feedji.com
हमारीवाणी ने बनाया नए युग का ब्लॉग एग्रीगेटर, जहाँ आप ना केवल आसानी से अपनी ब्लॉग-पोस्ट शेयर कर सकते हैं, बल्कि आज के युग की आवश्यकतानुसार सोशल मिडिया से जुडी अनेकों सुविधाओं का प्रयोग कर सकते हैं.

आज ही सदस्य बने: http://www.feedji.com

1
View
My ImageAuthor rozkiroti
   क्या कभी आप ऐसे वार्तालाप में फंसे हैं जहाँ कोई व्यक्ति केवल अपने बारे में ही बोले चला जा रहा हो? हो सकता है कि आपने शिष्टाचार के नाते किसी से कोई प्रश्न कर के वार्तालाप आरंभ तो कि... Read more
Tag :वचन
0
View
My ImageAuthor रश्मि
नीले चादर पर नहीं जड़े हैं सलमा-सि‍तारे.....बस एक चांद की टि‍कुली है.....रहने दो इसे..जगमग ...तुम्‍हें पसंद है न गोरे चेहरे पर एक टि‍कुली..चांद सी...सि‍तारों की रौशनी को मद्धि‍म करती...दूर ढोल क... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 7:55 pm
0
View
My ImageAuthor devduttaprasoon
 (सरे चित्र 'गूगल-खोज'से साभार)                                          ‘मधुवनों’में ‘शान्ति’का होता ‘विभंजन’ देखिये !     डरे हैं  ‘बाजों’से कितने, भोल... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 5:42 pm
0
View
My ImageAuthor RAVINDRA PRABHAT
मधेपुरा : रविवार को मधेपुरा कॉलेज में हिन्दी मैथिली साहित्य और नागार्जुन विषय पर आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में नेपाल, बंगाल और मिथिला व अंग के कवि-साहित्यकारों ने जनकवि, प्र... Read more
Tag :सांस्कृतिक गतिविधियाँ
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 5:16 pm
1
View
My ImageAuthor zeashan zaidi
लेखक : ज़ीशान हैदर ज़ैदी उसके जिस्म पर फटे पुराने चिथड़े थे और चेहरे पर भूख प्यास के साथ भय की लकीरें। वह बेतहाशा भाग रही थी। क्योंकि तीन दरिन्दे उसका पीछा कर रहे थे। ये तीनों वो थे जि... Read more
Tag :Short Stories and Dramas
1
View
My ImageAuthor Sharif Khan
हिन्दू समाज में लड़कियों में शिक्षा का प्रतिशत काफी अधिक होने के कारण उनमें जो जागृति आई है उसके नतीजे में वह अपने समाज की कथनी और करनी में अन्तर के उस पाखण्ड से परिचित हो चुकी हैं जिस... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 3:39 pm
0
View
My ImageAuthor devduttaprasoon
‘पवन’ चली ‘डाली’ हिली, डर गये ‘पीले पात’ |सिहर उठे ‘आतंक’ से, सुभग छबीले ‘पात’ ||पुरखों ने बोये जहाँ, ‘मीठे मीठे आम’ |उन्हें काट कर बो रहे, हम ‘बबूल उद्दाम’ ||पोर पोर में चुभ रहे, ‘अन्तर्मन... Read more
Tag :
0
View
My ImageAuthor डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 भौंहें वक्र-कमान न करलक्ष्यहीन संधान न करओछी हरक़त करके बन्देदुनिया को हैरान न करदीन-धर्म पर करके दंगेईश्वर का अपमान न करमन पर काबू करले प्यारेदिल को बेईमान न करजल-जंगल से ही जीवन... Read more
Tag :सूरत पर अभिमान न कर
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 3:13 pm
0
View
My ImageAuthor devduttaprasoon
     (सरे चित्र 'गूगल-खोज'से साभार)होता बुलन्दियों में, है शुमार  इश्क़ का !छूता है आसमान को, मीनार  इश्क़ का !!हुस्नौ शबाब बेचिए, चाहे ख़रीदिए-होता नहीं है लेकिन, बाज़ार इश्क़ का !!होतीं फ़... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 2:43 pm
0
View
My ImageAuthor harminder singh
