POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: राष्ट्रीय सहारा

Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
ज्योतिरादित्य सिंधिया के हटने के बाद कांग्रेस के सामने दो बड़े सवाल हैं। एक, पहले से ही जर्जर नेतृत्व की साख को फिर से स्थापित कैसे होगी और दूसरा पार्टी के युवा नेताओं को भागने से कैसे रोका जाएगा? हताशा बढ़ रही है। उत्तर भारत के तीन और महत्वपूर्ण नेता पार्टी छोड़ने की फ... Read more
clicks 75 View   Vote 0 Like   2:10am 12 Mar 2020 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
लोकसभा चुनाव में मिली भारी पराजय के बाद कांग्रेस पार्टी को संभलने का मौका भी नहीं मिला था कि कर्नाटक और तेलंगाना में बगावत हो गई। राहुल गांधी के इस्तीफे के कारण पार्टी के सामने केंद्रीय नेतृत्व और संगठन को फिर से खड़ा करने की चुनौती है। फिलहाल सोनिया गांधी को फिर से स... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   1:57am 5 Oct 2019 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक के तिराहे पर वायनाड काली मिर्च और मसालों की खेती के लिए मशहूर रहा है। यहाँ की हवाएं तीनों राज्यों को प्रभावित करती हैं। भारी मुस्लिम आबादी और केरल में इंडियन मुस्लिम लीग के साथ गठबंधन होने के कारण कांग्रेस के लिए यह सीट सुरक्षित मानी जाती है।... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   4:58am 2 Apr 2019 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने घोषणा की है कि हम एक तिहाई सीटें महिला प्रत्याशियों को देंगे। प्रगतिशील दृष्टि से यह घोषणा क्रांतिकारी है और उससे देश के दूसरे राजनीतिक दलों पर भी दबाव बनेगा कि वे भी अपने प्रत्याशियों के चयन में महिला प्रत्याशियों को वरीयता दें। ... Read more
clicks 165 View   Vote 0 Like   2:49am 13 Mar 2019 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
आर्थिक आधार पर 10 फीसदी आरक्षण सुनिश्चित करने वाला संविधान संशोधन विधेयक संसद में जितनी तेजी से पास हुआ, उसकी कल्पना तीन दिन पहले किसी को नहीं थी। कांग्रेस समेत दूसरे विरोधी दलों ने इस आरक्षण को लेकर सरकार की आलोचना की, पर इसे पास करने में मदद भी की। यह विधेयक कुछ उसी अंद... Read more
clicks 141 View   Vote 0 Like   10:24am 12 Jan 2019 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
जब मुख्यधारा की राजनीति छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में मसरूफ़ है, अचानक कश्मीर ने सबको झिंझोड़ दिया है।वहाँ दो तरह की खिचड़ियाँ पक रही थीं। बीरबल जैसी। बेशक अब जनता के सामने जाने का फैसला अच्छा है, पर कश्मीरी जनादेश जटिल होता है। यह जिम्मेदारी राजनीति दलों की ... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   2:56am 25 Nov 2018 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
श्रेष्ठ विचारों की झंडी बनाकर उससे सजावट करने में हमारा जवाब नहीं है। गांधी इसके उदाहरण हैं। लम्बे अरसे तक देश में कांग्रेस पार्टी का शासन रहा। पार्टी खुद को गांधी का वारिस मानती है, पर उसके शासनकाल में ही गांधी सजावट की वस्तु बने। हमारी करेंसी पर गांधी हैं और अब नए नो... Read more
clicks 259 View   Vote 0 Like   3:00am 2 Oct 2018 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
हाल में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के धरने के वक्त विरोधी दलों की एकता के दो रूप एकसाथ देखने को मिले। एक तरफ ममता बनर्जी समेत चार राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने धरने का समर्थन किया, वहीं कांग्रेस पार्टी ने न केवल उसका विरोध किया, बल्कि सार्वजनिक रूप से अपनी र... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   2:38am 1 Jul 2018 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
