Blogger: akhtar khan akela at आपका-अख्तर खा...
और वह तो यक़ीनन क़यामत की एक रौशन दलील है तुम लोग इसमें हरगिज़ शक न करो और मेरी पैरवी करो यही सीधा रास्ता है (61)और (कहीं) शैतान तुम लोगों को (इससे) रोक न दे वही यक़ीनन तुम्हारा खुल्लम खुल्ला दुश्मन है (62)और जब ईसा वाज़ेए व रौशन मौजिज़े लेकर आये तो (लोगों से) कहा मैं तुम्हारे पा...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   7:56am 22 Mar 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at चर्चामंच...
मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') -- दोहे   "होलक का शुभदान"   उच्चारण  -- चुनावी होली   और   होली चुनावी   दो अलग सी बातें   कभी एक साथ नहीं होती  उलूक टाइम्स पर  सुशील कुमार जोशी  -- राधा कृष्...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   3:00am 22 Mar 2019
Blogger: माधवी रंजना at DAANAPAANI...
बठिंडा के होटल में सुबह 4.30 बजे  ही जगकर स्नान करके तैयार होकर मैं 5.30 बजे सुबह होटल से बठिंडा की सड़क पर निकल पड़ा। दिसंबर की सुबह में 5.30 बजे बाहर निकलना कुछ लोगों के लिए मुश्किल हो सकता है। मैं लोगों से किला मुबारक का रास्ता पूछता हुआ आगे बढ़ रहा हूं।बठिंडा पंजाब के बहुत ...
clicks 7 View   Vote 0 Vote   12:00am 22 Mar 2019
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम at लम्हों का सफ़...
रंगों की होली (10 हाइकु)   *******   1.   रंगो की होली   गाँठ मन की खोली   प्रीत बरसी।   2.   पावन होली   मन है सतरंगी   सूरत भोली।   3.   रंगों की झोली   आसमान ने फेंकी   धरती रँगी।   4.   हवा में घुले   रंग भरे जज़्बात   होली के साथ।  &nb...
clicks 4 View   Vote 0 Vote   11:01pm 21 Mar 2019
Blogger: Himkar Shyam at शीराज़ा [Shiraza]...
                   जोगीरा सारा रा रा रा-2       [होली के कुछ  रंग, हास्य-व्यंग के संग] 16. जुड़ता कुनबा देखते, रघुवर हैं बेचैन       अरसे से हेमंत की, सत्ता पर है नैन       जोगीरा सारा रा रा रा 17. काशी क्योटो बन रही, बदला अस्सी घाट       कॉरिडोर के नाम पर, खड़ी हो रही खाट       जोगीरा सारा रा रा रा 18. दि...
clicks 5 View   Vote 0 Vote   4:20pm 21 Mar 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
होली तो होली हुई, छोड़ गयी सन्देश।भस्म बुराई हो गयी, बदल गया परिवेश।‍१।--पावन होली खेलकर, चले गये हैं ढंग।रंगों के त्यौहार के, अजब-ग़ज़ब थे रंग।२।-- जली होलिका आग में, बचा भक्त प्रहलाद।जीवन में सबके रहे, प्यार भरा उन्माद।३। --दहीबड़े-पापड़ सजे, खाया था मिष्ठान।रंग-गुल...
clicks 7 View   Vote 0 Vote   12:56pm 21 Mar 2019
Blogger: noopuram at नमस्ते namaste ...
#विश्वकवितादिवस #WorldPoetryDay...
clicks 10 View   Vote 0 Vote   11:11am 21 Mar 2019
Blogger: Udantashtari in UFOs Kitchen at UFO'S KITCHEN...
Ingredient:कच्चा पपीता – RawPapaya – 1 Papayaदेशी घी-Ghee or Butter– 2 Tea Spoonमलाई – Cooking Cream – 1/4 Cupशक्कर – Sugar – 1 spoonशीरा शक्कर का – Sugar Syrup – 2 Cupहरी इलायचीपावडर – Cardamom Powder – ½ tea spoonबादाम के फ्लेक्स – Almond Flakes – ¼ cupनारियल पावडर – Coconut Powder – 1 Tea SpoonPlease Subscribe by Clicking Subscribe button belowAnd visit UFO's Kitchen FB page:https://www.facebook.com/ufoskitchenYou can also Subscribe for Recipe by email at our web site:http://www.ufoskitchen.com/...
clicks 12 View   Vote 0 Vote   5:43am 21 Mar 2019
Blogger: Hardeep Rana at kunwarji's...
सिनेमा और टीवी व विज्ञापन की ताकत को वामपंथी कसाई ईसाई पापीये कंगले खूब समझते है, और विज्ञापन जगत में अच्छी पकड़ भी इन्होंने बनाई है। अपने प्रोपगेंडा को जनमानस के मानस में उतारने के लिए इनका बखूबी प्रयोग भी ये करते है। सबसे ताजा उदाहरण आपको #सिर्फ_एक्सेल वाला ध्यान होग...
clicks 13 View   Vote 0 Vote   11:49pm 20 Mar 2019
Blogger: Deepak Kumar Bhanre at .मेरी अभिव्यक...
