POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: चिकोटी

Blogger: Anshu Mali Rastogi
जब'पैसा हाथ का मैल है'तो 'एटीएम में कैश नहीं है'को लेकर इतना फिक्रमंद क्यों होना महाराज? नहीं है तो नहीं है। समझदारी तो इसमें है कि जो चीज नहीं है, काम उसके वगैर चलाया जाए। लेकिन नहीं...।लगा पड़ा है हर कोई सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक कभी सरकार तो कभी बैंक को गरियाने में। गरियात... Read more
clicks 123 View   Vote 0 Like   3:53am 25 Apr 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
आजकलमुझे मच्छरों से पीड़ित लोग बहुत मिल रहे हैं। हर किसी की जुबान पर बस यही शिकायत है- 'मच्छरों ने आतंक मचा रखा है।'तो क्या मच्छर आतंकवादी हो गए हैं? नहीं। मैं मच्छरों की तुलना आतंक या आतंकवादी से करने के सख्त खिलाफ हूं। यह एक निरही जीव को बदनाम करने की कुत्सित साजिश है।मै... Read more
clicks 184 View   Vote 0 Like   5:50am 14 Apr 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
तयकिया है कि मैं अपना नाम बदलूंगा! यह नाम अब मुझे जमता नहीं। न तो मेरे नाम में फिल्मी फील है न साहित्यिक प्रभाव। जब भी कोई मेरा नाम पुकारता है, लगता है, शुष्क नदी में पत्थर फेंक रहा हो! पता नहीं, क्या और क्यों सोचकर मेरे घर वालों ने मेरा यह नाम रख दिया।बहुत अच्छे से याद है, ज... Read more
clicks 175 View   Vote 0 Like   4:54am 13 Apr 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
सिवाय'लोटावाद'को छोड़कर दुनिया के किसी भी वाद में मेरा रत्तीभर विश्वास नहीं। बाकी वादों के साथ अपनी-अपनी वैचारिक प्रतिबद्धताएं हैं लेकिन लोटावाद के साथ ऐसा कुछ भी नहीं। यह वाद एकदम स्वतंत्र है।हालांकि लोग ऐसा मानेंगे नहीं लेकिन अपनी-अपनी लाइफ में थोड़े-बहुत लोटे तो हम... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   6:21am 12 Apr 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
हमारेसमय की सबसे बड़ी त्रासदी यह है कि हम खुद पर हंसने से कतराते हैं। हां, दूसरों पर हंसने का कोई मौका हाथ से नहीं जाने देते। दूसरों पर हंसना हमें अपनी 'उपलब्धि'नजर आता है। कुछ चेहरे ऐसे भी होते हैं जिन्हें देखकर यह सोचना पड़ता है कि आखिर बार वे कब और कितना हंसे होंगे? एक अजी... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   7:33am 11 Apr 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
'जियो और जीने दो'में मेरा विश्वास बचपन से है। अपनी तरफ से मेरी पूरी कोशिश रहती है- मैं न किसी को सताऊं, न मारूं, न दबाऊं। खुद भी सुकून की जिंदगी काटूं, दूसरे को भी काटने दूं। क्योंकि जीवन अनमोल है।इसीलिए मैंने मच्छरों को मारना, उड़ाना, भागना कतई बंद कर दिया है। कमरे में विकट ... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   4:07am 10 Apr 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
मनुष्यएक सामाजिक प्राणी कभी था। अब सोशल मीडिया का प्राणी है। जागने से लेकर सोने तक के सारे काम अब वो सोशल मीडिया पर 'ही'करता है। उसकी उंगलियों को तब तक चैन नहीं पड़ता जब तक वो उससे छोटी से छोटी बात का स्टेटस उसके फेसबुक पर डलवा नहीं लेतीं।सोशल मीडिया पर किसी का किसी से कुछ... Read more
clicks 183 View   Vote 0 Like   4:38am 3 Apr 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
जिनतमाम बातों की फिक्र मैं नहीं करता उनमें से एक 31 मार्च भी है। 31 मार्च को भी मैं वैसे ही बरतता हूं जैसे अन्य तारीखों को। मार्च एंड है तो क्या! कोई हव्वा थोड़े है। मैं तो बस इतना जनता हूं कि मार्च एंड में मुझे अपना कुछ भी क्लोज नहीं करना है। जो जैसा चल रहा है, चलते रहने देना ह... Read more
clicks 219 View   Vote 0 Like   6:25am 31 Mar 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