एक नाबालिग लड़की से बलात्कार के मामले में जोधपुर कोर्ट ने बाबा आसाराम को उम्र कैद की सज़ा सुनाई है। उनके साथियों को भी सजाएं हुईं हैं। आसाराम बापू का नाम उन बाबाओं में लिया जाता है, जिनका गहरा राजनीतिक रसूख रहा है। देश के बड़े-बड़े नेता उनके दरबार में मत्था टेकते रहे है... Read more
clicks 210 View   Vote 0 Like   1:48am 27 Apr 2018 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
बीजेपी-विरोधी दलों की लामबंदी के तीन आयाम एकसाथ उभरे हैं। एक, संसद में पेश विश्वास प्रस्ताव, दूसरा सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाने की मुहिम और तीसरा, लोकसभा चुनाव से पहले विरोधी दलों का मोर्चा बनाने की कोशिश। इन तीनों परिघटनाओं को ... Read more
clicks 205 View   Vote 0 Like   6:11am 31 Mar 2018 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
कांग्रेस महासमिति का 84 वां अधिवेशन दो बातों से महत्वपूर्ण रहा। पार्टी में लम्बे अरसे बाद नेतृत्व परिवर्तन हुआ है। इस अधिवेशन में राहुल गांधी की अध्यक्षता की पुष्टि हुई। दूसरे यह ऐसे दौर में हुआ है, जब पार्टी लड़खड़ाई हुई है। अब कयास हैं कि पार्टी निकट या सुदूर भविष्य ... Read more
clicks 224 View   Vote 0 Like   2:00am 20 Mar 2018 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया का कहना है कि कांग्रेस की वापसी अगले साल होने वाले कर्नाटक विधानसभा चुनाव से होगी। उनका यह भी कहना है कि देश की जनता राहुल गांधी को अपने नेता के रूप में स्वीकार करती है। सिद्धरमैया का यह बयान आम राजनेता का बयान है, पर इसके दो महत्वपूर... Read more
clicks 46 View   Vote 0 Like   2:48am 16 Sep 2017 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
प्रणब मुखर्जी बड़े विकट समय में राष्ट्रपति रहे। यूपीए सरकार के अंतिम दो साल राजनीतिक संकट से भरे थे। सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे थे, अर्थ-व्यवस्था अचानक ढलान पर उतर गई थी और सत्तारूढ़ दल अचानक नेतृत्व विहीन नजर आने लगा था। यूपी सरकार के जाने के बाद एक ताकतवर राज... Read more
clicks 121 View   Vote 0 Like   2:15pm 4 Aug 2017 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
राष्ट्रपति चुनाव में राजनीतिक शक्ति परीक्षण हो जाता है और गठबंधनों के दरवाजे भी खुलते और बंद होते हैं। गुरुवार को चुनाव की अधिसूचना जारी होने के साथ राजनीतिक गतिविधियाँ तेज हो गईं हैं। अब अगले हफ्ते यह तय होगा कि मुकाबला किसके बीच होगा। और यह भी कि मुकाबला होगा भी या ... Read more
clicks 152 View   Vote 0 Like   5:04am 16 Jun 2017 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
इसे 'आइडिया ऑफ इंडिया'भी कहते हैं। अपने अतीत और वर्पूतमान के आधार पर हम अपने समाज की दशा-दिशा के बारे में सोचते हैैं। कुछ को इसमें राष्ट्रवाद दिखाई पड़ता है और कुछ को अंतरराष्ट्रीयतावाद। पर सपने पूरा समाज देखता है, तभी वे पूरे होते हैं। नेता उन सपनों के सूत्रधार बनते है... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   3:21am 1 Apr 2017 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
राजनीति यदि समाज के धवल पक्ष को उजागर करती है तो सबसे गंदे पहलू पर भी रोशनी डालती है। चुनाव में इन दोनों बातों के दर्शन होते हैं। जैसे-जैसे उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव का रथ आगे बढ़ रहा है वैसे-वैसे माहौल में जहर घुल रहा है और नेताओं की शब्दावली घटिया होती जा रही है। च... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   2:55am 23 Feb 2017 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
बजट हो या कोई भी सरकारी नीति उसका संबंध चुनाव से नहीं हो, ऐसा संभव नहीं। इसमें कोई निराली बात नहीं है। सरकारें चुनाव जीतने के लिए ही काम करती हैं। खुद को देश का सबसे बड़ा हितैषी साबित करने की कोशिश की जाती है। पाँच राज्यों के चुनाव के ठीक पहले बजट लाने का कांग्रेस ने विरो... Read more
