POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Meri Gajale Mere Geet (मेरी ग़ज़लें मेरे गीत)

Blogger: umesh kumar shrivastava
व्यथाऐ दामिनी न इतरा यूंपयोधर की बनप्रेयसीगणिकान वारिस तूवारिद कीतू बस अभिसारिकाये नर्तन तेरा व्यर्थन जमा धौंसइन न... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   5:05am 12 Jul 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
आओ चलें मीतसरस हम भी होलेंहौले से खोलें,झरोखे ह्रदय के ,मेघों की बून्दे,कुछ,उनमें संजो लें ၊घिरे तो गगन पेहैं , मानस को घेर&... Read more
clicks 123 View   Vote 0 Like   5:43pm 7 Jul 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
आज कहो कुछ ऐसा सखी रेहिय प्रफुलित हो जाये,तन झूमे , मन बावला हो करमाया जाय भुलाय ၊हैं अबूझ ससुराल की गलियांभटक रही अनजानी,&#... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   3:16am 4 Jun 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
शासकीयआभियांत्रिकी महाविद्यालय जबलपुर परिसर में लगे वटवृक्ष  को देख हुई संवेदना पर एक प्रस्तुति:-ऐ बरगद की छांव घनेर... Read more
clicks 163 View   Vote 0 Like   12:24pm 31 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
प्रेमसुधायह प्रेम सुधा की धारा हैइसको हाला मत कहना नयनो के धोखे में आ कर इसको मधुशाला मत कहनाजब अगन लगे तन मन में इसको ना... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   12:18pm 31 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
दर्दे दिल१-सम्मा की नियति यही , रात दिन जलती रहे    रौशनी देती रहे , खुद को अंधेरे में रख२-आहें भरना मेरी फ़ितरत नहीं थी    द... Read more
clicks 186 View   Vote 0 Like   12:16pm 31 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
१. रिस्तों की महक को बनाये रख ऐ नाखुदा। किस्ती है दरिया है बस जज्बे है बा खुदा ।२. मैं हूं तन्हा तन्हा बस मुंतजरे खबर । हुजूर... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   12:13pm 31 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
याद आती रही गुनगुनाती रही,दिल में हजारो मृदंग बजाती रही । तल्ख धूप होती रही रात भर, हर कली प्यार की मुरझुराती रही । अल सुबह ... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   12:12pm 31 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
ऐसा न था कि डूब जाते हम,झील, समन्दर, या दरिया-ए-आब में । कई डूबतों को बचाया था हमनें ।  न नाप सके तेरी झील सी आखों की गहराई । जो ड&... Read more
clicks 109 View   Vote 0 Like   12:11pm 31 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
१. ख्वाब सी झिलमिलातीसबा सी मदमस्त करतीये तेरी याद है किइत्र की भीनी खुश्बू २.अल सुबो उठ कर तेरा ,वो चुपके से आ जानाता दिन म... Read more
clicks 118 View   Vote 0 Like   12:02pm 31 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
जिन्दगीइतनी तो फुरसत दे जिन्दगीकुछ तो तुझे भी मैं जी सकूंसंग बहता रहा पर मिल ना सकाबिन मिले तू बता, क्या मैं कह सकूं ।तू स&#... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   12:00pm 31 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
चन्द शेर (दर्द-ए-दिल)१उनकी इश्क की इस अदा को देखोदर्द हमें तब्बस्सुम गैरों को बांट देते हैं२दर्द दिल में जलन आंखों में लि... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   11:57am 31 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
होली के रंग सब के संगहोली के रंग मेंरंगीली उमंग मेंआपका भी साथ होदिलों की ही बात होनयनों में प्यार होरंगों की बहार होहाê... Read more
clicks 76 View   Vote 0 Like   3:03pm 22 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
ग़ज़लदर्द दिल में जब उभर आता हैरूह पर न जाने कौन छा जाता हैआंखें वीरान सी हो जाती हैंचेहरा ज़र्द पत्तों सा सूख जाता है ।रह जा&#... Read more
clicks 68 View   Vote 0 Like   3:01pm 22 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
क्षणिकाएँ (फाग पर)फाग,मस्ती का मौसमयौवन की आगगुलाल,प्रियतम की हथेलीप्रिये का हो गालरंगोली,बाँहो में प्रिये केप्रियतम&#... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   3:00pm 22 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
हूं शरणागत त्रिपुरारीअय काल करालदिव्य ज्वालअय त्रिनेत्रधारीनील कण्ठतेरी शरण  तेरी शरणअभ्यागत है तेरी शरणअय जटाधा&... Read more
clicks 83 View   Vote 0 Like   2:58pm 22 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
ये मानव का रूप कौन सा  ?भागती सी जिन्दगी दौड़ते से लोगसांसे उखड़ रही हांफते से लोगचल रहे इधर कुछकुछ पल उधर रहे हैंबस संग कोई &#... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   2:57pm 22 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
१-रात ख्वाबो में रहा किसी के पहलू में,आंख सुबो खुली है खुमारी में हंसते हुये।२-चंद शबनम के कतरों ने बयां कर दी हालात-ए-दिलक&... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   2:44pm 13 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
१-इश्क को हद में बांध कर कोई कहेडूब जा तू दर्द -ए-गुबार में२-तूने यूं भिगोया मुझे अपनी इश्क  की बून्दो से ,इस तरह तर हूं अब सूè... Read more
clicks 99 View   Vote 0 Like   2:42pm 13 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
ग़ज़लअहले दिल की तेरी  दास्तां , तिश्नगी मेरी बढ़ा हैं गईकुछ और पिला ऐ साकिया,दर्दे दिल भी ये  बढ़ा गईअब सुकून मुझे ज़रा ë... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   2:40pm 13 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
         कहा जाता है कि पृथ्वी पर चौसठ लाख योनियों में अपनें कर्मों के अनुरूप आत्मा अपने अन्तःकरण के साथ जन्म लेती हैं । ë... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   2:35pm 13 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
यदि मेरे यार को दर्द दे सुकूं मिलता हैतो मुझे सहने की ताब दे दे ऐ मेरे खुदा ၊गजलअय यार तेरी सोहबत में हम हंस भी न सके रो भी न ... Read more
clicks 132 View   Vote 0 Like   2:34pm 13 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
दर्द की छायादर्द अहसासों के सहारे धमनियों से गुजरता है जबइक शीत की लहर सी चलती है संग संगगर्म लहू जमने सा लगता हैदिल की स... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   2:16pm 13 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
नूतन अभिनन्दन "नए वर्ष"नूतन अभिनन्दन "नए वर्ष"  वही रश्मि औ वही किरण है वही धरा औ वही गगन है वही  पवन है नीर वही  है वही कुंज  &... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   2:13pm 13 May 2019 #
Blogger: umesh kumar shrivastava
लगता है गुम्गस्ता है मेरा कुछ न कुछपा तुझे पास भूल जाता हूँ पूछना ၊फकत याद में होता रहा खाना खराबवो भी कितने मगरूर हैं दे... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   2:13pm 13 May 2019 #

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3994) कुल पोस्ट (195696)