POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: दोहे

Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
 --अपने ही जब पीठ पर, करते सतत प्रहार।बैरी की उसको नहीं, दुनिया में दरकार।।--जिनकी जिह्वा दो मुखी, समझो उनको सर्प।वो करते हैं बेवजह, अपने विष पर दर्प।।--राम रतन की है नहीं, जिनको कोई चाह।लेकिन करते जा रहे, बेशर्मी से वाह।।--राहत में देखा बहुत, जब छल का व्यापार।होकर सजग सुजा... Read more
clicks 20 View   Vote 0 Like   8:30pm 15 Jan 2021 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--आया है उल्लास का, उत्तरायणी पर्व।झूम रहे आनन्द में, सुर-मानव-गन्धर्व।१।--जल में डुबकी लगाकर, पावन करो शरीर।नदियों में बहता यहाँ, पावन निर्मल नीर।२।--जीवन में उल्लास के, बहुत निराले ढंग।बलखाती आकाश में, उड़ती हुई पतंग।३।--तिल के मोदक खाइए, देंगे शक्ति अपार।मौसम का मिष्ठ... Read more
clicks 24 View   Vote 0 Like   8:30pm 13 Jan 2021 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--लेकर आयी लोहड़ी, फिर से नूतन हर्ष।करते हैं सब कामना, मंगलमय हो वर्ष।।--शीतल-शीतल रात है, शीतल-शीतल भोर।उत्सव का माहौल है, पसरा चारों ओर।।--खुश हो करके लोहड़ी, मना रहे हैं लोग।ज्वाला में मिष्ठान्न का, लगा रहे हैं भोग।।--मन को बहुत लुभा रहे, त्यौहारों के रंग।रंग-बिरंगी गगन म... Read more
clicks 22 View   Vote 0 Like   8:30pm 12 Jan 2021 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
नभ पर छायी है घटा, ठिठुर रहा है गात।नये साल के साथ में, कुहरे की सौगात।१।--कुहरा आफत बन गया, बदले जीवन ढंग।अच्छे दिन की आस में,छन्द हुए बेरंग।२।--सड़कों पर सैलाब था, भूखा था मजदूर।हुआ पुराने साल में, जन-मानस मजबूर।३।--बर्फ पहाड़ों पर गिरी, मौसम की है मार।सड़कें भी स... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   2:25am 2 Jan 2021 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
देशभक्ति-दलभक्ति के, संगम थे अभिराम।अमर रहेगा जगत में, अटल आपका नाम।।--अटल बिहारी की नहीं, मिलती कहीं मिसाल।जन्मदिवस उस लाल का, जिसने किया कमाल।।--कथनी-करनी में अटल, सदा रहे अनुरक्त।शब्दों से अलमस्त थे, धन से बड़े विरक्त।।--अटल बिहारी हों भले, चिर निद्रा में लीन।पुनर्जन... Read more
clicks 62 View   Vote 0 Like   4:55am 25 Dec 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--नभ में सूरज गुम हुआ,  हाड़ कँपाता शीत।दाँतों से बजने लगा, किट-किट का संगीत।।--दिवस हुए छोटे बहुत, लम्बी हैं अब रात।खाने में अब बढ़ गया, भोजन का अनुपात।।--कोयल और कबूतरी, सेंक रहे हैं धूप।बिना नहाये लग रहा, मैला उनका रूप।।--अच्छा लगता है बहुत, शीतकाल में घाम।खिली गुनगुनी... Read more
clicks 25 View   Vote 0 Like   2:51am 15 Dec 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
पुरखों का इससे अधिक, होगा क्या अपमान।जातिवाद में बँट गये, महावीर हनुमान।।--राजनीति के बन गये, दोनों आज गुलाम।जनता को लड़वा रहे, पण्डित और इमाम।।--भजन-योग-प्रवचन गये, अब योगी जी भूल।लगे फाँकने रात-दिन, राजनीति की धूल।।--रास नहीं आता जिन्हें, योगासन का कार्य।व्यापारी से बन ... Read more
clicks 36 View   Vote 0 Like   2:29am 1 Dec 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
एकल कवितापाठ का, अपना ही आनन्द।रोज़ गोष्ठी को करो, करके कमरा बन्द।।--कोरोना के काल में, मजे लूटता खास।मँहगाई की मार से, होता आम उदास।।--कम शब्दों के मेल से,  दोहा बनता खास।सरस्वती जी का अगर, रहे हृदय में वास।।--फिर से पैदा हो गये, बाबर-औरंगजेब।इनमें उनकी ही तरह, भरे हुए हैं ... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   1:45am 28 Nov 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
