POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: संस्कृत

Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
हाल में नव-निर्वाचित लोकसभा सदस्यों के शपथ-समारोह में देखने को मिला कि हिंदी और संस्कृत में शपथ लेने वालों की संख्या बढ़ रही है और अंग्रेज़ी में शपथ लेने वालों की संख्या कम हो रही है। सन 2014 में जहाँ 114 सदस्यों ने अंग्रेज़ी में शपथ ली, वहीं इसबार 54 ने। सन 2014 में संस्कृत में श... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   6:21am 1 Jul 2019 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
            संस्कृत का स्वरूप और भेद अक्सर लोग आकर कहते हैं- मैं संस्कृत पढ़ना चाहता हूं। मैं पूछता हूं - आप संस्कृत क्यों पढ़ना चाहते हैं? उनका उत्तर होता है ताकि मैं हिंदू धर्म ग्रंथों को पढ़ सकूँ। लोग कहते हैं मुझे प्राचीन ज्ञान विज्ञान को जानने की उत्सुकता है- जैसे गीता,... Read more
clicks 211 View   Vote 0 Like   3:10pm 4 Mar 2017 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
मित्राणि              Me on facebook      भवन्तः संस्कृतसर्जना ई-पत्रिकायाः सदस्यता स्वीकृतवन्तः इति प्रमोदावहम्। अत्र भवन्तोपि स्व-स्वलेखं प्रदाय पुष्कलविचारेण पत्रिकामिमां पूरयन्तु। मित्राणि अनेकाः पत्रिकाः धनेनैव क्रेतुं शक्यन्ते परन्तु संस्कृतस्य सम्वर्धनं भवतु इत... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   10:49am 26 Jul 2016 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
गाण्डीवम् सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय                                                  हरि प्रसाद अधिकारी वाराणसी-221002  Sanskrit_griham@yahoo.in संस्कृत भवितव्यम् संस्कृत भवनम् 2 पश्चिम उच्च न्यायालय मार्गः,                             चन्द्रगुप्त वर्णेकर नागपुरम्-440001... Read more
clicks 209 View   Vote 0 Like   9:58am 20 Aug 2015 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान के पुस्तकालय प्रकल्प की ओर से सद्यः प्रकाश्यमान संस्कृत ई. पत्रिका में आपकी रचनाएँ प्रकाशनार्थ सादर आमन्त्रित हैं। इसके नामकरण हेतु  कुछ सुझाव प्राप्त हुये हैं। पत्रिका के संचालनार्थ उसके तकनीकी पहलुओं तथा स्वरूप निर्धारित किये जा च... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   9:25am 13 Dec 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
   संस्कृत सर्जना ई-पत्रिका में आपकी रचनाएँ प्रकाशनार्थ सादर आमन्त्रित हैं।   प्रस्तावित सर्जनात्मक ई- पत्रिका के उद्देश्य 1- संस्कृत सर्जकों (लघुकथा, एकांकी, गीत, गजल, निबन्ध, यात्रावृतान्त आदि लेखकों) को मंच प्रदान              करना तथा उनकी प्रतिभा को पाठकों के सम्मुख ल... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   9:25am 13 Dec 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
      स्मृतियों में भी मानव आचार प्रधान विषय है। स्मृतियों में आचार के माध्यम से मोक्ष का मार्ग प्रशस्त किया गया है। वर्ण व्यवस्था, आश्रम व्यवस्था, संस्कार इसी उद्देश्य की प्राप्ति का साधन है। मनुष्य सुखभोग के लि अनेक यत्न करता है तथा अनेक कष्ट उठाने के लिए उद्यत ह... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   7:26am 28 Mar 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
1. धृति2. क्षमा3. दम4. अस्तेय5. शौच6. इन्द्रियनिग्रह7. धी8. विद्या9. सत्य10. अक्रोध11. अहिंसा12. दान      मानव के वैश्विक आचार भी अत्यन्त महत्त्वपूर्ण हैं। इसके द्वारा ही मनुष्य विश्व में कीर्ति प्राप्त करता है।                    धृतिः क्षमा दमोस्तेयं शौचमिन्द्रियनिग... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   7:19am 28 Mar 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
       मनुष्य समाज से सम्पर्क स्थापित करने के पश्चात् राष्ट्र का निर्माण करता है जिसमें वह सभी भिन्न-भिन्न मनुष्यों, जलवायु, पर्यावरण से सम्पर्क स्थापित करता है। वर्णाश्रम व्यवस्था में मनुष्य अपने कर्मों को करता हुआ व्यापार, कृषि, उद्योग आदि के माध्यम से एक दूसर... Read more
