POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: editorial

Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
  कई बार लोगो ने कहा मासूम भाई सेक्स भी एक विषय है जिसपे बात होनी चाहिये | चलिये आज उस पे भी कुछ कहे देता हू | आज के अवसर वादी युग मे प्यार किसे कहा जाता है यह समझ पाना आसान नही | पेट और सेक्स की भूख शारीरिक जरूरत है और जो इन जरूरतो को पूरा करता है इन्सान उससे प्यार करने लगता ... Read more
clicks 433 View   Vote 0 Like   5:56am 14 Aug 2015 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
स्वतंत्रता दिवस जश्न ए आजादी का दिन है और हर त्योहार से ये ख़ुशी अधिक मायने रखती है | मानता हू कि आजादी के बाद हम भारतवासियो ने जो जो सपने देखे थे वो पूरी तरह से साकार नही हो सके लेकिन यह भी क्या कम है कि अब हम गर्व से ये तो कह सकते है कि हम किसी गुलाम देश के नागरिक नही है | आज ... Read more
clicks 192 View   Vote 0 Like   4:18am 14 Aug 2015 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हक और बातिल...
सभी लोगों को ईद की मुबारकबाद | मशहूर शायर कामिल जौनपुरी ने क्या खूब कहा है |मैखान-ए-इंसानियत की सरखुशी, ईद इंसानी मोहब्बत का छलकता जाम है।आदमी को आदमी से प्यार करना चाहिए, ईद क्या है एकता का एक हसीं पैगाम है।ईद उल फि़त्रः पहली शव्वाल को एक महीने के रोज़े पूरे करने का शुकर... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   3:44am 17 Jul 2015 #editorial
Blogger: S.M.MAasum at हक और बातिल...
इस्लाम ने जिन समाजी और सोशली अधिकारों की ताकीद की है और मुसलमानों को उनकी पाबंदी का हुक्म दिया है उनमें से एक यह है कि वह अपने घर परिवार और रिश्तेदारों के साथ हमेशा अच्छे सम्पर्क बनाये रखें इसी को सिल-ए-रहेम अर्थात रिश्तेदारों से मिलना जुलना कहा जाता है। इसलिये एक मुस... Read more
clicks 204 View   Vote 0 Like   9:22pm 8 Jul 2015 #editorial
Blogger: S.M.MAasum at हक और बातिल...
हसद का मतलब होता है किसी दूसरे इंसान में पाई जाने वाली अच्छाई और उसे हासिल नेमतों के ख़त्म हो जाने की इच्छा रखना। हासिद इंसान यह नहीं चाहता कि किसी दूसरे इंसान को भी नेमत या ख़ुशहाली मिले। यह भावना धीरे धीरे हासिद इंसान में अक्षमता व अभाव की सोच का कारण बनती है और फिर व... Read more
clicks 247 View   Vote 0 Like   9:13pm 8 Jul 2015 #editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
// < ![CDATA[ google_ad_client = "pub-0489533441443871"; /* 300x250, created 4/17/10 */ google_ad_slot = "4409395350"; google_ad_width = 300; google_ad_height = 250; // ]]>// < ![CDATA[ // ]]>आज विश्व स्वास्थ दिवस था ऐसे में ये ध्यान आया कि देखा जाय हम और हमारी सरकार स्वास्थ के प्रति कितने जागरूक हैं ? लेकिन पहले समझते हैं की ये विश्व स्वास्थ दिवस क्या है विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्‍ल... Read more
clicks 67 View   Vote 0 Like   5:02pm 7 Apr 2015 #editorial
Blogger: S.M.MAasum at हक और बातिल...
