Hamarivani.com

उच्चारण

पवन बसन्ती लुप्त हो गई,मौसम ने ली है अँगड़ाई।गेहूँ की बालियाँ सुखाने,पछुआ पश्चिम से है आई।।पर्वत का हिम पिघल रहा है,निर्झर बनकर मचल रहा है,जामुन-आम-नीम गदराये,फिर से बगिया है बौराई।गेहूँ की बालियाँ सुखाने,पछुआ पश्चिम से है आई।।रजनी में चन्दा दमका है,पूरब में सूरज चमका...
Tag :फिर से बगिया है बौराई
  February 27, 2019, 9:23 am
आतंकी हमले नहीं, करता देश कुबूल।उत्तर देता रहेगा, दुश्मन को माकूल।।खाम-खयाली में यहाँ, रहना नहीं हुजूर।समझौता अन्याय से, नहीं हमें मंजूर।।जितनी मिली चुनौतियाँ, सब करली स्वीकार।कायर के घर में किया, सेनाओं ने वार।।रणकौशल में निपुण हैं, सैनिक-सेनाधीश।झुकने देंगे वो नह...
Tag :नहीं हमें मंजूर
  February 26, 2019, 6:09 pm
नूतन आविष्कार ने, कैसा किया कमाल।गाँव-गाँव में सुलभ है, अब तो अन्तरजाल।।कब किसको क्या चाहिए, सबका रखता ख्याल।संचित अन्तरजाल पर, सभी तरह का माल।।मिलते अन्तरजाल पर, सभी तरह के चित्र।रुचियों के अनुसार ही, यहाँ बनाओ मित्र।।रोज फेसबुक-ब्लॉग पर, लिक्खो नवल विचार।बात-चीत का ...
Tag :दोहे
  February 25, 2019, 4:10 pm
चाहे चन्दा में कितने ही, धब्बे काले-काले हों।सूरज में चाहे कितने ही, सुख के भरे उजाले हों।लेकिन वो चन्दा जैसी, शीतलता नहीं दिखायेगा।अन्तर के अनुभावों में, कोमलता नहीं चगायेगा।।सूरज में है तपन, चाँद में ठण्डक चन्दन जैसी है।प्रेम-प्रीत के सम्वादों की, गुंजन-...
Tag :मैं 'मयंक' हूँ
  February 24, 2019, 8:05 am
समय-समय की बात है, समय-समय का फेर।मिट्टी को कंचन करे, नहीं लगाता देर।।समय पड़े पर गधे को, बाप बनाते लोग।समय बनाता सब जगह, कुछ संयोग-वियोग।।समय न करता है दया, जब अपनी पर आय।ज्ञानी-ध्यानी-बली को, देता धूल चटाय।।समय अगर अनुकूल है, कायर लगते शेर।मिट्टी को कंचन करे, नहीं...
Tag :समय का चक्र
  February 23, 2019, 4:04 pm
मोदी पाकिस्तान को, कभी न करना माफ।नक्शे पर से अब करो, उस पापी को साफ।।आजादी से पूर्व का, अब हो हिन्दुस्तान।बँटवारे के पाप का, अन्त करो श्रीमान।।विष हो जिनके दाँत में, वो ही होते नाग।चतुर-चपल-मक्कार को, दुनिया कहती काग।।मानवता को दे रहा, जो विषधर सन्ताप।उस पापी के शी...
Tag :दोहे
  February 22, 2019, 3:36 pm
लिया नामवर सिंह ने, अब पूरा अवकाश।सूना-सूना लग रहा, हिन्दी का आकाश।।ईश्वर ने दी थी जिन्हें, सच्ची-वाचिक शक्ति।कलमकार थे नामवर, बहुत विलक्षण व्यक्ति।।किया नामवर सिंह ने, हिन्दी पर उपकार।सारे जग में कर दिया, हिन्दी को गुलजार।।पंचतत्व में मिल गया, हिन्दी का अब लाल।...
Tag :बहुत बड़ा नुकसान
  February 21, 2019, 5:38 pm
जो लगता था कभी पराया,जाने कब मनमीत हो गया।पतझड़ में जो लिखा तराना,वो वासन्ती गीत हो गया।।अच्छे लगते हैं अब सपने,अनजाने भी लगते अपने,पारस पत्थर को छू करके,रिश्ता आज पुनीत हो गया।मैंने जब सरगम को गाया,उसने सुर में ताल बजाया,गायन-वादन के संगम से,मनमोहक संगीत हो गया।सुलझ गय...
Tag :रिश्ता आज पुनीत हो गया
  February 20, 2019, 7:54 am
हार से सीखिए, जीत का आचरण।सीखिए गीत से, गीत का व्याकरण।।बात कहने से पहले विचारो जरामैल दर्पण का अपने उतारो जरातन सँवारो जरा, मन निखारो जराआइने में स्वयं को निहारो जरादर्प का सब हटा दीजिए आवरण।सीखिए गीत से, गीत का व्याकरण।।मत समझना सरल, ज़िन्दग़ी की डगरअज़नबी लोग ह...
