POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: नाटक

Blogger: साहित्य शिल्पी at साहित्य शिल्...
रचनाकार परिचय:- लिखारे दिनेश चन्द्र पुरोहित dineshchandrapurohit2@gmail.com अँधेरी-गळी, आसोप री पोळ रै साम्ही, वीर-मोहल्ला, जोधपुर.[राजस्थान] अंक छ: “आहिर: औरत फातमा का आसेब” लेखक दिनेश चन्द्र पुरोहित   नाटक “... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   6:30pm 20 Dec 2018 #नाटक
Blogger: साहित्य शिल्पी at साहित्य शिल्...
रचनाकार परिचय:- लिखारे दिनेश चन्द्र पुरोहित dineshchandrapurohit2@gmail.com अँधेरी-गळी, आसोप री पोळ रै साम्ही, वीर-मोहल्ला, जोधपुर.[राजस्थान] अंक पांच “यह दाढ़ी वाला आख़िर है, कौन ?” लेखक दिनेश चन्द्र पुरोहित   ... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   6:30pm 6 Dec 2018 #नाटक
Blogger: साहित्य शिल्पी at साहित्य शिल्...
रचनाकार परिचय:- लिखारे दिनेश चन्द्र पुरोहित dineshchandrapurohit2@gmail.com अँधेरी-गळी, आसोप री पोळ रै साम्ही, वीर-मोहल्ला, जोधपुर.[राजस्थान] अंक चार “हफ्वात का मसाला, ले आयी आयशा!” लेखक दिनेश चन्द्र पुरोहित   मंज़र एक [मंच रोशन हो... Read more
clicks 73 View   Vote 0 Like   6:30pm 22 Nov 2018 #नाटक
Blogger: साहित्य शिल्पी at साहित्य शिल्...
रचनाकार परिचय:- लिखारे दिनेश चन्द्र पुरोहित dineshchandrapurohit2@gmail.com अँधेरी-गळी, आसोप री पोळ रै साम्ही, वीर-मोहल्ला, जोधपुर.[राजस्थान] अंक तीन “आज़कल..गधे को भी बाप बनाना पड़ता है !” लेखक दिनेश चन्द्र पुरोहित   नए किरदार – [१] ... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   4:33am 15 Sep 2018 #नाटक
Blogger: साहित्य शिल्पी at साहित्य शिल्...
रचनाकार परिचय:- लिखारे दिनेश चन्द्र पुरोहित dineshchandrapurohit2@gmail.com अँधेरी-गळी, आसोप री पोळ रै साम्ही, वीर-मोहल्ला, जोधपुर.[राजस्थान] अंक दो जमाल मियां और उनके मुसाहिब लेखक दिनेश चन्द्र पुरोहित   मंज़र ... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   6:31am 11 Aug 2018 #नाटक
Blogger: साहित्य शिल्पी at साहित्य शिल्...
रचनाकार परिचय:- लिखारे दिनेश चन्द्र पुरोहित dineshchandrapurohit2@gmail.com अँधेरी-गळी, आसोप री पोळ रै साम्ही, वीर-मोहल्ला, जोधपुर.[राजस्थान] नाटक - दबिस्तान-ए-सियासत अंक एक पहला मंज़र आ गया नूरिया, स्कूल में ! राक़िम ... Read more
clicks 95 View   Vote 0 Like   6:30pm 12 Jun 2018 #नाटक
Blogger: Dalip vairagi at कथोपकथन...
ग्रीष्म नाट्य उत्सव 2017 अभी समाप्त होकर चुका है। उत्सव की समीक्षा लिखी जानी है। हर इवेंट की समीक्षा लिखे जाने से पहले मेरे सामने यही बुनियादी सवाल होता है कि समीक्षा क्यो लिखी जाए। समीक्षा यदि जवाब है तो फिर वह सवाल क्या है?मैं सवाल की तलाश में लग जाता हूँ। जवाब तो सामने ... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   9:15am 18 May 2017 #नाटक
Blogger: Dalip vairagi at कथोपकथन...
