POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: चिकोटी

Blogger: Anshu Mali Rastogi
मैं जब भी आईने में खुद को बतौर लेखक देखता हूं, तो मुझे घोर निराशा होती है। अपने चेहरे-मोहरे में कोई बदलाव नजर ही नहीं आता। वही मासूमियत, वही सच्चाई, वही आदर्शवाद झलकता मिलता है। जबकि इतना नफासत, नजाकत वाला जीवन मुझे कतई पसंद नहीं। मन में और चेहरे पर जब तलक 'कइयापन'न हो तो क... Read more
clicks 165 View   Vote 0 Like   9:44am 30 Apr 2019 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
हालांकि मानने वाले आज भी यही मानते हैं कि झूठ बोलना ‘पाप’ है। कुछ समय पहले तक मैं भी ऐसा ही मानता था। लेकिन जब से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आठ हजार बार से ज्यादा झूठ बोलने के बारे में खबर पढ़ी, तब से मेरा मत ‘झूठ बोलना पाप है’ पर बदल गया।जाहिर-सी बात है, जब अमेरिक... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   4:55am 20 Feb 2019 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
सर्दीशुरू होने से पहले ही तय कर लिया था, इस दफा 'न्यू ईयर'चारपाई पर रजाई में घुसकर ही मनाऊंगा। न कहीं बाहर जाऊंगा, न बाहर से किसी को घर बुलाऊंगा। कम से कम साल का पहला दिन सुकून से तो गुजरे।घर के एक कोने में बरसों से उपेक्षित पड़ी चारपाई दिल में बड़ा दर्द देती थी। जिस चारपाई प... Read more
clicks 212 View   Vote 0 Like   5:15am 4 Jan 2019 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
मैंकाम निकालने में अधिक विश्वास रखता हूं। काम निकलना चाहिए बस, चाहे वो कैसे या कहीं से भी निकले। साफ सीधा-सा फलसफा है, भूख लगने पर खाना ही पेट की अगन को शांत करता है, ऊंची या गहरी बातें नहीं। बातों से ही अगर पेट भर रहा होता तो आज किसान न खेती कर रहा होता, न रसोई में चूल्हे ही ... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   9:12am 19 Dec 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
सुनने में पहले जरूर थोड़ा अटपटा टाइप लगता था। मगर अब आदत-सी हो गई। यों भी, आदतें जितनी व्यावहारिक हों, उतनी ठीक। ज्यादा मनघुन्ना बनने का कोई मतलब नहीं बैठता। यह संसार सामाजिक है। समाज में किस्म-किस्म के लोग हैं। तरह-तरह की बातें व अदावतें हैं। तो जितना एडजस्ट हो जाए, उतना ... Read more
clicks 183 View   Vote 0 Like   6:20am 19 Nov 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
मैंनहीं चाहता मेरे अंदर का रावण मरे! मैं उसे हमेशा जिंदा रखना चाहता हूं। वो जिंदा रहेगा तो दुनिया के आगे मेरा कमीनापन उजागर करता रहेगा। मुझे भरे बाजार नंगा करता रहेगा। मेरा सच और झूठ सामने लाता रहेगा।हां, मैं बहुत अच्छे से जानता हूं कि रावण की छवि दुनिया-समाज में कतई अच... Read more
clicks 190 View   Vote 0 Like   3:50am 19 Oct 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
जबमेरे कने करने को कुछ खास नहीं होता, तब मैं सिर्फ 'चिंता'करता हूं। 'चिंता'मुझे 'चिंतन'करने से कहीं बेहतर लगती है! मुद्दा या मौका चाहे जो जैसा हो, मैं चिंता करने का कारण ढूंढ ही लेता हूं। ऐसा कर मुझे दिमागी सुकून मिलता है। मन ही मन महसूस होता है, मानो मैंने बहुत बड़ा तीर मार ल... Read more
clicks 223 View   Vote 0 Like   6:45am 13 Oct 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
हालांकिऐसा कुछ है नहीं फिर भी सचेत तो रहना पड़ेगा न। जब से 'मी टू'से जुड़े किस्से कब्र से बाहर आए हैं, मेरा बीपी थोड़ा बढ़-सा गया है। बचपन से लेकर अब तक की गई अपनी 'ओछी शरारतों'पर गहन चिंतन करना शुरू कर दिया है। शायद कहीं कोई ऐसा किस्सा याद आ जाए, जहां 'मी टू'टाइप कुछ घटा हो। मगर या... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   9:13am 12 Oct 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