clicks 54 View   Vote 0 Like   7:11am 28 Mar 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
1.       धार्मिक आचार               ट.       षोडश संस्कार               ठ.       पञ्च महायज्ञ2.       शैक्षणिक आचार               त.       शिष्य का गुरु के प्रति आचार                थ.      गुरु का शिष्... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   7:08am 28 Mar 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
1. पुरुषगत आचार            अ. पति            आ. पिता            इ. पुत्र            ई. देवर            उ. सेवक2. स्त्रीगत आचार          ऊ. पत्नी          ए. माता          ऐ. पुत्रीपरिवार एक सामाजिक इकाई है। परिवार के माध्यम से ही सामाजिक मान... Read more
clicks 103 View   Vote 0 Like   6:55am 28 Mar 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
1.       प्रातः उठना2.       मूत्र पुरीष3.       दन्त धावन4.       आचमन5.       प्रातः सन्ध्या6.       मध्याह्न सन्ध्या7.       सायं सन्ध्या8.       भोजन विधि9.       शयन विधि10.     अभिवादन11.     अत... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   6:41am 28 Mar 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
द्वितीय अध्याय - स्मृतियां तथा आचार स्वरूपक. आचार - अर्थख. आचार - क्षेत्र तथा प्रकारग. आचार तथा वर्णाश्रम व्यवस्थाघ. आचार - महत्त्वक. आचार - अर्थ       आचार का शाब्दिक अर्थ है - अच्छा आचरण। महर्षि मनु ने ‘‘ब्राह्मणादि तथा अम्बष्ठ-रथकार आदि वर्णसङ्कर जातियों का कुल परम... Read more
clicks 105 View   Vote 0 Like   6:23am 28 Mar 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
         क. स्मृति - अर्थ         ख. स्मृति - सङ्ख्या               ग. स्मृति - स्वरूप                  घ. स्मृति - प्रतिपाद्य विषय                 ङ. स्मृति - टीका परम्परा 1.       मनुस्मृति तथा टीकायें   2.   &n... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   8:08am 27 Mar 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
         पुस्तकों का संसार मुझे अत्यन्त रोमांचित करते रहा है। बचपन से ही पुस्तकों को पढ़ना और उसे संग्रह करना मेरी दिनचर्या थी। कोई भी पुस्तक मिल जाये उसे जल्द से जल्द पढ़ने को मैं उतावला हो उठता हूँ। ईश्वर ने मेरी सुन ली और मुझे पुस्तकों के बीच ला खड़ा कर दिया। &nb... Read more
clicks 59 View   Vote 0 Like   7:19am 7 Mar 2014 #संस्कृत
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
        आजकल विद्यालयों में नैतिक शिक्षा एक कोर्स के रुप में पढ़ाई जा रही है। संस्कृत भाषा में सूक्तियों एवं महान् चरित्र वाले कथानकों में नैतिक शिक्षा प्राप्त हो जाती है। भारतीस समाज जहाँ संयुक्त परिवार था के विघटन के पश्चात् इस प्रकार की शिक्षा की आवश्यकता हो ग... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   5:46am 5 Feb 2014 #संस्कृत
Blogger: vedic bharat at प्राचीन समृद...
विदेशियों द्वारा स्वदेशी गुणगान :- 1.J. Robert Oppenheimer,  American nuclear physicist (1904-1967)यदि एक हजार सूर्य की चमक आसमान में फट पडे तो वह शक्ति सर्वशक्तिमान ईश्वर की महिमा की तरह होगा. . . . अब मैं दुनिया का  विध्वंसक मौत बन गया हूँ । आधुनिक परमाणु विज्ञानी रोबर्ट ओपेन हैमेर ने अपने सफल ... Read more
clicks 273 View   Vote 0 Like   1:38am 23 May 2013 #संस्कृत
Blogger: Praveen Kumar Gupta at HINDU HINDI HINDUSTHAN - हिन...
1. कंप्यूटर में इस्तेमाल के लिए सबसे अच्छी भाषा।संदर्भ: फोर्ब्स पत्रिका 19872. सबसे अच्छे प्रकार का कैलेंडर जो इस्तेमाल किया जा रहा है, हिंदू कैलेंडर है (जिसमें नया साल सौर प्रणाली के भूवैज्ञानिक परिवर्तन के साथ शुरू होता है)संदर्भ: जर्मन स्टेट यूनिवर्सिटी3. दवा के लिए सबस... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   12:07pm 4 Jul 2012 #संस्कृत
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4004) कुल पोस्ट (191833)