POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: चुड़ैल

Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
जी हाँ। नेटुआबीर बाबा! कहने के लिए तो भूत-प्रेत की श्रेणी में हैं पर इनके किस्से इन्हें वीर और अच्छे भूत-प्रेत की श्रेणी में लाकर खड़े कर देते हैं। एक ऐसे भूत जो अपने कारनामों के चलते पूज्यनीय बन गए और आज भी गाँव-जवार में इनकी पूजा की जाती है। गाँव के पूर्वी ओर नहर के उस ... Read more
clicks 112 View   Vote 0 Like   6:25am 17 Aug 2017 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
भूत-प्रेत, चुड़ैल, जिन्न ब्रह्मपिचाश आदि का नाम सुनते ही मानव मन कौतुहल से भर जाता है। वैसे भी जो भी रहस्यमयी बातें, घटनाएँ होती हैं, वे मानव मन को अपने आगोश में जल्दी ले लेती हैं। खैर इस प्रकार की बातें, घटनाएँ पढ़ने वाले या फिल्म आदि के माध्यम से देखने वाले के लिए रोमांच... Read more
clicks 83 View   Vote 0 Like   9:20am 22 Nov 2016 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
जय-जय। मैं बार-बार एक ही बात दुहराता रहता हूँ कि अगर भगवान का अस्तित्व है, ईश्वर का अस्तित्व है तो भूत-प्रेतों का क्यों नहीं?आत्माओं का क्यों नहीं?समय-समय पर आत्माओं के कुछ पुख्ता सबूत भी मिल जाते हैं। भारत ही नहीं विदेशों में भी आत्माएँ अपने होने का भान कराती रहती हैं। ख... Read more
clicks 95 View   Vote 0 Like   2:07pm 18 Sep 2016 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
आज के वैज्ञानिकयुग में भूत-प्रेत, चुड़ैल-डायन की बात करने को कुछ लोग प्रासंगिक नहीं मानते। पर क्या, ये लोग सीना ठोंककर या तार्किक रूप से इन आत्माओं के अस्तित्व को खारिज कर सकते हैं?आज का विज्ञान जितनी तेजी से रहस्यों से परदा उठाने की बात करता है, उससे अधिक तेजी से नए-नए र... Read more
clicks 84 View   Vote 0 Like   5:25am 12 Sep 2016 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
भूत-प्रेतोंकी लीला भी अपरम्पार होती है। कभी-कभी ये बहुत ही सज्जनता से पेश आते हैं तो कभी-कभी इनका उग्र रूप अच्छे-अच्छों की धोतीगीली कर देता है। भूत-प्रेतों में बहुत कम ऐसे होते हैं जो आसानी से काबू में आ जाएँ नहीं तो अधिकतर सोखाओं-पंडितों को पानी पिलाकर रख देते हैं, उनकी ... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   4:20pm 5 Jul 2016 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
भूत, प्रेत-पिशाच, चुड़ैल, डायन, डाकिनी आदि नाम हर व्यक्ति के लिए कौतुहल बने रहते हैं, रहस्यमय बने रहते हैं। आज के वैज्ञानिक युग में वैज्ञानिकता इनके अस्तित्व को सिरे से खारिज करती है पर बिना ठोस प्रमाण के और साथ ही कभी-कभी कुछ ऐसे अतार्किक तर्कों से प्रेत-अस्तित्व को झुठ... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   11:28am 19 Jun 2016 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
मध्य जुलाई का समय और रात के करीब 11 बज रहे होंगे। रात की कालिमा को बादलों की काली घटा ने और भी भयानक रूप से काली-कलूटी बना दिया था। खैर इस भयावह, सन्नाटेदार अँधियारी रात की परवाह न करते हुए गुगली-राधेनगर एक्सप्रेस अपनी तेज रफ्तार से अपने गंतव्य की ओर दौड़ते चली जा रही थी। च... Read more
clicks 103 View   Vote 0 Like   6:27am 3 Jun 2016 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