ईश्वरीय दूतों का इस लिए पापों से दूर रहना आवश्यक है क्योंकि यदि वे लोगों को पापों से दूर रहने की सिफारिश करेगें किंतु स्वंय पाप करेंगे तो उनकी बातों का प्रभाव नहीं रहेगा जिससे उनके आगमन का उद्देश्य ही समाप्त हो जाएगा। ईश्वरीय दूत समस्त मानव जाति के लिए मार्गदर्शक होत... Read more
clicks 223 View   Vote 0 Like   6:21am 29 Mar 2015 #editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
कल किताबों में एक १५० साल पुरानी अनामी डायरी मिली जिसके लेखक ने बखूबी एक ऐसे शख्स की डायरी के कुछ पन्नो का ज़िक्र किया जो अपने दिल की बात किसी से कह ना सका | एक शख्स ऐसा था जिसने अपने जीवन में बहुत सी ऊँचाइयाँ ,इज्ज़त और शोहरत देखी की अचानक कुछ कारणवश उसका सब कुछ खो गया | उसने ... Read more
clicks 253 View   Vote 0 Like   8:59am 30 Sep 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
कल किताबों में एक १५० साल पुरानी अनामी डायरी मिली जिसके लेखक ने बखूबी एक ऐसे शख्स की डायरी के कुछ पन्नो का ज़िक्र किया जो अपने दिल की बात किसी से कह ना सका | एक शख्स ऐसा था जिसने अपने जीवन में बहुत सी ऊँचाइयाँ ,इज्ज़त और शोहरत देखी की अचानक कुछ कारणवश उसका सब कुछ खो गया | उसने ... Read more
clicks 205 View   Vote 0 Like   8:59am 30 Sep 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
ये लगता सच है लेकिन हैं नहीं | आज का युग सोशल मीडिया का युग है जहां लोग फेसबुक ,ट्विटर इत्यादि के उपयोग से अपने सप्रक बनाया करते हैं | फेसबुक ,ट्विटर एक खुला प्लेटफ़ॉर्म है जहां हर तरह के लोग अपना प्रोफाइल बनाए बैठे हैं जिनमे केवल सही नाम वाले होंगे ये मान के चलना बेवकूफी ही... Read more
clicks 63 View   Vote 0 Like   4:18am 16 Sep 2014 #editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
प्रकृति से प्रेम और घुमक्कड़  स्वभाव अक्सर मुझे शहरों और गाँव के ऐसे इलाके में ले जाता है जहां सिर्फ कुदरत का करिश्मा नज़र आया करता है | फूलों के बगीचे हों और सुबह का वक़्त तो ऐसा लगता है की आप जन्नत में खड़े हैं | लगभग तीन चार महीने पहले मैं लखनऊ के बाहरी इलाके में गुलाबों क... Read more
clicks 356 View   Vote 0 Like   4:50am 22 Aug 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
प्रकृति से प्रेम और घुमक्कड़  स्वभाव अक्सर मुझे शहरों और गाँव के ऐसे इलाके में ले जाता है जहां सिर्फ कुदरत का करिश्मा नज़र आया करता है | फूलों के बगीचे हों और सुबह का वक़्त तो ऐसा लगता है की आप जन्नत में खड़े हैं | लगभग तीन चार महीने पहले मैं लखनऊ के बाहरी इलाके में गुलाबों क... Read more
clicks 162 View   Vote 0 Like   4:50am 22 Aug 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
// < ![CDATA[ google_ad_client = "pub-0489533441443871"; /* 300x250, created 4/17/10 */ google_ad_slot = "4409395350"; google_ad_width = 300; google_ad_height = 250; // ]]>// < ![CDATA[ // ]]> आज अचानक याद आ गए गाँव के पुराने दिन जहां एक ख़बरी लाल हुआ करते थे | इनका नाम तो कुछ और था लेकिन इन्हें लोग ख़बरी लाल पुकारा करते थे | यह पढ़े लिखे कम थे और कोई काम इनके पास नहीं था लेकिन पत्नी धनवान थी ... Read more
clicks 179 View   Vote 0 Like   9:00pm 8 Aug 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
आज अचानक याद आ गए गाँव के पुराने दिन जहां एक ख़बरी लाल हुआ करते थे | इनका नाम तो कुछ और था लेकिन इन्हें लोग ख़बरी लाल पुकारा करते थे | यह पढ़े लिखे कम थे और कोई काम इनके पास नहीं था लेकिन पत्नी धनवान थी और इनकी गाड़ी बड़े प्रेम से दौड़ रही थी | इनका काम पत्नी सेवा और फिर मोहल्ले ,गा... Read more
clicks 370 View   Vote 0 Like   9:00pm 8 Aug 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
ये अशोक का पेड़ है जिसकी उम्र ५० साल तो अवश्य है क्यूँ की मैं जब ५ साल का था तो इस पेड़ को हवा से हिलते देख रात में डर जाता था | इस पेड़ का और मेरा साथ १९ साल तक रहा और ना जाने कितनी यादें इस से जुड़ गयीं.| कभी डरा तो कभी इस पेड़ पे चढ़ना सीखा तो कभी इस्पे अपना नाम लिखना तो कभी इसके फल को ... Read more
clicks 252 View   Vote 0 Like   8:56pm 3 Aug 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
ये अशोक का पेड़ है जिसकी उम्र ५० साल तो अवश्य है क्यूँ की मैं जब ५ साल का था तो इस पेड़ को हवा से हिलते देख रात में डर जाता था | इस पेड़ का और मेरा साथ १९ साल तक रहा और ना जाने कितनी यादें इस से जुड़ गयीं.| कभी डरा तो कभी इस पेड़ पे चढ़ना सीखा तो कभी इस्पे अपना नाम लिखना तो कभी इसके फल को ... Read more
clicks 407 View   Vote 0 Like   8:56pm 3 Aug 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हक और बातिल...
