POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: प्रकाशन

Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
मुखपृष्ठसाहित्यकारों की वेबपत्रिकावर्ष: 4, अंक 81, मार्च(द्वितीय), 2020सीखिए गीत से, गीत का व्याकरणडॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'हार में है छिपा जीत का आचरण।सीखिए गीत से, गीत का व्याकरण।।बात कहने से पहले विचारो जराधूल दर्पण की ढंग से उतारो जरातन सँवारो जरा, मन निखारो जराआइने ... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   7:30pm 17 Mar 2020 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
जीवन में अँधियारा, लेकिन सपनों में उजियाला है।आभासी दुनिया में होता, मन कितना मतवाला है।।--चहक-महक होती बसन्त सी, नहीं दिखाई देती है,आहट नहीं मगर फिर भी, पदचाप सुनाई देती है,वीरानी बगिया को जो, पल-पल अमराई देती है,शिथिल अंग में यौवन की, आभा अँगड़ाई लेती है,कभी न... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   7:30pm 6 Mar 2020 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
अब नहीं आँखों में कोई भी शरमहो गये हैं लोग कितने बेशरम--की नहीं जिसने कभी कोई मददचाहते वो दूसरों से क्यों करम--जब जनाजा उठ गया ईमान काक्या करेगा फिर वहाँ दीनो-धरम--तम्बुओं में रह रहा जब राम होदिल में अपने पालते हो क्यों भरम--चोट कब मारोगे ओ मेरे सनमढाल दो साँचे में लोहा है ... Read more
clicks 37 View   Vote 0 Like   1:36am 5 Sep 2019 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
मुखपृष्ठसाहित्यकारों की वेबपत्रिकासावर्ष: 3, अंक 63, जून(द्वितीय), 2019खट्टे-मीठे और रसीलेडॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"साहित्य सुधा जून(द्वितीय), 2019 मेंमेरी बालकवितागर्मी का मौसम है आया।आड़ू और खुमानी लाया।।आलूचा है या कहो बुखारा।काला-काला कितना प्यारा।।खट्टे-मीठे और ... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   10:30pm 1 Aug 2019 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
रंग-बिरंगी पेंसिलें, बच्चों को बहुत लुभाती है।वो इनसे क,ख,ग, ए,बी,सी,डी भी लिखवाती हैं।।रेखाचित्र बनाना, इसके बिना असम्भव होता है।कला बनाना, केवल इससे ही सम्भव होता है।।गलती हो जाये तो, लेकर रबड़ तुरन्त मिटा डालो।गुणा-भाग करना चाहो तो, बस्ते में से इसे निकालो।।छोटी... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   2:22am 12 Mar 2019 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
मम्मी देखो मेरी डॉल।खेल रही है यह तो बॉल।।पढ़ना-लिखना इसे न आता।खेल-खेलना बहुत सुहाता।।कॉपी-पुस्तक इसे दिलाना।विद्यालय में नाम लिखाना।।रोज सवेरे मैं गुड़िया को,ए.बी.सी.डी. सिखलाऊँगी।अपने साथ इसे भी मैं तो,विद्यालय में ले जाऊँगी।।यह भी तो मेरे जैसी ही,भोली-भाली सच्च... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   9:29am 3 Jan 2019 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
सुख का सूरज नहीं गगन में।कुहरा पसरा आज वतन में।।पाला पड़ता, शीत बरसता,सर्दी में है बदन ठिठुरता,तन ढकने को वस्त्र न पूरे,निर्धनता में जीवन मरता,पौधे मुरझाये गुलशन में।कुहरा पसरा आज वतन में।।आपाधापी और वितण्डा,बिना गैस के चूल्हा ठण्डा,गइया-जंगल नजर न आते,पायें कहाँ से ल... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   6:34am 2 Jan 2019 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
