Hamarivani.com

भूली-बिसरी यादें

खुद की क्षमताओं पर भरोसा होना आत्मविश्वास का जरूरी हिस्सा है। कुछ लोग स्वाभाविक रूप से आत्मविश्वासी होते हैं, तो कुछ को इसे विकसित करने की जरूरत होती है। अपनी काबलियत पर हमें हमेशा विश्वास करना चाहिए, क्योंकि जीवन में हमें अपना आत्म विश्वास और अपनी काबलियत ही आगे ...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :कहानी
  September 30, 2014, 11:46 am
प्रिये मित्रों, आज हम सबका स्वतंत्रता दिवस है, स्‍वतंत्रता दिवस ऐसा दिन है जब हम अपने महान राष्‍ट्रीय नेताओं और स्‍वतंत्रता सेनानियों को अपनी श्रद्धांजलि देते हैं जिन्‍होंने विदेशी नियंत्रण से भारत को आज़ाद कराने के लिए अनेक बलिदान दिए और अपने जीवन न्‍यौछावर कर दि...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :स्वतंत्रता दिवस
  August 15, 2014, 8:24 am
आज रक्षाबंधन का पावन पवित्र पर्व है। इस पवित्र पर्व के अवसर पर मैं तो अपनी मातृभूमि से बहुत दूर परदेश में हूँ। मेरी अपनी बहने तो नहीं हैं पर यहाँ भी हर वर्ष हमारी धर्म बहने हमें अपनी राखियाँ भेजती हैं। रक्षाबंधन का पर्व पारंपरिक रूप से बहनों व भाइयों के आपसी स्नेह के प्...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :
  August 10, 2014, 8:17 am
जीवन में सफल होना कौन नही चाहता, हम अपने अपने तरीके अपना कर जीवन में सफल होने का प्रयत्न करते रहते हैं।हर व्यक्ति की मूलभूत चाहत होती है कि उसके जीने के मायने हों। वह इतना सक्षम हो कि न केवल अपनी वरन अपने परिजनों-परिचितों की भी आवश्यकताओं एवं इच्छाओं की पूर्ति कर सके। स...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :आत्मविश्वास
  July 12, 2014, 10:24 am
हमारे दुःख का एक कारण यह भी है कि हम दूसरों के सुखों से अपनी तुलना करते रहते है कि उसके पास ज्यादा है,मेरे पास कम है। जो हमें मिला है यदि उसी पर ध्यान हो तो दुखी नहीं होंगे क्योंकि दुःख तो तुलना से आता है,जब अपने से ज्यादा खुशहाल व्यक्ति से तुलना करोगे तो दुःख आएगा और अपने ...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :कहानी
  June 18, 2014, 2:21 pm
१. प्रचण्ड गर्मी तन को झुलसाती जीना मुहाल २. आग लगाये जेठ की दुपहरी मन व्याकुल ३. प्यासे परिन्दे गर्मी से अकुलाए दाना न पानी ४. चुभती गर्मी धूप की चिंगारियां मार डालेगी ५. लम्बी डगर छाया को तरसते थके पथिक ६. सुनी गलियाँ चिलचिलाती ...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :गर्मी
  May 19, 2014, 4:15 pm
जीवन एक ऐसा सफ़र है जिसमें नही मालूम किन राहों से गुजरना होगा और कैसे कैसे मोड़ आयेंगे .यह आलेख उन अभिशप्त महिलाओं के बारे में है जिनके पति शादी के कुछ ही दिनों बाद उसे अकेला छोड़ कर गल्फ देशो में कमाने के लिए चले जाते हैं। केरल की अधिकांश महिलाएं ऐसे ही जुदाई के गम में ...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :आलेख
  March 29, 2014, 9:29 am
१.प्रेम की होलीसबको मुबारकरंग रंगीली२.उषा की लालीआँगन में रंगोलीछायी खुशियाँ३.होली की धूमप्रियतम के घरप्यार ही प्यार४.होली का पर्वदे प्यार का संदेशदेश की शान५.होली का जोशबच्चे और जवानमदमस्त हैं६.रंगों का मेलागालों पर गुलालसब हैं रंगे७.होली के दिनबाजे ढोल मृदंगमन ...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :
  March 16, 2014, 3:27 pm
