POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: अनकहे किस्से

Blogger: Amit Mishra
सपने वो हैं जो बंद आँखों से देखे गए हों, खुली आँखें सिर्फ़ भ्रम पैदा करती हैं। हमारा वही है जो हमनें हासिल किया है जो ख़ुद मिल गया वो किसी और का है।रुका वहीं जा सकता है जहाँ हम चल के गए हों, अगर कोई हम तक चल कर आया है वो आगे भी जा सकता है।कुछ लालच बुद्धि को हर लेते हैं फ़िर पछता... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   4:12am 13 Mar 2020 #
Blogger: Amit Mishra
हर रोज परिवर्तित होती इस दुनिया से सामजंस्य बिठाने में असफल रहते हुए मैं हमेशा मंदबुद्धि की श्रेणी में रहा।जब दुनिया के सभी ज्ञानी ख़ुद को श्रेष्ठ बनाने की प्रक्रिया में व्यस्त थे तब मैंने पिछले दरवाजे से निकल कर ख़ुद को बचा लिया।जब सभी ख़रगोशचीता बनकर दौड़ लगाने आ... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   4:12am 15 Feb 2020 #
Blogger: Amit Mishra
जीवन की भागा-दौड़ी में, प्यार भी करना होता हैपहले प्यार में गलती ना हो, थोड़ा डरना होता है।।हर लड़की का पहला सपना, सुंदर लड़का होता हैसपना तो है सपना ही, हर सपना सच ना होता है।।जब वो तुमसे नज़र मिलाए, तुमको हँसना होता हैरस्तों पर चलते चलते ही, तिरछे तकना होता है।।अगला जब शरमाए थ... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   3:48pm 2 Feb 2020 #
Blogger: Amit Mishra
मन सबसे बड़ा विद्रोही है। ये अक़्सर वही करना चाहता है जो दुनिया को लगता है कि नही करना चाहिए। पर ये दुनिया तो हमसे बनती है, और हम कौन हैं? हम मन के मालिक हैं। ये मन किसका है? हमारा।बड़ी अजीब विडंबना है, मन के मालिक होते हुए भी हम अपने ही मन को मारते हैं, उस दुनिया के लिए जो हमने ह... Read more
clicks 99 View   Vote 0 Like   3:16pm 22 Jan 2020 #
Blogger: Amit Mishra
हिंद नाम के सूरज को, इस तरह नही ढलने देंगेहम हृदय प्रेम से भर देंगे, अब द्वेष नही पलने देंगेये चिंगारी जो भड़की है, ना दिल में घर करने पाएसींचा है खून से धरती को, बस्ती को ना जलने देंगे सूनी गोदें ना होंगी अब, सिंदूर ना पोछा जाएगाहम जाति-धर्म की बातों पर, बेटों को ना लड़ने दे... Read more
clicks 109 View   Vote 0 Like   7:51am 13 Jan 2020 #
Blogger: Amit Mishra
दिल है बंजर सूनी बस्ती,कौन यहाँ अब आएगाबादल भी जिस घर से रूठे,बारिश कौन बुलाएगाउम्मीदों का सूरज डूबा,अब ना फ़िर से निकलेगाअँधियारा फैला गलियों में,रस्ता कौन दिखाएगाबेचैनी हावी जब ऐसी,एक पल भी आराम नहीजिसके मन का आँगन सूना,चैन कहाँ अब पाएगा हँसना रोना जिसके संग हो,वो ह... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   7:50am 14 Dec 2019 #
Blogger: Amit Mishra
नींद एक दैनिक क्रिया है और स्वप्न उसका परिणाम। अगर हमने कोई स्वप्न देखा है तो इसका सीधा अर्थ ये है कि हम निद्रा लोक में अवश्य गए थे। स्वप्न हमारी सोच से जन्म लेते हैं। जो हम दिन भर में सोचते हैं स्वप्न उन्हें दृश्य के रूप में हमारे सामने प्रस्तुत कर देते हैं। हम अक्सर कई ... Read more
clicks 46 View   Vote 0 Like   7:04am 2 Dec 2019 #
Blogger: Amit Mishra
