POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: साहित्य

Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
श्रियः कुरूणामधिपस्य पालनीं  प्रजासु वृत्तिं यमयुंक्त वेदितुम्।स वणिर्लिङ्गी विदितः समाययौ युधिष्ठिरं द्वैतवने वनेचरः॥१॥ अन्वयः-कुरूणाम् अधिपस्य श्रियः पालनीं प्रजासु वृत्तिं वेदितुं यम् अयुंक्त वर्णिलिङ्गी सः वनेचरः विदितः ( सन् ) द्वैतवने युधिष्... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   7:15am 16 Aug 2020 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
इमेज-गूगल से साभार''इतनीमहंगी साड़ी लेने की तुम्हारी हैसियत हैं क्या? क्या तुम्हारे माँ-बाप ने लेकर दिए थे तुम्हें कभी इतने महंगे कपड़े?''साड़ी की किंमत 4000 रुपए देख कर प्रदीप ने उपेक्षा से शिल्पा से कहा। मॉल में बारिश की सेल में दोनों खरेदी करने आएं थे। वास्तव में प्रदीप क... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   3:44am 1 Sep 2019 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
होली रंगों का त्यौहार हैंं। होली का त्यौहार अब इतना प्रसिद्ध हो चुका है कि यह त्यौहार केवल भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी लोकप्रिय होता जा रहा है। होली के उपलक्ष्य में 'आपकी सहेली'होली की 15 शुभकामनाएं शेयर कर रहीं हैं और वो भी इमेज के साथ ताकि आप अपने परिवारजनों ... Read more
clicks 99 View   Vote 0 Like   4:33am 19 Mar 2019 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
कार्तिक माह की कृष्ण चंद्रोदय चतुर्थी के दिन पत्नियाँ अपने अखंड सौभाग्य की कामना और अपने पति की दीर्घायु के लिए करवा चौथ karwa chauth का व्रत करती हैं। करवा-चौथका व्रत रखते वक्त पत्नी के मन में एक सुखद एहसास रहता है कि मैंने मेरे पति के लिए व्रत रखा है और पति को मानसिक समाधान म... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   2:57am 20 Oct 2018 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
भाद्रपदमास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को गणेश जी के जन्म दिन के उत्सव के रुप में गणेश चतुर्थी का त्योहार मनाया जाता हैं। गणेश चतुर्थी का यह शुभ त्योहार महाराष्ट्र, गोवा, केरल और तमिलनाडु सहित कई राज्यों में काफी जोश के साथ मनाया जाता है। इसलिए इस अवसर पर 'आपकी सहेली'लाई ह... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   3:00am 7 Sep 2018 #साहित्य
Blogger: लिली मित्रा at मेरी अभिव्यक...
                       (चित्राभार इंटरनेट)शिव समसाहित्य मेरा,शान्त,स्निग्ध,सौम्य,सुन्दरलीन है अभीध्यान योग में,भावनाएं मेरीगौरी सम,चाहतीहैं उसे जागृत करनाशिव समसाहित्य मेरा,,,,,,उसे समर्पितकरनाचाहती हूँतपस्या मेरी,,कर अर्पित मेरीसंवेदनाओं केबेलपत्र,शब्द... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   8:19am 24 Nov 2017 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
दिपावलीके इस पावन पर्व पर अपने सभी रिश्तेदारों, शुभचिंतकों और दोस्तों को दिपावली बधाई संदेश भेजिए हिंदी में...! इन संदेशों में से जो आपको सबसे ज्यादा अच्छा लगे, वह"आपकी सहेली"ने खासकर आपको व्यक्तिगत रुप से भेजा है...!(2)(3)(4)(5)(6)(7)(8)(9)(10)(11) दोस्तो, इन बधाई संदेशों में से आपने अपने ... Read more
clicks 444 View   Vote 0 Like   7:05am 23 Oct 2016 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
                           बचपनकी कुछ घटनाएँ ऐसी होती है, जो उनके अनोखेपन के कारण ताउम्र याद रहती है। उनमें से ही एक घटना तब की है, जब मैं चौथी कक्षा में थी। एक दिन मैं अपनी सहेलियों के साथ 'रोटी-पानी ' (खाना बनाने का खेल) खेल रही थी। मेरे पास खाना बनाने के लिए बहुत ... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   1:30am 1 Nov 2015 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
दोस्तों, पेश है मेरे पसंदीदा जोक्स। शायद ये सभी आपको नए न लगे।लेकिन कुछ अच्छे ज़रुर लगेंगे। और कुछ हसाएंगे भी। 'आपकी सहेली' कीयह छोटी सी कोशिश है आपको हँसाने की।  • रात में कौन आया?एक छोटीलड़की ने अपनी दादी से पूछा,"दादी माँ, रोज़ रात को हमारे घर एक आदमी और एक औ... Read more
clicks 103 View   Vote 0 Like   1:30am 11 Oct 2015 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
                          वाक़यातब का है, जब मैं दस-बारह साल पहले सपरिवार मुंबई घुमने गई थी। हमें बोरीवली से एस्सेलवर्ड जाने के लिए एक झील नाव से पार करनी थी। हम एक होटल के बाज़ू से ही नाव में बैठे। नाव वाले ने कहा कि यदि आप दोनों तरफ का किराया एक साथ देंग... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   1:30am 27 Sep 2015 #साहित्य
Blogger: Muhammad Zakariya khan at PointedByZaki...
