POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: मेरी दुनिया.. मेरे जज़्बात..

Blogger: Sumit
बहुत लड़े हम अबकी बार,जीवन की गहमा गहमी में आते रहे उतार चढ़ाव।।किसने देखे किसने जानेइस दुनिया के ताने बाने,कितनी बातें कितनी शर्तेंतर्कों  पर तर्कों  की पर्तें,भूल गए हम दोनो तो हैं एक नाव की दो पतवार।।चलो काम को कल पर टालेंकुछ पल तो हम साथ बितालें,साथ बुने जो स... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   7:02pm 17 Aug 2013 #प्रेम
Blogger: Sumit
वो हम सफ़र है मगर हमज़बान नहीं होता,ईंट पत्थर से बना घर मकान नहीं होता।।लिखी जाती है जिगर के खून से इबारत,स्याही से दिल का दर्द बयान नहीं होता।।पिघल जाता उसके सीने में अगर होता दिल,शायद वो पत्थर है, मेहरबान नहीं होता।।जिसके अन्दर हौसले का चिराग जलता है,वक़्त की आंधी से ... Read more
clicks 207 View   Vote 0 Like   8:59am 24 May 2013 #ग़ज़ल
Blogger: Sumit
ज़िन्दगी का सफ़र कुछ अजीब सा लगा,जो अपना मिला वो कुछ करीब सा लगा,हमने तो अपनी खुशियाँ सबपे लुटा दीं ,और दुसरों से उम्मीद की तो वो गरीब सा लगा।।ना जाने लोग क्यों कतरातें हैं,अपना कहने से शरमाते हैं,दो दिन की तो ये ज़िन्दगी है बस,और उसमे भी लोग घबराते हैं।।खुश रहो और दूसरों ... Read more
clicks 199 View   Vote 0 Like   5:51am 22 May 2013 #हिंदी लेख
Blogger: Sumit
वक़्त की रेत पर इन उँगलियों को चलाया है हमने,ख्वाबो के नगर में एक घरोंदा बनाया है हम ने।।आंसुओं के दरिया में दिल को बहाया है हमने,और इस तरह से दर्द का रिश्ता निभाया है हम ने।।दुश्मनी का हर निशान दिल से मिटाया है हमने,जिसने हमको मिटाया उसे ही बनाया है&... Read more
clicks 115 View   Vote 0 Like   5:36am 20 May 2013 #क़र्ज़
Blogger: Sumit
हर किसी का अपना अपना जीने का अंदाज़ है,पर ये अंदाज़ मेरा मुझसे ही क्यूँ राज़ है…..!कोशिशें ख़ुद को समझने की तो मैं हर-एक करुं ,क्यूंकि समझाना ख़ुद को यारों ये न आसां काज है….!हर किसी का अपना-अपना जीने का अंदाज़ है ….!कोशिशें करता रहता, भ्रम में पड़ जाता हूँ मैं,क्यूंकि कोशिशो... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   9:33am 11 Apr 2013 #एहसास
Blogger: Sumit
प्राचीन काल से ही मनुष्य के मन में यह प्रश्न उठता रहा है कि सृष्टि का आरंभ कब हुआ, कैसे हुआ, क्या यह संभव है कि मनुष्य कभी यह समझ सके कि चाँद, सितारे, आकाशगंगाएं, पुच्छलतारे, पृथ्वी, पर्वत, उसकी ऊँची ऊँची चोटियाँ, जंगल, कीड़े-मकोड़े, पशु, पक्षी, मनुष्य, जीव-जन्तु यह सब कहाँ से ... Read more
clicks 187 View   Vote 0 Like   2:10pm 27 Feb 2013 #चिंतन
Blogger: Sumit
यूं ही राह में चलते चलते,एक रोज़, एक ऐसी दुनिया देखी मैंने।जो चम-चमाती हुई जुगनू सी लग रही थी,जहाँ प्यार भरे हसते चेहरे देखे मैंने।।एक उम्मीद की किरण देखी, एक तरंग सी जागी मन में।फिर जीने की चाह जागी,फिर खुशिया आई जीवन में।।में भूल गया अपनी उस दुनिया को,रंग गया इ... Read more
clicks 196 View   Vote 0 Like   9:11am 10 Feb 2013 #हिंदी लेख
Blogger: Sumit
लोक का स्थान स्वयं ने ले लिया और तंत्र का स्थान परिवादवाद ने, बची-खुची कसर जातिवाद के तंत्र ने कर दी। बढ़ते लम्पट तंत्र एवं गिरते राजनीतिक तंत्र से कहीं न कहीं नुकसान गणतंत्र को अवश्य ही हुआ है। गुलाम भारत को स्वतंत्र कराने में जिन नेताओं ने अपनी जवानी न्यौछावर कर दी उन... Read more
clicks 223 View   Vote 0 Like   7:55am 26 Jan 2013 #गणतंत्र
Blogger: Sumit
आपने सड़कों और रेल पटरीयों पर घूमते और सोते बच्चों को तो जरूर देखा होगा. यह वो बच्चे हैं जो या तो बचपन में ही माता-पिता से अलग हो जाते हैं या फिर किसी खुद ही घर से भाग कर आ जाते हैं. अनाथ और बेसहारा ऐसे बच्चों का इस दुनियां में कोई नहीं होता. अगर वह किसी से बात कर सकते हैं या फ... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   11:10am 23 Nov 2012 #child abuses
Blogger: Sumit
तू कभी बिछड़ा नहीं, और तू मिला भी नहीं..पर मुझे तुझसे कोई शिकवा नहीं, ग़िला भी नहीं..तू भले मुझसे ख़फ़ा है और तू दूर भी है..मगर तुझसे ऐ दोस्त दिल को फ़ासला भी नहीं..मै कैसे दिखलाऊं तुझको दिल की सच्चाई..एक अरसे से तू मुझसे गले मिला भी नहीं..वो एक वक़्त था जब दिल से दिल मिले थे यहा... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   5:49am 31 May 2012 #दोस्त
Blogger: Sumit
कैसी उड़ान में हैं ये ख़्वाबों के परिन्दे,ख़्वाहिश के आसमां में अज़ाबों के परिन्दे...शाखों पे मेरे दर्द की बैठे हैं सब के सब,उड़ के जो आए थे तेरी यादों के परिन्दे...कब तक रखेंगे क़ैद इन्हें आप जिस्म में,छूटेंगे किसी रोज़ तो साँसों के परिन्दे...छुप जाएगी वो रोशनी, हिल जाएगा ... Read more
clicks 190 View   Vote 0 Like   7:56pm 21 May 2012 #परिन्दे
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3994) कुल पोस्ट (195690)