प्रेम में सफ़ल ना हो सके अनगिनत प्रेमियों से परे मैं तुम्हें ना पाकर भी कभी हताश नही हुआ।हज़ारों दार्शनिकों द्वारा कही गयी एक बात सदैव मेरे मस्तिष्क में आसन लगा कर विराजमान रही, जिसमें कहा गया कि 'हर घटना के दो पहलू होते हैं पहला सकारात्मक और दूसरा नकारात्मक'। अब ये आपके ... Read more
clicks 45 View   Vote 0 Like   10:44am 19 Nov 2019 #
Blogger: Amit Mishra
तुम्हारी गहरी आँखों से टकराना अभी भी मेरी शर्मीली आँखें झेल नही पाती और प्रत्युत्तर में मेरी पलकें झुक कर तुम्हारे विजयी होने का संदेशा देती हैं।तुम्हारी आवाज़ आज भी मेरे कानों में गुदगुदी करते हुए मेरे मस्तिष्क में प्रवेश करती है और मेरी सोच को तुम्हारे अधीन कर देती... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   6:49am 12 Nov 2019 #
Blogger: Amit Mishra
हम सभी जानते हैं कि महाभारत के युद्ध में पांडवों के साथ सम्मिलित होते हुए भगवान श्रीकृष्ण ने वचन दिया था कि वो युद्ध में शस्त्र नही उठाएंगे परंतु युद्ध के मध्य एक ऐसा क्षण भी आया था जब कृष्ण को अपना वचन भूलकर शस्त्र उठाने के लिए विवश होना पड़ा था।कृष्ण के बहुत समझाने पर ... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   5:50am 5 Nov 2019 #
Blogger: Amit Mishra
किसी दिन सहसा हीएक अंधेरे कमरे मेंमौन हो जाएगीमेरी आवाजरुक जाएगी मेरी सांसेंमेरी देह परिवर्तित हो जाएगीएक मृत शरीर मेंमेरी आत्मा कोनिष्काषित कर दिया जाएगाइस नश्वर शरीर सेजब देह विलीन हो जाएगीइसी मिट्टी मेंऔर आत्मा कूच कर जाएगीअपने लोक की ओरतब कहीं नही बचूँगा मैं... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   5:55am 1 Nov 2019 #
Blogger: Amit Mishra
इतनी उत्तेजित होती होसहसा ही सुन के नाम मेरायानी कि विह्वल तुम भी होछीना है जो आराम मेराजब साँझ ढले जब चाँद चलेउस पल में प्रियतम आ जानामैं गति हृदय की रोकूँगाअधरों से पान करा जानाजब पंछी क्रीड़ा करते होंऔर पवन में ख़ुशबू फैली होजब दिन करवट ले सो जाएफ़िर काली रात अकेली हो... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   9:48am 22 Oct 2019 #
Blogger: Amit Mishra
शिथिल पड़ी इच्छाओं कोसहसा ही कोई उछाल गयाथा कौन मेरा? क्या अपना था?क्यों अपनी आदत डाल गयाबंजर बस्ती सूनी गलियांबरसों से बरखा को तरसीडेरा डाले पतझड़ बैठाना बूंदें सावन में बरसीआँगन की सूखी तुलसी मेंक्यों फ़िर से जल वो डाल गयाथा कौन मेरा? क्या अपना था?क्यों अपनी आदत डाल गय... Read more
clicks 78 View   Vote 0 Like   7:10am 18 Oct 2019 #
Blogger: Amit Mishra
अगली पूर्णिमा को जब चाँद अपने पूरे रुआब में आसमान पर बैठा इतरा रहा होगा और टिमटिमाते तारे उसके सम्मान में ख़ुद को बिछा चुके होंगे। रात का वो पहर जब ठंडी हवाएं आसमान को मदहोश कर रही होंगी और फ़िर नशे में डूबे बादल समंदर से मिलने को दौड़ लगा चुके होंगे।ठीक उसी पहर हाथों में... Read more
clicks 112 View   Vote 0 Like   4:53am 15 Oct 2019 #
Blogger: Amit Mishra
ना होना किसी का, जब किसी का हो लेनासीखा है तुमसे ही , कैसे किसी का हो लेनाये वादा है लौटूँगा, फिर मैं अगले जन्मरखना सिर मेरे काँधे, और खुल के रो लेनाकरो ये वादा मुझसे, ख़ुद को ना सज़ा दोगीपहन के झुमके, पायल, ख़ुद को सजा लोगीबिखरी जुल्फ़ों को अपनी, बारिश में अबकी धो लेनारखना सिर म... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   9:37am 9 Oct 2019 #