Tag :जीत का आचरण
  February 19, 2019, 4:13 pm
बिना युद्ध के वीर क्यों, होते रोज शहीद।माँ-बहनों की दिनों-दिन, टूट रही उम्मीद।।अच्छी लगती है बहुत, जोशीली तकरीर।लेकिन भाषण पर अमल, कब होगा प्रणवीर।।जो कुछ भाषण में कहा, पूर्ण करो वागीश।बैरी के अब काटिए, बदले में सौ शीश।।अब तक पाकिस्तान को, किया नहीं बरबाद।लोगों को...
Tag :दोहे
  February 18, 2019, 8:30 pm
सीमाओं पर देश की, सैनिक हैं तैनात।बैरी से सीधे करो, गोली से अब बात।।बैरी कायर की तरह, जब करता हो घात।रुकना शह देकर नहीं, करना पूरी मात।।मन में अब तो प्रीत के, नहीं रहे ज़ज़्बात।अब लातों के भूत से, करो न कोई बात।।दिखला दो अब दुष्ट को, उसकी असली जात।हो पायेगी कारगर, तभी काम क...
Tag :दोहे
  February 17, 2019, 9:18 pm
माँ-बहनों के लाडले, सजनी के सिन्दूर। रखवाले अब हो गये, भारत माँ से दूर।भाषण तक सीमित ने हों, भीषण-भाषणवीर।जन-गण अब यह चाहता, नेता हों प्रणवीर।।जन-जन में प्रतिशोध की, धधक रही है आग।कब बैरी के खून से, खेलोगे तुम फाग।।दिखा दीजिए जगत को, अपना आज वजूद।पापी पाकिस्तान को, कर...
Tag :धधक रही है आग
  February 16, 2019, 9:00 pm
 सहन करोगे कब तलक, चूहों की ललकार।अब तो पाकिस्तान से, बदला लो सरकार।।सीना छप्पन इंच का, कहाँ गया श्रीमान।सीधे-सीधे युद्ध का, कर दो अब ऐलान।।नीच कर्म पर जो कभी, करता नहीं विचार।उसके प्रति है किसलिए, चौकीदार उदार।।केवल निन्दा से नहीं, आज चलेगा काम।पापी पाकिस्तान ...
Tag :बदला लो सरकार
  February 15, 2019, 8:30 pm
अंगारा टेसू हुआ, सेमल भी है लाल।बासन्ती परिवेश में, निर्मल नदियाँ-ताल।।--मैदानों में हो गयी, थोड़ी सी बरसात।पेड़ों के तन पर सजे, नूतन-कोमल पात।।--आम-नीम गदरा रहे, फूल रहे हैं खेत।परिवर्तन अपनाइए, कुदरत का संकेत।।--दुनियादारी में कभी, होना नहीं उदास।पर्व और उत्सव सदा, लाते...
Tag :दोहे
  February 14, 2019, 3:23 pm
प्रेमदिवस पर आ गये, युगल आज नज़दीक।सागर तट पर देखिए, लगे चहकने बीच।१।--तोता-तोती पर चढ़ा, प्रेम-दिवस का रंग।दोनों ही सहला रहे, इक-दूजे के अंग।२।--प्रेम दिवस में हो रहा, खेल बहुत संगीन।शब्द-ज़ाल में फँस गई, नाजुक उम्र हसीन।३।--नादानी में भूल से, कभी न करना प्...
Tag :प्रेमदिवस का खेल
  February 13, 2019, 6:14 pm
आदमी के इरादे बदलने लगेदीन-ईमान पल-पल फिसलने लगेचल पड़ी गर्म अब तो हवाएँ यहाँसभ्यता के हिमालय पिघलने लगेफूल कैसे खिलेंगे चमन में भला,लोग मासूम कलियाँ मसलने लगे।अब तो पूरब में सूरज लगा डूबनेपश्चिमी रंग में लोग ढलने लगेदेख उजले लिबासों में मैले मगरशान्त सागर के आँसू न...
Tag :सभ्यता के हिमालय पिघलने लगे
  February 13, 2019, 7:00 am
जो दिल से उपजे वही, होता सच्चा प्यार।मिलन नहीं है वासना, आलिंगन उपहार।।पश्चिम के परिवेश की, ले करके हम आड़।आलिंगन के नाम पर, करते हैं खिलवाड़।।एकदिवस के लिए क्यों, करते हो व्यापार।जीवनभर करते रहो, मीठा-मीठा प्यार।।मानवता अपनाइए, यही हमारा मन्त्र।वासनाओं...
