POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: हृदय

Blogger: Anita nihalani at मन पाए विश्रा...
ऐसी हो अपनी पूजा लक्ष्य परम, हो मन समर्पित  हृदयासन पर वही प्रतिष्ठित !शांतिवेदी, ज्ञानाग्नि प्रज्वलितभावना लौ, प्रेम पुष्प अर्पित ! पुलक जगे अंतर, उर प्रकम्पित सहज समाधि, अश्रुधार अंकित ! छंटें कुहासे, करें ज्योति अर्जित आनंद प्रसाद पा, बीज प्रस्फुटित !मिले समाधान, लाल... Read more
clicks 37 View   Vote 0 Like   8:11am 26 Apr 2013 #हृदय
Blogger: veena sethi at बात एक अनकही ...
ललक---सकारात्मक--नकारात्मक भी..."ललक " ऐसा शब्द है जो बोलने के साथ ही अपने अर्थ का एहसास करा देता है.कोई वास्तु जो मन को भाती हो और जिसे  देखते ही या उसका नाम लेते ही मन में  उसे पाने की चाहत जाग  जाये  "ललक" है.बच्चा चाँद को देखकर उसे अपने हाथों  में लेने ले लिए मचल जाया ... Read more
clicks 132 View   Vote 0 Like   1:39pm 18 Dec 2012 #हृदय
Blogger: Anita nihalani at एक जीवन एक कह...
फिरबदली छाई है आज, बस दो दिन धूप निकली, ठंड भी कितनी बढ़ गयी है. कल शाम वह थोड़ी देर के लिये उदास हो गयी थी फिर सोनू की किसी बात पर हँसी तो बस... जैसे सारी उदासी छंट गयी. उसे थोड़ा सा प्यार करो तो कैसा खुश हो जाता है, नन्हा फरिश्ता ही तो है वह उसका, कितनी प्यारी-प्यारी बातें करता ... Read more
clicks 283 View   Vote 0 Like   5:36am 7 Sep 2012 #हृदय
Blogger: sushil kumar at शब्द सक्रिय ह...
इसपन आकर मुझेइलहाम हुआ किहृदय भी एक हाथ था मेराअरसे से मेरी पीठ से बँधा फ़िजूल बंधनों से नधा हृदय हां, अब भीएक हाथ है मेरामुझ आँख के अंधे की      लाठीइस अंधेर दुनिया के भटकन में और देखो, वहबुला रहा है मुझेऔर तुम्हें भी उसकी आवाज़ गौ़र से सुनोइस तन-तंबूरे मेंकह रहा है कोईस... Read more
clicks 110 View   Vote 0 Like   4:18am 28 Jul 2012 #हृदय
Blogger: rajneesh at रजनीश का ब्लॉ...
करती है हर चीज़अपनी अवस्था मेंरहने का प्रयासकोशिश वजूद बनाए रखने कीप्रेम में रहने से हृदय प्रेममय ही रहेगाहोती है चलने की गतिलगते हुए बल की समानुपातीजितनी होगी ढलानउतना ही तेज उतरती गाड़ीअपनापन बढ़ाओ प्रेम भी बढ़ेगाऊर्जा अमर हैउसका मान है स्थिरकर नहीं सकते उसेख़... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   1:58am 3 Mar 2012 #हृदय
Blogger: विजय राज बली माथुर at क्रांति स्वर...
27/02/2012 हिंदुस्तान लखनऊमानव शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है -दिल-हृदय -हार्ट। दिल का मुख्य कार्य है सम्पूर्ण शरीर मे शुद्ध रक्त का संचरण बनाए रखना। यह बहुत ही नाजुक अंग है और बड़ी जल्दी इस पर दुष्प्रभाव पड़ जाता है। दिल बड़ा ही दयालू होता है जिस पर रहम आ जाये उस पर जान भी न्योछ... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   12:43pm 28 Feb 2012 #हृदय
Blogger: rajneesh at रजनीश का ब्लॉ...
तुम्हें देख सकता  हूँ तुम्हें सुन सकता हूँ महसूस कर सकता हूँ तुम्हें तुम्हें छू सकता हूँ तुम्हें बसा सकता हूँ दिल में पर समझ नहीं सकता तुम्हें तुम्हें जान नहीं सकता पूरा क्यूंकि कभी हृदय आड़े आता है या फिर कभी ये मस्तिष्क कुछ  सीमाएं हैं मेरी भी समझ की कुछ तुम हो अव... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   4:40pm 16 Jan 2012 #हृदय
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4001) कुल पोस्ट (191772)