POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: आध्यात्मिक यात्रा

Blogger: Kailash C Sharma
                     अठारहवाँ अध्याय (१८.०१-१८.०५)                                                                                (With English connotation)अष्टावक्र कहते हैं :Ashtavakrasays :स्वप्न टूट जाता है जगने पर, नष्ट जगत का भ्रम है होता|    न... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   8:35am 23 Feb 2017 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                 सत्रहवां अध्याय (१७.१६-१७.२०)                                                                                (With English connotation)जो आसक्तिहीन पुरुष होता है, न हिंसा या करुणा होती|न आश्चर्य या क्षोभ है करता, न अहंकार, कातरत... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   8:45am 24 Jan 2017 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                 सत्रहवां अध्याय (१७.११-१७.१५)                                                                                (With English connotation)जीवन्मुक्त शांत सदा है ज्ञानी, विमल ह्रदय सर्वत्र है रहता| हो विहीन वासनाओं से, समरस सभी ... Read more
clicks 202 View   Vote 0 Like   9:48am 19 Dec 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                  सत्रहवां अध्याय (१७.६-१७.१०)                                                                                (With English connotation)धर्म अर्थ या काम मोक्ष में, त्याग ग्रहण से मुक्त जो रहता|    जीवन मृत्यु में सम होता, द... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   8:17am 6 Nov 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                  सत्रहवां अध्याय (१७.१-१७.५)                                                                                (With English connotation)अष्टावक्र कहते हैं :Ashtavakra says :ज्ञान और योग का फल है, उसको निश्चय ही प्राप्त है होता|जो संतुष्ट स्व... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   8:10am 5 Oct 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                  सोलहवां अध्याय (१६.६-१६.११)                                                                               (With English connotation)न विषयों से वह विरक्त है, और न उनमें आसक्ति रखता|      वह विषयों के ग्रहण त्याग से, आसक्ति... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   8:00am 6 Sep 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                  सोलहवां अध्याय (१६.१-१६.५)                                                                               (With English connotation)श्री अष्टावक्र कहते हैं :Ashtavakra says :चाहे कितने ही शास्त्रों का, कथन या वाचन तुम कर सकते|शान्ति न पाओगे ... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   8:32am 1 Aug 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                  पन्द्रहवां अध्याय (१५.१६-१५.२०)                                                                               (With English connotation)केवल तेरे अज्ञान के कारण, जगत सत्य लगता है तुमको|आत्मज्ञान प्राप्त होने पर, अलग नहीं रहता कु... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   7:52am 3 Jul 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                 पन्द्रहवां अध्याय (१५.११-१५.१५)                                                                               (with English connotation)तुम अनंत सागर के सम हो, जिसमें विश्व रूप लहर हैं होती|   उठना गिरना स्वभाव लहरों का, तुम्हें ... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   7:45am 14 Jun 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                 पन्द्रहवां अध्याय (१५.६-१५.१०)                                                                                  (with English connotation)सब प्राणी जन को अपने में, सब जन में अपने को जानो|अहंकार आसक्ति रहित हो, सुख में स्थित अपने ... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   8:52am 25 May 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                 पन्द्रहवां अध्याय (१५.१-१५.५)                                                                                  (with English connotation)अष्टावक्र कहते हैं :Ashtavakra says :सात्विक बुद्धि युक्त जो जन है, कुछ उपदेश से मुक्ति है पाता|असत् ब... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   7:48am 4 May 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                  चौदहवां अध्याय (१४.१-१४.४)                                                                                  (with English connotation)राजा जनक कहते हैं :King Janak says :शून्य चित्त है जो स्वभाव से, शायद ही कुछ इच्छा करता|मुक्त पूर्व स्मृत... Read more
clicks 142 View   Vote 0 Like   1:58pm 11 Mar 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                  तेरहवां अध्याय (१३.५-१३.७)                                                                                     (with English connotation)विश्राम, गति, शयनऔर कर्मों में, मेरा हानि लाभ न होता|लौकिक व्यवहार में दंभ रहित मैं, आत्मा... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   9:12am 26 Feb 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                  तेरहवां अध्याय (१३.१-१३.४)                                                                                    (with English connotation)राजा जनक कहते हैं :King Janak says :केवल कौपीन का धारण करना, भाव अकिंचन उत्पन्न न करता|त्याग ग्रहण को विस्... Read more