एकजमाने में उनके 'आंदोलन'खूब चर्चा में रहते थे, आजकल 'माफीनामे'चर्चा में हैं। शायद ही कोई दिन ऐसा गुजरता हो जिस दिन वो विरोधी दल के नेता से माफी न मांग रहे हों। कोई दब-छिपकर नहीं, खुलकर माफी मांग रहे हैं। हालांकि उनको इस तरह माफी मांगते देखना अच्छा तो नहीं लग रहा लेकिन सुब... Read more
clicks 189 View   Vote 0 Like   8:11am 29 Mar 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
पहलेमैं मूर्तियों के खिलाफ था। जबकि मुझे नहीं होना चाहिए था। मूर्तियां रहती हैं तो राजनीतिक व सामाजिक दलों को गाहे-बगाहे 'फेम'दिलवाती रहती हैं। पक्षियों के रहने-बैठने का ठिकाना होती हैं। मूर्तियों के नीचे खड़े होकर नारे लगाने और क्रांति करने का हौसला पैदा होता है। मू... Read more
clicks 204 View   Vote 0 Like   4:19am 28 Mar 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
इससेकहीं अच्छा तो पहले का जमाना था, जब सोशल मीडिया हमारे जीवन में दूर-दूर तलक नहीं था। चैन से खाते थे। सुकून से पीते थे। आराम से सोते थे। जी भरकर एक-दूसरे से घंटों बातें किया करते थे। जीवन में रंग, उमंग, तरंग सबकुछ था। संवेदनशील तब भी थे पर इतने भी नहीं कि भूत का नाम सुनते ह... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   4:31am 27 Mar 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
फिलहाल, मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा हूं कि बैंक से कर्ज (लोन) लेने में कोई बुराई नहीं। बल्कि फायदा ही फायदा है। माशाअल्लाह आप अगर अमीर बंदे है तो दसों उंगलियां घी में। लोन लेके चुकाओ न चुकाओ, कोई न टोकने वाला। लोन लेके विदेश भाग जाओ तो नहले पे दहला। फिर तो मुल्क की पुलिस, सीब... Read more
clicks 253 View   Vote 0 Like   4:19am 20 Mar 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
रिस्कलेने का अपना मजा है। दाल में नमक का स्वाद और दूध में पानी की मात्रा रिस्क लेकर ही समझ आती है। रिस्क लेकर ही पता चलता है कि आपका दिल वाकई मजबूत है या मजबूत करने की गोलियां ले रहे हैं। बिना रिस्क लिए तो आप पत्नी के बनाए खाने की 'बुराई-भलाई'भी नहीं कर सकते। मैं तो यहां तक ... Read more
clicks 230 View   Vote 0 Like   4:58am 16 Mar 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
जीवनमिथ्या है। इच्छा भ्रम है। मृत्यु ही अंतिम सत्य है। फिर इच्छा-मृत्यु से क्या घबराना!यों भी, मृत्यु को समझने का कोई फायदा नहीं। मृत्यु तो एक न एक दिन आनी ही है। वो गाना है न 'जिंदगी तो बेवफा है एक दिन ठुकरएगी...।'तो जो ठुकरा दे उससे मोह पालना बेकार है।सच बताऊं, मुझे तो बड़ी ... Read more
clicks 246 View   Vote 0 Like   5:03am 14 Mar 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
शोकसभाएं मुझे बचपन से आकर्षित करती रही हैं। एक बार को किसी के सुख में शरीक न होऊं लेकिन शोक सभा में जरूर जाता हूं। शोक और दुख दोनों एकसाथ प्रकट हो जाते हैं। वरना, अलग से दुख प्रकट करना मुझे बड़ा अटपटा-सा लगता है। अक्सर भूल जाता हूं कि किस स्थिति में किस प्रकार का दुख प्रकट ... Read more
clicks 314 View   Vote 0 Like   4:09am 9 Mar 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
ताजाखबर तो यही है कि वे अब वामपंथी नहीं रहे। उन्होंने अपने वामपंथ का त्याग कर दिया। अपनी जिंदगी में वामपंथ से जुड़े प्रत्येक प्रतीक को बक्से में बंदकर गंगा में बहा दिया। अपने वामपंथी दोस्तों से किनारा कर लिया। घर के दरवाजे पर लगी 'कॉमरेड'नाम की नेमप्लेट से कॉमरेड हटाकर... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   4:37am 7 Mar 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
इस दफा'व्हाट्सएप्प पर होली'खेलना तय हुआ है। जब पूरा देश ही व्हाट्सएप्प पर व्यस्त रहने लगा है तो होली को ही क्यों छोड़ा जाए। यह सही है कि व्हाट्सएप्प होली में पारंपरिक होली जैसी बात नहीं आ सकती हां दिल तो बहलाया ही जा सकता है न। आज के जमाने में दिल का बहलना बहुत जरूरी है। ल... Read more
