Hamarivani.com

आँसू

तूफां  को कभी तुमने सरगोशी से दबे पैरों से आते हुए देखा है?मासूम कदमो को तन्हाइयों के तार बजाते हुए देखा है?बीती किरदारों की उलझे शक्लों में अपनेपन की गवाहीतजुर्वों को छुए बिन नन्हे ख़्वाबों को पलको में आते हुए देखा है?रिसते हुए जज्बातों से पिघलती मेरे वसूलों की दीवार...
आँसू...
Tag :
  March 9, 2015, 2:50 pm
अंधेरे को तेजी से बढ़ने दोबढ़ते रहने दो और फिरसघनतम होने दो। …क्यूंकि उससे ही प्रस्फुटित होगा प्रकाशजो सनातन होगा, शाश्वत होगा, चिरंतम् होगाऔर सिर्फ वो ही होगा सिर्फ 'वो'आलोक ...
आँसू...
Tag :
  October 21, 2014, 6:13 pm
आज जो मेरे पास है, जब वो ही मेरा हक़ है,वो ही मेरे माझी के दरख्त पर लगा फल … फिर मै जो भी कर रहा हूँ वही मेरा सच है. मै कहाँ से क्यूँ मुड़ गया, कहाँ आगया, ये कोई और कैसे बता पायेगा मुझे ?कोई यूँ भी तो नही जिसने मुझे देखा हो पूराउसकी मर्ज़ी के बिना पत्ता भी नही हिलता फिर ,मेरी ...
आँसू...
Tag :
  October 11, 2014, 5:34 pm
वो जो जलता रहा उम्र भर चिराग बन कर उसके वफाओं का कुछ तो सिला दे पाता लहूलुहान जज्बातों का दर्द समाये पलकों पे सहमे आंसू, उंगलियों का किनारा तो दे पाता  जिसका हाल जल रहा हो माझी के ख्यालों में उसके मुस्तकबिल की आरज़ू क्या करे ?तमाम उम्र के दर्दो को हम क्या समहल ...
आँसू...
Tag :
  April 29, 2014, 3:24 pm
उसनेकुछइसतरहसजादीहै गुनाहोंकीमेरेकि रूठ कर छुप गया है बिना कुछ कहे इंतजार हो मेरे टूट के बिखरने का शायददेख रहा है मुझे कहीं से बिना कुछ कहे जी रहा हूँ मै ख़ामोशी से इसी यकी पर कि आके सम्हाल लेगा मुझे बिना कुछ कहेगुमां है कि उसके तकलीफ की इन्तहां होगी मुड के ख़ामोशी से चल...
आँसू...
Tag :
  April 20, 2014, 2:23 am
एक सुप्त सागर की गोद से एक मोती निकला ये समझा ये माना अभी तक किसी ने नही देखा अपने ही रक्त से रक्ताभ लालिमा दी उसे जब आच्छा नही लगा तो आसुओं से धो दिया मेरा शक जाने कब विश्वास में बदल गया और मेरे तर्कों की कोई भूमिका नही मिली पहले तो ये जाना की को चमकता नूर मोती ह...
आँसू...
Tag :
  August 5, 2013, 2:01 pm
हमने तो बिना बुत के ही आशिकी कर ली कि बुत की जुस्तजू में बसर जिन्दगी कर ली हर अक्स को दर्द की सूरत देने की कोशिश की  कि बादलों में उभरे तस्वीरों  से दोस्ती कर ली हयात के रुखसार पर उभरे जो भी सारे रंग बस उन्ही से हमने  दर्द की वन्दगी कर ली उसने तो बस एक कश...
आँसू...
Tag :
  April 21, 2013, 10:34 pm
मुझे गिला 'दर्द' के होने से नही, बस उसके छलक जाने से है ये जहाँ क्या जान पाता मेरे हर पल की मुस्कराहट का सबब उम्र के इस मोड पे जरा जरा सा होश आने लगा है मुझको किताबों में लिखी इबारत में समझने लगा हूँ जमाने का अदब अभी भी सीख लूं ज़माने के चलन, कि कई इम्तिहान बाकी है जाने क्यूँ द...
