POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: रविनंदन सिंह

Blogger: Akanksha Yadav at सप्तरंगी प्र...
तुम अकेले रह गए तो भोर का तारा बनूं मै।मै अकेला रह गया तो रात बनकर पास आना।तुम कलम की नोक से उतरे हो अक्षर की तरह।मै समय के मोड़ पर बिखरा हूँ प्रस्तर की तरह।तुम अकेले बैठकर बिखरी हुई प्रस्तर शिला पर,सांध्य का संगीत कोई मौन स्वर में गुनगुनाना।एक परिचय था पिघलकर घुल गया है ... Read more
clicks 240 View   Vote 0 Like   11:13am 16 Apr 2014 #रविनंदन सिंह
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3950) कुल पोस्ट (195984)