POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: उलूक

Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
जरूरी है घिसना चौक काले श्यामपट पर पढ़ाना नहीं है ना ही कुछ लिखना है कुछ लकीरें खींच कर गिनना शुरु कर देना है कोई पूछे अगर क्या गिन रहे हैं शर्माना नहीं है कह देना है  मुँह पर ही लाशें किसकी कोई पूछे तो बता देना है अपने घर के किसी की नहीं है मातम कहीं दिख रहा हो तो पूछने जर... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   4:01pm 25 Feb 2020 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
वैसे भी कौन लिख पाता है पूरा सच कोशिश सच की ओर कुछ कदम लिखने की होती है कोशिश जारी रहती है जारी रहनी चाहिये आप लिख रहे हैं लिखते रहें आपके लिखने ना लिखने से किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता है हाँ ज्यादा मुखर होना कुछ समय बाद आपको महसूस होने लगता है आप पर ही भारी पड़ रहा है आप कौन ह... Read more
clicks 59 View   Vote 0 Like   3:10pm 4 Feb 2020 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
कोई नहीं लिखता है अपना पता अपने लिखे पर शब्द बहुत होते हैं सबके पास अलग बात है शब्दों की गिनती नदी नालों में नहीं होती है लिखना कोई युद्ध नहीं होता है ना ही कोई योजना परियोजना लिखना लिखाना पढ़ना पढा‌ना लिखा लाकर समेटा एक बड़े से परदे पर ला ला कर सजाना लिखना प्रतियोगिता भी ... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   3:58pm 5 Dec 2019 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
जरा सा भी झूठ नहीं है सच्ची में सच साफ आईने सा यही है जाति धर्म झगड़े फसाद की जड़ रहा होगा कबीर के जमाने में अब तो सारी जमीन कीटाणु नाशक गंगा जल से धुल धुला कर खुद ही साफ हो गयी है नाम कभी पहचान नहीं हुऐ जाति नाम के पीछे लगी हुयी देखी गयी है झगड़ा ही खत्म कर गया ये तो नाम के आगे स... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   5:02pm 2 Apr 2019 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
तमन्ना है कई जमाने से आग लगाने की आदत पड़ गयी  मगर अब तो झक मारते रद्दी कागज फूँक राख हवा में उड़ाने की लकीरें हैं खींचनी आसमान तक पहुँचाने की कलमें छूट गयी नीचेमगर हड़बड़ी में ऊपर जाने की आदत पड़ गयी भूलने की कहते कहते झोला उठाने की लिखनी हैं कविताएं आदमी के अन्दर के आदम... Read more
clicks 41 View   Vote 0 Like   3:18pm 17 Mar 2019 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
हर गधे के पास एक कहानी होती है 'उलूक'कल फिर कविता से मुलाकात हो पड़ी बीच रास्ते में पता नहीं रास्ता रोककर ना जाने क्यों हो रही थी खड़ी हमेशा ही कविता से बचना चाहता हूँ फिर भी पता नहीं कहाँ जा कर किस खराब घड़ी में उसी के आगे पीछे अगल बगल कहीं अपने को उलझन में खड़ा पाता हूँ समझाते ... Read more
clicks 103 View   Vote 0 Like   12:32pm 13 Nov 2018 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
दिग्विजय जी के 'उलूक'कीपिछली बकबक पर पूछे गये प्रश्न का ‘उलूकोत्तर’आभारी रहता है      हमेशा ‘उलूक’ आप का आप आ ही जाते हैं बकवास है मानते भी हैं फिर भी उकसाने को कवि का तमगा टिप्पणी में चिपका ही जाते हैं खुद ही प्रश्नों में उलझे हुऐ एक प्रश्न के सर पर एक फूल प्रश्न ... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   2:41pm 5 Nov 2018 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