मैं तुमको मैना कहता हूँ,लेकिन तुम हो गुरगल जैसी।तुम गाती हो कर्कश सुर में,क्या मैना होती है ऐसी??सुन्दर तन पाया है तुमने,लेकिन बहुत घमण्डी हो।नहीं जानती प्रीत-रीत को,तुम चिड़िया उदण्डी हो।।जल्दी-जल्दी कदम बढ़ाकर,तुम आगे को बढ़ती हो।अपनी सखी-सहेली से तुम,सौतन जैसी लड़त... Read more
clicks 192 View   Vote 0 Like   5:17am 7 Dec 2018 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
साहित्यकारों की वेबपत्रिकासाहित्य की रचनास्थलीवर्ष: 3, अंक 46, अक्टूबर(प्रथम), 2018में मेरी दो रचनाएँ"तुम मौन-निमन्त्रण तो दे दो"  (गीत)और एक बालकविता"मास्साब मत पकड़ो कान"जलने को परवाना आतुर, आशा के दीप जलाओ तो।कब से बैठा प्यासा चातुर, गगरी से जल छलकाओ तो।। मधुवन म... Read more
clicks 179 View   Vote 0 Like   7:39am 3 Oct 2018 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
सिसक-सिसक कर स्लेट जी रही,तख्ती ने दम तोड़ दिया है।सुन्दर लेख-सुलेख नहीं है,कलम टाट का छोड़ दिया है।।  दादी कहती एक कहानी,बीत गई सभ्यता पुरानी,लकड़ी की पाटी होती थी,बची न उसकी कोई निशानी।।फाउण्टेन-पेन गायब हैं,जेल पेन फल-फूल रहे हैं।रीत पुरानी भूल रहे हैं,नवयुग में स... Read more
clicks 196 View   Vote 0 Like   5:43am 6 Sep 2018 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
गीत-ग़ज़ल, दोहा-चौपाई, सिसक रहे अमराई मेंभाईचारा तोड़ रहा दम, रिश्तों की अँगनाई मेंफटा हुआ दामन अब तक भी सिलना नहीं हमें आयासारा जीवन निकल गया है, कपड़ों की कतराई मेंरत्नाकर में अब भी होता, खारे पानी का मन्थनउथल-पुथल सी मची हुई है, सागर की गहराई मेंकेशर की क्यारी को किसने... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   2:04am 1 Jun 2018 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
रहता वन में और हमारे,संग-साथ भी रहता है।यह गजराज तस्करों के,जालिम-जुल्मों को सहता है।।समझदार है, सीधा भी है,काम हमारे आता है।सरकस के कोड़े खाकर,  नूतन करतब दिखलाता है।।मूक प्राणियों पर हमको तो,तरस बहुत ही आता है।इनकी देख दुर्दशा अपना,सीना फटता जाता है।।वन्य जीव ज... Read more
clicks 114 View   Vote 0 Like   5:00am 7 Apr 2018 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
अमर शहीदों का कभी, मत करना अपमान।किया इन्दोंने देशहित, अपना तन बलिदान।।जीवन तो त्यौहार है, जानों इनका सार।प्यार और मनुहार से, बाँटो कुछ उपहार।।जब तक सूरज-चन्द्रमा, तब तक जीवित प्यार।दौलत से मत तौलना, पावन प्यार-दुलार।।गौमाता सिही मिले, दूध-दही-नवनीत।सबको होनी चाहिए, ग... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   1:59am 22 Jul 2017 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
कितने हसीन फूल, खिले हैं पलाश मेंफिर भी भटक रहे हैं, चमन की तलाश मेंपश्चिम की गर्म आँधियाँ, पूरब में आ गयीग़ाफ़िल हुए हैं लोग, क्षणिक सुख-विलास मेंजब मिल गया सुराज तो, किरदार मर गयाशैतान सन्त सा सजा, उजले लिबास मेंक़श्ती को डूबने से, बचायेगा कौन अबशामिल हैं नयी पीढ़ियाँ, ... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   1:46pm 7 Mar 2017 #प्रकाशन
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at नन्हे सुमन...
"उल्लू"उल्लू का रंग-रूप निराला।लगता कितना भोला-भाला।।अन्धकार इसके मन भाता।सूरज इसको नही सुहाता।।यह लक्ष्मी जी का वाहक है।धन-दौलत का संग्राहक है।।इसकी पूजा जो है करता।ये उसकी मति को है हरता।।धन का रोग लगा देता यह।सुख की नींद भगा देता यह।।सबको इसके बोल अखरते।बड़े-बड़े ... Read more
clicks 260 View   Vote 0 Like   1:44pm 18 Jan 2017 #प्रकाशन
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3956) कुल पोस्ट (193602)