इमामत व ख़िलाफ़त का मक़सद समाज से बुराईयों को दूर कर के अदालत (न्याय) को स्थापित करना और लोगों के जीवन को पवित्र बनाना है। यह उसी समय संभव हो सकता है जब इमामत का ओहदा लायक़, आदिल व हक़ परस्त इंसान के पास हो। कोई समाज उसी समय अच्छा व सफ़ल बन सकता है जब उसके ज़िम्मेद... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   2:26am 23 Jul 2014 #editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
अयातुल्लाह सीस्तानी  अभी तक लोग सुनते रहे हैं कि आतंकवादी बेगुनाहों की जान लेने को जिहाद  बताते हैं और लोगों गुमराह करके नरसंहार करवाया  करते हैं | हकीकत में यह इस्लाम नहीं लेकिन कैसे समझाया  जाए लोगों को जब दुनिया को दिख यही रहा है | कुछ गिनती के आतंकवादी ऐसा कर... Read more
clicks 303 View   Vote 0 Like   7:31pm 16 Jun 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
अयातुल्लाह सीस्तानी  अभी तक लोग सुनते रहे हैं कि आतंकवादी बेगुनाहों की जान लेने को जिहाद  बताते हैं और लोगों गुमराह करके नरसंहार करवाया  करते हैं | हकीकत में यह इस्लाम नहीं लेकिन कैसे समझाया  जाए लोगों को जब दुनिया को दिख यही रहा है | कुछ गिनती के आतंकवादी ऐसा कर... Read more
clicks 202 View   Vote 0 Like   7:31pm 16 Jun 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
अयातुल्लाह सीस्तानी  अभी तक लोग सुनते रहे हैं कि आतंकवादी बेगुनाहों की जान लेने को जिहाद  बताते हैं और लोगों गुमराह करके नरसंहार करवाया  करते हैं | हकीकत में यह इस्लाम नहीं लेकिन कैसे समझाया  जाए लोगों को जब दुनिया को दिख यही रहा है | कुछ गिनती के आतंकवादी ऐसा कर... Read more
clicks 242 View   Vote 0 Like   7:31pm 16 Jun 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हक और बातिल...
लखनऊ अज़ादारी की  पहचान है और अज़ादारी को आगे बढाने में इसका बहुत बड़ा योगदान रहा है |अब लखनऊ आबादी बढ़ने की वजह से फैलने लगा है | लखनऊ में एक नया इलाक बस रहा है dubagga जहां अभी सिर्फ २०-२५ मोमिनीन ही हैं लेकिन खुलूस और मुहब्बत  देखिये १५ शाबान का जश्न इ विलादत इमाम ऐ ज़माना जोर श... Read more
clicks 128 View   Vote 0 Like   4:14am 16 Jun 2014 #editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
आज कल शादियों में जाइये तो एक चर्चा बहुत आम हुआ करती है भाई सोने के १२ सेट दिए और कार की चाभी सलाम कराई में मिल गयी | जी हाँ य उस धर्म के मानने वालों का हाल है जहां दहेज़ प्रथा का कोई वजूद नहीं है | बल्कि दहेज़ लड़का देता है या कह लेकिन की शादी के पहले लड़के को ही उसके लिए घर, और दुस... Read more
clicks 128 View   Vote 0 Like   4:48am 8 Jun 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
आज कल शादियों में जाइये तो एक चर्चा बहुत आम हुआ करती है भाई सोने के १२ सेट दिए और कार की चाभी सलाम कराई में मिल गयी | जी हाँ य उस धर्म के मानने वालों का हाल है जहां दहेज़ प्रथा का कोई वजूद नहीं है | बल्कि दहेज़ लड़का देता है या कह लेकिन की शादी के पहले लड़के को ही उसके लिए घर, और दुस... Read more
clicks 321 View   Vote 0 Like   4:48am 8 Jun 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
इंसान को उन मुहब्बतों की कद्र कम हुआ करती है जो उन्हें मिलती रहती है इसलिए यदि माँ की मुहब्बत किसे कहते हैं वो हम जैसे उन लोगों से पूछिए जिनकी माँ अब दुनिया में नहीं रही | हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम के ज़माने में दो औरतें अपने कुछ माह के बच्चों को साथ लिए जंगल से गुज़र रही थ... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   5:05am 6 Jun 2014 #Editorial
Blogger: S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
इंसान को उन मुहब्बतों की कद्र कम हुआ करती है जो उन्हें मिलती रहती है इसलिए यदि माँ की मुहब्बत किसी कहते हैं वो हम जैसे उन लोगों से पूछिए जिनकी माँ अब दुनिया में नहीं रही | हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम के ज़माने में दो औरतें अपने कुछ माह के बच्चों को साथ लिए जंगल से गुज़र रही थ... Read more
clicks 382 View   Vote 0 Like   5:05am 6 Jun 2014 #Editorial

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3997) कुल पोस्ट (196126)