Hamarivani.com

मीमांषा- Meemaansha

डूबेगी तो कभीतैरेगी लहरों पर जीवनकी नौकाइस कर्मक्षेत्र सागर में,और भावना के ज्वार  भी आते ही रहेंगे;समय के बहाव मेंस्म्रतियों के गाँव मेंउम्र गुजर जानी  हैसंवेदनों की छाव में, कुछ क्षणों के ठहराव  भी आते ही रहेंगे;कितना भीबहला लो दिल को तुम बार बार सपनों के किरच...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :rashmi savita
  August 10, 2012, 5:52 pm
डूबेगी तो कभीतैरेगी लहरों पर जीवनकी नौकाइस कर्मक्षेत्र सागर में,और भावना के ज्वार  भी आते ही रहेंगे;समय के बहाव मेंस्म्रतियों के गाँव मेंउम्र गुजर जानी  हैसंवेदनों की छाव में, कुछ क्षणों के ठहराव  भी आते ही रहेंगे;कितना भीबहला लो दिल ...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :philosophy of life
  August 10, 2012, 5:52 pm
डूबेगी तो कभीतैरेगी लहरों पर जीवनकी नौकाइस कर्मक्षेत्र सागर में,और भावना के ज्वार  भी आते ही रहेंगे;समय के बहाव मेंस्म्रतियों के गाँव मेंउम्र गुजर जानी  हैसंवेदनों की छाव में, कुछ क्षणों के ठहराव  भी आते ही रहेंगे;कितना भीबहला लो दिल ...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :life
  August 10, 2012, 5:52 pm
दो- चार लिखकर शब्द,और फिरठिठकती अपनी कलम से कहा मैंने ऐ सहृदय ! तू तो न बन निष्ठुर कि पहले से ही निष्ठुर है समूचा जग, मत छीन  मुझसे आश्रय मेरा, तू प्यारी इस तरहतू है तो कुछ कहना मेरा संभव तू हैतो कुछ  रहना मेरा संभव तू है तो ही अस्तित्व मेरा समझती हूँ मै  त...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :15 july Sunday
  July 15, 2012, 9:55 am