आ समन्दर के किनारे पथिक प्यासा रह गया,था गरल से जल भरा होकर रुआंसा रह गया।था सफर बाकि बहुत मजिल अभी भी दूर थी,हो गया बढना कठिन घिर कर कुहासा रह गया।लग रहे नारे हजारो छप रही रोज लाखो खबर,गौर से जब देखा तो बन तमाशा रह गया।एक बुत गढ ने लगी अनजान में ही मगर,हादसा ऐसा हुआ की वह बि...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :Hindi ghazal
  March 6, 2014, 6:12 pm
                                        ॐ नमोः शिवाय शिव पंचाक्षर स्त्रोत नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांग रागाय महेश्वरायनित्याय शुद्धाय दिगंबराय तस्मे न काराय नम: शिवाय:॥मंदाकिनी सलिल चंदन चर्चिताय नंदीश्वर प्रमथनाथ महेश्वरायमंदारपुष्प ब...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :शुभकामनायें।
  February 27, 2014, 8:52 am
नैवाकृति: फलति नैव कुलं न शीलं विद्यापि नैव न च यत्नकृताऽपि सेवा।भाग्यानि पूर्वतपसा खलु सञ्चितानि काले फलन्ति पुरुषस्य यथैव वृक्षा:।।अर्थ: मनुष्य की सुन्दर आकृति,उतम कुल, शील, विद्या, और खूब अच्छी तरह की हुई सेवा - ये सब कुछ फल नहीं देते किन्तु पूर्वजन्म के कर्म ही समय ...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :कहानी
  February 26, 2014, 8:26 am
निन्दन्तु नीतिनिपुणा यदि वा स्तुवन्तु,लक्ष्मीः स्थिरा भवतु गच्छतु वा यथेष्टम्।अद्यैव वा मरणमस्तु युगान्तरे वा,न्याय्यात्पथः प्रविचलन्ति पदं न धीराः॥"नीति में निपुण मनुष्य चाहे निंदा करें या प्रशंसा, लक्ष्मी आयें या इच्छानुसार चली जायें, आज ही मृत्यु हो जाए या यु...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :धैर्य
  February 18, 2014, 1:53 pm
झूठ सच्चाई का हिस्सा हो गयाइक तरह से ये भी अच्छा हो गयाउस ने इक जादू भरी तक़रीर कीक़ौम का नुक़सान पूरा हो गयाशहर में दो-चार कम्बल बाँट करवो समझता है मसीहा हो गयाये तेरी आवाज़ नम क्यूँ हो गईग़म-ज़दा मैं था तुझे क्या हो गयाबे-वफाई आ गई चौपाल तकगाँव लेकिन शहर जैसा हो गयासच ब...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :झूठ
  February 15, 2014, 3:35 pm
समर्पण के बिना स्वतंत्रता उपलब्ध नही हो सकती। जब तक परमात्मा के प्रति हम पूर्ण रूप से समर्पित नहीं होते, 'मैं'के अहंकार को नही छोड़ते तब तक हम चारो तरफ से बन्धनों  में जकड़े रहेंगे।  इस मैं का अहंकार छोड़ कर अपने आपको प्रभु-अपर्ण करके ही हम मुक्त हो सकते हैं। 'मैं'को हम पर...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :पूर्ण समर्पण
  February 11, 2014, 4:14 pm
या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृताया वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना।या ब्रह्माच्युत शंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दितासा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥1॥शुक्लां ब्रह्मविचार सार परमामाद्यां जगद्व्यापिनींवीणा-पुस्तक-धारिणीमभय...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :
  February 4, 2014, 2:51 pm
१. सर्दी के दिनठिठुरते इंसानलाया कहर २. शीत लहर पिया हैं परदेश व्याकुल मन ३. सर्द हवाएं बेदर्द हुई सर्दी आफत आई ४. कापते हाथ ठिठुरता बदन ओढ  रजाई ५. कंपाती  भोर रजाई में दुबके सिकुड़े हुए ६. छिपा सूरज कुहरे की चादर धुंध ही धुंध ७.&nb...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :मौसम
  January 28, 2014, 11:42 am
सत्य अहिंसा का पाठ पढाता,हर्षोल्लास भरा गणतंत्र दिवस है।गणतंत्र दिवस भारत में 26 जनवरी को मनाया जाता है और यह भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है। हर वर्ष 26 जनवरी एक ऐसा दिन है जब प्रत्‍येक भारतीय के मन में देश भक्ति की लहर और मातृभूमि के प्रति अपार स्‍नेह भर उठता है। ऐसी अनेक म...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :
