Hamarivani.com

रोज़ की रोटी - Daily Bread

      मेरी एक सहेली ने उसके द्वारा बनाए गए कुछ मिट्टी के बर्तन मुझे भेजे। उसके द्वारा भेजे गए डिब्बे को खोलने पर मैंने देखा कि उनकी उस यात्रा में वे बहुमूल्य वस्तुएँ क्षतिग्रस्त हो गई थीं। एक प्याला कुछ बड़े और कुछ छोटे टुकड़ों में टूट गया था और उसके कुछ भाग मिट्टी ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :प्रोत्साहन
  June 21, 2019, 8:45 pm
      कुछ महीने पहले मुझे ई-मेल से ‘जोशीले’ लोगों के एक समूह का सदस्य बनने का निमंत्रण मिला। मैंने उत्सुकतावश उस निमंत्रण के संदर्भ में ‘जोशीले’ शब्द के तात्पर्य को समझने के लिए, उस शब्द का थोड़ा अध्ययन किया। मेरे अध्ययन से मुझे पता चला कि उनका ‘जोशीले’ शब्द द्वा...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :जोशीला
  June 19, 2019, 8:45 pm
      एक बार मेरे पिता ने मेरे सामने स्वीकार किया, “जब तुम बड़ी हो रही थीं, तो बहुधा मैं घर से बाहर होता था।” लेकिन मुझे ऐसा कुछ स्मरण नहीं आता है। अपनी नौकरी को उसका समय देने के अतिरिक्त, वे कुछ संध्या-समय चर्च में संगीत-मण्डली को अभ्यास करवाने के लिए जाया करते थे, और ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :पिता
  June 18, 2019, 8:45 pm
      मेरे पिता युवावस्था में, अपने मित्रों के साथ शहर से बाहर जा रहे थे, कि वर्षा से गीली सड़क पर उनकी कार के टायर फिसलने से कार की भयानक दुर्घटना हो गई, जिससे उनके एक मित्र की मृत्यु हो गई, दूसरे को लकवा मार गया, और मेरे पिता को मृतक कह कर शव-ग्रह में डाल दिया गया। उनके...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :जीवन
  June 16, 2019, 8:45 pm
      मेरी एक सहेली के साथ एक विषय को लेकर विचारों में भिन्नता थी, जिसके  लिए मैंने उसे ई-मेल से संपर्क किया; किन्तु उसने कोई प्रत्युत्तर नहीं दिया। उसकी खामोशी देखकर मैं सोचने लगी कि क्या मैंने सीमाएं लाँघ दीन हैं? मैं बारंबार उसे इस बात के लिए संपर्क करके परेशा...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :धैर्य
  June 15, 2019, 8:45 pm
      हमारे चर्च के स्तुतिगान समूह में जब मेरे पति माउथ-ऑर्गन बजाते हैं तो मैंने ध्यान किया है कि वे कभी-कभी बजाते समय अपनी आँखे बन्द कर लेते हैं। उनका कहना है कि वे यह इसलिए करते हैं जिससे उनका ध्यान बंटाने वाली किसी बात के कारण उनके बजाने में खलल न पड़े और वे पूरी ए...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :प्रार्थना
  June 11, 2019, 8:45 pm
      बहुधा, जो कार्य मेरे सामने होते हैं, उन्हें करने के लिए मैं अपने आप को पूर्णतः अयोग्य पाता हूँ। वह चाहे सन्डे स्कूल में पढ़ाना हो, किसी मित्र को परामर्श देना हो, या इस पुस्तिका के लिए लिखना हो, मुझे सदा ही यह लगता है कि चुनौती मेरी क्षमता से बढ़कर है। पतरस के समान ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :महिमा
  June 1, 2019, 8:45 pm
      उस कार पर परमेश्वर के विरोध में लगे स्टिकर्स ने एक विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर का ध्यान आकर्षित किया। वह प्रोफ़ेसर कभी स्वयँ भी नास्तिक हुआ करता था, और उसने सोचा कि कार का मालिक परमेश्वर में विश्वास करने वालों को उत्तेजित और क्रुद्ध करना चाहता था। प्रोफ़ेसर न...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :प्रतिनिधि
  May 23, 2019, 8:45 pm