clicks 241 View   Vote 0 Like   5:27am 4 Feb 2017 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
नब्बे के दशक में जब लखनऊ में पहली बार आम्बेडकर उद्यान का निर्माण शुरू हुआ था, तब यह सवाल उठा था कि सार्वजनिक धन के इस्तेमाल को लेकर क्या राजनीतिक दलों पर मर्यादा लागू नहीं होती?जवाब था कि चुनाव के वक्त यह जनता तय करेगी कि सरकार का कार्य उचित है या नहीं?आम्बेडकर स्मारक का... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   2:26pm 11 Oct 2016 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
कांग्रेस पार्टी ने कहा है कि हम सर्जिकल स्ट्राइक के मामले में भारतीय जवानों के साथ हैं, लेकिन इसे लेकर क्षुद्र राजनीति नहीं की जानी चाहिए। रणदीप सुरजेवाला का कहना है, ‘ हम सर्जिकल स्ट्राइक पर कोई सवाल नहीं उठा रहे हैं, लेकिन यह कोई पहला सर्जिकल स्ट्राइक नहीं है।’कांग्... Read more
clicks 69 View   Vote 0 Like   5:46am 8 Oct 2016 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
अरुणाचल में उठा-पटक ने नए किस्म की राजनीति का मुज़ाहिरा किया है। इसके अच्छे या बुरे परिणामों के लिए हमें तैयार रहना चाहिए। बीजेपी को खुशी होगी कि उसने एक और प्रदेश को ‘कांग्रेस मुक्त’कर दिया, पर यह ढलान पर उतरती राजनीति का एक पड़ाव है। अभी तक बीजेपी इसमें प्रत्यक्ष रू... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   1:23pm 24 Sep 2016 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
 दिल्ली के सियासी हलकों में खबर गर्म है कि कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में शीला दीक्षित को मुख्यमंत्री पद की प्रत्याशी के रूप में पेश कर सकती हैं। शुक्रवार को उनकी सोनिया गांधी के साथ मुलाकात के बाद इस सम्भावना को और बल मिला है। इसमें असम्भव कुछ नहीं। शीला दीक्षित ... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   6:39am 19 Jun 2016 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
कांग्रेस के पास अब कोई विकल्प नहीं है। राहुल गांधी की सफलता या विफलता  भविष्य की बात है, पर उन्हें अध्यक्ष बनाने के अलावा पार्टी के पास कोई रास्ता नहीं बचा। सात साल से ज्यादा समय से पार्टी उनके नाम की माला जप रही है। अब जितनी देरी होगी उतना ही पार्टी का नुकसान होगा। हा... Read more
clicks 176 View   Vote 0 Like   5:24am 19 Jun 2016 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
भारतीय जनता पार्टी का फिलहाल सबसे बड़ा एजेंडा है ‘पैन-इंडिया इमेज’ बनाना। उसे साबित करना है कि वह केवल उत्तर भारत की पार्टी नहीं है। पूरे भारत की धड़कनों को समझती है। हाल के घटनाक्रम ने उम्मीदों को काफी बढ़ाया है। एक तरफ उसे असम की जीत से हौसला मिला है, वहीं मुख्य प्रति... Read more
clicks 119 View   Vote 0 Like   2:53am 15 Jun 2016 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
सन 2014 की ऐतिहासिक पराजय के दो साल अगले हफ्ते पूरे होने जा रहे हैं। इन दो साल में पार्टी ढलान पर उतरती ही गई है। गुजरे दो साल में एक भी घटना ऐसी नहीं हुई, जिससे पार्टी की पराजित आँखों में रोशनी दिखाई पड़ी हो। पिछले दो साल में हुए चुनावों में उसे कहीं सफलता नहीं मिली। बिहार व... Read more
clicks 109 View   Vote 0 Like   3:10pm 14 May 2016 #राष्ट्रीय सहारा
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
इस साल संसद का मॉनसून सत्र सूखा रहा। पूरे सत्र में सकारात्मक संसदीय कर्म ठप रहा। अब शीत सत्र सामने है। इसमें क्या होने वाला है?सरकार क्या अपने विधेयकों को पास करा पाएगी?क्या वह भारतीय राजनीति के ज्वलंत सवालों का ठीक से जवाब देगी?दूसरी ओर सवाल यह भी है कि क्या विपक्ष एक ... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   2:23am 21 Nov 2015 #राष्ट्रीय सहारा
[Prev Page] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3957) कुल पोस्ट (193632)