  January 26, 2014, 8:30 am
कल ही रात को मुझे एक जानकार के आत्महत्या का समाचार मिला,मन मर्माहत हुआ।  आये दिन हमलोग आत्महत्या कि बढ़ती घटनाओं को सुनते ही रहते है,क्या आत्महत्या किसी समस्या का उचित समाधान है? आत्महत्या करने वालों कि  समस्याएं पर नजर डालें तो इनमे पारिवारिक कलह,दिमागी बीमारी,...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :आलेख
  January 13, 2014, 10:43 am
सारे जहाँ से अच्छा है इंडिया हमाराहम भेड़-बकरी इसके यह गड़ेरिया हमारासत्ता की खुमारी में, आज़ादी सो रही हैहड़ताल क्यों है इसकी पड़ताल हो रही हैलेकर के कर्ज़ खाओ यह फर्ज़ है तुम्हारासारे जहाँ से अच्छा है इंडिया हमारा.चोरों व घूसखोरों पर नोट बरसते हैंईमान के मुसाफिर र...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :कवितायेँ
  January 7, 2014, 5:32 pm
आप सब को नूतन वर्ष 2014की हार्दिक शुभकामनाएंप्रिये मित्रों एक लम्बे समय तक आप सब से ब्लॉग जगत से दूर रहा जिसका हमे हमेशा आप सबकी कमी खलती रही. देखते देखते २०१३ वर्ष  भी खत्म हो गया,आज नव वर्ष के प्रथम दिवस पर आप सब को हार्दिक शुभकामनाओं के साथ सादर नमन.नया सवेरा नयी क...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :
  January 1, 2014, 2:00 pm
) किसी को दु:ख न पहुंचाएं।) घर का वातावरण सुखद बनाएं।) जीवन में सत्य को प्रमुखता दें। एक झूठ छिपाने के लिए अधिक झूठ का सहारा लेना पड़ता है।) भगवान के प्रति धन्यवादी रहें। भगवान पर पूरा विश्वास रखें।) क्रोध से दूर रहें। क्रोध स्वास्थ्य का शत्रु है। स्वयं को और औरों को भी ऐस...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :
  November 28, 2013, 9:24 pm
१. रिश्तों की डोर अटूट है बन्धन टूटे न टूटे २. प्रचंड धूप सुख-दुख का तूफांअटल प्यार ३. प्रीत का रंग सुनहरी किरण मन चंद्रिका ४. मन हमेशा प्रियतम के साथ नही अकेला ५. सहज स्नेह हरपल बरसे नैनों में दिखे ६. भवरें गाते मधुरम संगीत हर्...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :हाइकू
  October 21, 2013, 8:04 am
फूल की बातें सुनाकर वो गया, किस अदा से वक़्त काँटे बो गया ।गाँव की ताज़ा हवा में था सफ़र,शहर आते ही धुएँ में खो गया ।मौत ने मुझको जगाया था मगर,ज़िंदगी के फ़लसफ़ों में सो गया ।मेरा अपना वो सुपरिचित रास्ता,कुछ तो है जो अब तुम्हारा हो गया ।पा गया ख़ुदगर्ज़ियों का राजपथ,रास्त...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :
  October 14, 2013, 8:39 am
ताकत पे सियासत की ना गुमान कीजिये, इन्सान हैं इन्सान को इन्सान समझिये। यूँ पेश आते हो मनो नफरत हो प्यार में, मीठे बोल न निकले क्यूँ जुबां की कटार से। खुद जख्मी हो गये हो अपने ही कटार से, सच न छुपा पाओगे अपने इंकार से। आँखें  भुला के दिल के आईने में झाकिये, इन्...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :खुनी मंजर
  October 6, 2013, 11:16 am
जिस दिन से तुम आई मेरी जिंदगी मे जीवन के प्रत्येक दिन मानो दिवाली है. तुम से दूर रहकर नही कर सकता कल्पना हर पल महसुस करता अंतरात्मा की आवाज जिस में हम एक साथ कर रहें हैं वीणा का वादन साथ बिताये हसींन लम्हे हरपल आँखों के सामने मानों चल रहा है चलचित्र...
भूली-बिसरी यादें ...
Tag :कवितायेँ
  September 25, 2013, 9:01 am


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3906) कुल पोस्ट (190933)