पं. प्रभाकर गोपालपुरियाभूत-भूत और भूत, सिर्फ भूत। जी हाँ, इस गाँव में हर व्यक्ति तब सिर्फ और सिर्फ भूत-प्रेत की ही बात करता था। आज भी यह गाँव भूत-प्रेत के छाए से उबर नहीं पाया है पर हाँ, आजकल भूत-प्रेत की चर्चा कम हो गई है या जानबूझकर इस गाँव-जवार के लोग भूत-प्रेतों की चर्चा ... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   7:14pm 25 Apr 2016 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
जी, हाँ! प्रभाकर गोपालपुरिया एक नई रोमांचक भूतही कहानी लेकर हाजिर है।इस कहानी में- कॉलेज के हास्टल में रहने वाला एक लड़का मरने के बाद भी हास्टल में अपने सहपाठियों के साथ रहने आ जा रहा है और जब उसके सहपाठियों को यह बात पता चलती है तो उन पर क्या गुजरती है? इस कहानी की रहस्... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   4:40am 26 Feb 2016 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
कुछ अपनेआपको ज्ञानी-विज्ञानी मानने वाले कहते हैं कि भूत-प्रेत, चुड़ैल, डाकिनी, जिन्न आदि बस कहानियों में ही अच्छे लगते हैं, इनका कोई अस्तित्व नहीं। पर मेरा मानना है कि पृथ्वी पर अनेकानेक रूपों में अनेक जीव पाए जाते हैं, कुछ ऐसे भी जिन्हें विज्ञान एककोशीय, अकोशीय, जीवाणु... Read more
clicks 98 View   Vote 0 Like   7:07am 28 Jan 2016 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
क्या गाँव, क्या शहर?हर जगह कुछ ऐसी घटनाएं सुनने को मिल ही जाती हैं जो भूत-प्रेत के अस्तित्व को अस्तित्वमय बना जाती हैं। कभी-कभी भूत-प्रेत को बनाने में इंसान भी महती भूमिका निभा जाता है। तमाम कुप्रथाओं, घृणित कर्मों के चलते भी भूत-प्रेत-चुड़ैल अस्तित्व में आ जाते हैं। सु... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   6:22am 22 Oct 2015 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
जीहाँ। नेटुआबीर बाबा! कहने के लिए तो भूत-प्रेत की श्रेणी में हैं पर इनके किस्से इन्हें वीर और अच्छे भूत-प्रेत की श्रेणी में लाकर खड़े कर देते हैं। एक ऐसे भूत जो अपने कारनामों के चलते पूज्यनीय बन गए और आज भी गाँव-जवार में इनकी पूजा की जाती है। गाँव के पूर्वी ओर नहर के उस पा... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   6:45am 25 Sep 2015 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
बँसखटिया के आनंदरमेसर काका के पास एक लेहड़ा गायें थीं। वे प्रतिदिन सुबह ही इन गायों को दुह-दाहकर चराने के लिए निकल पड़ते थे। सुबह से लेकर शाम तक रमेसर काका गायों को लेकर इस गाँव से उस गाँव, तो कभी नदी किनारे, तो कभी-कभी इस जंगल से उस जंगल घूमा करते थे और दिन ढलते ही गाँव की ... Read more
clicks 1462 View   Vote 0 Like   8:14pm 17 May 2014 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
फोटो, साभार- www.telegraph.co.ukरमेसर काका जब यह भूतही कहानी सुनाना शुरू किए तो हम मित्रों को पहले तो थोड़ा डर लगा पर बाद में भूतों से हमदर्दी होने लगी। हमने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि एक भूतनी भगवान बनकर सामने आ जाएगी और अपनी जान पर खेलकर किसी की जान बचा जाएगी। जी हाँ। यह कहानी ... Read more
clicks 819 View   Vote 0 Like   2:17pm 15 Apr 2014 #चुड़ैल
Blogger: प्रभाकर पाण्डेय "गोपालपुरिया" at भूत-प्रेत की ...
इस चित्र का इस भूतही काल्पनिक कहानी से कुछ भी लेना-देना नहीं।रात के अंधेरे में मैकू अपनी कार को दौड़ाए जा रहा था। मैकू को खुद कार चलाना और दूर-दूर की यात्राएँ करना बहुत ही पसंद था। मैकू की बगल वाली सीट पर उसका दोस्त रमेश बैठा था। वे दोनों मुंबई से मैहर भगवती के दर्शन के ल... Read more
clicks 613 View   Vote 0 Like   5:57am 25 Mar 2014 #चुड़ैल
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4011) कुल पोस्ट (192136)