हालांकिअभी मैं उस भूलने-भालने वाली उम्र में नहीं मगर फिर भी भूलने लगा हूं। कभी भी कुछ भी कैसे भी भूल जाता हूं। दो-चार दफा तो अपने घर का पता ही भूल चुका हूं। वो तो भला हो पड़ोसियों का उन्होंने मुझे घर पहुंचाया। लेकिन बेमकसद किसी के घर में घुस जाना मुझ जैसे शरीफ लेखक को सुहा... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   6:47am 12 Oct 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
मनुष्यमूलतः दोगली प्रजाति प्राणी है। दोगलापन उसकी नस-नस में बसा है। सामने कुछ और पीठ पीछे कुछ। दिनभर में जब तक दो-चार बातें इधर की उधर, उधर की इधर कर नहीं लेता उसकी रोटी हजम नहीं होती। दूसरों की जलाने और सुलगाने में उसे उतना ही आनंद आता है, जितना दूधिए को दूध में पानी मिल... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   7:33am 29 Sep 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
अभीरुपए की फिसलन रुक नहीं पाई, उधर तेल की बढ़ी कीमत अलग आग लगा रही है। विरोध का फोकस कभी रुपए पर केंद्रित हो जाता है तो कभी तेल पर। सरकार परेशान है, करे तो क्या करे। दबी जुबान में उसने कह भी दिया है- कीमतों पर नियंत्रण उसके बस से बाहर है!कुछ हद तक बात सही भी है। रुपए का लुढ़कना ... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   10:37am 28 Sep 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
इधर, मुझ इंस्टाग्राम पर शायरी करने का भूत सवार हुआ है। लोग फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप पर शेर कह रहे हैं, मैंने सोचा क्यों न मैं इंस्टाग्राम पर शायरी करूं। यह थोड़ा लीक से हटकर भी रहेगा और मुझे एक नए सोशल प्लेटफार्म पर शायर होने की इज्जत भी हासिल हो जाएगी। एक पंथ, दो काज होने ... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   4:43am 21 Sep 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
डॉलरने एक दफा फिर से रुपए को टंगड़ी मार गिरा दिया है। रुपया 71 के स्तर पर चारों खाने चित्त पड़ा है। बड़ी उम्मीद से वो सरकार और रिजर्व बैंक की तरफ देख रहा है; कोई तो आकर उसे उठाए। उससे सांत्वना के दो बोल बोले। उसमें फिर से उठने का जोश भरे।अफसोस, सरकार की तरफ से रुपए की गिरावट पर ... Read more
clicks 197 View   Vote 0 Like   5:47am 19 Sep 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
आईनानिहारने का मुझे शौक नहीं। मजबूरीवश निहारता हूं ताकि अपनी नाक को देख सकूं।चेहरे पर नाक मेरी मजबूरी है। आईने में अपनी साबूत नाक देखकर परेशान हो जाता हूं कि ये अभी भी जगह पर है, कटी क्यों नहीं!साबूत नाक के अपने लफड़े हैं। कटी नाक के नहीं। हालांकि सुख सबसे अधिक नाक के कट... Read more
clicks 232 View   Vote 0 Like   6:39am 29 Aug 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
नॉर्मललोग बड़ी आसानी से मिल जाते हैं। पर्सनल लोग खोजे नहीं मिल पाते। जीवन में घटने वाली तमाम घटनाओं के साथ जितना उम्दा सामंजस्य नार्मल लोग बैठा लेते हैं, उतना पर्सनल नहीं।यों भी, पर्सनल होने के नार्मल होने से कहीं ज्यादा खतरे हैं। मगर जो इन दोनों को साध ले, वो ही सच्चा स... Read more
clicks 189 View   Vote 0 Like   4:21am 28 Aug 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
लाइफमें सबकुछ मिलना इतना सरल न होता। संघर्ष तो करना ही पड़ता है। जीने से लेकर मृत्यु तक संघर्ष ही संघर्ष है।फिर भी, कुछ संघर्ष ऐसे होते हैं जो 'लाइन मारने'पर निर्भर करते हैं। जी हां, लाइन मारना भी संघर्ष की ही निशानी है।अमूमन लोग लाइन मारने को गलत-सलत अर्थों में ले लेते ह... Read more
clicks 212 View   Vote 0 Like   4:55am 27 Aug 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
सेंसेक्सने कामयाबी का एक और नया शिखर पार कर लिया। उसे कोटि-कोटि बधाई।दिली खुशी मिलती है सेंसेक्स को चढ़ता देख। बिना शोर-शराबा या शिकवा-शिकायत किए बेहद खामोशी से वो अपना काम करता रहता है। मैंने कभी उसे खुद से अपनी सफलता का जश्न मनाते या असफलता का रोना रोते नहीं देखा। यहा... Read more