      व्यंग्य-चित्र बनाने वाले कलाकार सार्वजनिक स्थानों पर अपना चित्र बनाने का सामान लगाकर उन लोगों के व्यंग्य-चित्र बना देते हैं जो इसके लिए उनका पारिश्रमिक देने को तैयार होते हैं। उनके चित्र हमारा मनोरंजन करते हैं, क्योंकि वे हमारे शारीरिक गुणों में से एक या ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :परमेश्वर
  May 21, 2019, 8:45 pm
      मेरे बच्चे जब छोटे ही थे तो वह बाहर हमारे घर के बगीचे में खेला करते थे, जो इंग्लैण्ड के मौसम के कारण बहुधा गीला ही रहता था। इस कारण वे खेलते हुए कीचड़ और मिट्टी से गंदे हो जाते थे। उनके तथा अपने घर के फर्श की भलाई के लिए मैं उनके घर में घुसते समय दरवाज़े पर ही उनके ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :पाप
  May 18, 2019, 8:45 pm
      मेरा बेटा, ज़ेवियर, जब छोटा ही था, तो उसे मुझे फूल लाकर देना बहुत पसन्द था। मुझे उसके लाए वे फूल, वे चाहे जंगली घास से तोड़े गए हों, या उसने अपने पिता के साथ जाकर किसी दूकान से खरीदे हों, बहुत अच्छे लगते थे, और मैं उन्हें तब तक संभाल कर रखती थी जब तक के वे इतने नहीं मु...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :फूल
  May 15, 2019, 8:45 pm
      मुझे एक महिला से एक अद्भुत ई-मेल प्राप्त हुआ; उसने लिखा, “आपकी माँ प्रथम कक्षा में मेरी शिक्षिका थीं। वे बहुत अच्छी तथा दयालु शिक्षिका तो थीं, साथ ही वे बहुत अनुशासनप्रिय भी थीं। उन्होंने हमें भजन 23 स्मरण कर के रखने के लिए कहा था, और वे उसे हम से सारी कक्षा के स...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :प्रेम
  May 14, 2019, 8:45 pm
      कठिनाइयों तथा हानि के हमारे अनुभव हमें असमंजस में, क्रोधित, और दोषी कर सकते हैं। चाहे हमारे द्वारा किए गए चुनावों ने हमारे लिए कुछ द्वार बन्द कर दिए हों जो अब फिर कभी नहीं खुल सकेंगे, या, हमारा कोई दोष न होते हुए भी हमारे जीवनों में कोई त्रासदी आ गई हो; जो भी हो, ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :परिवर्तन
  May 5, 2019, 8:45 pm
      काएली ने पूर्वी अफ्रीका के एक भीतरी इलाके में चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध करवाने के लिए जा रहे अभियान में सम्मिलित होने के अवसर को तुरंत सहर्ष स्वीकार तो कर लिया, किन्तु उसे कुछ बेचैनी भी थी। उसे कोई भी चिकित्सा संबंधित अनुभव नहीं था; वह केवल बुनियादी देखभाल ही ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :भरोसा
  May 2, 2019, 8:45 pm
      हम अपनी यात्रा में देर रात एक ग्रामीण विश्रामगृह में रुके, और हमें यह देखकर प्रसन्नता हुई कि हमारे कमरे के साथ एक बालकनी भी थी, जिससे बाहर का दृश्य देखा जा सकता था। किन्तु उस समय घना कोहरा छाया हुआ था, इसलिए उस अन्धकार में बालकनी से बाहर का दृश्य दिखाई नहीं दे ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :निराशा
  April 29, 2019, 8:45 pm
      मैं जैमैका में एक छोटे चर्च में खड़ा था, और मैंने अपने सबसे उत्तम तरीके से वहाँ उपस्थित लोगों से, उनकी भाषा में कहा, “वा गवान जैमैका?” प्रतिक्रिया मेरी आशा से बेहतर थी, और उपस्थित लोगों की मुस्कुराहटों और तालियों ने मेरा स्वागत किया। वास्तव में मैंने उन की भाष...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :भाषा
  April 27, 2019, 8:45 pm
      कैनाडा की एक ट्रेन में यात्रा कर रहे लोगों ने एक तनावपूर्ण स्थिति का मार्मिक अन्त होते हुए देखा। एक जवान व्यक्ति ट्रेन में ऊँची आवाज़ में बोल रहा था, औरों को भयभीत तथा अशांत कर रहा था। एक 70 वर्षीय वृद्ध महिला ने अपने हाथ बढ़ाकर कोमलता से उसे स्पर्श किया, अपना हा...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :कोढ़