कातिक की एकादशी, होती देवउठान।दुनिया में सबसे अलग, भारत की पहचान।।--तुलसी का परिणय दिवस, देता है सन्देश।शुभ कर्मों का बन गया, भारत में परिवेश।।--प्रबोधिनी एकादशी, दिन होता है खास।वन्दन देवों का करो, रखकर व्रत-उपवास।।--तुलसी के फेरे लगा, करना पूजन आप।शान्त चित्त से ... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   2:40am 25 Nov 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
उगते ढलते सूर्य का, छठपूजा त्यौहार।कोरोना के काल में, माता हरो विकार।। अपने-अपने नीड़ से, निकल पड़े नर-नार।सरिताओं के तीर पर, उमड़ा है संसार।। अस्तांचल की ओर जब, रवि करता प्रस्थान।छठ पूजा पर अर्घ्य तब, देता हिन्दुस्थान।। परम्पराओं पर टिका, अपना भारतवर्ष।माता जी ज... Read more
clicks 46 View   Vote 0 Like   8:30pm 18 Nov 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
पर्व अहोई-अष्टमी, दिन है कितना खास।जिसमें पुत्रों के लिए, होते हैं उपवास।।--कुलदीपक के है लिए, पर्व अहोई खास।होती अपने तनय पर, माताओं को आस।।--माताएँ इस दिवस पर, करती हैं अरदास।उनके सुत का हो नहीं, मुखड़ा कभी उदास।।--सारे जग से भिन्न है, अपना भारत देश।रहता बारह मास ही, प... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   5:42am 7 Nov 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--यौवन है सबसे बड़ा, कुदरत का उपहार।सुन्दरता तो स्वयं में, होती है शृंगार।।--परिचय की होती नहीं, यौवन को दरकार।होता है सौन्दर्य का, नयनों से दीदार।।--अधिक समय रहता नहीं, जीवन में ठहराव।बढ़ती है जब आयु तो, आते हैं बदलाव।।--गरमी पावस-शीत का, चलता रहता चक्र।होती है आकाश में, चा... Read more
clicks 62 View   Vote 0 Like   8:30pm 14 Oct 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
 --गाँधी और पटेल ने, जहाँ लिया अवतार।मोदी का गुजरात ने, दिया हमें उपहार।।--देवताओं से कम नहीं, होता है देवेन्द्र।सौ सालों के बाद में, पैदा हुआ नरेन्द्र।।--साधारण परिवार का, किया चमन गुलजार।मोह छोड़ संसार का, त्याग दिया घर-बार।।--युगों-युगों के बाद में, लेते जन्म सपूत।दया... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   1:18am 17 Sep 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--मन में जब उगने लगे, विष की पापी बेल।चूहे-बिल्ली का  शुरू, तब होता है खेल।।--माया नगरी में बढ़ी, आपस में तकरार।बड़बोलेपन से नहीं, लोग मानते हार।।--एक तीर से हो रहे, बिना लक्ष्य के वार।लड़ती हैं नेपथ्य में, दोनों ही सरकार।।--दो पाटों के बीच में, पिसता निरअपराध।कँगना की ... Read more
clicks 69 View   Vote 0 Like   11:30pm 10 Sep 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--दादा जी का था कभी, देखा जैसा रूप।वैसा ही अनुमान से, बना दिया प्रतिरूप।।--दादा-दादी का नहीं, घर में कोई चित्र।मन में मेरे है बसा, उनका मात्र चरित्र।।--फोटोग्राफी उस समय, रही चलन से दूर।चित्राकंन से इसलिए, रहा आम मजबूर।।--दादी को देखा नहीं, कैसा था आकार।मन ही मन करता उन... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   8:30pm 6 Sep 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--कोरोना के काल में, मत होना मगरूर।एक-दूसरे से अभी, रहना होगा दूर।।--घूम रहा संसार में, कोरोना का दैत्य।रह कर हमें सचेत ही, करनी होगी *चैत्य।। *चिन्ता--कोरोना ने आज तो, बिछा दिया है जाल।सभी जगह परिवेश में, दस्तक देता काल।।--आवारा सा हो गया, दूषित प्रबल बहाव।कोरोना का है नहीं, ए... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   7:30pm 9 Aug 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--जब हर घर में जन्मते, दुनिया में इंसान।मानवता का क्यों हुआ, फिर जग में अवसान।।--देख दशा संसार की, हुए हौसले पस्त।भरी दुपहरी में हुआ, मानो सूरज अस्त।।--मान और अपमान का, नहीं किसी को ध्यान।सरे आम इंसान का, बिकता है ईमान।।--भरे पड़े इस जगत में, बड़े-बड़े धनवान।श्री के बिन कैसे ... Read more