आँसू...
Tag :
  March 7, 2013, 5:40 pm
तुम्हारा नही हूँ मै फिर भी तुम्हारे लिए हूँदूर हूँ या तुम्हारे पास हूँ तुम्हारे लिए हूँगिरा जो पलकों से तो दामन में सिमट जाऊंगानूर बनकर जिया आँखों की, वो तुम्हारे लिए हूँकभी हर ख्वाब का हमसफर था, एतबार थाअब माझी का एक ख्वाब हूँ, तुम्हारे लिए हूँहसरतों के आगोश में जिया...
आँसू...
Tag :
  November 9, 2012, 11:39 pm
साहिलों ने जब से दरिया से मुह मोड़ लिया दरिया ने भी खुद में सिमटना सीख लिया उसे भी बहुत दूर लगता है किनारे तक सफर अपनी ही पलकों में मुस्कुराना सीख लिया हर आती-जाती नावों से लिपट कर जीती है मज़िलों को किश्तों में जीना सीख लिया खुश होने की कीमत पलक भर आंसूं ही तो थे खुशियों ...
आँसू...
Tag :
  November 2, 2012, 12:19 am
चल चाँद तुझे ले चले अपने गोरी के गाँव रे तू  वहां  उसे बतलाना  कैसे गुजारी शाम रे चाहत  वहां पर  यूँ बरसे जैसे बरसे सावन रे मेरी आखें मुझसे पुछें  कब भीगे तेरा दामन रे हर दिन वहां का होली था हर रात दिवाली रे सुना रहा मेरा  तन -मन सुनी रात हमारी रे नागफनी सा बचपन चिड सा यौ...
आँसू...
Tag :
  September 5, 2012, 4:33 pm
आज जो मेरे पास है, जब सिर्फ वो ही है मेरा हक  वो ही मेरे माज़ी के पौधे पे लगा फल, तो फिर मै जो कर रहा हूँ वो ही है मेरा सचजब उसकी मर्जी के बिना पत्ता नही हिलता जब मै "कर्ता" हूँ ही नही या कुछ कर ही नही सकता तो फिर ये हंगामा ही क्यूँ , ये धुंध किस बात की फिर मैंने भी वो ही किया ...
आँसू...
Tag :
  September 1, 2012, 9:57 pm
आपने तो यूँ ही बेअंदाज बना दिया हमे  हमे तो अंदाज बदलने में ज़माने लगे है छोड़ी नहीं वफायें येही थी बस मेरी  खता अब उस पराये शख्स को हम अपने से लगे है बड़ी जल्दी कर लिया फैसला अपने नसीब का बस हमे उन्हें पराया बनने में ज़माने लगे है ये सच है की प्यार कभी शर्तो पे नहीं होत...
आँसू...
Tag :
  November 9, 2011, 7:07 pm
ये मिजाज़, ज़माने की चलन, से  कुछ  खफा खफा सा रहता है मंजिलों पे काबिज़ है जो शख्स, मुझसे कुछ डरा डरा सा रहता है मेरा इल्म, मेरा हूनर, मेरी तबियत से इत्फाक नहीं रखते मेरी हर कोशिश के बाद भी ये जमाना खफा खफा सा रहता है और वो जो रूठ के चले  गए मुझसे कभी हमेशा के लिए 'आंसू' ज...
आँसू...
Tag :
  October 31, 2011, 4:55 pm
...
आँसू...
Tag :
  October 29, 2011, 4:07 pm
ansoo: ये जिन्दगी नजर आयी मुझे ....: गर्मी की दोपहर में बालो में उग आये एक बूँद की तरह या फिर जलती हुयी जमीं से उड़ते हुए वाष्प की तरह कभी एक अजनवी सी मुस्कराहट की तरह ......
आँसू...
