POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: प्रेरणा

Blogger: Mohini Puranik at चैतन्यपूजा...
अटलजी के जाने से हर ओर शोक फैल गया। आज की प्रस्तुति अटलजी को समर्पित कुछ पंक्तियां उनकीही कविताओं की ऊर्जा से प्रेरित। एक सिसकी  सहमी सी चुपकेसे गिरी जो आपको देखा जाते कलम आज रो पड़ी, अटलजी! कलम आज रो पड़ी आज आपको जाते देखा  सृष्टि को शोक मनाते देखा  आंसुओं ने भर दिय... Read more
clicks 246 View   Vote 0 Like   7:17am 19 Aug 2018 #प्रेरणा
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   अ-पो-ला-पी चीन के यूनान प्रांत की पर्वत शरंखलाओं में बसने वाले अखा कबीले का एक वृद्ध सदस्य है। हाल ही में जब हम अपने मिशनरी दौरे में उससे मिले, तो उसने हम से कहा कि भारी वर्षा के कारण वह परमेश्वर के वचन बाइबल के साप्ताहिक अध्ययन में नहीं जाने पाया था। इसलिए उसने हमसे ... Read more
clicks 234 View   Vote 0 Like   3:15pm 12 Dec 2017 #प्रेरणा
Blogger: सुशील बाकलीवाल at नजरिया...
           किसी समय एक राजा था जिसे राज भोगते काफी समय हो गया था बाल भी सफ़ेद होने लगे थे । एक दिन उसने अपने दरबार में उत्सव रखा । उत्सव मे मुजरा करने वाली के साथ दूर देश के राजाओं को भी अपने गुरु के साथ बुलाया । कुछ मुद्राएँ राजा ने यह सोचकर अपने गुरु को दी कि ज... Read more
clicks 294 View   Vote 0 Like   3:31am 4 Jan 2017 #प्रेरणा
Blogger: Mohini Puranik at चैतन्यपूजा...
पिछले दो आलेखों में अविवेकी परम्पराओं के कारण हमारी किस तरह हानि हो रही है, ये हमने देखा। इसी विषय में आज महाभारत के प्रति प्रचलित परम्पराओं के बारे में आलेख। महाभारत, रामायण, दुर्गासप्तशती, गरुड़पुराण जैसे महान ग्रंथों के बारे में भय निर्माण करनेवाले मत देखे जाते ह... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   8:05am 6 Feb 2016 #प्रेरणा
clicks 191 View   Vote 0 Like   9:21am 7 Apr 2015 #प्रेरणा
Blogger: तुषार राज रस्तोगी at तमाशा-ए-जिंदग...
आता है साल में एक बारकहते जिसे 'हिंदी दिवस'क्यों इसे मनाने के लिए हम सभी होते हैं विवशहिन्द की बदकिस्मतीहिंदी यहाँ लाचार हैपाती कोई दूजी ज़बांयहाँ प्यार बेशुमार हैकाश! हिंदी भी यहाँबिंदी बनकर चमकतीसूर्य की भाँती दमकतीअँधेरे में ना सिसकतीआओ मिलकर लें अहदहिंदी को आग... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   3:00pm 14 Sep 2013 #प्रेरणा
Blogger: तुषार राज रस्तोगी at तमाशा-ए-जिंदग...
स्वराज मार्ग की छटा नईएक शाम देश के नाम रहीहर दिल से धारा बही वहींजन जन हैं कहता खूब रहीबस जन सेवा की इच्छा सेहर एक व्यक्ति जुड़ा कहींबूँद बूँद से बन कर साग़रनव चेतना सब में लीन हुईपुरषार्थ से है किया सृजनजन मानस हो रहे मगननिशुल्क चिकित्सा सेवा सेमानव ह्रदय में लगी लग... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   8:03pm 5 Sep 2013 #प्रेरणा
Blogger: तुषार राज रस्तोगी at तमाशा-ए-जिंदग...
आसमां में उड़े हुए लोगहवा से भरे हुए लोगसंतुलन की बातें करते हैंसरकार से जुड़े हुए लोगभीड़ में खड़े हुए लोगअन्दर तक सड़े हुए लोगजीवन की बातें करते हैंमरघट में पड़े हुए लोगमुद्रा पर बिके हुए लोगसुविधा पर टिके हुए लोगबरगद की बातें करते हैंगमलों में उगे हुए लोगभोग में ... Read more
clicks 61 View   Vote 0 Like   7:04pm 8 Aug 2013 #प्रेरणा
Blogger: तुषार राज रस्तोगी at तमाशा-ए-जिंदग...