मौसम का मिजाज पूरी तरह बदला हुआ है। ऐसा लगता है जैसे गरमी गयी। लेकिन गरमी इतनी आसानी से थोड़े ही जाने वाली है। उसे बैंड-बाजा जो चाहिए। आपको यकीन न हो तो खुले आसमान में थोड़ा दौड़भाग करके द... Read more
Tag :my diary
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 2:31 pm
2
View
My ImageAuthor Dr.Divya Srivastava
एक मित्र ने कौतूहल से पूछा कि क्या आप अपने बच्चों से सभी सामाजिक मुद्दों पर चर्चा कर लेती हैं ? क्या आपको नहीं लगता कि अभी उनकी उम्र बहुत कम है इन सब बातों के लिए?--------------------------------------------------------------... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 1:13 pm
4
View
My ImageAuthor kiran mishra
उन्होंने कहा हम परतंत्र है औरउतार दिया सुहाग चिन्ह फेक दिए रीतिरिवाज उन्होंने कहा हम रचेंगे तंत्र उठा लिए हथियार सीख ली गाली उन्होंने कहा अब हम स्वतंत्र है पहन लिए अल्प ... Read more
Tag :
1
View
My ImageAuthor Rajesh Tripathi
      राजेश त्रिपाठीजरूरी नहीं कि तुम जमीं का सितारा बनो।अगर हो सके तो किसी का सहारा बनो।।कभी-कभी मझधार में डुबो देती है कश्ती भी।हो सके तो किसी डूबते का सहारा बनो।।जन्म आदम क... Read more
Tag :
1
View
My ImageAuthor Hemant Kumar
जंगल  में जैसे ही पहुंचे,मोटे कई शिकारी,सभी जानवर भागे फ़ौरनआया संकट भारी।कोई भागा गुफ़ा में अपनीकोई नदी में कूदापर भालू सियार ने मिलकरतरकीब निकाली न्यारी।दोनों ने पत्थर फ़ेंके फ़िर... Read more
Tag :झूमो नाचो गाओ
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 9:54 am
0
View
My ImageAuthor NEERAJ KUMAR
एक पुरुष करता है अपनी स्त्री  से बहुत प्यार. वह उसे खोना नहीं चाहता है ,उसपर चाहता है एकाधिकार । उसने डाल दी है उसके पांवों में बेड़ियाँ. स्त्री भी करती हैउससे बेपनाह मुहब्बत... Read more
Tag :
3
View
My ImageAuthor Kalipad "Prasad"
गुस्सा  न तो दीमक है न वह शीत ज्वर है ,यह तो सैलाब है .........जो तोड़ देता है वुद्धि का बांध उखाड़ देता है विवेक का जड़ मनुष्य को बना देता है हिंस्र पशु तोड देता है रिश्ते नाते का बंधन स... Read more
Tag :विवेक
1
View
My ImageAuthor suresh sawpnil
नए  एहबाब  कुछ  ज़्याद:  मुहब्बत  चाहते  हैंहमारी  ज़ात  पर  अपनी  हुकूमत  चाहते  हैंवो  देना  चाहते  हैं  दिल  हमें  इक शर्त्त  रख  करहमारी       दौलते-ईम... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 7:14 am
1
View
My ImageAuthor subodh
जब आप ये जान लेते है कि सफलता के लिए बाह्य तत्वों से  ज्यादा  आतंरिक तत्व  जिम्मेदार है  तब आप ये भी जान लेते है कि सफलता को साधने के लिए, सम्हालने के लिए शरीर की मजबूती से ज्यादा व... Read more
Tag :
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 6:42 am
View
My ImageAuthor समीर लाल
पिछले महिने जुलाई २०१४ में जिस दिन डॉ कुमार विश्वास अमेरीका पहुँचे, उसी सुबह उनसे फोन पर बात हुई. पता चला कि अमेरीका और कनाडा के १४ अलग अलग शहरों में हो रहे कार्यक्रमों में टोरंटो में ... Read more
Tag :Kavi Sammelan
Blogs
Follow me
September 2, 2014, 6:30 am
[Prev Page] [Next Page]
Share:
  गूगल के द्वारा अपनी रीडर सेवा बंद करने के कारण हमारीवाणी की सभी कोडिंग दुबारा की गई है। हमारीवाणी "क्...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3166) कुल पोस्ट (116951)