Tag :
  September 24, 2011, 11:00 pm
गर्मी की दोपहर में बालो में उग आये एक बूँद की तरह या फिर जलती हुयी जमीं से उड़ते हुए वाष्प की तरह कभी एक अजनवी सी मुस्कराहट की तरह सर्द हवावों के झोकों में उड़ते जुल्फों में उलझे हुए सूखे फूल की तरह कभी मुझे देखती हुयी सहमी सी उलझी उनकी नजर की तरह या फिर तेज़ी गुजर गयी ...
आँसू...
Tag :
  September 24, 2011, 9:24 pm
न रहबर ने लूटा न रहगुजर ने लूटा सच तो ये है यारो मैंने ही खुद को लूटा मै अक्क्सर झूठ बोलता हूँ, खुदा ने मुझे अधेरे में रखा हसीन रौशनी  के खातिर खुद ही निगाहे  बंद  किये रखा वर्क से खवाबो में डूबा रहा, दम घुटने लगा तो मै चिल्लाने लगा फिर मै ये कैसे कह दूं ...
आँसू...
Tag :
  March 20, 2011, 3:41 pm
...
आँसू...
Tag :
  February 14, 2011, 4:15 pm
When I have sown the Hope……..I have sown the hopeI dream the hope, I breathe the hope,And I live the hope.Some time I think thatWeather the dream was mine or I was a dreamSome time ago, I find offshoots,Preserved it for future aloneness,I didn’t think it was an installment against what I sownA time came when I had to leave the hopeThen I told myselfFor what I have sown…………..Since I could live, I could breathAnd lastly I saw that the offshoots turndown in to “cactus”When I sleep with cactusAnd when it teases me………………I remember that day …………..When I sown the hopeIt was beyond the analysis ………….What I have doneIt was probably some once else in me,Co...
आँसू...
Tag :
  February 14, 2011, 3:39 pm
आंसू  की तो जिन्दगी बिना डाल के पत्तो की कहानी हैजहाँ वाले इसे हरा कहते है ये तो सूखेपन की लाली हैतारीफ है उस चाहत की हर चाहत रूठे तकदीर की कहानी है घटाओ में छुपी तकदीरे है किसी के जुल्फों की नादानी है सूनापन तो चाह था बिना तस्वीर की निगाहों का तस्वीर...
आँसू...
Tag :
  September 15, 2010, 12:56 pm
तुम ही मेरे पलकों के सावन में हो तुम ही मेरे अल्को के चिंतन में हो तुम ही मेरे सांसो की पुरवईयों में में तुम ही तो जीवन के पछुआ बयारो में होतेरे सांसो से उठती है दिल के सागर में मौजे तुम ही तो जीवन के शाश्वत दर्शन में होतुम्हारे ओठो पे उगते ओस के गुलशन जीती हुई बूंदों के ...
आँसू...
Tag :
  August 24, 2010, 10:49 pm
हसते हुए छोड़े जा रहे है ऐ गीत हम तुम्हे लौट के हम अपनी चाहत का सबब मांगेगे हर नजर से बचाए रखना ऐ मेरे खुदा वर्ना हम तुमसे अपनी इबादत का असर मागेंगे खुश रहना अपनी शबीह मेरी निगाहों में देख करवरना हम फिजाओं से तरनुम की कशिश मागेंगे तुम्हारी सारी तन्हाई साथ लिए जा रहे ...
आँसू...
Tag :
  August 23, 2010, 3:53 pm
नरहबरनेलूटानरहगुजरनेलूटा सचतोयेहैयारोमैंनेहीखुदकोलूटा मैझूठबोलताहूँखुदानेमुझेअधेरेमेंरखा एक हसीन रौशनी  के इंतजार में  मैखुदही निगाहे  बंद  किये रखा अपनेही वर्कसे खवाबोमें डूबारहा दमघुटनेलगातोमैचिल्लानेलगा फिरमैये कैसेकह दूं कीसकीनेमैकदेकोलूट...
आँसू...
Tag :
  August 22, 2010, 9:51 pm

...
आँसू...
Tag :
  January 1, 1970, 5:30 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3764) कुल पोस्ट (177912)