Hamarivani.com

बेचैन आत्मा

पूरे चालीस मिनट देर से चली पैसिंजर। जैसे सुबह सुबह मछुआरे जाल फैलाकर पकड़ने लगते हैं मछलियां वैसे ही ठीक सात बजे गमछा फैलाकर पूरे मन से #तास खेलते हुए लोहे के घर के साथी पकड़ रहे हैं दहला। इन्हें #ट्रेन लेट होने की कोई फिक्र नहीं। फिक्र कर के भी क्या कर लेंगे? दूस...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  July 5, 2018, 10:33 pm
लगता है पानी बरसेगा, बदरी छाई है।ठहर ठहर टपके हैपानीकभी भाप उठताउमस भरा मौसम है,कौआकांव-कांव करतालगता है पानी बरसेगा, बिल्ली आई है।घिर घिर आए काले बादलमन दादुर सा उछलाउड़ उड़ जाए काले बादलदिल विरहन सा बैठालगता है आंखें बरसेंगी, ठोकर खाई है।धूप छांव की आंख मिचौलीरास न...
बेचैन आत्मा...
Tag :नवगीत
  July 5, 2018, 9:30 pm
लगता है पानी बरसेगा, बदरी छाई है।ठहर ठहर टपके हैपानीकभी भाप उठताउमस भरा मौसम है,कौआकांव-कांव करतालगता है पानी बरसेगा, बिल्ली आई है।घिर घिर आए काले बादलमन दादुर सा उछलाउड़ उड़ जाए काले बादलदिल विरहन सा बैठालगता है आंखें बरसेंगी, ठोकर खाई है।धूप छांव की आंख मिचौलीरास न...
बेचैन आत्मा...
Tag :नवगीत
  July 5, 2018, 9:30 pm
सुपर फास्ट #ट्रेन की ए सी बोगी है। कहां से चली? कहां जाएगी? कुछ नहीं पता। बस इतना पता है कि लगातार चल रही है। स्टेशन आते हैं, यात्री चढ़ते/उतरते हैं, ट्रेन चलती रहती है लगातार। अपनी बर्थ साइड अपर है। यहां से सातों बर्थ पर बैठे यात्रियों की कारगुज़ारियों का नजारा लिया जा ...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  July 1, 2018, 10:29 am
सुपर फास्ट #ट्रेन की ए सी बोगी है। कहां से चली? कहां जाएगी? कुछ नहीं पता। बस इतना पता है कि लगातार चल रही है। स्टेशन आते हैं, यात्री चढ़ते/उतरते हैं, ट्रेन चलती रहती है लगातार। अपनी बर्थ साइड अपर है। यहां से सातों बर्थ पर बैठे यात्रियों की कारगुज़ारियों का नजारा लिया जा ...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  July 1, 2018, 10:29 am
अपराधी कौन ?................नदियाँ सूखती हैं समुंदर के प्यार में समुंदर प्यार करता तोनदियांपहाड़ चढ़ जातीं!किसी नदी की मृत्यु के लिएकोई मनुष्यजिम्मेदार नहीं।...............खिलाड़ी .........................दर्शकों को लगाऔर रेफरी का भी यही निर्णय थाकि ड्रा पर समाप्त हुईशतरंज की यह बाजीलेकिन ख...
बेचैन आत्मा...
Tag :व्यंग्य
  June 16, 2018, 6:01 pm
प्रोफेसर साहब का डांस बढ़िया था लेकिन उनकी डांस पार्टनर कोलंबिया वाली शकीरा होती तो और भी मजा आता! क्यों? मेरा इतना कहना था कि शादी में रुमाल को बीन बनाकर नागिन डांस करने वाला मोटुआ भी सुबह सबेरे मार्निंग वॉक के बाद पार्क के चबूतरे पर बैठ पेट फुलाने/पचकाने की क्रिया को ...
बेचैन आत्मा...
Tag :व्यंग्य की जुगलबंदी
  June 16, 2018, 5:30 pm
दून में भीड़ है आज। पुरुलिया जिले के यात्रियों के जत्थे के बीच बैठा हूं। इनकी भाषा बांग्ला है। ये हरिद्वार, बद्रीनाथ, गंगोत्री, जमुनोत्री की तीर्थ यात्रा के बाद वापस अपने घर जा रहे हैं। इनके ग्रुप में लगभग पचास यात्री हैं। वेशभूषा और खान पान से गरीब मध्यमवर्गीय दिखते ...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  June 16, 2018, 4:33 pm
ढल चुके हैं सुरुज नरायण, गर्म है लोहे का घर। प्यासे हैं यात्री। व्याकुल हैं बच्चे। रुक-रुक, छुक-छुक चल रही है एक्सप्रेस #ट्रेन। बिक रहा है पानी ठंडा, मैंगो जूस, चना, खीरा। एक्सप्रेस ट्रेन पैसिंजर की तरह चले तो यात्री भले गर्म डिब्बे में आलू की तरह भुनाते चलें, लोकल वेंडर...