Tag :दोहे
  February 12, 2019, 9:55 am
आम आदमी के नहीं, हुआ दुखों का अन्त।शीत और बरसात से, फीका पड़ा बसन्त।।वासन्ती परिवेश में, काँप रहा है गात।अब भी रोज पहाड़ पर, होता है हिमपात।।मौसम को भगवान भी, गया आज तो भूल।टेसू के भी पेड़ पर, खिले न अब तक फूल।।बदल रहा है आदमी, ज्यों-ज्यों अपने रंग।मौसम भी है बदलता, त...
Tag :फीका पड़ा बसन्त
  February 11, 2019, 4:19 pm
हर्षित होकर राग भ्रमर ने गाया है!  लगता है बसन्त आया है!!नयनों में सज उठे सिन्दूरी सपने से,कानों में बज उठे साज कुछ अपने से,पुलकित होकर रोम-रोम मुस्काया है!लगता है बसन्त आया है!!खेतों ने परिधान बसन्ती पहना है,आज धरा ने धारा नूतन गहना है,आम-नीम पर बौर उमड़ आया है!लगता है ब...
Tag :गीत
  February 10, 2019, 5:02 pm
आया है ऋतुराज अब, समय हुआ अनुकूल।बौराये हैं पेड़ भी, पाकर कोमल फूल।।--टेसू अंगारा हुआ, खेत उगलते गन्ध।सपने सिन्दूरी हुए, देख नये सम्बन्ध।।--पंछी कलरव कर रहे, देख बसन्ती रूप।शाखा पर बैठे हुए, सेंक रहे हैं धूप।।--सरसों फूली खेत में, गेहूँ करे किलोल।कानों में पड़ने लगे, कोयल...
Tag :लड़ा रहे हैं आँख
  February 9, 2019, 7:05 am
गघे नहीं खाते जिसे, तम्बाकू वो चीज।खान-पान की मनुज को, बिल्कुल नहीं तमीज।।--रोग कैंसर का लगे, समझ रहे हैं लोग।फिर भी करते जा रहे, तम्बाकू उपयोग।।--खैनी-गुटका-पान का, है हर जगह रिवाज।गाँजा, भाँग-शराब का, चलन बढ़ गया आज।।--तम्बाकू को त्याग दो, होगा बदन निरोग।जीवन में अपनाइए, भो...
Tag :दोहे
  February 8, 2019, 12:50 pm
पश्चिम के अनुकरण का, बढ़ने लगा रिवाज। प्रेमदिवस सप्ताह का, दिवस दूसरा आज।।--कल गुलाब का दिवस था, आज दिवस प्रस्ताव।लेकिन सच्चे प्रेम का, सचमुच दिखा अभाव।।--राजनीति जैसा हुआ, आज प्रणय का खेल।झूठे हैं प्रस्ताव सब, झूठा मन का मेल।।--मिला कनिष्ठा अंगुली, होते हैं प...
Tag :प्रेम का सचमुच हुआ अभाव
  February 8, 2019, 7:30 am
सुख के बादल कभी न बरसे, दुख-सन्ताप बहुत झेले हैं!जीवन की आपाधापी में,झंझावात बहुत फैले हैं!!अनजाने से अपने लगते,बेगाने से सपने लगते,जिनको पाक-साफ समझा था,उनके ही अन्तस् मैले हैं!जीवन की आपाधापी में,झंझावात बहुत फैले हैं!!बन्धक आजादी खादी में,संसद शामिल बर्बादी में,...
Tag :गीत
  February 7, 2019, 10:35 am
बारिश-कुहरे से घिरा, पूरा उत्तर देश।नहीं बना मधुमास में, बासन्ती परिवेश।।नभ आँसू टपका रहा, सहमे रस्म-रिवाज।बहुत विलम्बित हो रहा, ऐसे में ऋतुराज।।लौट-लौट कर आ रहा, हाड़ कँपाता शीत।नहीं सुनायी दे रहा, मनभावन संगीत।।शुरू हो रहा आज से, विश्व प्रणय सप्ताह।लेकिन मौसम क...
Tag :विश्व प्रणय सप्ताह
  February 6, 2019, 4:30 pm
सरदी अब घटने लगी, चहका है मधुमास।खेतों से नव-अन्न की, आने लगी सुवास।।--बया नीड़ से झाँकती, अपने चारों ओर। हरित धरा पर हो गयी, अब तो सुन्दर भोर।।--धूम मचाने आ गया, फिर से अब ऋतुराज।बदल गया मधुमास में, सबका आज मिजाज।।--जोड़ों पर चढ़ने लगा, फिर से इश्क बुखार।वादों की चलने लगी, ...
Tag :बहता शीतल नीर
  February 5, 2019, 8:03 am

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3855) कुल पोस्ट (187401)