"तू वही बोल जो मैं बोलना और सुनना चाहता हूँ,तुझे कोई हक़ नहीं है की तू अपने हिसाब से बोले। याद रख मै  वही सुनुँगा जो मुझे पसंद है!"                 कुछ एस यही माहौल है न आजकल? किसी को हिंदी पसंद नहीं तो किसी को उर्दू और इंग्लिश पसंद नहीं! कोई भोजपुरी और मैथिलि सुनकर ... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   1:35pm 17 Sep 2015 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
शिल्पा,एक निहायत ही अमीर घर की महिला ने अपने काम वाली बाई को दोपहर चार बजे फ़ोन किया। फ़ोन उसके पति ने रिसीव किया, "मैडम, वो अभी सो रही है। उठने के बाद बात करने बोलता हूँ।" शाम छ: बजे काम वाली बाई का फ़ोन आया, "मैडम, आपका फ़ोन आया तब मैं सोई हुई थी। अब बताइये क्या बात है?… "शिल्... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   1:30am 9 Aug 2015 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
शिल्पा,एक निहायत ही अमीर घर की महिला ने अपने काम वाली बाई को दोपहर चार बजे फ़ोन किया। फ़ोन उसके पति ने रिसीव किया, "मैडम, वो अभी सो रही है। उठने के बाद बात करने बोलता हूँ।" शाम छ: बजे काम वाली बाई का फ़ोन आया, "मैडम, आपका फ़ोन आया तब मैं सोई हुई थी। अब बताइये क्या बात है?… "शिल्... Read more
clicks 84 View   Vote 0 Like   1:30am 9 Aug 2015 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
दोस्तो, पेश है मेरे पसंदीदा जोक्स। शायद ये सभी आपको नए न लगे।लेकिन कुछ अच्छे जरूर लगेंगे। और कुछ हसाएंगे भी। 'आपकी सहेली' कीयह छोटी सी कोशिश है आपको हँसाने की।  1) दादाजी की कहानी एक टोपी बेचने वाला पेड़ के नीचे आराम कर रहा था। कुछ बंदर उसकी टोपियां उठाकर ... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   1:30am 3 May 2015 #साहित्य
Blogger: jyoti dehliwal at आपकी सहेली ज्...
दोस्तो, पेश है मेरे पसंदीदा जोक्स। शायद ये सभी आपको नए न लगे।लेकिन कुछ अच्छे जरूर लगेंगे। और कुछ हसाएंगे भी। 'आपकी सहेली' कीयह छोटी सी कोशिश है आपको हँसाने की।  1) दादाजी की कहानी एक टोपी बेचने वाला पेड़ के नीचे आराम कर रहा था। कुछ बंदर उसकी टोपियां उठ... Read more
clicks 89 View   Vote 0 Like   1:30am 3 May 2015 #साहित्य
Blogger: kanpurbloggers at कानपुर ब्लोग...
इस पोस्ट को पलाश पर भी आज शेयर किया है, किन्तु कानपुर के बारे में बात हो और काबा पर इसकी चर्चा ना हो कुछ अधूरा सा लगता है, सो यहाँ पर भी लिखने का एक मात्र उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा पाठ्कों को कानपुर के साहित्य की विशेषता से परिचित कराना है कानपुर का कनपुरिया, जिसकी पहचान... Read more
clicks 186 View   Vote 0 Like   4:08pm 15 Sep 2014 #साहित्य
Blogger: Dr. Kavita Vachaknavee at वागर्थ...
जाने कब से दहक रहे हैं .... कविता वाचक्नवी वर्ष 1998 में नागार्जुन की 'हमारा पगलवा' पढ़ते हुए एक अंश पर मन अटक गया था - "बाप रे बाप, इस... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   12:19am 18 Aug 2013 #साहित्य
Blogger: RADHAKRISHNA MIRIYALA at राधाकृष्ण मि...