बेचैन आत्मा...
Tag :पैसिंजर ट्रेन
  June 16, 2018, 4:14 pm
भारतीय रेल में सफ़र करते करते जिंदगी जीने के लिए जरूरी सभी गुण स्वतः विकसित होने लगते हैं। धैर्य, सहनशीलता, सामंजस्य आदि अगणित गुण हैं जो लोहे के घर में चंद्रकलाओं की तरह खिलते हैं। कष्ट में भी खुश रहने के नए नए तरीके ईजाद होते हैं। कोई तास खेलता है, कोई मोबाइल में लूडो य...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  May 12, 2018, 4:35 pm
किशन लाल परेशान थे। हों भी क्यों न? बेटी जवान हो चुकी और अभी तक शादी के लिए योग्य तो क्या अयोग्य वर भी नहीं मिला! बेटी पढ़ी लिखी, खूबसूरत थी मगर हाय! दोनों पैरों से अपाहिज ही बड़ी हुई थी अभागन। लड़के की तलाश में रिश्तेदारों, परिचितों के दरवाजे-दरवाजे माथा टेकते कई दिन बीत च...
बेचैन आत्मा...
Tag :
  May 6, 2018, 4:15 pm
आज बनारस से छपरा रूट वाले लोहे के घर में बैठे हैं। सद्भावना सही समय पर चल रही है। इस रूट में भीख मांगने वाले बहुत मिलते हैं। अभी औड़िहार नहीं आया और चार भिखारी एक एक कर आ चुके। एक दोनों हाथ से लूला था, दूसरा रोनी सूरत लिए लंगड़ा कर चल रहा था, तीसरा अंधा था और चौथी एक महिला थी...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  April 30, 2018, 9:21 pm
#फिफ्टी_डाउन दो घंटे लेट है। #ट्रेन हो या महबूबा, लेट होना मिलन का शुभ संकेत है। हम टाइम से पहुंच नहीं सकते, वो टाइम पर आ गई तो हमारे लिए रुक नहीं सकती। सीटी बजाएगी और चल देगी। पकड़ना, चढ़ना और बैठ कर उखड़ती सांसों को ठीक करना हमारा काम है। कुछ तो चढ़ते ही बर्थ पकड़ कर ल...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  April 30, 2018, 9:18 pm
(1)झूठ .......दिल काथोड़ा थोड़ा टूटनामन काथोड़ा थोड़ा गिरनाजिस्म कोथोड़ा थोड़ामारता हैलोग झूठ बोलते हैंवोअचानक चला गया।.................(2)अंतिम स्टेशन....................हे ईश्वर!रेलवे का गार्डहर स्टेशन परट्रेन को हरी झंडी दिखाता है तू मुझे दिखा!बचपन,जवानी तो ठीक थाआगेबुढ़ापा है।............
बेचैन आत्मा...
Tag :क्षणिकाएँ
  April 30, 2018, 9:11 pm
हम जब छोटे थे तो कक्षा में गुरुजी और घर में बाउजी दंडाधिकारी थे। दोनों को सम्पूर्ण दंडाधिकार प्राप्त था। स्कूल में गलती किया तो मुर्गा बने, घर में गलती किया तो थप्पड़ खाए। एक बार जो कक्षा में मुर्गा बन गया, दुबारा गलती करने का विचार भी मन में आता तो उसकी रूह कांप जाती। अच...
बेचैन आत्मा...
Tag :व्यंग्य
  March 27, 2018, 8:06 am
गंगा किनारे फैले बनारस की गलियों में जिसे पक्का महाल कहते हैं, प्रायः घर घर में मन्दिर है। मेरे घर में भी मन्दिर था, मेरे मित्र के घर में भी। मेरे राम काले थे। मेरे मित्र के गोरे। मेरे काले संगमरमर से बने, मित्र के सफेद संगमरमर वाले। बचपन में जब हम दोनों में झगड़ा होता तो ...
बेचैन आत्मा...
