encouraging Richness-----------------------------How to become financially free; let us meditate on the subjectPeople become wealthy over period, many just hand to mouth.Birth with rich parents not in own hand, a God-given or situationalIf already on strong foundation, one starts erecting superstructure.Learning from family background is easy, faster in an environmentHe picks habits of rich near-dears; success got with a bit seriousness.Definitely it says for incumbent, born with silver spoon in mouthNew born in Birla family could not be same rich, if had born poor.One can say it is luck only, but many things are found in set orderYou are to just start from already cozy state & simply st... Read more
clicks 108 View   Vote 0 Like   7:42pm 8 Jul 2018 #Poem
Blogger: PAWAN KUMAR at My Journey...
Creativity Lessons-----------------------Creativity - an excellent quality, if we involve self, can rise to great heights Generally sui-generic, intentionally-evoked, efforts make possible motions.What is this creativity, how & in what pursuits a person involves self How much interest is taken in affairs, deeply diving into mind’s layers. Enormous thirst for precious nectar, but self-tryst, not disturbing othersOne’s own play-field, action constantly required, self-directed for cause.If one is a creative, he can evolve into like Michaelengo or da VinciAlways in dialogue with self, some big purpose in mind to act upon. Requires no directions from others, own thirst is more than anythi... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   2:21pm 4 Jun 2018 #Poem
Blogger: Sanjay Grover at saMVAdGhar संवादघर...
गज़ल                                                                                                          सुबह देर तक सोने काआज का दिन था रोने का             09-05-2017मिला वक़्त जब सोने कावक़्त था सुबह होने कामाफ़िया कह ले पागल ... Read more
clicks 323 View   Vote 0 Like   9:24am 12 Jan 2018 #poem
Blogger: दिनेशराय द्विवेदी at अनवरत...
कविताकिस का कसूर दिनेशराय द्विवेदी जब कोई अस्पतालमरीज के मर जाने पर भीचार दिनों तक वेंटिलेटर लगाकरलाखों रुपए वसूल लेता हैतब किसी डॉक्टर का कोई कसूर नहीं होता।कसूर होता है अस्पताल काजिसमें कारपोरेट प्रबंधन होता हैबैंकों से उधार ली गई वित्तीय पूंजी लगी होती है,औ... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   1:47am 5 Dec 2017 #Poem
Blogger: rambilas garg at खबरी और गप्पी...
एक समय आएगाजबकोई सवाल नहीं पूछा जायेगा,क्योंकिसारे सवाल खत्म हो चुके होंगेतब तुमहकलाते हुए,थूक निगलते हुएवो जवाब देने की कोशिश करोगेजोतुम्हारे पास कभी नहीं था। ... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   4:49pm 15 Nov 2017 #poem
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); रिमझिम रिमझिम घन घिर अइहो मोरी जमुना जुड़इहें ना। मद्धिम मद्धिम जल बरसइहो मोरी जमुना अघइहें ना।  कदम के नीचे श्याम खड़े हैं मुरली अधर लगाये  बंसिया बाज रही बृंदाबनमधुबन सुध बिसराये हौले हौले पवन चलइहो मोरी जमुना लहरिहें  ना।&n... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   2:49am 2 Jun 2017 #poem
Blogger: PANKAJ DUDHORIA at Upashak Pankaj Dudhoria 09339514474...
हे महायोगी, हे दिव्य पुरुषशब्दों बाँधु कैसे हे महापुरुष।विनम्रता, तत्परता, गुरु के प्रति समर्पणमेरे महाप्रज्ञ प्रभु का जीवन जैसे दर्पण।।प्रेक्षाप्रणेता ने दिया प्रेक्षा ध्यान अनमोलसाहित्य सृजन कर दिया खजाना खोल।।शांति का तुमने सदा ही था पाठ पढ़ायामानव को तुमने स... Read more
clicks 152 View   Vote 0 Like   8:11am 22 Apr 2017 #Poem
Blogger: Sudheer Maurya at कलम से.....
ओ मेरी सुघड़ देवि !मैं कामना करता हूँ कि तुम लौट आओ मेरी ज़िन्दगी में और बचा लो मेरी बची हुई उम्र को शापित होने से। ओ मेरी सुघड़ देवि !मैं दुआ मांगता हूँ सोते - जागते हर घडी कभी अपने तो कभी तुम्हारे देवताओं से कि वो भेज दें तुम्हे मेरे संग उस राह पे जिसक... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   4:55pm 31 Mar 2017 #Poem
Blogger: Dr.Divya Srivastava at ZEAL...
मानव ने उसको मार कर फेंक दियावीरान से एक गंदे पड़े मैदान मेंफिर भी लाश ज़िंदा थी, जीना चाहती थी दिल ने धड़कना नहीं बंद कियागिद्ध नोच नोच कर उसे खाते ..मानव हर सुबह उसको देखने आताअवन्तिका के बहते आंसू औरमांस से रिस्ता खून , उसके बेचैन मन कोदो पल का सुकून दे देते और वो लौट जात... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   4:26am 28 Jan 2017 #Poem
Blogger: दिनेशराय द्विवेदी at अनवरत...
कविता____________ दिनेशराय द्विवेदीअहा!वह सिकुड़ने लगालोग उसे आश्चर्य से देख रहे हैंवे भी जो अब तकउसे सिर पर उठाए हुए थेकुछ लोग तलाश रहे हैंकहाँ से पंक्चर हुआ हैवे पकड़ करउसे तालाब के पानी मेंडूबोना चाहते हैंदेख सकें कि हवानिकल कहाँ से रही हैवह तालाब में घुस ही नहीं रहा हैस... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   3:37am 21 Nov 2016 #Poem
Blogger: pradeep singh beedawat at चेतना के स्वर...
प्रदीप है नित कर्म पथ परफिर अंधेरों से क्यों डरें!हम हैं जिसने अंधेरे काकाफिला रोका सदा,राह चलते आपदा काजलजला रोका सदा,जब जुगत करते रहे हमदीप-बाती के लिए,जलते रहे विपद क्षण मेंसंकट सब अनदेखा किए|प्रदीप हम हैं जोतम से सदा लड़ते रहे,हम पुजारी, प्रिय हमें हैज्योति की आर... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   4:33pm 29 Oct 2016 #poem
Blogger: समीर लाल at उड़न तश्तरी .......
जब मैं तुम्हारी घुप्प चुप्पी सेपरिशां होकर चुप हो जाता हूँतब मेरी चुप्पी चुपचाप आकरमुझे यूँ चुपचाप रहने से रोकये समझा कर सिहर जाती हैकि चुप्पी से कुछ हासिल नहींकुछ कहो ..यूँ चुपचाप न सहोबेआस लहरों का साहिल नहींचुपचाप रह जाना तो एक औरनई घुप्प चुप्पी का आगाज हैये सहनशी... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   1:23am 18 May 2016 #poem
[Prev Page] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3938) कुल पोस्ट (194970)