हिंदी-तेलुगु तुलनात्मक व्याकरण एवं आदर्श अध्यापक के गुण पर व्याख्यान संपन्नहैदराबाद 16अप्रैल 2013            हिंदी प्रचारक प्रशिक्षण महाविद्यालय,दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा-आन्ध्र हैदराबाद के तत्वावधान में 16अप्रैल 2013को हिंदी-तेलुगु तुलनात्मक व्याकर... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   7:12pm 12 Aug 2013 #साहित्य
Blogger: www.sarasach.com at Sarasach.com...
मांग करने लायककुछ नहीं बचामेरे अंदरना ख्याल , ना हीकोई जज्बातबस ख़ामोशी हैहर तरफ अथाह ख़ामोशीवो शांत हैंवहाँ ऊपरआकाश के मौन मेंफिर भी आंधी, बारिशधूप ,छाँव  मेंअहसास करता हैखुद के होने काउसके होने पर भीनहीं सुन पाती मैंवो मौन ध्वनिआँधी में उड़तेउन पत्तों में भी नहीं... Read more
clicks 293 View   Vote 0 Like   8:47am 1 Jul 2013 #साहित्य
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
कालजयी साहित्य दे, चलते बने फकीर।नहीं डॉक्टर बन सके, तुलसी, सूर-कबीर।१।आगे जिसके नाम के, लगा डॉक्टर होय।साहित्य के नाम पर, समझो उसे गिलोय।२।छन्दशास्त्र का है नहीं, जिनको कुछ भी ज्ञान।वो कविता के क्षेत्र में, पा जाते सम्मान।३।लिखकर के आलेख को, अनुच्छेद में बाँट।हींग लग... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   12:20pm 30 Jun 2013 #साहित्य
Blogger: www.sarasach.com at Sarasach.com...
तू क्या हैं /?? क्या होना चाहता था अभी !इंसान के बोलने से पहले इश्वर खेल खेल गया~~कैसे तेल का दिया जलाऊ अपने आँगन मेंउनके घर का तो चिराग ही बुझ गया~~अभी तक सिर्फ पठारों में जीते थे हमअब तो सीने पर ही पत्थर रख दिया~~रोती हुए आवाज़े सिसकियो मैं बदल रही हैंलोग कहते हैं उसने अब सब्... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   3:08pm 28 Jun 2013 #साहित्य
Blogger: www.sarasach.com at Sarasach.com...
आवाज़ जोधरती से आकाश तकसुनी नहीं जातीवो अंतहीन मौन आवाज़हवा के साथ पत्तियोंकी सरसराहट मेंबस महसूस होती हैपर्वतों को लांघकरसीमाएं पार कर जाती हैंउस पर चर्चायें की जाती हैंपर रात के सन्नाटे मेंवो आवाज़ सुनी नहीं जातीदबा दी जाती हैसुबह होने परघायल परिंदे कीअंतिम सा... Read more
clicks 245 View   Vote 0 Like   10:00am 26 Jun 2013 #साहित्य
Blogger: www.sarasach.com at Sarasach.com...
तुम स्त्री हो!माँ !तुम दुनिया की सबसे सुंदर स्त्री होऔर तुमसे ही मैं हूँयह मैंने कब कहालेकिन फिर भी पत्नी ने सुन लियाहे मेरी प्राण प्रिये!दिल से कहते -सुनते हुए भीमुखर होयह मैंने कब कहाकिसी अपरिणीता कोलेकिन फिर भी माँ ने सुन लियाहे स्त्री!इसी तरह बेटी ,बहिन ,बहू,दादी ,बु... Read more
clicks 265 View   Vote 0 Like   12:19pm 21 Jun 2013 #साहित्य
Blogger: www.sarasach.com at Sarasach.com...
यारों इस बरसतो गर्मी खूब हैइसी लिए अपनेदिमागी की बत्तीएकदम फ्यूज हैकशमकश मेंअपनी ज़िन्दगी हैदिल का करेंवो भी कन्फूज हैकनेक्ट करने कीजो कोशिश कीहर कनेक्शन काफ्यूज भी लूज़ हैआलम अब तोज़िन्दगी का जे है कीअपनों के साथ भीडिस-कनेक्शनहो रहा हैकहीं भी कुछ भीक्लिक नहीं हो ... Read more
clicks 244 View   Vote 0 Like   11:30am 20 Jun 2013 #साहित्य
Blogger: www.sarasach.com at Sarasach.com...
 एक छाँव का छाता                        कड़ी धूप से बचाताएक प्रबल सबल                       प्राय: दोनो हाथ लुटाताएक पर्वत अचल                       अडिग साहस जगाताएक चमकीला सूर्य                       रोशनी का अंबार लगाताएक अनंत आकाश                       ऊँचाई की राह बताताएक कठोर शिला                       नाजुक क्षणो... Read more
clicks 252 View   Vote 0 Like   12:21pm 17 Jun 2013 #साहित्य
[Prev Page] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4010) कुल पोस्ट (192062)