POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: 'परचेत'

Blogger: पी सी गोदियाल
वैरियों से जुडे हों जिनके तार ऐसे,कृषक भेष मे लुंठक, बटमार ऐसे,कापुरुष किसान परेड की आड मे,कर रहे है, देश-छवि शर्मशार ऐसे।इधर ये, वीरों के शौर्य को सलाम करके लोग करते गणतंत्र पर्व को साकार ऐसे ,उधर वो, लालकिले को  रौंदने मे लगे हैं,कुछ फसादी, तुच्छ-स्वार्थी मक्कार ऐसे... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   11:53am 26 Jan 2021 #
Blogger: पी सी गोदियाल
समय की कीमत, हमेंं न समझा ऐ दोस्त, वक्त अपना व्यतीत के,हमारा तो पीछा ही नहीं छोडते कमबख़्त, कुछ पछतावे अतीत के।... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   4:08pm 22 Jan 2021 #
Blogger: पी सी गोदियाल
बीच तुम्हारे-हमारे ये रिश्ते, यूं न इसतरह नासाज़ होते, फक़त,इसकदर दूरियों मे सिमटे हुए न हम आज़ होते,तुम्हारी सौगंध, हम हर लम्हे को बाहों मे समेटे रखते,थोडा जो अगर तुम्हारे,मर्यादा मे रखे अलफाज़ होते।... Read more
clicks 13 View   Vote 0 Like   4:36pm 21 Jan 2021 #
Blogger: पी सी गोदियाल
 ना ही कोई बंदिश, ना ही कोई परहेज़, मैं अपने ही उदर पर कहर ढाता रहा। लजीज़ हरइक पकवान वो परोस्ते गये,और स्वाद का शौकीन, मैं खाता  रहा।।... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   3:34pm 20 Jan 2021 #
Blogger: पी सी गोदियाल
टलोलता ही फिर रहा हूँ उम्र को, तभी से मैं हर इक दराज़ मे,जबसे, कुछ अजीज ये कह गये कि'परचेत'तू अब, उम्रदराज़ हो गया।... Read more
clicks 11 View   Vote 0 Like   1:51pm 19 Jan 2021 #
Blogger: पी सी गोदियाल
अजीब सी पशोपेश मे हूँ, मैं इधर गाऊँ कि उधर गाऊँ?इक गजल लिखी है मैंने तुमपर, तुम सुनो तो मैं सुनाऊँ।हो क़दरदान तुम बहुत, गुल़रुखों के नगमा-ए-साज के,तारों भरी रात, नयनोँ मे बरसात, धुन कौन सी बजाऊँ?अजीब सी पशोपेश मे हूँ, मैं इधर गाऊँ कि उधर गाऊँ?इक गजल लिखी ... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   8:51am 17 Jan 2021 #
Blogger: पी सी गोदियाल
तुम न कभी अश्क बहाना, ऐ दोस्त,क्यूंकि तुम बे'गम'हो,ये तुम्हारा धुर्त 'शो'हर तो,यूं ही, मजे लेने के खातिर रो लेता  हैं।... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   2:53pm 10 Jan 2021 #
Blogger: पी सी गोदियाल
ब़ंद कबूतरखाने से जब, इक तोता निकला तोसब के सब ने एक स्वर कहा, ये कैसे, ये कैंसे ?एक ज्ञानी सज्जन, जो समीप ही खडे थे बोले,राजशाही अस्तबल से, इक खोता निकला जैसे।... Read more
clicks 26 View   Vote 0 Like   3:09pm 15 Dec 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
औकात मे रह, वरनामैं तुझे फोड डालूंगा...सच्ची कह रहा हूँ...दूर रह मुझसे, वरना... मैं तुझे तोड डालूंगा।माना कि तुझे मैंने खूब,पिया भी व पिलाया भी,हम बीच रिश्ते को वजनदिया भी और दिलाया भी,किंतु, प्रकट न हो,यूं तकलीफ़ियों सी भी,क्योंकि, हद होती है नजदीकियों की भी।ख्वाहिश बनके ... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   3:52pm 24 Nov 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
 ऐ साहुकार, तु कर न वसूली की तकरार,मुझे दिए हुए लोन पे,मन्ने तो मांगा नी था,लोन देने का कौल तेरा ही आया था भैया, मेरे फोन पे ।... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   9:30pm 22 Nov 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
जब हम न होंगे, मायूस तो तुम अवश्य होंगी हमें खोकर ।जीवन मे पग-पग,बिंदास हमें लगने वाली ऐ, हर एक ठोकर ।।... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   4:22pm 6 Nov 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