कुछ इस तरह से होली मना लें , खुशियों के रंगों से मह्फिल सजा लें ॥ थोड़ी मस्ती थोड़ी शरारत , अपनों संग धूम और धमाल मचा लें . नीला पीला हरा लाल गुलाबी , कुछ गुलाल और कुछ रंग लगा लें .कुछ इस तरह से होली मना लें.........................छुपते छिपाते कुछ शरमाते लोगों को , घर से जरा बाहर निकालें .  च...
clicks 15 View   Vote 0 Vote   7:57pm 20 Mar 2019
Blogger: सु-मन (Suman Kapoor) at बावरा मन...
भर दो हर दिल में मोहब्बत का रंग, मेरे मौला कि मज़हबी रंग गुलाल-ए-अमन में बदल जाए !!सु-मन ...
clicks 7 View   Vote 0 Vote   5:28pm 20 Mar 2019
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
 इस लेख में मैं भारत में स्थित गुरुकुलों का परिचय देने जा रहा हूँ। यहाँ आप नामांकन कराकर संस्कृत विषयों का अध्ययन कर सकते हैं। इन विद्यालय में  छात्र किस कक्षा में प्रवेश ले सकते हैं? विद्यालय में किस कक्षा से किस कक्षा तक पढ़ाई होती है? विद्यालय में सह शिक्षा की व्यवस...
clicks 14 View   Vote 0 Vote   4:09pm 20 Mar 2019
Blogger: Dr T S Daral at अंतर्मंथन...
होली पर्व हैमस्ती में आने का।खाने खिलाने का ,पीने पिलाने का।हंसने हंसाने का ,और सबको प्यार से गले लगाने का।लेकिन इतना प्यार भी नहीं दिखाने का ,कि तकरार ही हो जाये !हैप्पी होली !!!!!...
clicks 16 View   Vote 0 Vote   12:20pm 20 Mar 2019
Blogger: एल एस बिष्ट् at क्षितिज(horizon)...
      जब खेतों में सरसों के रंग बिखरने लगे हों , पीले फूलों पर तितलियां और भौरें मंडराने लगे हों , अमराई बौराई बौराई सी लगने लगी हो , टेसू धहकने लगे हों , हवा के अलमस्त झोके मदहोस करने लगे हों , युवा मन कुलांचे भरने लगे तो समझिये फागुन आ गया ।      फागुन चाहे-अनचा...
clicks 12 View   Vote 0 Vote   10:31am 20 Mar 2019
Blogger: K.D.Sharma at समाज की बात - Sam...
आज से लगभग हजार वर्ष पहले हिंदी साहित्य बनना शुरू हुआ था।  इन हजार वर्षों में भारतवर्ष का हिंदी भाषी जन समुदाय क्या सोच-समझ रहा था, इस बात की जानकारी का एकमात्र साधन हिंदी साहित्य ही है। कम से कम भारतवर्ष के आधे हिस्से की सहस्रवर्ष-व्यापी आशा-आकांक्षाओं का मूर्तिमान्...
clicks 3 View   Vote 0 Vote   7:34pm 19 Mar 2019
Blogger: Anita nihalani at मन पाए विश्रा...
अगन होलिका की है पावन बासंती मौसम बौराया मन मदमस्त हुआ मुस्काया, फागुन पवन बही है जबसे अंतर में उल्लास समाया ! रंगों ने फिर दिया निमंत्रण मुक्त हो रहो तोड़ो बंधन, जल जाएँ सब क्लेश हृदय के अगन होलिका की है पावन ! जली होलिका जैसे उस दिन जलें सभी संशय हर उर के, शेष रहे...
clicks 8 View   Vote 0 Vote   11:48am 19 Mar 2019
Blogger: Amit Mishra at Amit Mishra...
एक आशिक़ को इस तरह बेचारा नही करतेबाद  जुदाई  के  प्यार  से  पुकारा नही करतेकुछ  तो  खौफ़  ख़ुदा  का  तुम  भी रखोकरके  वादे&nbs...
clicks 13 View   Vote 0 Vote   10:59am 19 Mar 2019
Blogger: Bal Sajag at बाल सजग...
"फाल्गुन का महीना "फाल्गुन का महीना आया,बच्चों ने रंग खेलने की तैयारी की | भरे पिचकारी फेके पडे हैं, लाल , हरे ,पिले रंग झेले पड़े हैं | खूब मौज -मस्ती से खेले पड़े है,फाल्गुन के महीने में झूम उठे है | होली में सब जाग चुके हैं,फाल्गुन में उमंग से फूल चुके हैं | कवि : विक्रम कुमार , कक...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   7:16am 19 Mar 2019
[ Prev Page ] [ Next Page ]

 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013