  April 26, 2019, 8:45 pm
      बॉब फॉस्टर 50 वर्ष से भी अधिक से मेरे मित्र, सहायक और सलाहकार रहे हैं; उन्होंने मुझे लेकर कभी हार नहीं मानी है। उनकी, मेरे सबसे कठिन समयों में भी, कभी न बदलने वाली मित्रता और प्रोत्साहन ने मुझे अनेकों परिस्थितियों से सफलतापूर्वक पार होने में सहायता की है।  ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :भरोसा
  April 25, 2019, 8:45 pm
      मेरी सहेली ग्लोरिया ने मुझे फोन किया, उसकी आवाज़ में उत्साह था। अपनी शारीरिक अक्षमताओं के कारण वह घर से बाहर केवल डॉक्टर को दिखाने के लिए ही निकलने पाती थी; इसलिए जो उसने मुझे बताया उसे लेकर उसके उत्साह और उत्तेजना को मैं समझ सकती थी। ग्लोरिया ने कहा, “मेरे बे...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :कृतज्ञ
  April 24, 2019, 8:45 pm
      जब एक व्यक्ति से पूछा गया कि क्या उसे लगता है कि आज के समाज की समस्या उदासीन रहना तथा जानकारी न रखना हो सकती है, तो उसने मुस्कुराते हुई उत्तर दिया, “न मैं यह जानता हूँ, और न ही इसकी परवाह करता हूँ।”      मुझे लगता है कि आज अनेकों निराश लोग सँसार तथा औरों क...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :पुनरुत्थान
  April 21, 2019, 8:45 pm
      यदि कोई मित्र साथ हो तो क्या पीड़ा अधिक सहनीय हो जाती है? वर्जीनिया विश्विद्यालय के कुछ शोधकर्ताओं ने इस प्रश्न का उत्तर पाने के लिए एक रोचक अध्ययन किया। वे देखना चाहते थे कि पीड़ा होने की आशंका के प्रति मस्तिष्क में क्या प्रतिक्रियाएं होती हैं, और क्या ये प्...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :प्रार्थना
  April 18, 2019, 8:45 pm
      एक पास्टर ने चर्च के लोगों के सामने बेचैन करने वाली चुनौती रखते हुए कहा, “कैसा हो यदि हम अपने कोट उतार कर उन्हें दे दें जिनके पास नहीं हैं, और जिन्हें आवश्यकता है?” यह कहकर उसने अपना कोट उतारा और चर्च के आगे रख दिया। उसके बाद कई औरों ने भी उसके उदाहरण का अनुसरण ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :देना
  April 16, 2019, 8:45 pm
      मेरी एक सहेली ने, जो हाल ही में अनेकों परिस्थितियों से होकर निकली थी, लिखा, “मैं जब अपने विद्यार्थी जीवन के पिछले चार छःमाही सत्रों पर ध्यान करती हूँ, तो पाती हूँ कि बहुत सी बातें परिवर्तित हुई हैं...यह भयावह है, वास्तव में बहुत भयावह है कि कुछ भी स्थाई नहीं है, ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :परिवर्तन
  April 6, 2019, 8:45 pm
      टोगो की मोनो नदी में अपने बपतिस्मा होने के प्रतीक्षा करते हुए, कोस्सी ने नीचे झुक कर एक घिसी हुई लकड़ी की मूर्ति उठाई। उसका परिवार पीढ़ियों से उस मूर्ति का उपासक रहा था। परिवार के लोगों के सामने, कोस्सी ने उस मूर्ति को पास में जल रही आग में फेंक दिया। अब उन्हें ...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :परमेश्वर
  April 5, 2019, 8:45 pm
      मुझे कभी नहीं भूलेगा कि मैं अपनी सहेली के भाई की मृत्यु के समय उसकी शैया के निकट बैठी थी। वह साधारण में असाधारण के आगमन का दृश्य था। हम तीन जन शान्त होकर बातचीत कर रहे थे जब हमें एहसास हुआ कि रिचर्ड खींच-खींच कर साँस लेने लगा है। हम उसके चारों ओर जमा हो गए, उसे द...
रोज़ की रोटी - Daily Bread...
Tag :जीवन
  March 30, 2019, 8:45 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3883) कुल पोस्ट (189468)