मानना तो पड़ेगा ही इसको उसको ही नहीं पूरे विश्व को तुझे किसलिये परेशानी हो जा री टापू से दूरबीन पकड़े कहीं दूर आसमान में देखते हुऐ एक गुरु को और बाढ़ में बह रहे मुस्कुराते हुऐ उस गुरु के शिष्य को जब शरम नहीं थोड़ा सा भी आ री एक बुद्धिजीवी के भी समझ में नहीं आती हैंं बातें बहुत ... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   3:02pm 18 Sep 2018 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
साहित्यकार कथाकार कवि मित्र फरमाते हैं भाई क्या लिखते हो क्या कहना चाहते हो समझ में ही नहीं आता है कई बार तो पूरा का पूरा सर के ऊपर से हवा सा निकल जाता है और दूसरी बला ये ‘उलूक’ लगती है बहुत बार नजर आता है है क्या ये ही पता नहीं चल पाता है हजूर साहित्यकार अगर बकवास समझना शु... Read more
clicks 84 View   Vote 0 Like   1:38pm 12 Sep 2018 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
अपनी आँखों से देखता है कुछ भी समझ लेता है और भी होती हैं आंखें देखती हुई आसपास में उन आँखों में पहले क्यों नहीं देख लेता है किसी को कुछ भी समझ में नहीं आया हर कोई कह देता है तेरे देखे हुऐ में उनका देखा हुआ कभी भी कुछ कहाँ होता है सब की समझ में सब की कहीं बातें आती भी नहीं हैं ... Read more
clicks 62 View   Vote 0 Like   2:11pm 7 Sep 2018 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
ऊपर वाला भी भेज देता है नीचे सोच कर भेज दिया है उसने एक आदमी नीचे का आदमी चढ़ लेता है उस आदमी के ऊपर से उतरते ही उसकी सोच पर सोचकर समझकर समझाकर सुलझाकर बनाकर उसको अपना आदमी आदमी समझा लेता है आदमी को आदमी खुद समझ कर पहले ये तेरा आदमी ये मेरा आदमी बुराई नहीं है किसी आदमी के कि... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   4:49pm 1 Nov 2017 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
                          चिट्ठाकार दिवस की शुभकामनाएं ।आधा पूरा हो चुके साल के अंतिम दिन यानि ठीक बीच में ना इधर ना उधर सन्तुलन बनाते हुऐ कोशिश जारी है बात को खींच तान कर लम्बा कर ले जाने की हमेशा की तरह आदतन मानकरअच्छी और संतुलित सोच के लोगों को छेड़ने के लिये ... Read more
clicks 103 View   Vote 0 Like   6:20pm 30 Jun 2017 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
कोशिश कर तो सही उतारने की सब कुछ कभी फिर दौड़ने की भी उसके बाद दिन की रोशनी में ही बिना झिझक जो सब कर रहे हैं क्यों नहीं हो पा रहा है तुझसे सोचने का विषय है तेरे लिये उनके लिये नहीं जिन्होने उतार दिया है सब कुछ कभी का सब कुछ के लिये हर उतारा हुआ उतारे हुए के साथ ही खड़ा होता है... Read more
clicks 62 View   Vote 0 Like   5:02pm 3 Oct 2016 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
चर्चा है कुछ है कुछ लिखने की हैकुछ लिखाने की है टूटे बिखरे पुराने बेमतलब शब्दों की जोड़ तोड़ से खुले पन्नों की किताबों की एक दुकान को सजाने की है शिकायत है और बहुत है कुछ में से भी कुछ भी नहींसमझा कर बस बेवकूफ बनाने की है थोड़ा सा कुछ समझ में आने लायक जैसे को भीघुमा फिरा कर ... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   4:01pm 11 Apr 2016 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स...
“अंशुमाली रस्तोगी जी” का आज दैनिक हिंदुस्तान में छपा लेख “इतना सधा हूँ कि सचमुच गधा हूँ” पढ़ने के बाद । अकेले नहीं होते हैं आप महसूस करते हैं और कुछ नहीं कहते हैं रिश्तेदारियाँ घर में ही हों जरूरी नहीं होता है आपका हमशक्ल हमख्याल कहीं और भी होता है आपका बहुत नजदीक... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   2:11pm 4 Nov 2014 #उलूक
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3968) कुल पोस्ट (190548)