POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: साहित्यांजलि

Blogger: RAVINDRA PRABHAT
(सात)सीता की जन्मस्थली सीतामढ़ी का जानकी मंदिर । बिजली के झालरों से जगमग । दूर - दूरतक रंग - बिरंगी रोशनी और उमड़ता - धुमड़ता जन - सैलाब । मंदिर के ईर्द - गिर्द दो - तीन कि0 मी0 के दायरे में दुर्लभ पशुओं का मेला, जिसमें मुख्यतः बैल, हाथी, धोड़े आदि । मंदिर और गोशाला के बीच का भाग स... Read more
clicks 184 View   Vote 0 Like   5:30am 1 Dec 2010 #उपन्यास अंश- ७
Blogger: RAVINDRA PRABHAT
(छः)चमनलाल अपनी नाटक मण्डली के सदस्यों के साथ तैयारी में मशगूल है । अचानक झींगना को सामने देख चौंक गया वह । पास बिढाया उसे और सदस्यों से मुखातिव होते हुए कहा, कि ‘‘दोस्तो ! आप सभी को एक ऐसे व्यक्ति से मिलवा रहा हूँ जो आज के हमारे नाटक का नायक है । नाम है झींगना, डोमवा धरारी क... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   7:06am 25 Nov 2010 #उपन्यास अंश-६
Blogger: RAVINDRA PRABHAT
(पाँच)आजसुबहसेहींसुरसतियाअपनीकुलदेवीबन्नीगौरैयाकीपूजामेंमशगूलहै।मनौतियांमांगरहीहैपतिकीकामयाबीकेलिए।उसकीइच्छाहैकिउसकापतिएकमहानलोककलाकारबनेभीरवारीठाकुरकीतरह।वाभनटोलीकेलोगोंकागुमानतोड़नाचाहतीहैवह।उसेबसइसीबातकीचीढ़हैकिसमाजमेंउसकेभीहोनेकाए... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   8:50am 19 Nov 2010 #उपन्यास अंश-५
Blogger: RAVINDRA PRABHAT
(चार)गरम - गरमभातमाड़केसंग, साधमेंबथुआकासागपरोसतीहुईपूछबैठीसुरसतिया - “काजी ! आजबहुतजल्दीआगएमुर्दाघरसे ...... काबातहए ...... कवनोलाशनहींपहुंचीथीका ?”“पहुंचीथी, लेकिन ........ ।”“लेकिनका ?”“गयेहरीभजनको, ओटनलगेकपास ...... ।”“मतलब ?”“मतलबईकिगयेमुर्दाघरआउरमिलगईनौकरी।”“नईनौकर... Read more
clicks 189 View   Vote 0 Like   6:54am 9 Nov 2010 #उपन्यास अंश-४
Blogger: RAVINDRA PRABHAT
(तीन)जैसे - जैसे समय बीत रहा था, धरिछन पाण्डे़ का गुस्सा परवान चढ़ता जा रहा था । वायें हाथ से धोती का कोर पकड़कर धुटने के ऊपर उठाये तथा दायें हाथ में रूमाल ले नाक को दबाये नेताजी इधर से उधर पैर पटक - पटक कर कोस रहे थे गंगा प्रसाद को ।‘‘ई ससुरा बड़ा सुस्त है रे कलुआ ।‘‘‘‘कवन ह... Read more
clicks 208 View   Vote 0 Like   6:38am 6 Nov 2010 #उपन्यास अंश-३
Blogger: RAVINDRA PRABHAT
(दो)आजगांवमेंजश्नकामाहौलहै।होरीकात्योहारजोहै।कहींपुआ - पुड़ीकीतोकहींगुजिएकीमहक।कोईमहुएकेशुरूरमेंतोकोईठंडईकेगुुरूरमें।कोईगटकरहाठर्रातोकोईबुदका।कोईगारहा, कोईबजारहा, तोकोईलगारहाठुमकाअलमस्तीकीहदतक।अपनेदलानमेंसाथियोंकेसाथपालथीमारकरबैठेझींगनाकेस... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   10:29am 28 Oct 2010 #उपन्यास अंश
Blogger: RAVINDRA PRABHAT
===============================================================उपन्यास में वर्णित स्थान, काल, पात्र एंव धटनाएं काल्पनिक हैं , किन्तु समय के पहिए की तरह सत्य के इर्द-गिर्द चक्कर काटती कथा यात्रा उपसंहार पर जाकर ठहरती जरूर है--- क्षमा करिएगा !()रवीन्द्र प्रभात===============================================================(एक)‘‘जगो रे मजूर भाई -हलधर कि... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   11:15am 26 Oct 2010 #उपन्यास अंश
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4010) कुल पोस्ट (192063)