POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: *काव्य-कल्पना*

Blogger: satyam shivam
तुम चली गयी,पर गयी नहीं,एहसास तुम्हारे होने का।दिल के खाली उस कोने का,वो दर्द तुम्हारे खोने का।गुमशुम हूँ,चुप हूँ,खोया हूँ,एकाकीपन में रोया हूँ,कभी शाम ढ़ले फिर आओगी,पलकों पे सपने बोया हूँ।अब बीत गयी है रात,नहीं तुम पास,पहर ये रोने का।तुम चली गयी,पर गयी नहीं,एहसास तुम्ह... Read more
clicks 269 View   Vote 0 Like   2:08am 21 May 2012 #सत्यम शिवम कविता
Blogger: satyam shivam
आप सभी श्रेष्ठजनों के आशीर्वाद से मेरे प्रथम काव्य संग्रह "मेरे बाद" का लोकार्पण कार्यक्रम 15.04.2012 को समपन्न हुआ।इस अवसर पर माननीय सदर एस.डी.ओ और वरिष्ठ साहित्यकार एवं कवि उपस्थित थे साथ ही शहर के प्रतिष्ठित और गणमान्य व्यक्तियों का जमावड़ा लगा था।विभिन्न अखबारों से आय... Read more
clicks 281 View   Vote 1 Like   6:19pm 22 Apr 2012 #काव्य कल्पना
Blogger: satyam shivam
तुम्हारी धुन पर नाचे आज मेरे गीत,कहो तुम हो कहाँ ओ व्याकुल मन के मीत।झंकृत है ये तन,मन और जीवन,हो रहा है ह्रदय नर्तन,थिरक कर कर रही कोशिश,झूमने की आज दर्पण।होंठों पर सुरमयी शब्द के,अक्षरों की होगी जीत।तुम्हारी धुन पर नाचे आज मेरे गीत।बहकने लगे है सुधियों के नियंत्रक,तन ... Read more
clicks 264 View   Vote 0 Like   5:21am 24 Mar 2012 #सत्यम शिवम कविता
Blogger: satyam shivam
मेरे आंगन में मुरझाते हुये तुलसी पौधे को समर्पित......एक पौधा तुलसी का,आँगन में मेरे।प्रार्थना,आराधना करता रहा है।सुख के क्षण में प्राण वायु दान बन,क्लेश में संताप से मरता रहा है।अपने जड़ में वह छुपाये,शांति और स्नेह धारा,तीव्रतम वायु ने छीना,तरु से जब  पत्र सारा।करुण पी... Read more
clicks 318 View   Vote 0 Like   4:58pm 24 Feb 2012 #भाव रस
Blogger: satyam shivam
मेरे दुख तूने साथ निभाया।तब जब कोई न था अपना,टूट चुका था हर एक सपना।घर था पर न थी छत ऊपर,बारिश से भींगा तन तर,तर।अन्न नहीं थे,वस्त्र नहीं थे,आँसू के दो बूँद सही थे।खारेपन में अपनत्व मिलाकर,तू गागर में सागर भर लाया।मेरे दुख तूने साथ निभाया।साँझ ढ़ली जब बैठ अकेला,जीवन की अं... Read more
clicks 290 View   Vote 0 Like   4:20pm 19 Feb 2012 #भाव रस
Blogger: satyam shivam
रात को आभास है स्वर्णिम सुबह की।तीमिर है काली,भयानक पास आती,नयनों की ज्योति है जैसे दूर जाती।थक गया है प्राण और निर्माण सारा,बोझ से दब सी गयी है सब की छाती।वह जो मुस्कुरा रहा है देख मुझको,आँसू भी है मोती जैसे दिल के तह की।रात को आभास है स्वर्णिम सुबह की।मैने कितने किस्स... Read more
clicks 285 View   Vote 0 Like   11:53am 31 Jan 2012 #भाव रस
Blogger: satyam shivam
हे देव! तुम्हारी बाँसुरी में आखिर कैसा जादू है,मै हरदम सोई रहती हूँ,नशे में खोई रहती हूँ।जब भी तुम मेरे मन के उपवन में हौले से आते हो,और अपनी नटखट अदाओं से मुझे दिवाना बनाते हो।ऐसा लगता है कि मै कोई नहीं हूँ,मै तो उस यमुना का वो किनारा हूँ,जहाँ तुम अक्सर बैठकर बाँसुरी बजात... Read more
clicks 257 View   Vote 0 Like   12:36pm 20 Jan 2012 #सत्यम शिवम कविता
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3975) कुल पोस्ट (190906)