पिछले लगभग छ: महीने अलवर रंगकर्म में बहुत महत्व के रहे हैं। इस अवधि में रंगमंच पर प्रचुरता में गतिविधियां हुई हैं। माहौल में एक जुंबिश पैदा हुई है,जिसने पिछले दस साल के सूखे में फुहार का काम किया है। इसी सिलसिले में दिनांक 7 जनवरी 2016 को कलाभारती रंगमंच पर कबीरा थियेटर की ... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   4:37pm 20 Feb 2016 #नाटक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
बंदर ने बंदर को नोचा और हनुमान जी ने कुछ नहीं सोचा तुझे ही क्यों नजर आने लगा इस सब में कोई लोचा भगवान राम जी के सारे लोगों ने सारा कुछ देखा राम जी को भेजा भी होगा जरूर चुपचाप कोई ना कोई संदेशा समाचार अखबार में आता ही है हमेशा बंदर हो हनुमान हो चाहे राम हो आस्था के नाम पर कौन ... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   3:46pm 29 Oct 2015 #नाटक
Blogger: Vibha Rani at chhammakchhallo kahis...
"नौरंगी नटनी" - मैथिली फोक सोलो- समीक्षा- जितेंद्र नाथ जीतू की- मैथिली में- मैथिली की वेब पत्रिका "मिथि मीडिया"में। थोड़ा मैथिली का आनंद लीजिये।http://www.mithimedia.in/2015/02/blog-post_14.htmlकाला घोड़ा आर्ट फेस्टिवलमे 'नौरंगी नटनी'क मंचनSATURDAY, FEBRUARY 14, 2015  MITHIMEDIA  बंबइ : काला घोड़ा आर्ट फेस्टिवलमे 11 ता... Read more
clicks 54 View   Vote 0 Like   2:23am 27 Feb 2015 #नाटक
Blogger: हिमांशु कुमार पाण्डेय at सच्चा शरणम्...
पिछली प्रविष्टियों  ’बतावत आपन नाम सुदामा - एकऔर दोसे आगे -(प्रहरी राजमहल में प्रवेश करता है। प्रभु मखमली सेज पर शांत मुद्रा में लेटे हैं। रुक्मिणी पैर सहला रही हैं। समीप में विविध भोग सामग्री सजी पड़ी है। गृह परिचारिकाएँ पंखा झल रहीं हैं। मह-मह सुगन्ध से पवन बोझिल ह... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   3:31pm 3 Oct 2014 #नाटक
Blogger: हिमांशु कुमार पाण्डेय at सच्चा शरणम्...
दृश्य द्वितीय (द्वारिकापुरी का दृश्य। वैभव का विपुल विस्तार। धन-धान्य का अपार भण्डार। धनिक, वणिक, कुबेर हाट सजाये। संगीतागार, मल्लशाला, शुचि गुरुकुल, प्रशस्त मार्ग, गगनचुम्बी अट्टालिकाओं की मणि-माला, विभूषित अखण्ड शृंखला, सुसज्जित घने विटप एवं राज्य सभागार के फहरते ... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   9:26am 23 Sep 2014 #नाटक
Blogger: हिमांशु कुमार पाण्डेय at सच्चा शरणम्...
दृश्य प्रथम(सुदामा की जीर्ण-शीर्ण कुटिया। सर्वत्र दरिद्रता का अखण्ड साम्राज्य। भग्न शयन शैय्या। बिखरे भाण्ड, मलिन वस्त्रोपवस्त्रम। एक कोने विष्णु का देवविग्रह। कुश का आसन। धरती पर समर्पित अक्षत-फूल। तुरन्त देवार्चन से उठे सुदामा भजन गुनगुना रहे हैं। सम्मुख प्रसा... Read more
clicks 100 View   Vote 0 Like   5:31am 7 Sep 2014 #नाटक
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3950) कुल पोस्ट (195984)