दो- चार लिखकर शब्द,और फिरठिठकती अपनी कलम से कहा मैंने ऐ सहृदय ! तू तो न बन निष्ठुर कि पहले से ही निष्ठुर है समूचा जग, मत छीन  मुझसे आश्रय मेरा, तू प्यारी इस तरहतू है तो कुछ कहना मेरा संभव तू हैतो क...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  July 15, 2012, 9:55 am
मै नहीं चाहती कि कभी चाहो तुम मुझे, ये बात और है कि प्रेम है तुम्हें मुझसे औरये बात और है किचाहते हो तुम मुझेक्योंकि प्रेम तो शाश्वत है आकाश कि तरह पर चाहतें तो व्यर्थ हो जाती हैं पूरी होते ही.***************************तुम चाहो तो मै घटा बन जाऊ और बरसूँ इतना कि  भीग सको तुम जीवन से,प्र...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  March 18, 2012, 2:55 pm
समय के कुछ टुकड़ों से बेपनाह मुहब्बत है मुझे, ये वही टुकड़े हैं जो कभी तुमने मेरे लिए जिए या मैंने  तुम्हारे लिएअब चाहती तो हूँ कि तू मेरे पास रहे , पर कैसे मै,जाने भी न दूं तुझे; ह्रदय एक झील था अब  तक  अब नदी है अल्हड़किसी सागर के लिए अधैर्य है थोडाफिर भी न चाहूंगी...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :najm
  February 17, 2012, 9:35 pm
समय के कुछ टुकड़ों से बेपनाह मुहब्बत है मुझे, ये वही टुकड़े हैं जो कभी तुमने मेरे लिए जिए या मैंने  तुम्हारे लिएअब चाहती तो हूँ कि तू मेरे पास रहे , पर कैसे मै,जाने भी न दूं तुझे; समय के कुछ टुकड़ों से बेपनाह मुहब्बत है मुझे ह्रदय एक झील था अब  तक  अब नदी है अल्हड़किस...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  February 17, 2012, 9:35 pm
Flowers are not blossomingLeaves are not green now a daysSeason is so much foggy, I see.. And sky is covered with Undesired cloudsBut,I will still keep the “hope”;What I want to sayYou never hearWhat I want to listenYou never sayTime is taking too much timeAnd it may be too longBut,I will stay forever for "you";Moments are flying, I feelBut my days are much hard to passWhy? what I don’t want to remember Became the slideshow ongoing foreverMay be its too much for pain tooBut, I will still tolerate whatever it;I will have much better livesOr I am going to die in better wayI don’t knowWhat my destiny keep for me..But I know, what I have in my handsand how it will take the best shape,...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  January 4, 2012, 9:57 pm
आज, बहुत मिस कर रही हूँ तुम्हें,सवेरे कहा था सूरज से कि मुझे तुम्हारे हाल-चाल देक्योंकि एक वही तो है सिर्फजो एक साथ मेरे करीब भी है और तुम्हारे भी,पर जाने कहाँ रह गया वह,फिर ये facebook के updates भी तो असली खबर नहीं देते; कहलवाया था उस से तुम्हें GoOd  MoRnINg भीशायद महसूस किया हो तुमने ...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  December 24, 2011, 8:03 pm
तुम्हें बहुत- बहुत याद करने और खो जाने के बीच पलकें कब नम हो जाती हैंपता ही नहीं चलता;अब तुम मुझमे हो और मैपरिपूर्ण इतना कि किसी और आश्रय की चाह नहींकाश कितुम्हें पता चलता मेरी आहटों कातुम्हारे बिन,मेरी फीकी हुई मुस्कुराहटों का;तुम खुद कोबहला रहे हो तोमै भी अब,पर कभी- ...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  December 4, 2011, 12:10 pm
A bit Little slow stepsA bitLittle mild voiceAnd Footprints on sandwith someone on the earth who carefor your steps,who makeshimself slowonly to be with you,who answersonly to give you aa way to keep on talking,who scolds you only to make you perfectand not to find a chance tocriticize you,who is never worriedabout what people say,is actually an ‘UTOPIA’but really,only this walk of life is “A Walk to Remember”....
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  December 2, 2011, 7:05 am
सपने अभी ख़त्म नहीं हुए हैं,तुम्हे देखती हूँ तो यही ख्याल आ जाता है बरबसऔर लगता है कितितलियों के लिए भी है कोई जगह, फूलों के लिए भी है कोई बागान,इन्द्रधनुष निकलने पर नाचना,कहीं तो संभव है अभी भीऔर जब बारिश हो , भीगने का मन करे तोकोई साथ है सुनने को बूंदों की टप-टप ख़ामोशी प...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  November 25, 2011, 8:26 am
कई दिनों तकरही हाशिये पर कविता के नामआज लिख रही हूँ मैअपनी पाती एक अनाम ,पाती एक अनाम कि जिसमे लिखी थकावट और लिख दिया थोडा-थोडा मिला हुआ आराम,मिला हुआ आराम साथ में धन्यवाद भीऔर लिख दिया स्नेहिलमयमीठा एक प्रणाम,मीठा एक प्रणामताकि वह मुस्काए तोऔर मुस्कुराकरहौले से पास ...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :after a long time
  November 23, 2011, 2:35 pm
...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  May 29, 2011, 9:10 am
तुमने कहा था-तुम सवेरा नहीं हो,साँझ भी नहीं ,तुम पूरा दिन हो, और पूरे दिन का हर एक लम्हा भी,पर अब जब पूरा कैनवास लेकर बैठती हूँ दिन का तुम्हारा जरा अक्स भी कहीं नहीं,अब इन शफ्कतों का क्या करूँतुम्हारा होना, तुम्हारी खुशबू जो  रह जाएगी पास मेरे यहीं कहीं, तुम मेरी धूप के ...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  May 24, 2011, 11:18 am
No more love,No more praise,No more please its any paraphrase...People! I want nothing...You give me smile so that I give you,You make me laugh so that I make you...Its all merely mutual begging...People! I want nothing...You are with meuntil I havemy good days& You will refuse mewith my tears &gloomy phase...Love will peter out & everything...People! I want nothing...You say-You are with me,but I knowonly to leave me alone one dayYou say-You care for me,Alas! I knowonly to hurt me more one daySo, don't be D Sun of my morning...People! I want nothing...In life's co-ordinate planeTrue love is its imaginary axis,as plenty of humanity in our talks& nothing in practice...trade...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  March 25, 2011, 2:20 pm
थोड़ी ज्यादा ख्वाहिशें,थोडा बड़ा आसमान नन्हे-नन्हे परों से ,लम्बी एक उड़ान;कि हम तो सपनों पर चलते हैं,उम्मीदों से थोड़ा ज्यादा मचलते हैं .मुठी में सूरज है, हमसे ही है सहर, ये हमारी फितरत है चाह लें जो हम अगर, बरसने को धरती पर अम्बर में बिखरे सितारे पिघलते हैं. थोडा सा इख...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  March 17, 2011, 12:05 am
Today {6 march} is my b'day :) wanna pay--Thanx to God for His Grace at every moment...Thanx to my siblings for their love & to make me responsible...Thanx to my teachers to show me d steps of a purposeful life...Thanx to my dear friends to bear me ;) & to make me feel my importance... ...Thanx to all who came in my life for what I learned frm them...It's all I have till today.& now thanxxxx to all who r going to wish me ;) :) :D...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  March 6, 2011, 8:40 am
कितना चाहालिखूं -स्त्री के सुख, आमोद - प्रमोद ,आखों में गहरी आशान्वित संवेदना उल्लास के हाथों में हाथ डाल खेलना ;हर मुस्कान के पीछे एक गहरी हंसी एक के बाद एक मिली हुई ख़ुशी ;ख्वाबों के पूरा होने का संतोष स्वजनों से सहा गया एक झूठा रोष ;चाहा की लिखूंउसके काम की सराहना उ...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  February 27, 2011, 9:02 am
Still don't know....why does my empty cup fulfill again & again ...if you are not here yup, not near;Oh! its my tear ...I'm drowning ...I'm drowning....Why am I doing foolish things time & again ...again & again...though you are not listening,perhaps not understanding..Oh! its my hope ...I'm wandering...I'm wandering....Why am I searching for festoonsever , everywhere to furnish your waysas my heart says"rest assured",, butOh! why I know -you will never come to meI'm losing.......I'm losing.......my heart is not thoroughfareits only for you dear!I have locked it now and key is upto youbut why I'm doing soOh! love is boomerang...I'm wavering....I'm wavering....now, a r...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :poem
  January 9, 2011, 11:39 am
तुमने मुझे कुएं से निकलने में मदद की ,गुनगुनी धूप में रखा मुझे पंख सूख गये मेरे अब थोड़ा -थोड़ाउड़ने लगी हूँ मै;उस कोने सेकम दिखता था आसमान, तुमने मुझे पुचकारा मै दो कदम आगे आई मेरी खिड़की थोड़ी बड़ी हो गयी अब उस परफुदकने लगी हूँ मै;मै बहुत फूल थी और डरती थी कांटो से तु...
मीमांषा- Meemaansha...
Tag :
  December 6, 2010, 5:47 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3807) कुल पोस्ट (180907)