Blogger: Amit Mishra
पृथ्वी पर आधिपत्य स्थापित करने के लिए सदियों से मनुष्य और प्रकृति में युद्ध होता आ रहा हैमनुष्य के हथियार हैं आरी, कुल्हाड़ी और बड़ी बड़ी मशीनें। जबकि प्रकृति के पास हैं बाढ़, तूफ़ान, भूकंप और ज्वालामुखी।जब प्रकृति सो रही होती है तब मनुष्य बड़ी चालाकी से कुछ हिस्से पर कब्ज़ा ... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   11:07am 1 Oct 2019 #
Blogger: Amit Mishra
कभी कभी ज्यादा ज्ञान अर्जित कर लेने से भी जीवन नीरसता से भर जाता है। जब हमें सब कुछ पता चल जाता है तो उत्सुकता मर जाती है और जीवन का ध्येय ख़त्म हो जाता है।हम अक़्सर ये कहते हैं कि बाल्यकाल मानव जीवन का सबसे ख़ुशनुमा दौर होता है और हमें अपने अंदर के बच्चे को हमेशा ज़िंदा रखना ... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   11:06am 29 Sep 2019 #
Blogger: Amit Mishra
लाख वादे हज़ार कसमेंयूँ ही फ़ना हुएशिकायतों की फ़ेहरिश्त लिएपास रह ना सकाकितना कुछ कहना थाआख़िरी अलविदा से पहलेपर हुआ यूँ किमैं तुमसे कुछ कह ना सकाकहना ये था किएक दुनिया सजायी थी तेरे संगभर दिए थे तुमने जिसमेंवादों के गहरे चटक रंगपर एक स्याह रंग के सिवाकोई रंग उसमें रह न... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   11:04am 27 Sep 2019 #
Blogger: Amit Mishra
जब आप किसी का दूसरा प्यार होते हैं तब आपसे उम्मीदें कम होती हैं और आपका काम ज्यादा।आपके हिस्से नही आता वो बेइंतहा प्यार ... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   6:05am 19 Sep 2019 #
Blogger: Amit Mishra
किसी इंसान की ज़िंदगी का वह दौर सबसे भयावह होता है जहाँ पूरी दुनिया की भीड़ मिलकर भी उसकी तन्हाई दूर नही कर पाती। उसके चारो... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   6:08am 12 Sep 2019 #
Blogger: Amit Mishra
निश्छल और निष्पाप रूप मेंजीव  धरा  पर  आता हैआसक्ति और मोह के वश मेंजीवन  व्यर्थ  गंवाता  हैज्ञानी रावण भी क्रोधित होप... Read more
clicks 61 View   Vote 0 Like   4:04am 10 Sep 2019 #
Blogger: Amit Mishra
व्यर्थ बहाता क्यों है मानवआँसू  भी  एक  मोती  हैजीवन पथ पर अग्निपरीक्षासबको  देनी  होती  हैअवतारी भगवान या मानवसब  ह... Read more
clicks 142 View   Vote 0 Like   4:12am 2 Sep 2019 #
Blogger: Amit Mishra
मैं अक़्सर सुनता हूँ तुम्हारा ये शिकायती लहजा जब तुम मुझे बताती हो कि तुमने बहुत बार प्रेमियों को अपनी प्रेमिकाओं से ये è... Read more
clicks 69 View   Vote 0 Like   4:13am 29 Aug 2019 #
Blogger: Amit Mishra
मैं  चाहूँ  तुझे  ही, ये  कैसे  बताऊँजो पढ़ के ना समझे तो कैसे जताऊँदेखूँ तुझे तो मैं, ख़ुद ही को भूलूँयूँ  चेहरे से नज़रें  म&#... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   1:03pm 24 Aug 2019 #
Blogger: Amit Mishra
यूँ ही कल झाड़ पोंछ में ज़हन कीवक़्त की दराज़ से निकल आये कुछ ख़्याल पुराने जो कहने थे उनसे जो मौजूद नही थे सुनने के लिए....कुछ ख़त ज... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   3:50am 19 Aug 2019 #

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3982) कुल पोस्ट (191457)