clicks 125 View   Vote 0 Like   8:05am 9 Feb 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                 बारहवां अध्याय (१२.५-१२.८)                                            (with English connotation)आश्रम अनाश्रम, धर्म नियम से, अपने को मैं रहित मानता|इन सब का परिणाम देख कर, अपने स्वरुप में स्वयं धारता||(१२.५)When I look at the various stages of life and observe the rules accepted and prohibited by mind, I stay as I am ... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   8:09am 23 Jan 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                                   बारहवां  अध्याय (१२.१-१२.४)                                            (with English connotation)राजा जनक कहते हैं :King Janak says :मैं निरपेक्ष हूँ तन के कर्मों से, फिर वाणी से निरपेक्ष हुआ हूँ|अब चिंता से निरपेक्ष है होकर, मैं... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   8:26am 13 Jan 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                                    ग्यारहवां  अध्याय (११.५-११.८)                                            (with English connotation)चिंता सभी दुखों का कारण, जिसको इसका बोध है होता|  सुखी, शांत, चिंता विहीन वह, सर्व कामना मुक्त है होता||(११.५)Worries are the main cause o... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   8:29am 6 Jan 2016 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                                    ग्यारहवां  अध्याय (११.१-११.४)                                            (with English connotation)अष्टावक्र कहते हैं :Ashtavakra says :भाव और अभाव विकार हैं, ये सब हैं स्वाभाविक होते|निर्विकार आत्म जो जाने, वे सुख, शांति प्राप... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   9:42am 26 Dec 2015 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                                      दशम  अध्याय (१०.५-१०.८)                                            (with English connotation)एक, शुद्ध, चैतन्य आत्म तुम, यह संसार असत व जड़ है|क्या इच्छा है तुम्हें जानना, न अज्ञान का जिसमें कण है||(१०.५)You are one pure Consciousness and this worl... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   9:26am 15 Dec 2015 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                                      दशम  अध्याय (१०.१-१०.५)                                            (with English connotation)अष्टावक्र कहते हैं :Ashtavakra says :धन और काम अनर्थ के हेतु, त्याग करो तुम शत्रु समझ के| तुम सब से विरक्त हो जाओ, इन दोनों का त्याग है ... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   7:52am 10 Dec 2015 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                                        नवम अध्याय (९.५-९.८)                                            (with English connotation)महर्षि और योगी जन के हैं, अलग अलग जग में मत होते|  कौन मनुज विमुक्त हो इससे, नहीं शान्ति को प्राप्त हैं होते||(९.५)Observing the different opinion... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   8:40am 2 Dec 2015 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                                        नवम अध्याय (९.१-९.४)                                            (with English connotation)अष्टावक्र कहते हैं :Ashtavakra says :क्या करना है उचित या वर्जित, शांत हुए कब द्वंद्व हैं किसके|त्यागवान, विरक्त बन जाओ, संशय रहित ज्ञ... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   8:00am 24 Nov 2015 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                                       अष्टम अध्याय (८.१-८.४)                                            (with English connotation)अष्टावक्र कहते हैं :Ashtavakra says :जब मन कुछ इच्छा करता है, त्याग, ग्रहण, शोक करता है|कभी प्रसन्न या क्रोधित है होता, तब वह बंधन में ... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   7:28am 14 Nov 2015 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                                       सप्तम अध्याय (७.१-७.५)                                            (with English connotation)राजा जनक कहते हैं :King Janak says :मेरे अनंत आत्म सागर में, समस्त विश्व एक नौका सम होता|स्व-मन वायु से भ्रमित है नौका, पर मेरा मन क्षुब... Read more
clicks 168 View   Vote 0 Like   9:22am 4 Nov 2015 #आध्यात्मिक यात्रा
Blogger: Kailash C Sharma
                                          षष्ठ अध्याय (६.१-६.४)                                            (with English connotation)अष्टावक्र कहते हैं :Ashtavakra says :मैं अनंत आकाश के सम हूँ, प्रकृतिजन्य यह जग है घटवत |ग्रहण त्याग करना न इसका, बस होना है इस से सम... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   7:57am 28 Oct 2015 #आध्यात्मिक यात्रा

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3975) कुल पोस्ट (190924)