clicks 232 View   Vote 0 Like   4:21am 1 Mar 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
दुनियामें ऐसा कोई है जो भाग न रहा हो? कोई वजह तो कोई बे-वजह भाग रहा है। बिन भागे कुछ भी मिलना संभव नहीं। आराम से बैठकर खाने-कमाने के दिन अब हवा हुए।डॉक्टर्स भी यही कहते हैं, जितना हम भागेंगे उतना ही स्वस्थ रहेंगे।कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो या तो चोरी करके भागते हैं या घोटाल... Read more
clicks 256 View   Vote 0 Like   7:59am 24 Feb 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
घोटालाअपने नेचर में 'प्रेम'की तरह होता है। किया नहीं जाता, हो जाता है। जिनमें माआदा होता है वे अपने प्रेम को खींचकर शादी तक ले जाते हैं। जिनमें रिस्क लेने की हिम्मत नहीं होती वे बेगानी शादी में 'अब्दुल्ला'बनकर रह जाते हैं।ठीक ऐसी ही प्रवृत्ति घोटालेबाज में पाई जाती है। ... Read more
clicks 183 View   Vote 0 Like   4:33am 23 Feb 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
'इमरान (भाई) खान को तीसरी शादी मुबारक।'इतना स्टेटस लिख मैंने अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया ही था कि मुझे तरह-तरह के ताने दिए जाने लगे। पहली आपत्ति तो लोगों को यही थी कि मैंने पड़ोसी (दुश्मन) मुल्क के किसी बंदे को मुबारक दी ही क्यों? इस खबर को इग्नोर क्यों नहीं किया? एक सज्जन ने... Read more
clicks 243 View   Vote 0 Like   3:54am 22 Feb 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
पिछलेदिनों सोशल मीडिया पर जितनी शिद्दत के साथ सोनम गुप्ता को बेवफा माना गया, मुझे बहुत खराब लगा। बिना जाने, न पहचाने, न देखे किसी को बेवफा होने का तमगा दे देना ठीक नहीं। हां, यह सही है कि इश्क का इतिहास तमाम तरह की बेवाफाईयों से भरा पड़ा है। पर उनकी की भी कोई न कोई मजबूरियां... Read more
clicks 210 View   Vote 0 Like   4:15am 21 Feb 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
हंसतेहुए चेहरे मुझे बहुत भाते हैं। ऐसे चेहरों को देख मुझे जीवन के प्रति 'सकारात्मक ऊर्जा'मिलती है। हंसना इसलिए भी जरूरी है ताकि कुछ पलों के लिए ही सही आप तनाव-मुक्त हो सकें। लॉफिंग बुद्धा को देखा है, हमेशा की तरह बुक्काफाड़ हंसी के मोड में रहता है। हंसी ऐसी ही होनी चाहिए... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   5:47am 20 Feb 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
कहते हैं- इश्क उम्र की बंदिशों का मोहताज नहीं होता। इश्क कभी भी, कैसी भी उम्र वाला कर सकता है। इतिहास कम और ज्यादा उम्र में इश्क करने वालो के किस्सों से भरा पड़ा है। दिल अगर जवान है तो इश्क एक से कीजिए या अनेक से सब कुबूल है।यों, लोगबाग इश्क करने की राय तो एक ही से देते हैं। उ... Read more
clicks 244 View   Vote 0 Like   4:16am 16 Feb 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
बजटलोग भी अजीब हैं। बताइए, बजट को समझने में लगे पड़े हैं। जिसे देखो वो ही हाथ में गुलाबी अखबार की प्रति थामे, एक-दूसरे से बजट पर बहस करे चला जा रहा है। जबकि, यह हकीकत है, उसे अपने घर के बजट के बारे में रत्तीभर मालूम नहीं होगा। उसका हिसाब-किताब रखने के लिए पत्नी है। सबसे उम्दा ... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   8:19am 14 Feb 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
वेलेंटाइनडे बड़ी सहूलियत के साथ मनाना चाहिए। न दिमाग पर लोड हो न 'लोग क्या कहेंगे'टाइप चिंता। अजी, कुछ लोगों ने तो जन्म ही धरती पर इस शर्त के साथ लिया है कि उन्हें कुछ न कुछ कहते ही रहना है। सो, मोके-बेमौके कहते रहते हैं।यों, वेलेंटाइन मनाने वाले भला कहां चिंता किया करते है... Read more
clicks 253 View   Vote 0 Like   4:09am 14 Feb 2018 #

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4017) कुल पोस्ट (192749)