Tag :संस्मरण
  March 25, 2018, 8:52 pm
आज फिर झटके वाली #बेगमपुरा में बैठा हूं। हम समझते थे जब हम #डाउन होते हैं तभी झटके मारती है लेकिन ये तो #अप में भी मार रही है! मतलब झटके मारना इस #ट्रेन की पुरानी आदत है। कित्ती पुरानी? ठीक ठीक नहीं पता। कांग्रेस के जमाने से चली आ रही है या २-३ साल पुरानी है कुछ ...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  March 3, 2018, 4:39 pm
उंगलियों में गुलाब पकड़े मीलों चले हैं पैदल-पैदल न झरी एक भी पंखुड़ी न भूले राहमंजिल से पहले।वेलेंटाइन के दिन भी पटरियों पर दौड़ रही हैं ट्रेनें। चउचक नियंत्रण है ऊपर वाले का। जब हरी झंडी दिखाए चलना है, जब लाल तो रुक जाना है। न आगे वाली माल को छू सकती है न पीछ...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  March 3, 2018, 4:31 pm
यह लोहे का घर जरा हट कर है। इसमें सभी गरीब ए.सी. में सफ़र करते हैं। कोई भेदभाव नहीँ। न जनरल, न स्लीपर सभी ए. सी. कमरे। नाम भी क्या बढ़िया! गरीब रथ । शाम को बनारस से चढ़कर सो जाओ, सुबह दिल्ली पहुंच जाओ। गरीबों के लिए भी दिल्ली दूर नहीं। समाजवादी कल्पना साकार होगी तो ऐसे होगी। च...
बेचैन आत्मा...
Tag :दिल्ली
  March 3, 2018, 4:19 pm
39gtc गोरखा रेजीमेंट की मिलेट्री छावनी के किनारे किनारे चल रही है अपनी ट्रेन। काले नाली सी वरुणा नदी के पार भी हैं बबूल के जंगल। ये कांटे भरे जंगल के बाढ़ सुरक्षा की दृष्टि से लगाए गए होंगे।शिवपुर स्टेशन पर नहीं रुकती ट्रेन। प्लेटफॉर्म के किनारे - किनारे रखे थे सीमेंट के ...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  March 3, 2018, 3:32 pm
खत में गुलाब क्या आया! बिचारे कवि जी की खाट खड़ी, बिस्तरा गोल हो गया। उसने लाख अपने श्री मुख से अपनी श्रीमती को समझाने का प्रयास किया कि आज वेलेंटाइन डे है। फेसबुक में एक प्रेम कविता पोस्ट करी थी। बहुत सी लड़कियों को पसंद आया था। किसी बुढढे कवि मित्र को हृदयाघात लगा है और...
बेचैन आत्मा...
Tag :व्यंग्य की जुगलबंदी
  March 3, 2018, 3:22 pm
तुम स्वेटर/जैकेट कब उतारोगे बन्धु? अब तो होली भी आ गई! जब तुमने दूसरों की देखा देखी पहनना शुरू किया था तब चउचक ठंड थी। अब तो धूप जलाने लगी है। बुजुर्गों की हर बात को कान नहीं देते। वे तो कहेंगे ही ...यही समय ठंड लगती है! स्वेटर पहन कर, मफलर से कान बांध कर चलो।सरसों कटने का समय ...
बेचैन आत्मा...
Tag :व्यंग्य
  March 3, 2018, 3:10 pm
ठंडी में बेगमपुरा मिली। और सभी ट्रेनें अत्यधिक लेट हैं। यह भी अपने समय के अनुसार अत्यधिक लेट है मगर रोज के यात्रियों के समय पर है। नेट में ट्रेनों का समय देख सभी अपने-अपने दड़बे से निकल सीटी स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर जमा हो गए। प्लेटफार्म के बाहर नगर पालिका ने आज गीली लकड...
बेचैन आत्मा...
Tag :लोहे का घर
  February 4, 2018, 7:34 pm
सभी अपनी अपनी हैसियत के हिसाब से बजट बनाते हैं। सरकार और व्यापारी साल भर का, आम आदमी महीने भर का और गरीब आदमी का बजट रोज बनता/बिगड़ता है। सरकारें घाटे का बजट बना कर भी विकास का घोड़ा दौड़ा सकती है लेकिन आम आदमी घाटे का बजट बनाकर आत्महत्या करने के लिए मजबूर हो जाता है। आम आ...
बेचैन आत्मा...
Tag :व्यंग्य की जुगलबंदी
  January 28, 2018, 7:57 pm
जब कोई ट्रेन हवा से बातें करते हुएपुल पार करती हैबहुत शोर करता हैपुलशांत दिखती हैनदी।आदमियों कोलोहे के घर में बैठबिना छुएऊपर ऊपर से यूं जाते देखदुख तो होता होगा नदी को?क्या जानेकितना रोई होजब बन रहा थापुल!किसी केचन्द सिक्के फेंक देने सेखुश हो जाती होगी?हमारे सिक...
बेचैन आत्मा...
Tag :ट्रेन
  January 28, 2018, 1:14 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3769) कुल पोस्ट (178752)