clicks 59 View   Vote 0 Like   10:55am 7 Aug 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--फ्रांस देश से आ गया, जंगी यान रफेल।चीन-पाक की नाक में, अब पड़ गयी नकेल।।--अब ड्रैगन-नापाक का, भन्ना रहा दिमाग। दिल पर इनके लोटने, आज लगे हैं नाग।।--कूटनीति का है नहीं, अपना कहीं जवाब। गाल बजाने से कुटिल, कैसे बने नवाब।।--ओढ़ लबादा शेर का, वीर न हो शृंगाल।पहचाने जाते यहाँ, करत... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   12:15pm 30 Jul 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--रिश्तों-नातों से भरा, सारा ही संसार।प्यार परस्पर हो जहाँ, वो होता परिवार।।--सम्बन्धों में हों जहाँ, छोटी-बड़ी दरार।धरती पर कैसे कहें, कौन सुखी परिवार।।--एक दूसरे के लिए, रहो सदैव उदार।प्यार सुखी परिवार का, होता है आधार।।--अपने कुनबे में करो, कभी न झूठा प्यार।सबके प्रति प... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   7:30pm 26 Jul 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--आये थे हरि भजन को, ओटन लगे कपास। कैसे जीवन में उगे, हास और परिहास।।--बन्धन आवागमनका, नियम बना है खास। अमर हुआ कोई नहीं, बता रहा इतिहास।।--निर्बल का मत कीजिए, कभी कहीं उपहास। आँधी में तूफान में, जीवित रहती घास।।--तुलसी-सूर-कबीर की, मीठी-मीठी तान। निर्गु... Read more
clicks 77 View   Vote 0 Like   7:30pm 30 Jun 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--पल-पल रंग बदल रहा, चीन चल रहा चाल।क्रोधित अब भारत हुआ, देख समय विकराल।।--करके शस्त्र प्रयोग को, बैरी को दो मार।सेना को सरकार ने, दिये सभी अधिकार।।--बदला लेने के लिए, मत करना अब देर।वीर सौनिकों चीन को, करना होगा ढेर।।--अभिमानी के मान का, मर्दन है संकल्प।एकमात्र अब युद्ध का, ब... Read more
clicks 78 View   Vote 0 Like   1:43am 18 Jun 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--काम कलम का बोलता, नहीं बोलता नाम।छोड़ मान-व्यामोह को, करते रहना काम।।--लोगों में सम्मान की, लगी हुई है होड़।करते लोग खुशामदें, मसी-लेखनी छोड़।।--दिल पर करते असर हैं, दिल से निकले भाव।बिना कलम के आसरे, पार न होगी नाव।।--प्रतिभाओं का हो रहा, दुनिया में अपमान।क्रय करते कुछ लो... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   4:14am 5 Jun 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--गघे नहीं खाते जिसे, तम्बाकू वो चीज।खान-पान की मनुज को, बिल्कुल नहीं तमीज।।--रोग कैंसर का लगे, समझ रहे हैं लोग।फिर भी करते जा रहे, तम्बाकू उपयोग।।--खैनी-गुटका-पान का, है हर जगह रिवाज।गाँजा, भाँग-शराब का, चलन बढ़ गया आज।।--तम्बाकू को त्याग दो, होगा बदन निरोग।जी... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   1:41am 31 May 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--पत्रकारिता दिवस पर, होता है अवसाद।गुणा-भाग तो खूब है, मगर नहीं गुणवाद।।--पत्रकारिता में लगे, जब से हैं मक्कार।छँटे हुओं की नगर के, तब से है जयकार।।--समाचार के नाम पर, ब्लैकमेल है आज।विज्ञापन का चल पड़ा, अब तो अधिक रिवाज।।--पीड़ा के संगीत में, दबे खुशी के बोल।देश-वेश-प... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   12:23am 30 May 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--जब भी लड़ने के लिए, लहरें हों तैयार।कस कर तब मैं थामता, हाथों में पतवार।।--बैरी के हर ख्वाब को, कर दूँ चकनाचूर।जब अपने हो सामने, हो जाता मजबूर।।--जब भी लड़ने के लिए, होता हूँ तैयार।धोखा दे जाते तभी, मेरे सब हथियार।।--साधन हो पैसा भले, मगर नहीं है साध्य।हिरती-फि... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   12:18am 27 May 2020 #दोहे
[Prev Page] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4017) कुल पोस्ट (192859)