मशाल लिए हाथ में हर एक खड़ा है ये आम आदमी है न छोटा है न बड़ा है हल्का ही सही तमाचा तो लगा है चमचों की मुहीम पर एक सांचा तो कसा है मान लो गर गलती तो छोड़ देंगे हम जो करेंगे चापलूसी उन्हें तोड़ देंगे हम 'स्वराज' है हक हमारा इसे ला कर रहेंगे अपने विच... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   8:15pm 21 Jul 2013 #प्रेरणा
Blogger: तुषार राज रस्तोगी at तमाशा-ए-जिंदग...
अंतर्मन चीत्कार करबहिर्मन प्रतिकार करप्रघोष महाघोष करनिनाद महानाद करनाद कर नाद कर'स्वराज' का प्रणाद कर साम, दाम, दण्ड, भेदह्रदय में रह न जाये खेदभुलाकर समस्त मतभेदसीना दुश्मनों का छेदप्रहार कर प्रहार कर'स्वराज' की दहाड़ करमुल्क अब भी गुलाम हैचाटुकारी आम हैकाट चमचो क... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   5:39pm 8 Jul 2013 #प्रेरणा
Blogger: तुषार राज रस्तोगी at तमाशा-ए-जिंदग...
ख़ुदा जाने मैं क्या कहता, जो कहता मैं क्या कहतासही के लिए क्या कहता, ग़लत के लिए क्या कहतारहती है दूर क्या कहता, मिलने को ही क्या कहतामिलते रहना ही क्या कहता, क्या है दिलमें क्या कहतासूरज और चंदा क्या कहता, दोनों हैं वीरां क्या कहतातेरे संग दिन क्या कहता, तेरे संग रातें क... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   11:10pm 13 Apr 2013 #प्रेरणा
Blogger: तुषार राज रस्तोगी at तमाशा-ए-जिंदग...
बांधे हाथ, खड़ा 'निर्जन' मैं मांगू सब की खैर भीग चुका, वर्षा से तन मन बह गया सारा बैर कोई छतरी, रोक सके न पीड़ा तनहा दिल कीभीगा दी जिसने आत्मा मेरी चुभन है जीवन भर की तेज़ तूफानी हवाएं मेरे दिल को भेदती जातीं मौन खड़ी उम्मीदें मेरी फ़कत देखती जातीं गिरता है वर्षा का पानी बन खारा आ... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   3:24am 5 Feb 2013 #प्रेरणा
Blogger: kamal k. jain at मंतव्य...
बस चंद दिन और... फिर तुम नहीं होंगीयूँ इस तरह मेरे साथजिस तरह होती हो इन दिनोंना होंगी तुम्हारी हिदायतेना होगी कोई शिकायतेसोच कर भी घबरा जाता हूँ मैंफिर कोई नहीं होगा यूँ हर बार मुझे समझाने वालाइस बार बिखरने से पहले  हज़ार बार सोचना होगा मुझकोअब नहीं होगा कोई मुझे संभाल... Read more
clicks 190 View   Vote 0 Like   8:53am 9 Dec 2012 #प्रेरणा
Blogger: ravindra at मैं:सहज और सर...
Did I fly too high?Sun blazes angrilyWax weeps from my wings.......वस्तुतः कविता न होकर एक प्रकार से सवेंदना स्वयं शब्द बनकर प्रस्तुत हैं http://followyourshadow.wordpress.com/... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   4:28pm 30 Oct 2012 #प्रेरणा
Blogger: ravindra at मैं:सहज और सर...
Did I fly too high?Sun blazes angrilyWax weeps from my wings.......वस्तुतः कविता न होकर एक प्रकार से सवेंदना स्वयं शब्द बनकर प्रस्तुत हैं http://followyourshadow.wordpress.com/... Read more
clicks 216 View   Vote 0 Like   4:28pm 30 Oct 2012 #प्रेरणा
Blogger: प्रतुल वशिष्ठ at ॥ दर्शन-प्राश...
आँखें तलाशती हैं मेरी कविता के लिये नई चेरी आ बन जावो प्रेरणा शीघ्रमत करो आज़ बिलकुल देरी.है कौन प्रेरणा बने आज़मैं देख रहा हूँ सभी साज बैठे हैं अपने गात लिये पाने को मेरा प्रेम-राज.आकर्षित करने को सत्वर कुछ नयन कर रहे आज़ समरशर छूट रहे हैं दुर्निवार कुछ डरा रहे हैं लट-व... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   8:00am 18 Jul 2012 #प्रेरणा
Blogger: kamal k. jain at मंतव्य...
(दुष्यंत जी की लिखी ये कविता मेरे साथ मेरे अज़ीज़तम कुछ ओर लोगो को बहुत पसंद है. इसलिए जब उनसे दिल की बात कहने का मोका आया तो इसका सहारा लेने से खुद को रोक नही पाया. कविता का मूल भाव दुष्यंत जी का ही है.... मैने बस अपने मन की बात कहने के लिए उनके शब्दों मे कुछ हेर फेर किया है... जि... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   10:19am 4 Oct 2011 #प्रेरणा
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4001) कुल पोस्ट (191780)