हिम्मत है तुझमें तो तू निकल के दिखा, मुख से, पेट से, दांतों या फिर आंखों से,ऐ मेरे दर्द, अब तू बच नहीं सकता, क्योंकिमैने तुझे बांध दिया है, जिंदगी की सलाखों से।... Read more
clicks 45 View   Vote 0 Like   4:18pm 26 Oct 2020 #
clicks 57 View   Vote 0 Like   2:45pm 17 Oct 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
दुआ है कि इसीतरह फूले-फले व्यवसाय तुम्हारा,ऐ तमाम दौरा-ए-कोरोना, कफन बेचने वालों,मगर, कुछ कतरा-ए-कफ़न अपने लिए भी सम्भाले रखना,क्या पता, कब इसकी जरूरत, तुम्हें भी आन पडे।... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   3:52pm 13 Oct 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
मोदीजी सुनाते मन की बात, और मैं मन की व्यथा सुनाऊंं, सुनो ऐ प्यारे हिन्द वासियों,आओ, मैं तुमको कथा सुनाऊं।एक सूखी डंठल, जड़ मजीठ का,किंतु, कथावाचक हूँ व्यास पीठ का,छै महिने लॉकडाउन, बंद कमरे मेकितना इस मन को मथा सुनाऊं।बताओ, वाचन करुं मैं शुरू कहाँ से,राजा यथा सुनाऊं या ... Read more
clicks 46 View   Vote 0 Like   7:03am 27 Sep 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
जबसे अकृत्यकारी चीन के कोरोना जी नेतमाम दुनिया को फांसा हैं,शायद आपने गौर किया हो,केजरीवाल जी एक बार भी नहीं खांसा है।😂😂... Read more
clicks 62 View   Vote 0 Like   12:11am 25 Sep 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
हमने चेहरे पे मास्क क्या लगाया 'परचेत',  कुछ नादां  हमें बेजुबांं समझ बैठे,फितरतन, चुप रहने की आदत तो न थी, क्या करे, बेवश थे चीनी तोहफे़ के आगे।... Read more
clicks 59 View   Vote 0 Like   3:04pm 21 Sep 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
 गले लगाया है तेरी जुल्फो़ंं की मोहब्बत ने, जबसे तन्हाइयों को, गाहक मिलने ही बन्द हो गये, 'परचेत' तमाम शहर के नाइयों को।... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   9:48am 20 Sep 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
 चम्मचे-ए-खास अभी अभी गये,मुंह खोला तो गुलाम नबी गये।।😀😀... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   1:16am 12 Sep 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
 उधर वो हैं कि सिद्दत से पैरों तले दायरा खींच के बैठे हैं,और इधर हम हैं, जिन्होंने 'दायरों'मे ही जिंदगी गुजार दी।... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   3:14pm 8 Sep 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
निकले थे दिनकर इंद्रप्रस्थ सेऔर सांझ उनकी गुरुग्राम गई,गुम, कुछ वाहियात सी ख्व़ाहिशे,आडे-तिरछे जिन्हें बुना था कभी,चुस्त एकाकीपन की सलाइयों से,ढूंढते हुए उन्हें इक और शाम गई।xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxपद्य पर गजब का नशा था जमाने मे,और मै व्यवस्थ रहा, गद्य सजाने मे।... Read more
clicks 37 View   Vote 0 Like   3:20pm 6 Sep 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
ज्यादा पुरानी बात नहीं है, आपको याद होगा शेयर बाजार जब इक्तालिस हजारी थे तो 55 हजारी की बात की जा रही थी और कर कौन रहे थे ? बाजारू गिद्ध। फिर क्या हुआ ? 41 हजारी 30 से भी कहीं नीचे आ लुडका। अब भला , दोष कोरोना का ही क्यों न रहा हो।बस, इस संक्षिप्त पोस्ट के मार्फत आपको यही चेताना है ... Read more
clicks 46 View   Vote 0 Like   4:28pm 29 Aug 2020 #
Blogger: पी सी गोदियाल
 इतनी संजीदा जे बात तुमने, गर यूं मुख़्तसर सी न कही होती,मिलने को हम तुमसे, मुक्तसर से अमृतसर पैदल ही चले आते।... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   3:27pm 18 Aug 2020 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4017) कुल पोस्ट (192900)