POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: आत्म-चिंतन

Blogger: PAWAN KUMAR at Journey...
संभव उदय--------------कितना ऊर्ध्व शिशु उदय संभव, इस मनुज के अल्प वय-काल चेष्टा से ही संपूर्ण कार्य परिणत, अनुरूप परिस्थिति मात्र सहाय। देश-काल में एक समय अनेक जन्म, आवागमन का ताँता सतत सबका तो निज समय व्यतीत, पर क्या उच्च स्तर से भी संपर्क ?  मानसिक-भौतिक की उच्च श्र... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   1:03pm 21 Nov 2019 #आत्म-चिंतन
Blogger: PAWAN KUMAR at Journey...
संभव उदय--------------कितना ऊर्ध्व शिशु उदय संभव, इस मनुज के अल्प वय-काल चेष्टा से ही संपूर्ण कार्य परिणत, अनुरूप परिस्थिति मात्र सहाय। देश-काल में एक समय अनेक जन्म, आवागमन का ताँता सतत सबका तो निज समय व्यतीत, पर क्या उच्च स्तर से भी संपर्क ?  मानसिक-भौतिक की उच्च श्र... Read more
clicks 31 View   Vote 0 Like   1:03pm 21 Nov 2019 #आत्म-चिंतन
Blogger: PAWAN KUMAR at Journey...
संभव उदय--------------कितना ऊर्ध्व शिशु उदय संभव, इस मनुज के अल्प वय-काल चेष्टा से ही संपूर्ण कार्य परिणत, अनुरूप परिस्थिति मात्र सहाय। देश-काल में एक समय अनेक जन्म, आवागमन का ताँता सतत सबका तो निज समय व्यतीत, पर क्या उच्च स्तर से भी संपर्क ?  मानसिक-भौतिक की उच्च श्र... Read more
clicks 30 View   Vote 0 Like   1:03pm 21 Nov 2019 #आत्म-चिंतन
Blogger: PAWAN KUMAR at Journey...
ऊर्ध्व-जिजीविषा ------------------अजीब सी हैं ये सुबहें भी, ख़ामोशी से बैठने ही देती न कुछ पढ़ो, प्रेरक लोगों में बाँटो, बैठो जैसा हो दो लिख। यह निज संग सिलसिला पाने-बाँटने का, कुछ करने का अन्य साधु उपयोग थे संभव, पर अभी वैसा जैसा भी बने।बकौल रोबिन शर्मा प्रातः ५ बजे व... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   2:13pm 4 Nov 2019 #आत्म-चिंतन
Blogger: PAWAN KUMAR at Journey...
जननी-कार्य-------------- प्रकृति से एक मूर्त मिली, सब अंग-ज्ञानेन्द्रियाँ, बुद्धि से युक्त खिलौना तो है सुनिर्मित, पर अज्ञात कैसे हो रहा है प्रयोगित। विधाता-बुद्धि है सशक्त, एक अच्छा कलाकार इतनी सामग्री अपनी ओर से न कसर, सब चर-चराचर उसी की कलाकृति। माना पूर्ण-निर्मा... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   12:22pm 19 Oct 2019 #आत्म-चिंतन
Blogger: PAWAN KUMAR at Journey...
कलम-यात्रा --------------चिंतन-पूर्व भी चिंतन, एकजुट देह-आत्मा समर्पित महद-लक्ष्य समय-ऊर्जा भुक्त, पर यथाशीघ्र मंजिल-प्राप्ति हेतु हो तत्पर।  मनन-विषय अहम प्रारंभ-नियम, पर यावत न तिष्ठ कुछ न निकसएक चित्तसार, सुखासन-प्रकाश, देह-मन सहज, एकांत-निरुद्ध। अहं-त्याग, वृहद-... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   1:07am 30 Sep 2019 #आत्म-चिंतन
Blogger: PAWAN KUMAR at Journey...
 युग-द्रष्टा------------एक युग-द्रष्टा निमित्त अनुशासन जरूरी, बहु-आयाम साक्षात्कार सर्व मनुजता एकसूत्रीकरण दुरह, सुधैर्य-श्रम व दृढ़ता ही सखा। उच्च-लक्ष्यी ऊर्ध्व-पश्यी, स्वप्न संभावनाओं का मूर्तरूप-परिवर्तन न आत्म-मुग्धता अपितु स्व-स्थित, ज्ञात गंतव्य निम्नता ... Read more
clicks 109 View   Vote 0 Like   6:27pm 15 Aug 2019 #आत्म-चिंतन
Blogger: PAWAN KUMAR at Journey...
चिरंतन विवेचन-------------------एक स्वाभाविक सा प्रश्न आज मेरे मन में आया  शनै-२ आयु बढ़ रही, जीवन यूँ बीता जा रहा।   क्या जीवन मात्र है प्रातः-अपराह्न-निशा ही मध्यहम जीते इन क्षणों में ,जैसे यही है शाश्वत सत्य। कार्यालय में काम, सहकर्मियों से संवाद-विवाद  कुछ कहना, स... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   6:35pm 6 Apr 2019 #आत्म-चिंतन
[Prev Page] [Next Page]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3968) कुल पोस्ट (190561)