clicks 231 View   Vote 0 Like   3:53am 9 Aug 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
यद्यपिमैं जानता हूं कि 'ट्रोल करना'या 'ट्रोल होना'दोनों ही सबसे खतरनाक सोशल अवस्थाएं हैं, फिर भी, मैं 'ट्रोल'होना चाहता हूं। ट्रोल होकर उससे मिलने वाले 'यश'या 'अपयश'को भुगतना चाहता हूं। देखना चाहता हूं, कल को मेरे ट्रोल होने पर अखबारों में जो 'हेड-लाइन'बनती हैं, वो कैसी होंग... Read more
clicks 223 View   Vote 0 Like   5:59am 3 Aug 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
ख्याली पुलावपकाने में हमारा जवाब नहीं। जब दिल किया किसी न किसी मसले पर ख्याली पुलाव पकाने बैठ गए। सबसे ज्यादा ख्याली पुलाव खाली दिमागों में ही पकते हैं। कभी-कभी इतना पक जाते हैं कि जलने की बू तक आने लगती है। लेकिन पकाने वाले को जलने की बू से कोई मतलब नहीं रहता। उसे तो सि... Read more
clicks 275 View   Vote 0 Like   4:13am 31 Jul 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
किस्मतवाले होते हैं वो जिन्हें किसी का गले लगना या आंख मारना नसीब होता है। वरना इस मतलबी दुनिया में किसे फुर्सत है, किसी के गले लगने या मौका भांप आंख मारने की।उन्होंने भी तो उस रोज संसद में यही किया था, भावावेश में जाकर उनके गले ही तो लगे थे। फिर, किसी को एक आंख मार अपना रू... Read more
clicks 233 View   Vote 0 Like   3:57am 24 Jul 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
अविश्वासप्रस्ताव को गिरना ही था, गिर गया। अब तक जिद के आगे जीत सुनते आए थे, इस दफा जिद के आगे हार देख ली। हार भी कोई ऐसी-वैसी नहीं, तगड़ी वाली। लेकिन गिरने या हारने का उन्हें कोई अफसोस नहीं। वे उनके चीख-पुकार युक्त भाषण में फिलहाल अपनी जीत देखकर ही मुतमईन हैं।देश का बुद्धि... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   5:03am 23 Jul 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
किसीवक़्त मुझे थूक और थूकने वालों से बहुत चिढ़ होती थी। किसी को भी थूकते देख दिमाग भन्ना जाता और दिल भीषण घृणा से भर उठता था। जी तो करता अभी उस बंदे का गिरेबान पकड़ उसके गले में जितना थूक जमा है अपनी उंगलियां डाल सब निकाल लूं। न आंगन टेढ़ा होगा। न राधा नाचेगी।मतलब हद होती है, ... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   6:08am 20 Jul 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
योंतो ऊपर वाले का दिया मेरे पास सबकुछ है, बस स्मार्टफोन ही नहीं है। ऐसा नहीं है कि मैं स्मार्टफोन खरीद नहीं सकता। खरीद सकता हूं, लेकिन खरीदता इसलिए नहीं क्योंकि स्मार्टफोन मेरे लिए 'अशुभ'है!पिछले दिनों शहर के एक ऊंचे ज्योतिष ने- मेरे ग्रहों के बर्ताव को देखते हुए- मुझे ह... Read more
clicks 211 View   Vote 0 Like   11:40am 17 Jul 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
मैंकई दिनों से इस कोशिश में लगा हूं कि अपना लक पहनकर चल सकूं। लेकिन लक है कि मेरे खांचे में ही नहीं आ पा रहा। जबकि लक की जरूरत के मुताबिक मैंने अपना आकार-प्रकार भी घटा लिया है। बात फिर भी बन नहीं पा रही।बार-बार दिल में यही ख्याल आता है कि मेरा लक दूसरों के लक से भिन्न क्यों ... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   8:46am 13 Jul 2018 #
Blogger: Anshu Mali Rastogi
जीते-जीइस बात का पता लगाना बेहद मुश्किल है कि ये दुनिया, समाज और नाते-रिश्तेदार आपके बारे में क्या और कैसा सोचते हैं। ये सब जानने के लिए आपको मरना पड़ेगा। क्योंकि इंसान की सामाजिक औकात का पता उसके मरने के बाद ही लगता है।तो, एक दिन मैंने भी यही सोचा क्यों न मर ही लिया जाए। य... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   9:11am 9 Jul 2018 #

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3957) कुल पोस्ट (193628)